Kanv Kanv

लखनऊ। दही का सेवन करना आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। एक शोध में इस बात का दावा किया गया है कि दी का सेवन करने से वजन घटाना और टाइप -2 डायबिटीज और हृदय के रोगों से बचाव करने में कारगर है। गौरतलब है कि दही का सेवन करने से हाजमा दुरुस्त होता है साथ ही त्वचा और बालों की चमक भी बनी रहती है।

ऐसे होती है तैयार

दही दूध में जीवाण्विक किण्वन (बैक्टीरियल फर्मेंटेशन) की प्रक्रिया से तैयार होती है। इसके तहत मानव सेहत के लिए फायदेमंद बैक्टीरिया दूध में मौजूद लैक्टोज नाम की शक्कर को लैक्टिक एसिड में तब्दील करते हैं। लैक्टिक एसिड दूध को गाढ़ा करने, जमाने और खट्टापन देने के लिए जिम्मेदार होता है।

बीमारियों से बचाव

हड्डियों और मांसपेशियों में क्षरण का खतरा घटाकर ऑस्टियोपोरोसिस से बचाती है दही
डायरिया के लक्षणों से राहत दिलाने के साथ ही लिवर और आंत की बीमारियों से सुरक्षा करने में मददगार
गुड बैक्टीरिया (प्रोबायोटिक) की मौजूदगी मोटापा और टाइप-2 डायबिटीज दूर रखती है
विटामिन बी-12, विटामिन के और राइबोफ्लेविन सोखने की शरीर की क्षमता बढ़ाती है

चीनी से परहेज करें

सादी दही खाना सबसे बेहतर पर चीनी से परहेज करें
डिब्बाबंद दही न खाएं, कंपनियां इन्हें गाढ़ा-मलाईदार बनाने को हानिकारक जिलेटिन मिलाती हैं

जोड़ों में दर्द बढ़ाती दही

गठिया, अस्थमा जैसे हड्डी-श्वास रोगों से पीडि़त हैं तो दही से दूर रहें
सर्दी-जुकाम में रात में दही न खाएं

प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए

दही में उपलब्ध लैक्टोबैसिलस, पेप्टोस्ट्रेप्टोकोकस, बाइफिडोबैक्टीरियम और क्लॉस्ट्रीडियम जैसे गुड बैक्टीरिया न सिर्फ बड़ी आंत के कम ऑक्सीजन वाले वातावरण में तेजी से फलते-फूलते हैं, बल्कि बैड बैक्टीरिया को पनपने और आंत की बाहरी परत को नुकसान पहुंचाने से भी रोकते हैं। आंत की बाहरी परत बैक्टीरिया रोधी प्रोटीन का निर्माण कर रोग-प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा करने के लिए अहम मानी जाती है। https://kanvkanv.com