Connect with us

लाइफ स्टाइल

अपने पति से ये 5 राज छुपा लेती हैं पत्नियां!, आप भी जानें

Published

on

पति-पत्नी का रिश्ता विश्वासों पर टिका पवित्र रिश्ता होता है। दोनों ही अपने पार्टनर के भारोसे को बरकार रखें तो जिंदगी आसानी से बीत जाती है। पति-पत्नी अपनी बातें एक दूसरे को जरूर शेयर करते हैं। बडे बुजुर्ग ऎसा कहते है कि पति और पत्नी के बीच कोई भी बात छुपी नहीं होनी चाहिए। लेकिन कुछ बातें ऎसी होती हैं जिन्हें पत्नियां अपने पतियों से हमेशा छिपाकर रखती है। हालांकि इसकी वजह उनका कोई व्यक्तिगत स्वार्थ नहीं बल्कि अपने घर की भलाई ही होती है।

ये बातें छुपाती हैं पत्नियां

  • 1. कई महिलाओं का एक सीक्रेट क्रश होता है, जिसे वो किसी के साथ शेयर करना पसंद नहीं करती हैं। खासतौर पर अपने पति को ये बात कभी नहीं बतातीं, क्योंकि उन्हें इस बात का डर होता है कि इससे उनकी जिंदगी में कोई असर ना पड़े।
  • 2. पति-पत्नी के बीच कई ऎसी बातें भी होती हैं, जिन्हें लेकर दोनों के बीच सहमति नहीं बनती, पर पत्नी पति की हां में हां मिला देती है। हालांकि वो इस फैसले के लिए दिल से तैयार नहीं रहती है।
  • 3. अधिकतर महिलाएं अपनी बीमारी के बारे में पति को नहीं बताती उन्हें ये डर होता है कि उनकी वजह से पति को कोई तनाव ना हो।
  • 4. हर महिला कुछ पैसे अपने पति से छुपाकर रखती है, जो अपने घर के कामों से बचाकर रखती है। इस पैसे के बारे में वो अपने पति को नहीं बताती हैं, लेकिन जरूरत पर पति को ये पैसे देती भी हैं।
  • 5. अक्सर महिलाएं अपनी सहेलियों से सारी बातें शेयर करती हैं और पति को यही बताती हैं कि उन्होंने किसी को कुछ नहीं बताया। https://www.kanvkanv.com

लाइफ स्टाइल

बिहार : मां चंडिका शक्तिपीठ, जहां दूर होती है आंखों की पीड़ा, जानें क्या हैं मान्यताएं

Published

on

मुंगेर । देवी के 52 शक्तिपीठों में से एक मां चंडिका का मंदिर है। मान्यता है कि यहां मां सती (मां पार्वती) की बाईं आंख गिरी थी। कहा जाता है कि यहां पूजा करने वालों की आंखों की पीड़ा दूर होती है। मां चंडिका का मंदिर बिहार के मुंगेर जिला मुख्यालय के समीप स्थित है। इस मंदिर को द्वापर युग की कहानियों से भी जोड़ा जाता है। बिहार के मुंगेर जिला मुख्यालय से करीब दो किलोमीटर दूर इस शक्तिपीठ में मां की बाईं आंख की पूजा की जाती है।

लोग पूजा करने आते हैं और यहां से काजल लेकर जाते हैं

चंडिका स्थान के मुख्य पुजारी नंदन बाबा ने बताया कि यहां आंखों के असाध्य रोग से पीड़ित लोग पूजा करने आते हैं और यहां से काजल लेकर जाते हैं। ऐसी मान्यता है कि यहां का काजल नेत्ररोगियों के विकार दूर करता है। इस स्थान पर ऐसे तो सालभर देश के विभिन्न क्षेत्रों आए मां के भक्तों की भीड़ लगी रहती है, लेकिन शारदीय और चैत्र नवरात्र में यहां भक्तों की भीड काफी बढ़ जाती है। नंदन बाबा ने बताया कि चंडिका स्थान एक प्रसिद्ध शक्तिपीठ है। नवरात्र के दौरान सुबह तीन बजे से ही माता की पूजा शुरू हो जाती है। संध्या में श्रृंगार पूजन होता है। नवरात्र अष्टमी के दिन यहां विशेष पूजा होती है। इस दिन माता का भव्य श्रृंगार किया जाता है। यहां आने वाले लोगों की सभी मनोकामना मां पूर्ण करती हैं।

दिर के विषय में कोई प्रामाणिक इतिहास उपलब्ध नहीं

मंदिर के एक अन्य पुजारी कहते हैं कि इस मंदिर के विषय में कोई प्रामाणिक इतिहास उपलब्ध नहीं है, लेकिन इससे जुड़ी कई कहानियां काफी प्रसिद्ध हैं। मान्यता है कि राजा दक्ष की पुत्री सती के जलते हुए शरीर को लेकर जब भगवान शिव भ्रमण कर रहे थे, तब सती की बाईं आंख यहां गिरी थी। इस कारण यह 52 शक्तिपीठों में एक माना जाता है। वहीं दूसरी ओर इस मंदिर को महाभारत काल से भी जोड़ कर देखा जाता है। जनश्रुतियों के मुताबिक, अंगराज कर्ण मां चंडिका के भक्त थे और रोजाना मां चंडिका के सामने खौलते हुए तेल की कड़ाह में अपनी जान दे मां की पूजा किया करते थे, जिससे मां प्रसन्न होकर राजा कर्ण को जीवित कर देती थी और सवा मन सोना रोजाना कर्ण को देती थीं। कर्ण उस सोने को मुंगेर के कर्ण चौराहा पर ले जाकर लोगों को बांट देते थे।

मंदिर में पूजा के पहले लोग विक्रमादित्य का नाम लेते हैं और फिर चंडिका मां का

इस बात की जानकारी जब उज्जैन के राजा विक्रमादित्य को मिली तो वे भी छद्म वेश बनाकर अंग पहुंच गए। उन्होंने देखा कि महाराजा कर्ण ब्रह्म मुहूर्त में गंगा स्नान कर चंडिका स्थान स्थित खौलते तेल के कड़ाह में कूद जाते हैं और बाद माता उनके अस्थि-पंजर पर अमृत छिड़क उन्हें पुन: जीवित कर देती हैं और उन्हें पुरस्कार स्वरूप सवा मन सोना देती हैं। एक दिन चुपके से राजा कर्ण से पहले राजा विक्रमादित्य वहां पहुंच गए। कड़ाह में कूदने के बाद उन्हें माता ने जीवित कर दिया। उन्होंने लगातार तीन बार कड़ाह में कूदकर अपना शरीर समाप्त किया और माता ने उन्हें जीवित कर दिया। चौथी बार माता ने उन्हें रोका और वर मांगने को कहा। इस पर राजा विक्रमादित्य ने माता से सोना देने वाला थैला और अमृत कलश मांग लिया।

माता ने दोनों चीज देने के बाद वहां रखे कड़ाह को उलट दिया और उसी के अंदर विराजमान हो गईं। मान्यता है कि अमृत कलश नहीं रहने के कारण मां राजा कर्ण को दोबारा जीवित नहीं कर सकती थीं। इसके बाद से अभी तक कड़ाह उलटा हुआ है और उसी के अंदर माता की पूजा होती है। आज भी इस मंदिर में पूजा के पहले लोग विक्रमादित्य का नाम लेते हैं और फिर चंडिका मां का। यहां पूजा करने वाले मां की पूजा में बोल जाने वाले मंत्र में पहले ‘श्री विक्रम चंडिकाय नम:’ का उच्चारण किया जाता है।

यह मंदिर पवित्र गंगा के किनारे स्थित है और इसके पूर्व और पश्चिम में श्मशान स्थल है। इस कारण ‘चंडिका स्थान’ को ‘श्मशान चंडी’ के रूप में भी जाना जाता है। नवरात्र के दौरान कई विभिन्न जगहों से साधक तंत्र सिद्घि के लिए भी यहां जमा होते हैं। चंडिका स्थान में नवरात्र के अष्टमी के दिन विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है। इस दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं। मां के विशाल मंदिर परिसर में काल भैरव, शिव परिवार और भी कई देवी-देवताओं के मंदिर हैं जहां श्रद्धालु पूजा-अर्चना करते हैं। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

लाइफ स्टाइल

नवरात्र में कन्याओं के पूजन में एक लड़के का होना जरूरी, जानें एेसा क्यों और क्या है महत्व

Published

on

लखनऊ। नवरात्र चल रहे हैं, रविवार को पंचम स्कंदमाता की पूजा हो रही है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि नवरात्र की दुर्गाष्टमी और नवमी के दिन कन्याओं के साथ एक लड़का कन्या पूजन में क्यों बैठाया जाता है। नहीं जानते हैं तो जान लीजिए। दरसअल इसके पीछे कारण यह है कि कन्याओं के साथ जो एक लड़का बैठता है उसे ‘लंगूर’, ‘लांगुरिया’ कहा जाता है।

जिस तरह कन्याओं को पूजा जाता है, ठीक उसी तरह लड़के यानी ‘लंगूर’ की पूजा की जाती है। बता दें, ‘लंगूर’ को हनुमान जी का रूप माना जाता है। मान्यता है कि जिस तरह वैष्णों देवी के दर्शन के बाद भैरो के दर्शन करने से ही दर्शन पूरे माने जाते हैं, ठीक उसकी तरह कन्‍या पूजन के दौरान के लंगूर को कन्याओं के साथ बैठाने पर ये पूजा सफल मानी जाती है।

कन्या पूजन की विधि

  1. कन्‍या भोज और पूजन के लिए कन्‍याओं को एक दिन पहले ही आमंत्रित कर दिया जाता है.
  2. मुख्य कन्या पूजन के दिन इधर-उधर से कन्याओं को पकड़ के लाना सही नहीं होता है.
  3. गृह प्रवेश पर कन्याओं का पूरे परिवार के साथ पुष्प वर्षा से स्वागत करें और नव दुर्गा के सभी नौ नामों के जयकारे लगाएं.
  4. अब इन कन्याओं को आरामदायक और स्वच्छ जगह बिठाकर सभी के पैरों को दूध से भरे थाल या थाली में रखकर अपने हाथों से उनके पैर धोने चाहिए और पैर छूकर आशीष लेना चाहिए.
  5.  उसके बाद माथे पर अक्षत, फूल और कुमकुम लगाना चाहिए.
  6. फिर मां भगवती का ध्यान करके इन देवी रूपी कन्याओं को इच्छा अनुसार भोजन कराएं.
  7. भोजन के बाद कन्याओं को अपने सामर्थ्‍य के अनुसार दक्षिणा, उपहार दें और उनके पुनः पैर छूकर आशीष लें.

कितनी हो कन्याओं की उम्र?

कन्याओं की आयु दो वर्ष से ऊपर तथा 10 वर्ष तक होनी चाहिए और इनकी संख्या कम से कम 9 तो होनी ही चाहिए और एक बालक भी होना चाहिए जिसे हनुमानजी का रूप माना जाता है। जिस प्रकार मां की पूजा भैरव के बिना पूर्ण नहीं होती, उसी तरह कन्या-पूजन के समय एक बालक को भी भोजन कराना बहुत जरूरी होता है। यदि 9 से ज्यादा कन्या भोज पर आ रही है तो कोई आपत्ति नहीं है।

हर उम्र की कन्या का है अलग रूप

नवरात्र के दौरान सभी दिन एक कन्या का पूजन होता है, जबकि अष्टमी और नवमी पर नौ कन्याओं का पूजन किया जाता है।
दो वर्ष की कन्या का पूजन करने से घर में दुख और दरिद्रता दूर हो जाती है।
तीन वर्ष की कन्या त्रिमूर्ति का रूप मानी गई हैं। त्रिमूर्ति के पूजन से घर में धन-धान्‍य की भरमार रहती है, वहीं परिवार में सुख और समृद्धि जरूर रहती है।
चार साल की कन्या को कल्याणी माना गया है। इनकी पूजा से परिवार का कल्याण होता है, वहीं पांच वर्ष की कन्या रोहिणी होती हैं। रोहिणी का पूजन करने से व्यक्ति रोगमुक्त रहता है।
छह साल की कन्या को कालिका रूप माना गया है। कालिका रूप से विजय, विद्या और राजयोग मिलता है। 7 साल की कन्या चंडिका होती है। चंडिका रूप को पूजने से घर में ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है।
8 वर्ष की कन्याएं शाम्‍भवी कहलाती हैं। इनको पूजने से सारे विवाद में विजयी मिलती है। 9साल की की कन्याएं दुर्गा का रूप होती हैं। इनका पूजन करने से शत्रुओं का नाश हो जाता है और असाध्य कार्य भी पूरे हो जाते हैं।
दस साल की कन्या सुभद्रा कहलाती हैं। सुभद्रा अपने भक्तों के सारे मनोरथ पूरा करती हैं। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

लाइफ स्टाइल

नवरात्रि पर विशेष : तीन तरह के होते हैं व्रत, जानिए उपवास के प्रकार व व्रतों का वार्षिक चक्र और विधि

Published

on

राधेश्याम मिश्र

श्रावस्ती । व्रत रखना हमारी वैदिक परम्परा में रही है |दुनिया के जितने भी पंथ है सबने व्रत रखना सनातन धर्म से सिखा है यह बात अलग के कि लोगों ने कुछ रद्दो बदल जरूर किया है किन्तु अंतिम कड़ी सनातन धर्मावलंबियों से ही जुड़ी है | बता दे कि आजकल दुर्गा नवमी में हर हिन्दू परिवार सनातनी में व्रत रखने का चलन है| हर हिन्दू परिवार में कोई एक सदस्य जरूर व्रत है तो यह बता दे कि व्रत रखने के नियम दुनिया को हिंदू धर्म की देन है। व्रत रखना एक पवित्र कर्म है और यदि इसे नियम पूर्वक नहीं किया जाता है तो न तो इसका कोई महत्व है और न ही लाभ! बल्कि इससे नुकसान भी हो सकते हैं। आप व्रत बिल्कुल भी नहीं रखते हैं तो भी आपको इस कर्म का भुगतान करना ही होगा।

बताए तो गए अनेक, लेकिन मूलत: होते हैं तीन प्रकार के व्रत

राजा भोज के राजमार्तण्ड में 24 व्रतों का उल्लेख है। हेमादि में 700 व्रतों के नाम बताए गए हैं। गोपीनाथ कविराज ने 1622 व्रतों का उल्लेख अपने व्रतकोश में किया है। हालांकि व्रतों के प्रकार तो मूलत: तीन ही है:- 1. नित्य, 2. नैमित्तिक और 3. काम्य।

1.नित्य व्रत उसे कहते हैं जिसमें ईश्वर भक्ति या आचरणों पर बल दिया जाता है, जैसे सत्य बोलना, पवित्र रहना, इंद्रियों का निग्रह करना, क्रोध न करना, अश्लील भाषण न करना और परनिंदा न करना, प्रतिदिन ईश्वर भक्ति का संकल्प लेना आदि नित्य व्रत हैं। इनका पालन नहीं करते से मानव दोषी माना जाता है।
2.नैमिक्तिक व्रत उसे कहते हैं जिसमें किसी प्रकार के पाप हो जाने या दुखों से छुटकारा पाने का विधान होता है। अन्य किसी प्रकार के निमित्त के उपस्थित होने पर चांद्रायण प्रभृति, तिथि विशेष में जो ऐसे व्रत किए जाते हैं वे नैमिक्तिक व्रत हैं।
3.काम्य व्रत किसी कामना की पूर्ति के लिए किए जाते हैं, जैसे पुत्र प्राप्ति के लिए, धन- समृद्धि के लिए या अन्य सुखों की प्राप्ति के लिए किए जाने वाले व्रत काम्य व्रत हैं।

व्रतों का वार्षिक चक्र

  1. साप्ताहिक व्रत : सप्ताह में एक दिन व्रत रखना चाहिए। यह सबसे उत्तम है।
  2. पाक्षिक व्रत : 15-15 दिन के दो पक्ष होते हैं कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष। प्रत्येक पक्ष में चतुर्थी, एकादशी, त्रयोदशी, अमावस्या और पूर्णिमा के व्रत महतवपूर्ण होते हैं। उक्त में से किसी भी एक व्रत को करना चाहिए।
  3. त्रैमासिक : वैसे त्रैमासिक व्रतों में प्रमुख है नवरात्रि के व्रत। हिंदू माह अनुसार पौष, चैत्र, आषाढ और अश्विन मान में नवरात्रि आती है। उक्त प्रत्येक माह की प्रतिपदा यानी एकम् से नवमी तक का समय नवरात्रि का होता है। इन नौ दिनों तक व्रत और उपवास रखने से सभी तरह के क्लेश समाप्त हो जाते हैं।
  4. छह मासिक व्रत : चैत्र माह की नवरात्रि को बड़ी नवरात्रि और अश्विन माह की नवरात्रि को छोटी नवरात्रि कहते हैं। उक्त दोंनों के बीच छह माह का अंतर होता है। इसके अलावा
  5. वार्षिक व्रत : वार्षिक व्रतों में पूरे श्रावण मास में व्रत रखने का विधान है। इसके अलवा जो लोग चतुर्मास करते हैं उन्हें जिंदगी में किसी भी प्रकार का रोग और शोक नहीं होता है। इससे यह सिद्ध हुआ की व्रतों में ‘श्रावण माह’ महत्वपूर्ण होता है। सोमवार नहीं पूरे श्रावण माह में व्रत रखने से हर तरह के शारीरिक और मानसिक कलेश मिट जाते हैं।

उपवास के प्रकार

1.प्रात: उपवास, 2.अद्धोपवास, 3.एकाहारोपवास, 4.रसोपवास, 5.फलोपवास, 6.दुग्धोपवास, 7.तक्रोपवास, 8.पूर्णोपवास, 9.साप्ताहिक उपवास, 10.लघु उपवास, 11.कठोर उपवास, 12.टूटे उपवास, 13.दीर्घ उपवास। बताए गए हैं, लेकिन हम यहां वर्ष में जो व्रत होते हैं उसके बारे में बता रहे हैं।

1.प्रात: उपवास- इस उपवास में सिर्फ सुबह का नाश्ता नहीं करना होता है और पूरे दिन और रात में सिर्फ 2 बार ही भोजन करना होता है।
2.अद्धोपवास- इस उपवास को शाम का उपवास भी कहा जाता है और इस उपवास में सिर्फ पूरे दिन में एक ही बार भोजन करना होता है। इस उपवास के दौरान रात का भोजन नहीं खाया जाता।
3.एकाहारोपवास- एकाहारोपवास में एक समय के भोजन में सिर्फ एक ही चीज खाई जाती है, जैसे सुबह के समय अगर रोटी खाई जाए तो शाम को सिर्फ सब्जी खाई जाती है। दूसरे दिन सुबह को एक तरह का कोई फल और शाम को सिर्फ दूध आदि।
4.रसोपवास- इस उपवास में अन्न तथा फल जैसे ज्यादा भारी पदार्थ नहीं खाए जाते, सिर्फ रसदार फलों के रस अथवा साग-सब्जियों के जूस पर ही रहा जाता है। दूध पीना भी मना होता है, क्योंकि दूध की गणना भी ठोस पदार्थों में की जा सकती है।
5.फलोपवास- कुछ दिनों तक सिर्फ रसदार फलों या भाजी आदि पर रहना फलोपवास कहलाता है। अगर फल बिलकुल ही अनुकूल न पड़ते हो तो सिर्फ पकी हुई साग-सब्जियां खानी चाहिए।
6.दुग्धोपवास- दुग्धोपवास को ‘दुग्ध कल्प’ के नाम से भी जाना जाता है। इस उपवास में सिर्फ कुछ दिनों तक दिन में 4-5 बार सिर्फ दूध ही पीना होता है।
7.तक्रोपवास- तक्रोपवास को ‘मठाकल्प’ भी कहा जाता है। इस उपवास में जो मठा लिया जाए, उसमें घी कम होना चाहिए और वो खट्टा भी कम ही होना चाहिए। इस उपवास को कम से कम 2 महीने तक आराम से किया जा सकता है।
8.पूर्णोपवास- बिलकुल साफ-सुथरे ताजे पानी के अलावा किसी और चीज को बिलकुल न खाना पूर्णोपवास कहलाता है। इस उपवास में उपवास से संबंधित बहुत सारे नियमों का पालन करना होता है।
9.साप्ताहिक उपवास- पूरे सप्ताह में सिर्फ एक पूर्णोपवास नियम से करना साप्ताहिक उपवास कहलाता है।
10.लघु उपवास- 3 से लेकर 7 दिनों तक के पूर्णोपवास को लघु उपवास कहते हैं।
11.कठोर उपवास- जिन लोगों को बहुत भयानक रोग होते हैं यह उपवास उनके लिए बहुत लाभकारी होता है। इस उपवास में पूर्णोपवास के सारे नियमों को सख्ती से निभाना पड़ता है।
12.टूटे उपवास- इस उपवास में 2 से 7 दिनों तक पूर्णोपवास करने के बाद कुछ दिनों तक हल्के प्राकृतिक भोजन पर रहकर दोबारा उतने ही दिनों का उपवास करना होता है। उपवास रखने का और हल्का भोजन करने का यह क्रम तब तक चलता रहता है, जब तक कि इस उपवास को करने का मकसद पूरा न हो जाए।
13.दीर्घ उपवास- दीर्घ उपवास में पूर्णोपवास बहुत दिनों तक करना होता है जिसके लिए कोई निश्चित समय पहले से ही निर्धारित नहीं होता। इसमें 21 से लेकर 50-60 दिन भी लग सकते हैं। अक्सर यह उपवास तभी तोड़ा जाता है, जब स्वाभाविक भूख लगने लगती है अथवा शरीर के सारे जहरीले पदार्थ पचने के बाद जब शरीर के जरूरी अवयवों के पचने की नौबत आ जाने की संभावना हो जाती है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
राज्य1 min ago

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर भीषण हादसा, एक ही परिवार के चार लोगों की मौत, पांच घायल

राज्य29 mins ago

गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंजा अंबेडकर नगर, बसपा नेता व चालक की दिनदहाड़े घेरकर हत्या

बिज़नेस43 mins ago

10 दिन भी नहीं टिकी मोदी सरकार की राहत, डीजल के दाम हुए बराबर, जानें आज क्या हुई कीमत

देश1 hour ago

ड्रैगन का डबल अटैक, लद्दाख में घुसा हेलिकॉप्टर, अरुणाचल में भी सैनिकों ने की घुसैपठ

देश2 hours ago

जन्मदिन की पार्टी के बहाने युवती से गैंगरेप, जिससे मांगी मदद उसने भी किया सामूहिक बलात्‍कार

राज्य16 hours ago

यूपी : शाहजहांपुर में गिरी निर्माणाधीन इमारत, 2 की मौत, मलबे में दबे 2 मजदूर

राज्य17 hours ago

बहराइच : स्वच्छता अभियान में SP ने पुलिस लाइन में किया श्रमदान

देश17 hours ago

सिद्धू का पाकिस्तानी प्रेम, बोले-दक्षिण भारत से अच्छा है पाकिस्तान, कहा-पाक आर्मी चीफ को चूम लूंगा

राज्य17 hours ago

नवरात्रि की पंचमी पर विशाल भंडारे का हुआ आयोजन

राज्य17 hours ago

फैजाबाद के नए पुलिस कप्तान जोगेंद्र कुमार ने ग्रहण किया अपना पदभार

राज्य17 hours ago

बलरामपुर : परिवार परामर्श केन्द्र में 4 मामलों का हुआ सफल निस्तारण

राज्य17 hours ago

बलरामपुर : अपराधियों की धर-पकड़ को लेकर शांति भंग में 10 गिरफ्तार

दुनिया18 hours ago

परमाणु समझौते से अलग होकर घाटे में है अमेरिका : रूहानी

Uncategorized18 hours ago

फैजाबाद : आठवीं की छात्रा का कथित प्रेमी ने किया अपहरण, पुलिस ने दर्ज नहीं किया मुक़दमा

राज्य18 hours ago

मुज़फ्फरपुर अब सिंघम के हवाले, अपराधियों की उड़ी नींद, पूरी रात सड़कों पर पुलिस

राज्य18 hours ago

दुर्गा पूजा के अवसर पर ग्लेज इंडिया ने किया डांडिया सह सांस्कृति कार्यक्रम का आयोजन

राज्य19 hours ago

लखीमपुर-खीरी : भारत-नेपाल के नागरिकों के बीच आपसी भाईचारे को बनाए रखने के लिए दो संस्थाओं ने की संधि

राज्य19 hours ago

लखीमपुर-खीरी : नेपाल सीमा पर पकड़े गए दो तस्कर, लाखों का सामान बरामद

देश2 days ago

VIDEO : मोदी के मंत्री ने एक्टिंग कर चौंकाया, लंबी मूंछें और राजशाही लिबास में आए नजर

राज्य1 week ago

विवेक हत्याकांड : अब इंस्पेक्टर ने लिखा फेसबुक पर पोस्ट, ‘मैं पुलिस में हूं जिसे जानकारी नहीं वो समझ ले’…

देश3 days ago

शिवपाल पर मेहरबान हुई योगी सरकार, मायावती का खाली बंगला किया उनके नाम, सियासी हलचल तेज

देश2 weeks ago

लखनऊ गोलीकांड : योगी बोले कराएंगे सीबीआई जांच, DGP बोले, बर्खास्त होंगे दोनों आरोपी सिपाही

राज्य4 weeks ago

मेरा किसी से बुआ-भतीजे का रिश्ता नहीं, सम्मानजक सीटें मिलीं तभी गठबंधन : मायावती

देश2 days ago

वीडियो : पुलिसवाले ने सरेराह न्यायाधीश की पत्नी और बेटे को मारी गोली, बोला-ये शैतान हैं

देश2 weeks ago

यूपी : SDM ने गोली मारकर तो महिला सिपाही ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, सुसाइड नोट से मचा हड़कंप

राज्य3 weeks ago

योगी आदित्यनाथ के गढ़ में शोहदों का आतंक, गोरखपुर का इंटर कॉलेज बंद

देश4 days ago

गैर मर्द के साथ शारीरिक संबंध बना रही थी पत्नी, अचानक आया पति और फिर…

देश2 weeks ago

लखनऊ शूटआउट : पत्नी बोली-अपना जुर्म छिपाने के लिए पति को चरित्रहीन साबित करने में जुटी पुलिस

राज्य3 weeks ago

मुलायम सिंह यादव बने दादा, छोटी बहू ने बेटी को दिया जन्‍म

राज्य3 weeks ago

1986 से अब तक AK-47 की गोलियों से दहलता रहा है मुजफ्फरपुर

राज्य2 weeks ago

विवेक तिवारी के हत्यारोपी सिपाही प्रशांत के रोम-रोम में भरी है दबंगई, लोग बुलाते हैं ‘छोटा डॉन’

दुनिया1 week ago

बेहोश होने तक ISIS के आतंकी करते थे रेप, पढ़ें, 2018 की नोबेल विजेता नादिया की दर्दभरी कहानी

राज्य1 week ago

विवेक हत्याकांड के आरोपी सिपाही के समर्थन में उतरी लखनऊ पुलिस, देखें तस्वीरें

देश1 week ago

विवेक हत्याकांड : आरोपी के समर्थन में बगावत पर उतरे पुलिसकर्मी, एक सस्पेंड, लीडर हिरासत में

देश1 week ago

बच्ची से बलात्कार के बाद गुजरात में हिंसा, रोजी-रोटी छोड़ घर लौटने को मजबूर हुए UP-बिहार के लोग

देश1 week ago

यूपी पुलिस के ‘बगावती’ तेवर से योगी नाराज, पुलिसकर्मी अब नहीं कर सकेंगे आपत्तिजनक पोस्ट

Trending