Connect with us

लाइफ स्टाइल

कोरोना वायरस को हरा चुके मरीजों को स्वास्थ्य मंत्रालय का सुझाव

Published

on

नयी दिल्ली। कोरोना वायरस लोगों के लिए परेशानी का सबब बनता जा रहा है। कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों को यह बीमारी सुकून की सांस नहीं लेने दे रही। कोरोना को मात दे चुके मरीजों को भी बदन दर्द, खांसी, गले में दर्द और सांस लेने में परेशानी की समस्या लगातार बनी हुई है। कोरोना से ठीक हुए मरीजों के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने ‘पोस्ट कोविड-19 मैनेजमेंट प्रोटोकॉल’ जारी किया है, जिसमें कोरोना से ठीक हुए मरीजों के लिए कुछ निर्देश दी गई हैं, जिसका पालन करना मरीजों के लिए जरूरी है।

इस प्रोटोकॉल में कोरोना से ठीक हुए मरीजों को इम्युनिटी बढ़ाने के लिए कुछ खास नुस्खों और जीवनशैली का सलीका बदलने की सलाह दी गई है, ताकि लोग इस बीमारी को मात देने के बाद तंदुरुस्त रह सकें। सभी कोविड-19 रोगी जो कोरोना को मात दे चुके हैं, उन्हें अपनी खास देखभाल की जरुरत है। ऐसे रोगियों को तंदुरुस्त रहने के लिए सरकार द्वारा जारी किए गए इन प्रोटोकॉल का मानना जरुरी है। मरीज मास्क का इस्तेमाल जारी रखें, लगातार साफ करें, हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।

पर्याप्त मात्रा में गर्म पानी का इस्तेमाल करें। आयुष मंत्रालय की सलाह के मुताबिक इम्यूनिटी बढ़ाने वाली दवाइयाँ और च्वयनप्राश का सेवन करें। यदि आपकी हेल्थ में सुधार है तो घर का काम-काज करें, प्रोफेशनल काम-काज की शुरूआत धीरे-धीरे करें। अपनी क्षमता के अनुसार योगासन, प्राणायाम और ध्यान करें। संतुलित और पौष्टिक आहार का इस्तेमाल करें। आप आसानी से पचने वाला नरम ताजा खाना खाएं। नींद पूरी लें और ज्यादा से ज्यादा आराम करें। ताकि शरीर की कमजोरी दूर रहे।

कोविड को मात दे चुके रोगी धूम्रपान और शराब से परहेज करें। रोजाना सुबह और शाम जरूर टहले। अस्पताल से छुट्टी मिलने के सात दिन बाद टेलीफोन के जरिए डॉक्टर को अपना हाल जरूर बताएं।घर में ही सेल्फ चेक-अप करें। अपना ब्लड प्रेशर, शुगर और बुखार को चेक करते रहें। गले में कफ या खराश होैने से बचने के लिए लगातार गर्म पानी से गरारे करें। अगर कोई होम आइसोलेशन में रह रहा है और स्थिति पहले से खराब है तो तुरंत निकटतम अस्पताल से संपर्क करें। बीमारी से उभरने के बाद अपने दोस्तों, संबंधियों या कॉलोनी के लोगों को जागरुक करें।

Trending