Connect with us

देश

यूपी : ये हैं वो दो बड़े कारण जिसके डर से कांग्रेस पर हमलावर हैं मायावती, अखिलेश भी दे रहे साथ

Published

on

नई दिल्ली। बसपा प्रमुख मायावती ने जिस दिन कहा कि बसपा किसी भी राज्य में कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव (लोकसभा) नहीं लड़ेगी, उस दिन उनके सजातीय विश्वासपात्र नौकर शाह व उ.प्र. के पूर्व मुख्य सचिव नेतराम के लखनऊ व दिल्ली के 12 ठिकानों पर आयकर विभाग का सुबह से ही छापा चल रहा था। नेतराम बसपा के टिकट से लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। इन दिनों बसपा के फंड व चुनावी खर्च की व्यवस्था भी उन्हीं के जिम्मे होने की चर्चा है।

इस कारण डरी मायावती और कांग्रेस के साथ तालमेल नहीं करने की घोषणा कर दी

उ.प्र. में मायावती व मुलायम के कार्यकाल में हुए खाद्यान्न घोटाला मामले में जनहित याचिका दायर करने वाले सर्वोच्च न्यायालय के वकील विश्वनाथ चतुर्वेदी का कहना है कि उ.प्र. में 2007 से 2012 तक मुख्यमंत्री रहने के दौरान मायावती ने नोएडा व लखनऊ में कई स्मारक परियोजनाओं के लिए मूर्तियों की खरीद से लगायत पत्थरों की सप्लाई करवाई थी। इसके अलावा अन्य कई मामले में हुए घपलों की जांच चल रही है। इन घोटालों के कुछ मामले में नेतराम भी जांच के दायरे में हैं। नेतराम के मार्फत आयकर, प्रवर्तन निदेशालय व सीबीआई मायावती तक पहुंच सकती है। इससे डरी बसपा प्रमुख ने लोकसभा चुनाव में कहीं भी कांग्रेस के साथ तालमेल नहीं करने की घोषणा कर दी।

प्रियंका गांधी के चन्द्रशेखर से मिलना बसपा सुप्रीमो को अच्छा नहीं लगा

उनकी इस घोषणा के दूसरे ही दिन कांग्रेस की महासचिव व पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी, पश्चिम उत्तर प्रदेश के प्रभारी व पार्टी महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया तथा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर को साथ लेकर मेरठ के एक अस्पताल में भर्ती भीम आर्मी पार्टी के युवा दलित नेता चन्द्रशेखर उर्फ रावण से मिलने चली गईं। लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार नवेन्दु का कहना है कि कांग्रेसी नेताओं – प्रियंका, सिंधिया व राजबब्बर का मेरठ जाकर भीम आर्मी पार्टी के चन्द्रशेखर से मिलना बसपा सुप्रीमो को अच्छा नहीं लगा। उनको लग रहा है कि कांग्रेसी नेताओं ने चन्द्रशेखर के मार्फत बसपा के दलित वोट में सेंध लगाने की रणनीति के तहत यह सौहार्द यात्रा की। उसी के बाद से उनके तेवर कांग्रेस के प्रति और भी कड़े हो गये हैं।

माया के दबाव में सपा प्रमुख अखिलेश यादव उनके निर्देशानुसार बोल रहे

माया के दबाव में सपा प्रमुख अखिलेश यादव उनके निर्देशानुसार बोल रहे हैं। चन्द्रशेखर से कांग्रेसी नेताओं के मुलाकात के बाद से कांग्रेस के प्रति माया के बयान लगातार तल्ख हुए हैं। 17 मार्च को एक कार्यक्रम में अखिलेश यादव ने कहा, ‘हमको हाथी व हाथ दोनों का साथ चाहिए’। 17 मार्च को ही उ.प्र. कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर ने राज्य के 80 लोकसभा सीटों में से 7 को सपा-बसपा-रालोद नेताओं के लिए छोड़ने की घोषणा की।

उस पर मायावती ने 18 मार्च को दो ट्वीट करके कांग्रेस पर प्रहार किया। कहा कि हमारा गठबंधन अकेले भाजपा को पराजित करने में सक्षम है। कांग्रेस जबरदस्ती उ.प्र. गठबंधन हेतु सात सीटें छोड़ने की भ्रांति नहीं फैलाए। इसके बाद एक और ट्वीट करके माया ने कहा कि उ.प्र. समेत पूरे देश में कांग्रेस से हमारा किसी भी प्रकार का गठबंधन नहीं है। हमारे लोग कांग्रेस द्वारा आए दिन फैलाए जा रहे तरह-तरह के भ्रम में कत्तई नहीं आयें।

मायावती के कड़े रूख के बाद अखिलेश ने दो घंटे बाद उनके ट्वीट को रिट्वीट किया

मायावती के कड़े रूख के बाद अखिलेश ने दो घंटे बाद उनके ट्वीट को रिट्वीट किया, ‘उ.प्र. में सपा-बसपा- रालोद का गठबंधन भाजपा को हराने में सक्षम है। कांग्रेस किसी भी तरह का भ्रम न पैदा करे’। नवेन्दु का कहना है कि चन्द्रशेखर से मेरठ में कांग्रेसी नेताओं की मुलाकात के बाद से इस तरह दो दिन में माया को अपना दलित वोट कांग्रेस की तरफ जाने तथा कांग्रेस द्वारा चन्द्रशेखर को दलित नेता के तौर पर खड़ा करने का डर सताने लगा है। सपा को भी अगड़ा व मुसलमान वोट कांग्रेस की तरफ जाने का भय हो गया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का भाजपा शीर्ष नेतृत्व के विरूद्ध सीधे लगातार हमला और प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में आ जाने से ब्राह्मण व मुस्लिम समाज की पहली पसंद कांग्रेस होने लगी है।

मुसलमान छिटका तो दोनों दलों को बहुत अधिक नुकसान होगा

मुसलमानों के जेहन में यह बात भी पैठ गई है कि मायावती कब भाजपा के साथ मिल जायें, कहा नहीं जा सकता। हो सकता है वह इस लोकसभा चुनाव में भाजपा की सीटें कम आने पर उसका समर्थन देकर सरकार में शामिल हो जायें। सपा के नेता मुलायम सिंह तो भाजपा नेतृत्व के प्रति नरम हैं ही। इसके चलते मुसलमानों के मन में यह बात पैठ गई है कि केवल कांग्रेस उसके साथ छल नहीं करती है। बाकी तो सीबीआई ,ईडी,आयकर के डर से भाजपा के सामने साष्टांग हो गये हैं। इसलिए जहां भी कांग्रेस प्रत्याशी भाजपा के विरूद्ध ठीक से लड़ रहा होगा, वहां मुसलमान वोट उसकी तरफ जाएगा। इससे उ.प्र. में सपा व बसपा दोनों को दिक्कत हो रही है। मुसलमान छिटका तो दोनों दलों को बहुत अधिक नुकसान होगा।

मायावती और सपा दोनों का जातीय वोट कुछ हद तक भाजपा ने काट ली है। इस बारे में उ.प्र. के पूर्व मंत्री सुरेन्द्र का कहना है कि समरसता और विकास के लिहाज से मुसलमान कांग्रेस को सबसे मुफीद मानता है। उ.प्र. में कांग्रेस अब उठने लगी है। यह डर बसपा को सताने लगा है। इसलिए वह इसे रोकने के लिए हर तरह के उपक्रम करेंगी। इसके अलावा कई मामलों में सीबीआई,आयकर,ईडी का भी डर है। इस दबाव में भी दोनों दल कांग्रेस से तालमेल नहीं कर रहे हैं। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

वीडियो : PM मोदी ने दी शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि, रूसी दूतावास ने भी जताया दुख, रविवार को अंतिम संस्कार

Published

on

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला व संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार शाम दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के आवास पर जाकर उन्हें श्रद्धांजली दी। इस दौरान पीएम मोदी ने शीला के बेटे और पूर्व सांसद संदीप दीक्षित से मुलाकात भी की। शीला दीक्षित का शनिवार दोपहर 81 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

शीला दीक्षित के पार्थिव शरीर को उनके निजामुद्दीन स्थित आवास पर आम लोगों के दर्शनार्थ रखा गया है। रविवार दोपहर उनका पार्थिव शरीर 24 अकबर रोड स्थित कांग्रेस मुख्यालय पर रखा जाएगा। शाम को उन्हें निगमबोध घाट ले जाया जाएगा, जहां उनका अंतिम दाह-संस्कार किया जाएगा।

मातृ तुल्य थीं शीला-बिरला

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने पूर्व मुख्यमंत्री के पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इससे पहले संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी दिवंगत नेता को पुष्पांजलि अर्पित की।

लोकसभा अध्यक्ष ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि वह मातृ तुल्य थीं। एक सामाजिक और राजनीतिक कार्यकर्ता के तौर पर उन्होंने दिल्ली के  लिए बहुत काम किया है। पूरा देश उनके निधन से दुखी है।

रूसी दूतावास ने भी जताया दुख

रूसी दूतावास ने ट्वीट कर दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के निधन पर जताया दुख। दूतावास ने कहा कि शीला दीक्षित ने दोनों देशों के दोस्ताना संबंधों में अहम भूमिका निभाई।

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दी शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी। https://www.kanvkanv.com
Continue Reading

देश

घर लाया गया शीला दीक्षित का पार्थिव शरीर, रविवार को होगा अंतिम संस्कार, जानें दिवंगत नेता का सियासी सफर

Published

on

नई दिल्ली। कांग्रेस की वरिष्ठ नेता व दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का शनिवार को निधन हो गया। 81 वर्षीय शीला दीक्षित लंबे समय से बीमार थीं। कांग्रेस ने उन्हें दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दे रखी थी। वह लंबे समय से बीमार चल रही थीं।
उनका एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था। एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल के निदेशक डॉ. अशोक सेठ ने कहा कि सीने में दर्द के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें दोपहर 3.15 मिनट पर दोबारा दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था जहां उन्होंने 3.55 पर अंतिम सांस ली। शीला दीक्षित का अंतिम संस्कार रविवार को दोपहर ढाई बजे दिल्ली के निगमबोध घाट पर होगा। आज शाम 6 बजे से निजामुद्दीन स्थित घर पर अंतिम दर्शन के लिए पार्थिव शरीर रखा जाएगा।

दिल्ली में दो दिन का राजकीय शोक

पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के निधन पर दिल्ली में दो दिनों का राजकीय शोक घोषित किया गया है। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इसका ऐलान किया।

शीला दीक्षित का एक परिचय

कांग्रेस की कद्दावर नेता रहीं शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ। उन्होंने दिल्ली के कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी स्कूल से पढ़ाई की और फिल दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस कॉलेज से मास्टर्स ऑफ आर्ट्स की डिग्री हासिल की। शीला दीक्षित का राजनीतिक सफर उतार-चढ़ाव भरा रहा है। शीला की कांग्रेस के बड़े नेता उमाशंकर दीक्षित के बेटे विनोद दीक्षित से शादी हुई थी। इसी के साथ उनका राजनीतिक सफर भी शुरू हुआ था। दिल्ली की सबसे ज्यादा समय यानी 15 साल तक (1998 से 2013) तक मुख्यमंत्री रही हैं। शीला के बारे में कहा जाता है कि वह सबको साथ लेकर चलती हैं। मुख्यमंत्री रहते हुए भी वह जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं से जुड़ी रही।

दिल्ली में तीन बार लगातार कार्यकाल संभालने के बाद 2013 में उन्हें उन्हीं की नई दिल्ली सीट से आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने हरा दिया था। इसके बाद उन्हें केरल का राज्यपाल बनाया गया। इस बीच केन्द्र में सरकार बदल गई और उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा। उत्तर प्रदेश में 2017 के चुनावों के दौरान उन्हें ब्राह्मण चेहरे के तौर पर मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया गया  था।

शीला दीक्षित दिल्ली के कान्वेंट स्कूल में पढ़ीं। बाद में उन्होंने दिल्ली के मिरांडा हाउस कॉलेज से कला में स्नातक की डिग्री हासिल की। उन्होंने 1984 से लेकर 1989 तक कन्नौज लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व किया। इस दौरान वह संसदीय कार्य राज्यमंत्री और प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री रही। 1998 में शीला दीक्षित दिल्ली की पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के लाल बिहारी तिवारी से हार गईं। शीला दीक्षित 1998 में दिल्ली की मुख्यमंत्री बनी। इसके बाद 15 साल तक मुख्यमंत्री रही। पहले पांच साल तक उन्होंने गोल मार्केट सीट और बाद में नई दिल्ली सीट का प्रतिनिधित्व किया।

आईएएस अधिकारी से हुई थी शादी

शीली दीक्षित की शादी यूपी के उन्नाव के आईएएस अधिकारी स्वर्गीय विनोद दीक्षित से हुई थी। बता दें कि विनोद दीक्षित बंगाल के पूर्व राज्यपाल और कांग्रेस के बड़े नेता स्वर्गीय उमाशंकर दीक्षित के बेटे थे। शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित भी दिल्ली के पूर्व सांसद रहे हैं। शीला दीक्षित के दो बच्चे हैं- संदीप दीक्षित और बेटी लतिका सैयद।

पीएम नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति ने दी श्रद्धांजलि

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर शीला दीक्षित ने निधन पर दुख जाहिर किया। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘शीला दीक्षित जी के निधन से बेहद दुखी हूं। वह मिलनसार व्यक्तित्व की धनी थीं। दिल्ली के विकास के लिए उन्होंने अभूतपूर्व कार्य किए। उनके परिवार और समर्थकों को मेरी सांत्वना। ओम शांति।

कोविंद ने लिखा, शीला दीक्षित के निधन की खबर से दुखी हूं

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शीला दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ‘दिल्ली की पूर्व सीएम और सीनियर नेता शीला दीक्षित के निधन की खबर से दुखी हूं। उनका कार्यकाल दिल्ली में बदलाव का दौर था, जिसके लिए उन्हें याद किया जाएगा। उनके परिवार और साथियों के प्रति संवेदनाएं।

राहुल बोले, कांग्रेस की प्यारी बेटी थीं शीला

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी गांधी ने ट्वीट करते हुए शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने लिखा, ‘शीला जी के निधन की खबर से मैं बेहद दुखी हैं। वह कांग्रेस की एक प्यारी बेटी थीं, जिनसे व्यक्तिगत तौर पर मेरे संबंध थे। उनके परिवार और दिल्ली के नागरिकों के प्रति मैं संवेदना व्यक्ति करता हूं।

अरविंद केजरीवाल बोले, हमेशा करेंगे याद

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी है। केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘शीला दीक्षित जी के निधन की हाल ही में खबर मिली है। यह दिल्ली के लिए बड़ी क्षति है। उन्हें हमेशा याद किया जाएगा। उनके परिवार के सदस्यों के प्रति मैं ह्रदय से संवेदना व्यक्त करता हूं। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।

मनमोहन ने कहा- खबर सुनकर हुआ हैरान

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शीला दीक्षित के निधन की खबर को हैरान कर देनेवाला बताया। उन्होंने कहा कि शीला दीक्षित के अचानक निधन की खबर ने हैरान किया। उनके निधन से देश ने कांग्रेस के एक समर्पित नेता को खो दिया। दिल्ली की जनता हमेशा उनके मुख्यमंत्री के कार्यकाल के दौरान शहर के विकास में दिए योगदान को लेकर याद करते रहेंगे। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

देश

नहीं रहीं दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, 81 साल की उम्र में निधन

Published

on

नई दिल्ली। कांग्रेस की वरिष्ठ नेता व दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का शनिवार को निधन हो गया। 81 वर्षीय शीला दीक्षित लंबे समय से बीमार थीं। कांग्रेस ने उन्हें दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दे रखी थी। वह लंबे समय से बीमार चल रही थीं।
उनका एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था। एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल के निदेशक डॉ. अशोक सेठ ने कहा कि सीने में दर्द के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें दोपहर 3.15 मिनट पर दोबारा दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था जहां उन्होंने 3.55 पर अंतिम सांस ली। शीला दीक्षित का अंतिम संस्कार रविवार को दोपहर ढाई बजे दिल्ली के निगमबोध घाट पर होगा। आज शाम 6 बजे से निजामुद्दीन स्थित घर पर अंतिम दर्शन के लिए पार्थिव शरीर रखा जाएगा।

पीएम नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति ने दी श्रद्धांजलि

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर शीला दीक्षित ने निधन पर दुख जाहिर किया। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘शीला दीक्षित जी के निधन से बेहद दुखी हूं। वह मिलनसार व्यक्तित्व की धनी थीं। दिल्ली के विकास के लिए उन्होंने अभूतपूर्व कार्य किए। उनके परिवार और समर्थकों को मेरी सांत्वना। ओम शांति।

कोविंद ने लिखा,  शीला दीक्षित के निधन की खबर से दुखी हूं

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शीला दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ‘दिल्ली की पूर्व सीएम और सीनियर नेता शीला दीक्षित के निधन की खबर से दुखी हूं। उनका कार्यकाल दिल्ली में बदलाव का दौर था, जिसके लिए उन्हें याद किया जाएगा। उनके परिवार और साथियों के प्रति संवेदनाएं।

राहुल बोले, कांग्रेस की प्यारी बेटी थीं शीला

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी गांधी ने ट्वीट करते हुए शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने लिखा, ‘शीला जी के निधन की खबर से मैं बेहद दुखी हैं। वह कांग्रेस की एक प्यारी बेटी थीं, जिनसे व्यक्तिगत तौर पर मेरे संबंध थे। उनके परिवार और दिल्ली के नागरिकों के प्रति मैं संवेदना व्यक्ति करता हूं।

अरविंद केजरीवाल बोले, हमेशा करेंगे याद

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी है। केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘शीला दीक्षित जी के निधन की हाल ही में खबर मिली है। यह दिल्ली के लिए बड़ी क्षति है। उन्हें हमेशा याद किया जाएगा। उनके परिवार के सदस्यों के प्रति मैं ह्रदय से संवेदना व्यक्त करता हूं। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।

शीला दीक्षित का एक परिचय

कांग्रेस की कद्दावर नेता रहीं शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ। उन्होंने दिल्ली के कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी स्कूल से पढ़ाई की और फिल दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस कॉलेज से मास्टर्स ऑफ आर्ट्स की डिग्री हासिल की। शीला दीक्षित साल 1984 से 1989 तक उत्तर प्रदेश के कन्नौज से सांसद रहीं। शीला दीक्षित राजीव गांधी सरकार में केन्द्रीय मंत्री भी रह चुकी हैं। इसके बाद वह 2014 में केरल की राज्यपाल भी रहीं।
शीला दीक्षित साल 1998 से 2013 तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं। उनके नेतृत्व में लगातार तीन बार कांग्रेस ने दिल्ली में सरकार बनाई। वह सबसे लंबे समय (15 साल) तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं।

आईएएस अधिकारी से हुई थी शादी

शीली दीक्षित की शादी यूपी के उन्नाव के आईएएस अधिकारी स्वर्गीय विनोद दीक्षित से हुई थी। बता दें कि विनोद दीक्षित बंगाल के पूर्व राज्यपाल और कांग्रेस के बड़े नेता स्वर्गीय उमाशंकर दीक्षित के बेटे थे। शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित भी दिल्ली के पूर्व सांसद रहे हैं। शीला दीक्षित के दो बच्चे हैं- संदीप दीक्षित और बेटी लतिका सैयद। https://www.kanvkanv.com
Continue Reading

राज्य9 hours ago

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को पीड़ित परिवारों से मिलने जाएंगे सोनभद्र

राज्य9 hours ago

श्रावस्ती : भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष की ह्रदयगति रुकने से मौत, कार्यकर्ताओं में शोक की लहर

देश9 hours ago

वीडियो : PM मोदी ने दी शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि, रूसी दूतावास ने भी जताया दुख, रविवार को अंतिम संस्कार

राज्य9 hours ago

यूपी : उपनिरीक्षक की करतूत से खाकी हुई दागदार, किशोरी के साथ होटल में गुजारी दो रात, ये है पूरा मामला

राज्य10 hours ago

बहराइच : संभावित बाढ़ से बचाव की तैयारियों को लेकर मंत्री ने कसे अफसरों के पेंच

राज्य10 hours ago

श्रावस्ती : 1.100 किलो ग्राम चरस के साथ अंतर्जनपदीय चोरों का गिरोह गिरफ्तार

राज्य10 hours ago

श्रावस्ती : प्रियंका गांधी की गिरफ्तारी के विरोध में कांग्रेसियों ने डीएम को राज्यपाल के नाम दिया ज्ञापन

राज्य10 hours ago

श्रावस्ती : लापरवाही बरतने पर लेखपाल को प्रतिकूल प्रविष्टि व राजस्व निरीक्षक को मिली चेतावनी

राज्य10 hours ago

गोण्डा : परिश्रम के सामने सभी लक्ष्य बौना : डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य

राज्य10 hours ago

गोंडा : ग्राम न्यायालय के विरोध में अधिवक्ताओं ने खोला मोर्चा, निकाला जुलूस

राज्य10 hours ago

गोंडा : डीआईजी ने पेंशनरों के साथ की गोष्ठी, समस्याएं सुन अफसरों को दिए निर्देश

देश13 hours ago

घर लाया गया शीला दीक्षित का पार्थिव शरीर, रविवार को होगा अंतिम संस्कार, जानें दिवंगत नेता का सियासी सफर

हेल्थ13 hours ago

बारिश में बढ़ जाता है अपेन्डिक्स के दर्द, जानें कारण और उपचार

देश13 hours ago

नहीं रहीं दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, 81 साल की उम्र में निधन

मनोरंजन15 hours ago

रेप केस में पंचोली को 3 अगस्त तक गिरफ्तारी से छूट, अभिनेत्री ने पुलिस को बताई थी दरिंदगी की ये पूरी दास्तां

हेल्थ15 hours ago

ये हैं वो छोटी-छोटी आदतें जिससे कम हो रहा आपका स्पर्म, बढ़ाने के लिए इन असरदार चीजों को खाएं

टेक्नोलॉजी15 hours ago

Google पिक्सेल 4, पिक्सेल 4 XL में होगा 6 जीबी रैम, इस महीने होगा लॉन्च, जानें स्पेसिफिकेशन

दुनिया16 hours ago

ईरान ने जब्त किए ब्रिटिश टैंकर, क्रू में भारतीय भी शामिल, यूके ने कहा-परिणाम भुगतने को रहो तैयार

देश2 weeks ago

पत्नी एम्स में थी नर्स, पति को चरित्र पर था शक, बीवी व 3 बच्चों की हत्या कर किया सुसाइड

वीडियो1 week ago

भाजपा विधायक राजेश मिश्रा की बेटी ने दलित युवक से की शादी, कहा-पिता से जान का खतरा, देखें वीडियो

देश2 weeks ago

नई नवेली दुल्हन ने वॉट्सएप पर लोकेशन भेज प्रेमी को बुलाया, पति देखता रहा और कर दिया ये बड़ा कांड

राज्य7 days ago

नशेबाज व गुंडा प्रवृत्ति का है साक्षी मिश्रा का कथित पति अजितेश, लिखता है क्षत्रिय, कई युवतियों से हैं संबंध

देश4 weeks ago

रात में टहल रही थीं दो सगी बहनें, 8 लड़कों ने किया रेप, वीडियो भी बनाया

हेल्थ3 weeks ago

बैली फैट को कम करने में अंडा है बेहद कारगर, अपनाएं ये रेसिपी

वीडियो3 weeks ago

देखें वीडियो : आमिर की बेटी इरा ने बॉयफ्रेंड संग किया रोमांटिक डांस, यूजर बोले-पिता का नाम बदनाम कर रही

बिज़नेस4 weeks ago

कारोबारी सप्ताह के आखिरी दिन शेयर बाजार में मायूसी, 219 अंक फिसला सेंसेक्स

राज्य1 week ago

दलित से शादी करने वाली BJP विधायक की बेटी साक्षी मिश्रा के पति की पहले हो चुकी है सगाई, देखें फोटो

राज्य7 days ago

साक्षी मिश्रा के बाद इस लड़की ने भी की इंटरकास्ट शादी, पिता बोले-वापस आओ नहीं बन जाऊंगा मुसलमान

दुनिया4 weeks ago

US के ड्रोन को मार गिराए जाने से अमेरिका और ईरान के बीच सैन्य टकराव की बढ़ी आशंका

मनोरंजन4 weeks ago

लखनऊ की मिजाजी शाम में महानायक अमिताभ ने की शूटिंग, भुट्टा खाते हुये आए नजर

देश3 weeks ago

हाई प्रोफाईल सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, पांच महिलाओं सहित 9 गिरफ्तार, 7 मॉडलों को कराया मुक्त

राज्य3 weeks ago

पढ़ाई में बहन थी तेज, कमजोर करने के लिए भाई करने लगे गैंगरेप, इस तरह हुआ खुलासा

वीडियो2 weeks ago

अमरनाथ श्रद्धालुओं पर गिरने लगे पत्थर तो चट्टान बनकर खड़े हो गए जवान, देखें सांसे थमा देने वाला वीडियो

राज्य1 week ago

दलित से शादी करने वाली भाजपा विधायक की बेटी साक्षी मिश्रा ने की पापा से बात, मिला ये जवाब 

देश5 days ago

पिता ने पैर छूने झुकी गर्भवती बेटी का काटा गला, सामने आई हत्या की ये बड़ी वजह

राज्य4 weeks ago

बरेली : उर्स-ए-ताजुशारिया को लेकर कलेक्ट्रेट सभागार में हुई बैठक

Trending