लगातार दूसरे दिन 'प्रलय' का सफल परीक्षण, रक्षा मंत्रालय बोला- सभी टारगेट पर खरी उतरी मिसाइल

नई दिल्ली. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने 24 घंटे के अंदर लगातार दो बार स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल 'प्रलय' का सफल परीक्षण किया है। ये मिसाइल जमीन से जमीन पर मार करने वाली स्वेदशी बैलिस्टिक मिसाइल है। प्रलय की मारक क्षमता रेंज 150 से 500 किलोमीटर है, और इसे मोबाइल लॉन्चर से लॉन्च भी किया जा सकता है।

 
pp

गुरुवार को लगातार दूसरी बार ओडिशा के डॉ एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप से बैलिस्टिक मिसाइल 'प्रलय' का सफल परीक्षण के बाद DRDO ने बताया कि बैलिस्टिक मिसाइल का सफलतापूर्वक उड़ान परीक्षण किया गया। टेस्टिंग के दौरान मिसाइल ने मिशन के सभी उद्देश्य पूरे हुए।

नई दिल्ली. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने 24 घंटे के अंदर लगातार दो बार स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल 'प्रलय' का सफल परीक्षण किया है। ये मिसाइल जमीन से जमीन पर मार करने वाली स्वेदशी बैलिस्टिक मिसाइल है। प्रलय की मारक क्षमता रेंज 150 से 500 किलोमीटर है, और इसे मोबाइल लॉन्चर से लॉन्च भी किया जा सकता है।

गुरुवार को लगातार दूसरी बार ओडिशा के डॉ एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप से बैलिस्टिक मिसाइल 'प्रलय' का सफल परीक्षण के बाद DRDO ने बताया कि बैलिस्टिक मिसाइल का सफलतापूर्वक उड़ान परीक्षण किया गया। टेस्टिंग के दौरान मिसाइल ने मिशन के सभी उद्देश्य पूरे हुए।

वहीं इस संबंध में जानकारी देते हुए रक्षा मंत्रालय ने बताया कि गुरुवार को मिसाइल का परीक्षण भारी पेलोड और अलग-अलग रेंज के लिए किया गया ताकि इसकी सटीकता और ताकत को परखा जा सके। मंत्रालय ने कहा कि टेस्ट में मिसाइल ने अपने सभी टारगेट पर खरा उतरा। बता दें, इससे पहले इसी ओडिशा के तट से भारत ने लेटेस्ट तकनीक से लैस अग्नि श्रेणी की मिसाइलों का टेस्ट किया था।