Connect with us

देश

मुंगेर में फिर बवाल : चुनाव आयोग ने जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को हटाया

Published

on

पटना/ मुंगेर। मुंगेर में लगातार हो रहे बवाल और लोगों में बढ़ते आक्रोश को देखते हुए चुनाव आयोग ने मुंगेर के जिलाधिकारी राजेश मीणा और पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह को तत्काल प्रभाव से हटा दिया है। साथ ही नए डीएम और एसपी की तैनाती कर दी गई है। चुनाव आयोग ने इस पूरे मामले की जांच मगध प्रमंडल के कमिश्नर असंगबा चुबा को सौंप दी है। वह अपनी रिपोर्ट सात दिन के अंदर आयोग को सौपेंगे।

उल्लेखनीय है कि 26 अक्टूबर को मूर्ति विसर्जन के दौरान मुंगेर में विसर्जन को जा रहे भक्तों के बीच भगदड़ मच गई। उसके बाद पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया। तब भी हालात काबू में नहीं आए तो पुलिस ने फायरिंग कर दी, जिसमें एक युवक की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। इस घटना के बाद पुलिस के प्रति लोगों में आक्रोश भर उठा। इलाके में भारी तनाव फैल गया। उसी का नतीजा है कि गुरुवार को इस घटना के विरोध में पूरे शहर ने बंद रखा और जगह-जगह प्रदर्शन किया गया। कई जगह आज आगजनी की घटनाएं भी हुई हैं। मामले पर चुनाव आयोग ने संज्ञान लेते हुए डीएम और एसपी को तत्काल प्रभाव से हटा दिया है।

नेता प्रतिपक्ष और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने तो मुंगेर की एसपी को जनरल डायर की संज्ञा तक दे डाली। दरअसल दशहरे की रात मूर्ति विसर्जन के दौरान पुलिस और आम लोगों के बीच पहले विवाद हुआ और उसके बाद वहां जमकर हंगामा हुआ था। पुलिस को गोलियां तक चलानी पड़ी थी, जिसमे एक युवक की मौत हो गई थी और कई अन्य बुरी तरह घायल हो गए थे।

Trending