Connect with us

देश

पुलिसवालों ने बाप-बेटे के प्राइवेट पार्ट में डाली लाठी, फिर यातनाएं देकर थाने में मार डाला

Published

on

नयी दिल्ली। तमिलनाडु में पुलिस का बर्बरता भरा आचरण सामने आया है। यहां पुलिस ने एक बाप-बेटे के प्राइवेट पार्ट में लाठी डाल दी फिर यातनाएं देकर थाने में ही मार डाला। इस घटना के बाद से ही राज्य भर में आक्रोश फैल गया है। कई जगह प्रदर्शन हुए हैं और मानवाधिकार आयोग ने पुलिस को नोटिस भेजा है। वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री के. पलनीसामी ने कहा है कि इस मामले की जाँच सीबीआई करेगी।

यह है घटना

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह घटना 19-20 जून की है। शक्तिशाली नाडर व्यापारी समुदाय से ताल्लुक रखने वाले पी जयराज तूतीकोरिन ज़िले (थुतुकुड़ी) के सतानकुलम के निवासी थे।  सतानकुलम में उनके बेटे बेनिक्स की एपीजे मोबाइल्स नाम से एक मोबाइल की छोटी दुकान है। सात बजे के बाद भी दुकान खुले रखने को लेकर पुलिसवालों से बहस हो गई। कोरोना महामारी के मद्देनजर ऐसा निर्देश था कि शहर में सात बजे के बाद सभी दुकानें बंद कर दी जाएंगी। इसी बात पर बहस के बाद पुलिसवालों ने जयराज और उनके बेटे को थाने ले आई थी। हिरासत में लिए जाने के दो ही दिन बाद दोनों की कस्टडी में ही मौत हो गई।

पुलिस ने पार की अमानवीयता की हद

जानकारी के मुताबिक, 19-20 की रात पुलिसवालों ने हिरासत में बाप-बेटे की जमकर पिटाई की थी। इस दौरान उन्होंने अमानवीयता की सारी हद पार कर दी थी। दोनों के प्राइवेट पार्ट्स में लाठी डाल दी गई थी।

रिश्तेदार ने बताया बर्बरता की कहानी

एक रिश्तेदार जोसेफ ने बताया कि जब जयराज और बेनिक्स देर तक घर नहीं पहुंचे तो थाने गए और दोनों से मिलने की इच्छा जताई तो पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोक दिया। अगले दिन यानी 20 जून को जब रिश्तेदार दोबारा थाने गए तो पुलिसकर्मियों ने उनसे जयराज और बेनिक्स को अस्पताल ले जाने के लिए गाड़ी और नए कपड़ों का इंतजाम करने को कहा। परिवार ने कपड़ों और गाड़ी का इंतजाम कर दिया था।

बोल नहीं पा रहे थे जयराज- जोसेफ

इसके बाद पुलिसवाले दोनों को लेकर अस्पताल पहुंचे। जोसेफ और उनकी पत्नी ने देखा कि अस्पताल में जाते समय दोनों बुरी तरह घायल थे और उनके कपड़े खून से सने हुए थे। जोसेफ ने बताया, “पुलिसवालों ने उन्हें घरे रखा था। जयराज की बहन मिन्नतें करने के बाद उनसे मिल पाई। वो बोल नहीं पा रहे थे और लगातार खून में सने अपने कपड़े दिखा रहे थे। कमर से नीचे उनके कपड़े खून से पूरी तरह लथपथ हो गए थे।”

पुलिस पर रातभर पिटाई का आरोप

जोसेफ ने आगे बताया, “बेनिक्स की कमर से भी खून बह रहा था। जयराज ने बड़ी मुश्किल से अपनी बहन को बताया कि उन दोनों को पुलिस वालों ने रात में 100-200 बार पीटा है।”

पुलिसकर्मियों ने बेनिक्स को खून से लथपथ अपना ट्राउजर बदलने की इजाजत दे दी। जब बेनिक्स ने उसकी जगह लुंगी पहनी तो यह भी खून से सन गई। फिर एक और लुंगी लाई गई तो यह भी उसी तरह खून से लथपथ हो गई।

खून बहने से रोकने के लिए दो घंटे अस्पताल में रखे गए दोनों

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक पुलिस अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि दोनों को दो घंटे तक अस्पताल में रखा गया था। यहां पूरी कोशिश की जा रही थी कि ब्लीडिंग को किसी तरह रोका जाए। उन्हें कई बार कपड़े बदलने के लिए दिए गए लेकिन लगातार बहते खून के कारण कपड़े खून से सन जाते थे। अधिकारी ने बताया कि उन्हें दवाएं दी गई। उन्होंने लगभग छह बार कपड़े बदले थे और हर बार ये खून से लथपथ हो जाते थे। बेनिक्स के ज्यादा खून बह रहा था। 20 जून को लगभग 12 बजे उन्हें रिमांड के लिए मेजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया।

परिवार को नहीं लेने दिए गए दोनों के कपड़े

परिवार वालों ने बताया कि पुलिस उन्हें केवल दिखावे के लिए अस्पताल लेकर आई थी और उन्हें एक पल भी अकेला नहीं छोड़ा। साथ ही पुलिस उनके कपड़े भी किसी को छूने नहीं दे रही थी।

दोनों के मलाशय में डंडा डाला गया था- शुरुआती जांच

पुलिस जांच में शामिल एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शुरुआती जांच में पता चला है कि उन्हें कपड़े उतारकर 19-20 जून की पूरी रात पीटा गया था। उनके मलाशय में डंडा डाला गया था। जब बेनिक्स अपने पिता को पीटने से बचाने की कोशिश कर रहे थे तब पुलिसवाले उनके ऊपर बैठ गए थे। चोट के कारण बेनिक्स का ज्यादा खून बह रहा था। वहीं पुलिस का कहना है कि दोनों की मौत न्यायिक हिरासत में हुई है।

परिवार को मुवाअजा

इसी बीच तमिलनाडु सरकार ने मृतकों को दस लाख रुपये और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का ऐलान कर दिया है। डीएमके ने एक परिवार के लिए 25 लाख रुपये का मुआवज़ा घोषित किया है। इसके बाद एआईएडीएमके ने भी पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपये का मुआवज़ा देने की घोषणा की है।

सीएम बोले

इसी बीच मुख्यमंत्री ई. पलानीसामी ने कहा है, “जयराज और उनके बेटे बेनिक्स जेल में बंद थे। इसके बाद उनकी मौत अस्पताल में हुई। सरकार मद्रास हाई कोर्ट की ओर से आए हर आदेश का पालन करेगी। मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि उन्होंने पुलिस को कड़े शब्दों में निर्देश दिए हैं कि पुलिस को दुकानदारों और आम जनता के साथ ठीक ढंग से पेश आना है और इस कठिन दौर में उनका भरोसा हासिल करना है। वहीं बता दें कि इस घटना के बाद दो उपनिरीक्षकों सहित चार पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है।

Trending