Connect with us

देश

पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर विपक्ष का हल्ला बोल, मोदी सरकार के खिलाफ उतरे सड़कों पर

Published

on

नयी दिल्ली, लखनऊ। देश भर में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर विपक्ष सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर आया है। गुरुवार को बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) और उत्तर प्रदेश में सुभासपा अध्यक्ष ने पार्टी के अन्य नेताओं के साथ विरोध प्रदर्शन की शुरुआत की और कई नेता सड़कों पर उतरे। 

तेजस्वी यादव के साथ उनके भाई तेजप्रताप यादव भी शामिल हुए

बिहार के पटना की सड़कों पर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव और उनके भाई तेजप्रताप यादव ने अनोखे ढंग से विरोध मार्च निकाला। दोनों को सांकेतिक ढंग से एक रस्सी के सहारे ट्रैक्टर खींचते देखा गया। तेजस्वी और तेजप्रताप यादव ने साइकिल चला कर विरोध प्रदर्शन किया।

आवास के बाहर ही रोक दिया गया राजभर को

वहीं सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर को लखनऊ में ही पुलिस द्वारा उनके आवास के बाहर ही रोक दिया गया। ओमप्रकाश ने कहा कि वह एक जनप्रतिनिधि हैं और पुलिस द्वारा उनको रोका जाना गलत है। पेट्रोल और डीजल के मूल्य वृद्धि से नाखुश होकर वह और उनके विधायकों ने साइकिल से विधानसभा जाने की योजना की, क्योंकि अब वह वाहन से नहीं चल सकते।

यूथ कांग्रेस के नेताओं ने भी किया प्रदर्शन

वहीं, यूथ कांग्रेस के नेताओं ने भी बीते 24 घंटे में पूरे प्रदेश में अलग-अलग जगहों पर पेट्रोल डीजल मूल्य वृद्धि पर धरना प्रदर्शन किया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने पेट्रोल और डीजल की मूल्यवृद्धि पर केंद्र सरकार को उनके चुनाव के समय कराए गए वादों को याद कराया। उन्होंने केंद्र सरकार को वादों को भूल जाने वाली सरकार बताया है।  

कांग्रेस सोमवार को करेगा देश भर में प्रदर्शन

इसी के साथ कांग्रेस ने भी पेट्रोल-डीजल की कीमतों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने का ऐलान किया है। कांग्रेस पूरे देश में सोमवार से विरोध मार्च की शुरुआत करेगी।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

गलवान नदी में आई बाढ़, बह गए चीनी सेना के कैम्प

Published

on

काफी तेजी से बर्फ पिघलने के कारण नदी के तट पर स्थिति हुई खतरनाक

नौसेना को स्टील की नौकाओं के साथ पैंगोंग झील मेंं उतारे जाने की तैयारी

नई दिल्ली। जिस गलवान घाटी पर अपना दावा जताकर चीन भारत के खिलाफ मोर्चाबंदी कर रहा है, उसी गलवान नदी के तट पर अब चीनी सेना की मुश्किलें बढ़ गईंं हैं। गलवान नदी के किनारे चीन की तैनाती नहीं हो पा रही है क्योंकि नदी का जल स्तर तेज गति से बढ़ने के कारण गलवान के किनारों पर लगे चीनी सेना के कैम्प बह गए हैंं।

पहाड़ियों की बर्फ लगातार पिघल रही

गलवान नदी भारत के लद्दाख क्षेत्र में बहने वाली एक नदी है। यह अक्साई चिन क्षेत्र में उत्पन्न होती है, जो चीन के क़ब्ज़े में है लेकिन भारत इस पर अपनी सम्प्रभुता मानता है। यह नदी काराकोरम की पूर्वी ढलानों में सामज़ुंगलिंग के पास आरम्भ होती है और पश्चिमी दिशा में बहकर श्योक नदी में विलय कर जाती है। मई के बाद भारत से तनाव बढ़ने पर चीन की सेना ने गलवान नदी के किनारे अपने कैम्प लगा दिए थे। इस समय नदी के पानी का स्तर तट के काफी ऊपर तक पहुंच गया है क्योंकि लगातार तापमान बढ़ने से आसपास की पहाड़ियों की बर्फ लगातार पिघल रही है जिसका पानी बहकर गलवान नदी में आ रहा है।

चीनी पीएलए के टेंट गलवान के बर्फीले बढ़ते पानी में पांच किलोमीटर गहराई में बह गए

उपग्रह और ड्रोन की तस्वीरों से पता चलता है कि चीनी पीएलए के टेंट गलवान के बर्फीले बढ़ते पानी में पांच किलोमीटर गहराई में बह गए हैंं। काफी तेजी से बर्फ पिघलने के कारण नदी के तट पर इस समय स्थिति खतरनाक है। चीन यहां से पीछे हटने के बाद अधिक से अधिक नई तैनाती करने में जुट गया है लेकिन गलवान, गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स और पैंगोंग झील में मौजूदा स्थिति के चलते चीनी सेना की तैनाती लंबे समय के लिए अस्थिर हो गई है।
पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर पूरी ताकत से भारतीय सेना और वायुसेना की तैनाती के बाद अब भारतीय नौसेना को स्टील की नौकाओं के साथ पैंगोंग झील मेंं उतारे जाने की तैयारी है। गश्ती नौकाओं के ऊपरी हिस्से को काट दिया जा रहा है ताकि उन्हें तैनाती के लिए मुंबई से सी-17 मालवाहक विमान से लेह तक पहुंचाया जा सके। पीएलए की भारी गश्ती नौकाओं की ही तरह यह भी गन माउंट्स वाली स्टील की नावें हैं, जिनका इस्तेमाल चीन ने झील के उत्तरी किनारे पर किया था। हालांकि भारतीय नौसेना की विशेष टीम पहले से ही पैंगोंग झील में अतिरिक्त 24 अग्रिम लड़ाकू मोटरबोट के साथ तैनात है।

गलवान घाटी क्यों है महत्वपूर्ण

गलवान घाटी लद्दाख और अक्साई चिन के बीच भारत-चीन सीमा के नजदीक है। यहां पर वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) अक्साई चिन को भारत से अलग करती है। अक्साई चिन पर भारत और चीन दोनों अपना दावा करते हैं। यह घाटी चीन के दक्षिणी शिनजियांग और भारत के लद्दाख तक फैली है। ये क्षेत्र भारत के लिए सामरिक रूप से बेहद महत्वपूर्ण हैं क्योंकि ये पाकिस्तान, चीन के शिनजियांग और लद्दाख की सीमा के साथ लगा हुआ है।
सन् 1962 के युद्ध में भी गलवान नदी का यह क्षेत्र जंग का प्रमुख केंद्र रहा था। इस घाटी के दोनों तरफ के पहाड़ रणनीतिक रूप से सेना का बर्फीली हवा से बचाव करते हैंं क्योंकि यहां जून की गर्मी में भी तापमान शून्य डिग्री से कम होता है। भारत गलवान घाटी में अपने इलाके में सड़क बना रहा है जिसका चीन विरोध कर रहा है। दारबुक-श्‍योक-दौलत बेग ओल्‍डी रोड भारत को इस पूरे इलाके में बड़ा फायदा देगी क्योंकि यह रोड काराकोरम पास के नजदीक तैनात जवानों तक सप्‍लाई पहुंचाने के लिए बेहद अहम है।
Continue Reading

देश

राज्यपाल लालजी टंडन की हालत गंभीर, डाक्टरों ने क्रिटिकल वेंटीलेटर सपोर्ट पर रखा

Published

on

लखनऊ। मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन की हालत में सुधार नहीं हो रहा है। वे लम्‍बे समय से बीमार चल रहे हैं। उनकी हालत लगातार स्थिर बनी हुई है और लखनऊ के मेदांता अस्पताल में उनका उपचार जारी है। उन्हें अभी भी विशेषज्ञों की निगरानी में ट्रकोस्ट्रामी के माध्यम से क्रिटिकल केयर वेंटीलेटर सपोर्ट पर रखा गया है। मेदांता हॉस्पिटल के चिकित्सकों की ओर से जारी बुलेटिन के हवाले से राजभवन द्वारा रविवार को यह जानकारी मीडिया को दी गई।

11 जून को कराया गया था मेदांता अस्पताल में भर्ती

उल्‍लेखनीय है कि राज्यपाल लालजी टंडन को 11 जून को सांस लेने और पेशाब में दिक्कत के साथ बुखार होने पर परिजनों ने लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां उनका आंतरिक रक्तस्राव होने के कारण इमरजेंसी ऑपरेशन करना पड़ा था। इसके बाद से ही उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है। मेदांता के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. राकेश कपूर के हवाले से राजभवन द्वारा बताया गया है कि राज्यपाल लालजी टंडन का स्वास्थ्य स्थिर है।

क्रिटिकल केयर वेंटीलेटर सपोर्ट पर रखा गया

हालांकि, उनका मधुमेह और संक्रमण नियंत्रण में है। किडनी, लीवर और हार्ट पहले से बेहतर है, लेकिन अभी भी उन्हें ट्रेकोस्ट्रामी के माध्यम से क्रिटिकल केयर वेंटीलेटर सपोर्ट पर रखा गया है, जहां क्रिटिकल केयर विशेषज्ञों द्वारा उनका उपचार किया जा रहा है।

नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी की हालत में सुधार

पीजीआई के कोरोना वार्ड में भर्ती सपा के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी की हालत में सुधार है। उन्होंने परिजनों से बातचीत भी की। चिकित्सकों का कहना है कि अब उन्हें ऑक्सीजन की जरूरत नहीं पड़ रही है। सीने में संक्रमण भी कम हुआ है।

कैबिनेट मंत्री मोती सिंह की सेहत स्थिर

पीजीआई के कोविड अस्पताल में भर्ती कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप उर्फ  मोती सिंह व उनकी पत्नी की सेहत स्थिर है। दोनों को आईसीयू में रखा गया है।

Continue Reading

देश

देश में कोरोना के मरीजों की संख्या पौने सात लाख के करीब, अब तक 19,268 लोगों की मौत

Published

on

देश में 4 लाख से ज्यादा मरीज हुए स्वस्थ, रिकवरी रेट बढ़कर हुआ 60.8%

24 घंटे में कोरोना के 24,850 नए मामले आए सामने, 613 लोगों की हुई मौत

नई दिल्ली। देश में वैश्विक महामारी कोरोना के मरीजों की संख्या अब पौने सात लाख के करीब पहुंच गई है। पिछले 24 घंटों में कोरोना के 24,850 नए मामले सामने आए हैं। एक ही दिन में आने वाले नए मरीजों में यह अब तक की सबसे बड़ी बढ़ोतरी है। इसके साथ कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़कर 6,73,165 पर पहुंच गई है।

देश में 2,44,814 एक्टिव मरीज

वहीं कोरोना से पिछले 24 घंटों में 613 लोगों की मौत हो गई। इस तरह संक्रमण की वजह से अब तक 19,268 लोगों की मौत हो चुकी है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा रविवार सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में 2,44,814 एक्टिव मरीज हैं। वहीं राहत भरी खबर भी है कि पिछले 24 घंटों में कोरोना के 14,856 मरीज स्वस्थ हुए हैं। देश में 4,09,083 कुल मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।

राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों में कोरोना के मरीजों की संख्या और बढ़ोतरी क्रम-

अंडमान और निकोबार- 119(+3), आंध्रप्रदेश में 17,699(+765), अरुणाचल प्रदेश- 259(+7), असम- 10,668(+995), बिहार- 11,700(+746), चंडीगढ़- 460(+3), छत्तीसगढ़- 3,161(+96), दिल्ली- 97,200 (+2525), दादरा नगर हवेली और दमण व दीव- 271(+14), गोवा -1684(202), गुजरात- 35312(+712), हरियाणा- 16,548 (+545), हिमाचल प्रदेश- 1046 (+13), झारखंड- 2739(+44), कर्नाटक- 21549 (+1839), केरल-5204 (+240), मध्यप्रदेश- 14,604(+307), महाराष्ट्र- 2,00,064, मणिपुर- 1325(+9), मिजोरम- 164(+2), मेघालय- 62, नगालैंड- 563(+62), ओडिशा- 8601(+495), पुदुचेरी- 802, पंजाब- 6109(+172), राजस्थान- 19,532, सिक्किम- 103(+1), तमिलनाडु- 1,07,001 (+4280), तेलंगाना- 22,312 (+1850), त्रिपुरा-1546(+21), जम्मू-कश्मीर- 8246(+227), लद्दाख- 1005(+4), उत्तरप्रदेश में 26,554(+757), उत्तराखंड- 3093(+45), पश्चिम बंगाल- 21,231(+743) मामले की पुष्टि हो चुकी है।
Continue Reading

Trending