Connect with us

देश

इलेक्ट्रिक कटर से टुकड़ों में काटी अफसर पति की बॉडी, समलैंगिक पत्नी को पुरुषों से थी नफरत

Published

on

जयपुर। बचपन में हुए बाल विवाह के 7 साल बाद जब अपनी पत्नी को ससुराल आने के लिए पति ने दबाव बनाया तो पत्नी ने अपनी बहनों के साथ मिलकर पति को खौफनाक मौत दे दी। पत्नी ने षडयंत्र के तहत अपनी बहनों के घर पति को बुलाया फिर नशीला पदार्थ और इंजेक्शन देकर उसकी जान ले ली। इतने पर भी जब पत्नी का गुस्सा शांत नहीं हुआ तो उसने इलेक्ट्रिक कटर से अपने पति के हाथ-पैर और धड़ काटकर पॉलिथीन में पैक कर सीवर में फेंक दिया। मामला राजस्थान के जोधपुर का है।

लड़कों से नफरत करती थी, कई लड़कियों से थे समलैंगिक संबंध

पति चरण सिंह की पत्नी सीमा पुरुषों से सख्त नफरत करती थी। लंबे समय से सीमा के कई लड़कियों के साथ समलैंगिक संबंध थे। बचपन में हुए विवाह के बाद जब पति चरण सिंह ने ससुराल में लाने की जिद की तो सीमा को यह नागवार गुजरा।

कटर से टुकड़ों में काटी पति की बॉडी, समलैंगिक पत्नी को पुरुषों से थी नफरत

उसने चरण सिंह को जोधपुर के बनाड़ में अपने किराए के मकान में बुलाया और उसके साथ गौना के मामले को लेकर प्रेम से बातें की। इस दौरान सीमा की बहनों ने चरण सिंह को जूस में नशीला पदार्थ मिलाकर पिला दिया और उसके बाद कुछ इंजेक्शन भी लगाए जिसके बाद चरण सिंह बेसुध हो गया और उसके बाद उसकी सांसें उखड़ गईं।

पति के मरने पर भी सीमा का गुस्सा खत्म नहीं हो रहा था तो उसने बाथरूम में चरणसिंह के शव को ले जाकर इलेक्ट्रिक कटर से उसके अंग काट दिए और बाद में पॉलिथीन में भरकर उनको अलग-अलग जगह सीवेज में डाल दिया। यह खुलासा जोधपुर पुलिस ने गुरुवार को किया।

कटर से टुकड़ों में काटी पति की बॉडी, समलैंगिक पत्नी को पुरुषों से थी नफरत

जोधपुर कमिश्नरेट के डीसीपी धर्मेंद्र सिंह यादव ने बताया कि सीमा, उसकी बहनें सीमा, प्रियंका, बबीता और बहनों का एक मित्र भीयाराम जो इस घटना में उनका सहयोगी था, उसको गिरफ्तार कर लिया है। चरणसिंह के शरीर के कुछ भाग तो नहीं मिले हैं, उनकी तलाश जारी है। इलेक्ट्रिक कटर भी पुलिस ने बरामद कर लिया है। आज शुक्रवार को सभी आरोपियों को कोर्ट में पेश कर किया जाएगा। जह पुलिस रिमांड मांगी जाएगी।

कटर से टुकड़ों में काटी पति की बॉडी, समलैंगिक पत्नी को पुरुषों से थी नफरत

डीसीपी धर्मेंद्र सिंह यादव ने बताया कि सीमा और चरण सिंह का बचपन में विवाह हो गया था। पिछले कई दिनों से गौना को लेकर बातचीत चल रही थी लेकिन सीमा यह नहीं चाहती थी। पुलिस सूत्रों का कहना है कि 2 दिन की पड़ताल में यह पता चला है कि सीमा के कई लड़कियों से संबंध थे और वह पुरुषों से सख्त नफरत करने लगी थी। इस दौरान जब चरण सिंह के परिवार की ओर से बाल विवाह को विवाह में बदलने का दबाव बढ़ा तो सीमा ने तय कर लिया कि वह चरण सिंह के साथ कभी नहीं जाएगी।

कटर से टुकड़ों में काटी पति की बॉडी, समलैंगिक पत्नी को पुरुषों से थी नफरत

जांच के दौरान सामने आया कि मृतक चरण सिंह उर्फ सुशील मेड़ता का निवासी था और कृषि विभाग में अधिकारी था। उसका सीमा नाम की लड़की से 2013 में बाल विवाह हुआ। शादी के बाद लगभग 7 साल तक सीमा अपने घर पर ही रही। वह चरण सिंह के पास नहीं गई। पिछले कुछ महीनों से मृतक चरण सिंह उर्फ सुशील जाट अपनी पत्नी के साथ वैवाहिक संबंध बनाना चाहता था लेकिन उसकी पत्नी सीमा ने उसे मना कर दिया और इस बात को लेकर दोनों के बीच काफी विवाद भी हुए। उसके बाद 10 अगस्त को सीमा ने चरण सिंह को बनाड़ थाना इलाके में अपनी बहनों के किराए के मकान पर बुलाया ओर इस वारदात को अंजाम दिया।

Trending