लखीमपुर हिंसा केस "सुप्रीम कोर्ट" पहुंचा, सीबीआई जांच के लिए याचिका दाखिल

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में रविवार को हुई हिंसा की गूंज अब सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गई है। मामले की जांच  सीबीआई से कराए जाने की मांग को लेकर दो वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को अर्जी दायर की है। 
 
suprem court
लखीमपुर हिंसा

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में रविवार को हुई हिंसा की गूंज अब सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गई है। मामले की जांच  सीबीआई से कराए जाने की मांग को लेकर दो वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को अर्जी दायर की है। 

याचिका में सुप्रीम कोर्ट से गृह मंत्रालय और पुलिस विभाग को एफआईआर दर्ज करने के लिए निर्देश देने और इसमें संलिप्त 'मंत्रियों' को सजा देने की मांग भी की गई है। 

बता दें कि इस हिंसा में आठ लोगों की जान चली गई, जिसमें किसान और पत्रकार भी शामिल थे। वकीलों ने कहा कि जांच एक तय समयावधि के भीतर और शीर्ष अदालत की निगरानी में होनी चाहिए।

उधर लखीमपुर जाने पर अड़ी कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी को पुलिस ने 30 घंटे हिरासत में रखने के बाद गिरफ्तार कर लिया। प्रियंका को कल लखीरपुर खीरी जाते समय सीतापुर जिले के हरगांव में हिरासत में लिया गया था। 

प्रियंका गांधी के  खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन और शांतिभंग की आशंका समेत 10 धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। पुलिस कुछ देर में उन्हें कोर्ट में पेश करेगी।

उधर प्रियंका को हिरासत में रखने से नाराज कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने पीएसी के गेस्ट हाउस के बाहर जमकर हंगामा किया। उन्होंने गेस्ट हाउस के बाहर बैरिकेड्स तोड़ दिए और नारेबाजी करने लगे। कांग्रेस कार्यकर्ताओं की पुलिस से तीखी झड़प हो गई, क्योंकि कार्यकर्ता खाना बनाने का सामान और टेंट लेकर पहुंच गए थे और पुलिस ने उन्हें रोक दिया।