Connect with us

देश

लैब टेक्‍नीशियन की शर्मनाक हरकत, कोरोना टेस्‍ट के लिए युवती के प्राइवेट पार्ट से लिया सैंपल

Published

on

मुंबई। अमरावती जिले के बडऩेरा कोरोना उपचार केंद्र में एक कोरोना संशयित महिला के गुप्तांग से स्वाब लेने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में बडऩेरा पुलिस ने आरोपित लैब टेक्रिशियन अल्पेश अशोक देशमुख(30) को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया है।

जांच का आदेश जारी

राज्य की महिला व बाल कल्याण मंत्री यशोमति ठाकुर ने इस घटना की गहन जांच का आदेश जारी किया है। ठाकुर ने कहा कि यह विकृत मानसिकता की इंतहा हो गई है। इस तरह की विकृत मानसिकता की भी गहन जांच आवश्यक है।

यह है पूरा मामला

जानकारी के अनुसार पीडि़त महिला बडऩेरा के एक मॉल में काम करती है। उसके एक सहकर्मी की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पाजीटिव आई थी। इसी वजह से महिला सहित 20 अन्य कर्मचारियों का स्वाब टेस्ट लेने के लिए मंगलवार को कोरोना उपचार केंद्र में बुलाया गया था। उस समय लैब टेक्रिशियन अल्पेश ने महिला का स्वाब उसके गुप्तांग से लिया। हालांकि उस समय महिला इसका विरोध कर रही थी। इसके बाद महिला का स्वाब निगेटिव पाया गया। महिला ने इस बाबत सारी जानकारी अपने घरवालों को दी। इससे बुधवार को इस मामले को लेकर महिला के भाई ने जिला प्रशासन सहित कोरोना उपचार केंद्र के प्रमुख तथा बडऩेरा पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज करवाया था। इस मामले की गहन जांच के बाद गुरुवार को पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है।
अमरावती जिले के जिलाधिकारी शैलेश नवल ने बताया कि कोरोना की जांच के लिए इस प्रकार स्वाब नहीं लिया जाता है। इस मामले में आरोपित के विरुद्ध मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है और उस पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। सांसद नवनीत राणा ने इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा की है। राणा ने कहा कि आरोपित कांट्रैक्ट पर काम करता था। प्रशासन को इन लोगों को काम पर रखने से पहले उनकी मानसिक जांच करना आवश्यक है।

Trending