Connect with us

देश

जलियांवाला बाग नरसंहार : अंग्रेजों ने ऐसे रची थी हत्याकांड की साजिश, राष्ट्रपति-PM व राहुल ने दी श्रद्धांजलि

Published

on

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को पंजाब के अमृतसर में स्थित जलियांवाला बाग नरसंहार के सौ साल पूरे होने पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट संदेश में कहा है, ‘100 वर्ष पहले आज ही के दिन हमारे प्यारे स्वाधीनता सेनानी जलियांवाला बाग में शहीद हुए थे। वह भीषण नरसंहार सभ्यता पर कलंक है। बलिदान का वह दिन भारत कभी नहीं भूल सकता। उनकी पावन स्मृति में जलियांवाला बाग के अमर बलिदानियों को हमारी श्रद्धांजलि।’

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा, ‘जलियांवाला बाग नरसंहार के 100 साल पूरे होने पर आज राष्ट्र उस दिन हुए शहीदों को श्रद्धांजलि देता है। उनकी वीरता और बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। उनकी स्मृति हमें उस भारत के निर्माण के लिए और भी अधिक मेहनत करने के लिए प्रेरित करती है जिस पर उन्हें गर्व होगा। उल्लेखनीय है कि 03 अप्रैल, 1919 को जलियांवाला बाग में एक शांतिपूर्ण सभा पर ब्रिगेडियर जनरल रेजिनाल्ड डायर ने गोली चलवाकर सैकड़ों निर्दोष पुरुषों, महिलाओं और बच्चों की हत्या करवा दी थी।

जलियांवाला बाग़ पर राहुल गाँधी का ट्वीट , आज़ादी की कीमत कभी भी नहीं भूलनी चाहिए।

अमृतसर। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी ने ट्वीट करके कहा है कि आज़ादी की कीमत कभी भी नहीं भूलनी चाहिए। वे उन भारतीय लोगों को सलाम करते है जिन्होंने आज़ादी के लिए अपना वो सब कुछ दे दिया , जो -जो भी उनके पास था। जलियांवाला बाग़ में 100 वर्ष पूर्व शहीद हुए लोगों को श्रधांजलि देने के लिए कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी जलियांवाला बाग़ में शनिवार सुबह ही पुहंचे। उनके साथ पंजाब के मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ -साथ मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू , पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ , सुखजिंदर सिंह रंधावा मंत्री थे। इस मौके पुलिस की टुकड़ी द्वारा शहीदों को सलामी दी गई है। शहीदों को श्र्द्धांजलि देने के बाद राहुल गाँधी 8 . 38 सुबह वापिस लौट गए। उन्होंने मीडिया से भी कोई बात नहीं की, परन्तु उन्होंने बाद में इसी बाबत ट्वीट किया। माना जा रहा है कि चुनाव अचार सहिंता राहुल गाँधी ने मीडिया से बात करने से किनारा किया। । राहुल गाँधी शुक्रवार रात को ही अमृतसर पुहंच गए थे। रात को स्वर्ण मंदिर में माथा टेका।

ब्रिटिश उच्चायुक्त ने जलियांवाला बाग़ कांड को शर्मनाक बताया

अमृतसर। ब्रिटिश उच्चायुक्त डोमिनिक अस्किथ ने आज सुबह अमृतसर में जलियांवाला बाग़ में पुहंच कर शहीदों को श्र्द्धांजलि दी। उन्होंने जलियांवाला बाग़ कांड को शर्मनाक बताया। उन्होंने इस घटना पर खेद भी प्रकट दिया। परन्तु उन्होंने ब्रिटिश सरकार की तरफ से इस घटना को लेकर माफ़ी नहीं मांगी गई। शुक्रवार देर शाम को पंजाब में मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अमृतसर में इस घटना के 100 वर्ष पूरा होने पर कैंडल मार्च किया और मांग की कि ब्रितानवी सरकार को इस घटना के लिए माफ़ी मांगने चाहिए। उनके साथ पंजाब के राज्यपाल वी पी सिंह बदनोर भी थे। काबिले जिक्र है कि ब्रितानवी संसद में भी इस घटना को लेकर अफ़सोस तो प्रकट किया गया , परन्तु माफ़ी मांगने से गुरेज किया।

अंग्रेजों ने ऐसे रची थी हत्याकांड की साजिश

अमृतसर का जलियांवाला बाग और इस अत्याचार का सबसे बड़ा गुनहगार था जनरल डायर। उस नरसंहार को आज सौ साल हो गए। हर भारतीय का मन उस त्रासदी के जख्मों से आहत है। ब्रिटिश सरकार ने लंबा वक्त लगा दिया इस घटना पर शर्मिंदगी जताने में, माफी अभी भी नहीं मांगी है। अंग्रेजों के रौलेट एक्ट के विरोध में लोग जलियांवाला बाग में सभा के लिए एकत्र हुए थे। वहां आए लोगों में अंग्रेज सरकार के प्रति गुस्सा था, फिर भी वे शांत थे।

यह एक दिन में पैदा हुआ आक्रोश नहीं था। इसकी चिंगारी 1857 में ही पैदा हो गई थी। मार्च 1919 में जब ‘न वकील, न दलील और न अपील’ वाला काला कानून पास हुआ तो लोगों ने इसका विरोध किया। इसी विरोध की बौखलाहट में अंग्रेज शासन ने जलियांवाला बाग में मानवता-सभ्यता की हदें पार कर दीं। इन्हीं जख्मों की टीस से भगत सिंह और शहीद ऊधम सिंह जैसे क्रांतिकारियों का जन्म हुआ, जिन्होंने जंग-ए-आजादी की च्वाला और तेज कर दी। इस घटनाक्रम के सौ साल पूरे होने पर पेश है इतिहास के उस काले अध्याय की कुछ यादें :

घटनाक्रम की पृष्ठभूमि

भारत में बढ़ती क्रांतिकारी गतिविधियों पर रोक लगाने के लिए ब्रिटिश भारत की अंग्रेज सरकार ने रौलेट एक्ट पास किया था। इसके तहत किसी व्यक्ति को संदेह होने पर भी गिरफ्तार किया जा सकता था या गुप्त मुकदमा चलाकर दंडित किया जा सकता था। विरोध के बावजूद इस कानून को 21 मार्च 1919 को लागू कर दिया गया। इस एक्ट के विरोध में गांधी जी ने पूरे देश में 30 मार्च को सभाएं करने और जुलूस निकालने का आह्वान किया था। बाद में यह तिथि बदलकर छह अप्रैल कर दी गई थी। इस दिन पूरे देश में हड़ताल हुई। गांधी जी को बंबई (अब मुंबई) से पंजाब जाते समय गिरफ्तार करके अहमदाबाद भेज दिया गया। इस हड़ताल में पंजाब, विशेषकर अमृतसर के लोगों ने सक्रिय रूप से भाग लिया।

बंद था अमृतसर

छह अप्रैल को पूरा अमृतसर बंद था। टाउन हॉल के आस-पास की सड़कें तकरीबन खाली हो गई थीं, क्योंकि सब लोग जलियांवाल बाग पहुंच चुके थे। रौलेट एक्ट का विरोध कर रहे पंजाब के दो प्रमुख नेताओं डॉ. सैफुद्दीन किचलू और डॉ. सतपाल को गिरफ्तार कर लिया गया तो पंजाबियों का गुस्सा भड़क उठा। 10 अप्रैल 1919 को अमृतसर में दंगे भड़क गए। गुस्साए लोगों ने कई यूरोपीय लोगों को मार दिया।

खून से रंग गया जलियांवाला बाग

वह बैसाखी का दिन था। किसान की पकी फसलें काटे जाने की प्रतीक्षा में थीं, पर देशवासी गेहूं से ज्यादा भारत मां की गुलामी की जंजीरों को काटने को बेचैन थे। जलियांवाला बाग में लोग पहुंच रहे थे। ठीक साढ़े चार बजे सभा शुरू हुई। जब जनरल डायर बाग में गया तो दुर्गादास भाषण दे रहे थे। ठीक पांच बजकर दस मिनट पर डायर के हुक्म से गोलियां बरसने लगीं। जान बचाने के लिए जनता भागने लगी, पर रास्ता नहीं था। बाग का कुआं लाशों से भर गया और अनेक लोग कुएं में ही मारे गए। स्वयं डायर ने एक संस्मरण में लिखा है-‘1650 राउंड गोलियां चलाने में छह मिनट से ज्यादा ही लगे होंगे।’ सरकारी आंकड़ों के अनुसार 337 लोगों के मरने और 1500 के घायल होने की बात कही गई है, किंतु दुर्भाग्य से सच्चाई आज तक सामने नहीं आई है।

उभरे नायक

जलियांवाला बाग में हुए गोलीकांड के बाद स्वतंत्रता संग्राम की च्वाला और भड़क गई थी। इस दिन यहां से कई नायक आजादी के परवाने बन कर उभरे।

ऊधम सिंह

जलियांवाला बाग नरसंहार के समय ऊधम सिंह जनसभा में आए लोगों को पानी पिला रहे थे। नरसंहार के बाद इन्होंने बाग की मिट्टी उठाकर कसम खाई कि वह निर्दोष हिंदुस्तानियों के हत्यारों जनरल डायर और पंजाब के तत्कालीन गवर्नर जनरल माइकल ओ ड्वायर को जान से मार देंगे। बीस साल बाद 13 मार्च 1940 को उन्होंने लंदन के कैक्सटन हॉल में पंजाब के गवर्नर रहे माइकल ओ ड्वायर की गोलियां मारकर हत्या कर दी। 31 जुलाई 1940 को उत्तरी लंदन के पेंटनविले जेल में ऊधम सिंह को फांसी दे दी गई।

डॉ सैफुद्दीन

स्वतंत्रता सेनानी डॉ सैफुद्दीन किचलू प्रसिद्ध नेता और वकील थे। 1919 में रौलेट एक्ट के विरोध में महात्मा गांधी ने सत्याग्रह आंदोलन शुरू किया तो डॉ सैफुद्दीन ने उसमें सक्रिय रूप से भाग लिया। इस पर अंग्रेज सैनिकों ने उन्हें और डॉ. सतपाल को गिफ्तार कर लिया, जिससे लोग भड़क उठे। इसके बाद जलियांवाला नरसंहार जैसी दुखद घटना हुई। बाद में इनके सहित 15 लोगों पर मुकदमा चलाया गया। अदालत ने उन्हें देश निकाला की सजा दे दी थी। इनका निधन देश की आजादी के बाद नौ अक्टूबर 1963 को हुआ।

डॉ. सत्यपाल

जलियांवाला नरसंहार के समय उनकी आयु 33 वर्ष थी। महात्मा गांधी के सत्याग्रह आंदोलन में भाग लेने के कारण उन्हें भी डॉ. सैफुद्दीन किचलू के साथ गिरफ्तार कर लिया गया था। इन्हें धर्मशाला में नजरबंद कर दिया गया था। बाद में मुकदमा चलाकर उन्हें देश निकाला की सजा सुना दी गई थी।

रतन चंद

नवयुवकों को व्यायाम सिखाया करते थे। अंग्रेजों को शक था कि क्रांतिकारी युवकों से इनके संबंध हैं। रौलेट एक्ट के विरोध के कारण शहर के हालात खराब हुए तो 16 अप्रैल 1919 को अंग्रेज सैनिकों ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया। मार्शल लॉ की अदालत ने उनको मौत की सजा सुनाई। पं. मोतीलाल नेहरू ने केस लड़ सजा को उम्रकैद में बदलवाया। उन्हें दो साल अंडमान जेल में रखकर यातनाएं दी गईं। बंगाल की अलीपुर, लाहौर और मुल्तान की जेलों में भी रखा गया। 1936 में इन्हें रिहा किया गया। वर्ष 1964 में इनका निधन हो गया।

चौधरी बुग्गा मल

चौधरी बुग्गा मल को असीरा-अल-मार्शल (सैनिक राज का बंदी) का खिताब मिला था। बुग्गा मल युवाओं को कुश्ती और व्यायाम सिखाया करते थे। रौलेट एक्ट लागू हुआ था तो डॉ. सैफुद्दीन किचलू, डॉ. सत्यपाल और रतन चंद के साथ जंग-एआजादी में कूद गए। 12 अप्रैल को 450 सैनिकों की मौजूदगी में इन्हें गिरफ्तार किया गया। मौत की सजा सुनाई गई। पं. मोती लाल नेहरू के हस्तक्षेप पर सजा उम्रकैद में तब्दील हो गई। 17 साल बाद 1936 में इनको भी रिहा किया गया। इनका निधन 24 अप्रैल 1953 को हुआ। https://www.kanvkanv.com

 

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

गौतम गंभीर ने किया नामांकन, कहा- प्रधानमंत्री मोदी के विकास कार्यों की विरासत को बढ़ाऊंगा आगे

Published

on

नई दिल्ली। क्रिकेटर से नेता बने गौतम गंभीर ने मंगलवार को पूर्वी दिल्ली संसदीय सीट से बतौर भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) उम्मीदवार नामांकन किया। उन्होंने राजनीति में कदम रखने का उद्देश्य स्पष्ट करते हुए कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विकास कार्यों की विरासत को आगे बढ़ाना चाहते हैं। भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी, केन्द्रीय मंत्री विजय गोयल और मौजूदा सांसद महेश गिरी, विधायक ओम प्रकाश शर्मा गौतम गंभीर के रोड शो में पहुंचे और उनके लिए क्षेत्रवासियों से वोट की अपील की। मनोज तिवारी ने कहा कि दिल्ली भाजपा को सातों सीटें जिताकर नरेन्द्र मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाने के लिए तैयार है।

इनसे होगी टक्कर

गौतम गंभीर ने नामांकन करने जाने से पहले पत्नी नताशा के साथ पूर्वी दिल्ली में जागृति एनक्लेव में हवन किया। यही अब उनका चुनाव कार्यालय होगा। गौतम गंभीर का घर नई दिल्ली संसदीय क्षेत्र के राजेंद्र नगर में है। पार्टी ने सांसद महेश गिरी का टिकट काटकर उन्हें पूर्वी दिल्ली से उम्मीदवार बनाया है। इस सीट पर उनका मुकाबला कांग्रेस के अरविंदर सिंह लवली और ‘आप’ की आतिशी से होगा। गौतम गंभीर ने कहा, ‘मैं वास्तव में देश के लिए कुछ करना चाहता हूं। हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले पांच सालों में जो कुछ भी किया है अब मैं उस विरासत को आगे ले जाना चाहता हूं।’ https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

देश

सांसद उदित राज को लगा झटका, भाजपा ने उत्तर पश्चिमी दिल्ली से हंसराज हंस को बनाया प्रत्याशी

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने लोकसभा चुनावों के लिए उत्तर-पश्चिमी दिल्ली से मौजूदा सांसद उदित राज का टिकट काटकर सूफी गायक हंसराज हंस को उम्मीदवार बनाया है। पार्टी ने बिहार की डेहरी लोकसभा सीट से सत्य नारायण यादव को उम्मीदवार बनाया है। भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति के सचिव जेपी नड्डा ने मंगलवार को उम्मीदवारों की सूची जारी की। भाजपा द्वारा लोकसभा चुनाव में उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाये जाने के बाद हंसराज हंस ने पंचकुइया रोड स्थित भगवान बाल्मीकि मन्दिर जाकर आशीर्वाद लिया। इस दौरान दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता भी मौजूद रहे।

जाहिर कर रहे थे नाखुशी

कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ चुके हंसराज हंस 2016 में भाजपा में शामिल हुए थे। वह पंजाब में शिरोमणि अकाली दल (एसएडी)के सदस्य भी थे। भाजपा उम्मीदवार हंसराज हंस का मुकाबला आम आदमी पार्टी(आप) के गुग्गन सिंह और कांग्रेस के राजेश लिलोथिया से होगा। चुनाव नामांकन का अंतिम दिन होने के कारण सुबह से ही मौजूदा सांसद लगातार सोशल मीडिया पर टिकट घोषित नहीं किए जाने को लेकर नाखुशी जाहिर कर रहे थे। वह बार-बार यह भी दोहराते रहे कि उन्हें अभी भी उम्मीद है कि पार्टी उन पर एक बार फिर से भरोसा जताएगी।

टिकट से वंचित रहे तो वे पार्टी से इस्तीफा दे देंगे

वहीं दलित वोट बैंक का हवाला देते हुए उन्होंने कहा मेरे टिकट का नाम देरी होने पर पूरे देश में मेरे दलित समर्थकों में रोष है और जब मेरी बात पार्टी नहीं सुन रही तो आम दलित कैसे इंसाफ पाएगा। उन्होंने कहा कि अगर वह लोकसभा चुनाव में टिकट से वंचित रहे तो वे पार्टी से इस्तीफा दे देंगे और निर्दलीय चुनाव लड़ सकते हैं।
हालांकि दोपहर में साढ़े 12 बजे विजेंद्र गुप्ता ने हंसराज हंस के साथ मंदिर में पूजा अर्चना की तस्वीर को सोशल मीडिया पर साझा कर उदित राज की अंतिम उम्मीद पर पूर्ण विराम लगा दिया। विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि वह अब हंसराज हंस का उत्तर-पश्चिमी दिल्ली से कंझावला डीएम कार्यालय में नामांकन दाखिल कराने जा रहे हैं। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

देश

साध्वी प्रज्ञा की नामांकन रैली में उमड़े साधु-संत, भगवामय हुआ शहर, किया शक्ति प्रदर्शन

Published

on

भोपाल। मध्यप्रदेश की हाईप्रोफाइल संसदीय क्षेत्र भोपाल से भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के मंगलवार को नामांकन दाखिल करने से पहले पार्टी ने शक्ति प्रदर्शन किया। उनकी नामांकन रैली में साधु-संत उमड़ पड़े और पूरा शहर भगवामय हो गया। साध्वी प्रज्ञा ने सोमवार को भी अपना नामांकन दाखिल किया था। मंगलवार को वे अपना दूसरा नामांकन दाखिल करेंगी।

बड़ी संख्या में साधु-संत शामिल

राजधानी भोपाल के भवानी चौक से उनकी नामांकन रैली शुरू हुई, जिसमें बड़ी संख्या में साधु-संत शामिल हुए। साध्वी की रैली पूरी तरह भगवामय नजर आ रही थी। इसमें शामिल सभी समर्थक भगवा पगड़ी पहने हुए साधु-संतों के साथ जय श्री राम और वन्दे मातरम् के नारे लगाते हुए कलेक्ट्रेट की ओर आगे बढ़ रहे थे। रैली में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश संगठन प्रभारी डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, मौजूदा सांसद आलोक संजर के साथ ही संतों में महामंडलेश्वर परमानंद गिरी, अखिलेश्वरानंद, स्वामी हरिहरानंद, सुरेश्वरानद, साध्वी मेत्री हेमानंद चंद्रमादास महाराज आदि मौजूद रहे।

भोपाल में जोरदार शक्ति-प्रदर्शन

उल्लेखनीय है कि साध्वी प्रज्ञा का भोपाल संसदीय सीट से कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से मुकाबला है। हालांकि, गत दो दिनों में वे अपने विवादित बयानों के चलते सुर्खियों में रही हैं और निर्वाचन आयोग ने उन्हें बयानों के चलते नोटिस जारी कर जवाब तलब किये थे और संतोषजनक जवाब नहीं होने पर उनके खिलाफ मामला दर्ज करने के निर्देश भी दिये जा चुके हैं। इसके बावजूद साध्वी का जोश कम नहीं हुआ है और उन्होंने मंगलवार को राजधानी भोपाल में जोरदार शक्ति-प्रदर्शन किया। बड़ी संख्या में साधु-संतों ने उन्हें समर्थन देकर उनकी नामांकन रैली को भगवामय बना दिया। साध्वी प्रज्ञा कलेक्ट्रेट पहुंचकर आज फिर से अपना नामांकन दाखिल करेंगी। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
राज्य5 hours ago

बहराइच : कैसरगंज एसएसडी की टीम ने बरामद किया 4 लाख 98 हजार रुपये

राज्य5 hours ago

क्रिकेट प्रतियोगिता का शुभारम्भ, उद्घाटन मैच में लखनऊ मंडल विजयी

राज्य5 hours ago

चेकिंग में मिला लावारिस अटैची और बैग, घरेलू सामान और नकदी बरामद, आरपीएफ मालिकों को लौटाया

राज्य5 hours ago

बाप बना जल्लाद, चार बेटियों को रास्ते से हटाने के लिए दिया इस वारदात को अंजाम, लेकिन…

राज्य7 hours ago

श्रावस्ती : बिना अनुमति नहीं जारी होगें कोई भी चुनावी विज्ञापन : जिला निर्वाचन अधिकारी

राज्य7 hours ago

बहराइच : श्रीराम जानकी इण्टर कालेज रूपईडीहा में आयोजित हुआ मतदाता जागरुकता कार्यक्रम

राज्य7 hours ago

बहराइच : प्रत्याशियों के चुनाव खर्चे पर रखी जा रही है नज़र : व्यय प्रेक्षक 

वीडियो8 hours ago

‘तेरे नाम’ में सलमान खान फिर बिखेरेंगे जलवा, ऐसी होगी स्टोरी, देखें वीडियो

दुनिया8 hours ago

IS ने ली कोलंबो धमाके की जिम्मेदारी, अब तक हो चुकी है 310 लोगों की मौत

राज्य9 hours ago

अयोध्या : सड़क दुर्घटना में डीसीएम क्लीनर सहित दो लोगों की मौत

राज्य9 hours ago

अयोध्या : एक मई को पीएम मोदी की जनसभा, अखिलेश, मायावती, केशव और उमा भारती भी जनता से होंगी रूबरू

राज्य9 hours ago

सुल्तानपुर में उड़ाका दस्ते ने जब्त की तीन लाख से अधिक की नकदी

देश9 hours ago

गौतम गंभीर ने किया नामांकन, कहा- प्रधानमंत्री मोदी के विकास कार्यों की विरासत को बढ़ाऊंगा आगे

देश11 hours ago

सांसद उदित राज को लगा झटका, भाजपा ने उत्तर पश्चिमी दिल्ली से हंसराज हंस को बनाया प्रत्याशी

खेल11 hours ago

विश्व कप को लेकर सामने आया रिषभ पंत का दर्द, दिया ये बड़ा बयान

देश11 hours ago

साध्वी प्रज्ञा की नामांकन रैली में उमड़े साधु-संत, भगवामय हुआ शहर, किया शक्ति प्रदर्शन

टेक्नोलॉजी12 hours ago

जल्दी करें, आज है आखिरी दिन, फ्लिपकार्ट पर सिर्फ 7,299 में ले सकते हैं TV, जानें पूरी बात

हेल्थ12 hours ago

एंटीबायोटिक लेने से पहले करें डॉक्टर से संपर्क, नहीं तो हो सकते हैं ये नुकसान

मनोरंजन3 weeks ago

डायरेक्टर ने इस अभिनेत्री से कहा, एक रात…कॉम्प्रोमाइज, एक्ट्रेस बोली-‘आपके साथ सो तो जाऊं लेकिन…’

खेल2 days ago

धोनी ने बनाया नया कीर्तिमान, एसा कारनामा करने वाले बने पहले भारतीय, कोहली ने बोल दी ये बड़ी बात

मनोरंजन4 weeks ago

जानें पहले दिन कैसा रहा फिल्म ‘नोटबुक’ और ‘जंगली’ का प्रदर्शन, दर्शकों ने दिये कितने अंक

मनोरंजन2 weeks ago

टाइगर की गर्लफ्रेंड दिशा पटानी ने किया ऐसा डांस कि वायरल हो गया वीडियो, आप भी देखें

राज्य1 week ago

BJP सांसद हरिओम पाण्डेय का कटा टिकट तो पार्टी के नेताओं पर लगाया लड़की और पैसे पर टिकट बेचने का आरोप

देश1 week ago

गृहमंत्री राजनाथ सिंह के खिलाफ कांग्रेस से ये नेता लड़ेगा चुनाव!, खरीदा नामांकन पत्र

देश4 weeks ago

दुल्हन को फेरे लेते समय अचानक होने लगीं उल्टियां, दूल्हे ने जबरन कराया वर्जिनिटी और प्रेग्नेंसी टेस्ट

देश2 weeks ago

यूपी में तीन बजे तक 51 प्रतिशत मतदान, सतीश चन्द्र मिश्रा ने किया DGP को फोन, दर्ज कराई शिकायत

राज्य4 weeks ago

सपा ने जारी एक और उम्मीदवारों की सूची, गोरखपुर व कानपुर से इस दिग्गज नेता को दिया टिकट

देश3 weeks ago

65 साल के बुजुर्ग को जवान लड़की से डेट करना पड़ा महंगा, हो गया ये बड़ा कांड

राज्य3 days ago

समाजवादी पार्टी ने जारी की एक और सूची, अब इस सीट से उम्मीदवार किया घोषित

दुनिया4 weeks ago

महिला ने एक बेटे को जन्म देने के बाद फिर 26 दिन बाद दो जुड़वा बच्चों को दिया जन्म, डाक्टर हुए हैरान

दुनिया2 weeks ago

पति ने घर पर छोड़ा खुला कैमरा, आकर देखा तो दोस्त के साथ पत्नी का दिखा अतरंग वीडियो

देश3 weeks ago

आडवाणी ने तोड़ी चुप्पी, भाजपा को दी नसीहतें, टिकट न मिलने का भी छलका दर्द, राहुल-ममता ने किया स्वागत

वीडियो1 week ago

बॉयफ्रेंड संग नजर आईं एमी जैक्सन, दिख रहा बेबी बंप, बिकिनी पहन कर खेला गोल्फ, देखें वीडियो

देश2 weeks ago

महिला आयोग ने देह व्यापार के रैकेट का किया भंडाफोड़, चार नाबालिग लड़कियां मुक्त कराईं

राज्य4 weeks ago

यूपी में भाजपा को एक और बड़ा झटका, 2 घंटे पहले इस सांसद ने छोड़ी पार्टी, कांग्रेस ने दिया टिकट

देश3 weeks ago

सपा का घोषणा पत्र जारी, अखिलेश बोले-सवर्णों पर लगाएंगे टैक्स, जानें और क्या-क्या किए गए वादे

Trending