Connect with us

देश

प्रेम विवाह मामले में कोर्ट में पेशी पर आई महिला को गोलियों से भूना, सब इंस्पेक्टर की भी मौत

Published

on

रोहतक। लघुसचिवालय के बाहर पेशी पर आई महिला व पुलिस सब इन्स्पेक्टर की बाइक सवार युवकों ने गोली मारकर हत्या कर दी। मौके से पुलिस ने 7 खाली कारतूस बरामद किए हैं। हत्यारों ने एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट से लेकर केंद्र और राज्य सरकार को चुनौती दे दी। घटना के पीछे महिला का अंतर्जातीय विवाह करना बताया जा रहा है। जिसे करनाल से सब इंस्पेक्टर नरेंद्र पेश करने के लिए रोहतक अदालत लाया था। घटना के समय मौके पर मौजूद मृतक महिला की सास ने लड़की के पिता पर इन हत्याओं का आरोप लगाया है।

बाइक सवार युवकों ने दिया घटना को अंजाम

हरियाणा के रोहतक में जिला कोर्ट परिसर में दिनदहाड़े बाइक पर आए युवकों पहले लड़की को निशाना बनाया। कुछ दिन पहले घर से भाग कर शादी करने वाली इस लड़की को नारी निकेतन से पेशी पर लेकर आए सब इंस्पेक्टर ने उसे बचाने की कोशिश की तो उसे भी ढेर कर दिया गया। जिस लड़की की हत्या की गई है, उसका पति और पिता सुनारिया जेल में बंद हैं।

बयान के बाद लौट रहे थे

सूत्रों के अनुसार पुलिस ने देर रात हत्या के मुख्य आरोपित रमेश को हिरासत में ले लिया है। हालांकि पुलिस इसकी पुष्टि नहीं कर रही। रमेश लड़की का फूफा है और उसने लड़की को गोद ले रखा था। लड़की ने पिछले साल सिंहपुरा के युवक से अंतरजातीय प्रेम विवाह किया था। तब वह नाबालिग थी। जानकारी के अनुसार, लड़की ममता को करनाल के नारी निकेतन से अदालत में पेशी के लिए एसआइ नरेंद्र और एक हेडकांस्‍टेबल लेकर आए थे। कोर्ट में लड़की का बयान दर्ज किए जाने के बाद दोनों पुलिसकर्मी उसे वापस करनाल ले जाने के लिए कोर्ट परिसर से निकले थे।

सास ने यह लगाया आरोप

पेशी के बाद जब लघुसचिवालय के बाहर गेट पर ये पहुंचे तो 3 बाइक सवारों ने युवती पर अंधाधुन्द फायरिंग कर दी। युवती को बचाने के चक्कर मे सब इंस्पेक्टर को भी कई गोली लग गई। दोनों को रोहतक पीजीआई ले जाया गया। जहां दोनों ने दम तोड़ दिया। घटना के वक्त मृतक युवती की सास सरोज मौके पर थी, सरोज ने आरोप लगाया कि युवती के पिता ने ही ये गोलियां चलवाई है। क्योंकि केस में अब गवाही का समय आ गया था। उन्होंने तो भाग कर अपनी जान बचाई है। घटना के बाद पुलिस अधीक्षक जश्नदीप सिंग रंधावा मौके पर पहुंचे और मौके का मुआयना किया। उन्होंने कहा कि मृतक युवती की सास ने हमलावरों के क्लू दिए हैं। पुलिस की टाइम रवाना हो चुकी हैं। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। https://www.kanvkanv.com

देश

अटल जी के निधन पर 7 दिन का राजकीय शोक घोषित, कल दोपहर 01:30 बजे निकाली जाएगी अंतिम यात्रा

Published

on

नयी दिल्ली। भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार शाम राजधानी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में 93 साल की उम्र में निधन हो गया। उनके निधन से देश में शोक की लहर दौड़ गयी है। वह लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर थे। वाजपेयी 11 जून से दिल्ली के एम्स में भर्ती थे। उन्हें किडनी और छाती में संक्रमण और पेशाब कम होने के चलते भर्ती कराया गया था। वे पिछले दो महीने से ज्यादा समय से एम्स के बिस्तर पर थे और मौत से उनकी ‘ठनी’ हुई थी, हालांकि आज दोपहर दो बजे उन्होंने अलग रास्ता चुना और ‘काल के कपाल पर लिखकर’ वे इस दुनिया से कूच कर गए। उनके खुद के शब्दों में ‘मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूं, लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं’।

7 दिन का राजकीय शोक घोषित

केंद्र सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर 7 दिन का राजकीय शोक घोषित किया है। 22 अगस्‍त तक आधा झुका रहेगा राष्‍ट्रीय ध्‍वज।

कल होगा अंतिम संस्कार

वाजपेयी के पार्थिव शरीर को रखने के लिए की जा रही तैयारी

अटल बिहारी वाजपेयी का दिल्ली में विजय घाट के पास स्मारक बनाए जाने की सूचना है। वाजपेयी का पार्थिव शरीर जनता दर्शन के लिए कल भाजपा कार्यालय में रखा जाएगा और कल ही उनका अंतिम संस्कार भी किया जाएगा।

दिल्ली में छुट्टी घोषित

दिल्ली सरकार ने कल शुक्रवार को अटल जी के निधन पर सरकारी स्कूल व दफ्तरों में छुट्टी घोषित की। वहीं व्यापारियों ने सभी बाजारों को बंद करने की घोषण की।

डेढ़ एकड़ जमीन आवंटित की गई

वहीं, अटल जी के स्‍मारक पर विजय घाट के करीब पर डेढ़ एकड़ जमीन आवंटित की गई है. एमसीडी आयुक्‍त ने विजय घाट का मुआयना किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया शोक

पीएम मोदी ने एक और ट्वीट में अटल बिहारी वाजपेयी से प्रेरणा लेने की बात कही।  मोदी ने लिखा, ‘अटल जी आज हमारे बीच में नहीं रहे, लेकिन उनकी प्रेरणा, उनका मार्गदर्शन, हर भारतीय को, हर भाजपा कार्यकर्ता को हमेशा मिलता रहेगा। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे और उनके हर स्नेही को ये दुःख सहन करने की शक्ति दे। ओम शांति!’

वाजपेयी राजनीतिक फलक पर चमकते सितारे थे :उपराष्ट्रपति

भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने पूर्व प्रधानमंत्री की निधन पर गम का इजाहर किया। उपराष्ट्रपति ने कहा कि श्री अटल बिहार वाजपेयी भारत के राजनीतिक फलक पर चमकते सितारे थे। उन्होंने वाजपेयी को भारत का मित्रवत और लोगों द्वारा पसंद किए जाने वाला प्रधानमंत्री बताया। उपराष्ट्रपति ने आगे कहा कि उनके जाने से भारत ने एक बहुआयामी ‘रत्न’ खो दिया है।

भारत ने एक महान बेटे को खो दिया: राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अटल बिहारी वाजपेयी के देहांत पर शोक प्रकट करते हुए कहा, ‘भारत ने आज एक महान बेटे को खो दिया। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी को चाहने वाले लोगों की संख्या लाखों में थी। उनके परिवार और उसके सभी प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं। हम उन्हें याद करेंगे। हम उनकी कमी महसूस करेंगे।’

अटल जी की कविता

ठन गई! मौत से ठन गई!

जूझने का मेरा इरादा न था,
मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,

रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,
यों लगा ज़िन्दगी से बड़ी हो गई।

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,
ज़िन्दगी सिलसिला, आज कल की नहीं।

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ,
लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

तू दबे पांव, चोरी-छिपे से न आ,
सामने वार कर फिर मुझे आज़मा।

मौत से बेख़बर, ज़िन्दगी का सफ़र,
शाम हर सुरमई, रात बंसी का स्वर।

बात ऐसी नहीं कि कोई ग़म ही नहीं,
दर्द अपने-पराए कुछ कम भी नहीं।

प्यार इतना परायों से मुझको मिला,
न अपनों से बाक़ी हैं कोई गिला।

हर चुनौती से दो हाथ मैंने किये,
आंधियों में जलाए हैं बुझते दिए।

आज झकझोरता तेज़ तूफ़ान है,
नाव भंवरों की बांहों में मेहमान है।

पार पाने का क़ायम मगर हौसला,
देख तेवर तूफ़ां का, तेवरी तन गई।

UPDATE  

  • शुक्रवार दोपहर 01:30 बजे वाजपेयी की अंतिम यात्रा निकाली जाएगी. यह अंतिम यात्रा बीजेपी दफ्तर से स्मृति स्थल को निकाली जाएगी.
  • वाजपेयी का पार्थिव शरीर सुबह नौ बजे बीजेपी मुख्यालय ले जाया जाएगा. यहां उनका पार्थिव शरीर आम लोगों के अंतिम संस्कार के लिए रखा जाएगा.
  • अटल बिहारी वाजपेयी का अंंतिम संस्कार स्मृति स्थल के पास किया जा सकता है.
  • अटल बिहारी वाजपेयी के पार्थिव शरीर को एम्स से उनके कृष्णा मेनन मार्ग स्थित आवास ले जाया  गया है. रातभर उनके पार्थिव शरीर को आवास पर ही रखा जाएगा.
  • बीजेपी के झंडे को पार्टी मुख्यालय में आधा झुका दिया गया है. वाजपेयी का पार्थिव शरीर उनके कृष्णा मेनन मार्ग लाया गया.
  • वाजपेयी के निधन के बाद राजघाट के शांतिवन इलाके में भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात किए गए. एसपीजी को भी तैनात किया गया है. https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

देश

एेसे थे अपने अटल बिहारी वाजपेयी, जानिए उनका जीवन परिचय

Published

on

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार शाम राजधानी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में 93 साल की उम्र में निधन हो गया। उनके निधन से देश में शोक की लहर दौड़ गयी है।

अटल जी का जीवन परिचय

अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसम्बर 1924 को ग्वालियर में हुआ| उनके पिता का नाम कृष्णा बिहारी वाजपेयी और माता का नाम कृष्णा देवी था| उनके पिता कृष्णा बिहारी वाजपेयी अपने गाव के महान कवी और एक स्कूलमास्टर थे| अटल बिहारी वाजपेयी जी ने ग्वालियर के बारा गोरखी के गोरखी ग्राम की गवर्नमेंट हायरसेकण्ड्री स्कूल से शिक्षा ग्रहण की थी| बाद में वे शिक्षा प्राप्त करने ग्वालियर विक्टोरिया कॉलेज जो कि वर्तमान में (लक्ष्मी बाई कॉलेज) गये और हिंदी, इंग्लिश और संस्कृत में डिस्टिंक्शन से पास हुए| उन्होंने कानपूर के दयानंद एंग्लो-वैदिक कॉलेज से पोलिटिकल साइंस में अपना पोस्ट ग्रेजुएशन एम.ए में पूरा किया| इसके लिये उन्हें फर्स्ट क्लास डिग्री से भी सम्मानित किया गया था|

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (1924-2018)

ग्वालियर के आर्य कुमार सभा से उन्होंने राजनैतिक काम करना शुरू किये, वे उस समय आर्य समाज की युवा शक्ति माने जाते थे, और 1944 में वे उसके जनरल सेक्रेटरी भी बने| 1939 में एक स्वयंसेवक की तरह वे राष्ट्रिय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) में शामिल हो गये| और वहा बाबासाहेब आप्टे से प्रभावित होकर, उन्होंने 1940-44 के दर्मियान आरएसएस प्रशिक्षण कैंप में प्रशिक्षण लिया और 1947 में आरएसएस के फुल टाइम वर्कर बन गये| विभाजन के बीज फैलने की वजह से उन्होंने लॉ की पढाई बीच में ही छोड़ दी| और प्रचारक के रूप में उन्हें उत्तर प्रदेश भेजा गया, और जल्द ही वे दीनदयाल उपाध्याय के साथ राष्ट्रधर्म (हिंदी मासिक ), पंचजन्य (हिंदी साप्ताहिक) और दैनिक स्वदेश और वीर अर्जुन जैसे अखबारों के लिये काम करने लगे| वाजपेयी अजीवन अविवाहित रहे|

अटल बिहारी वाजपेयी भारत के 10 वे पूर्व प्रधानमंत्री है| वे पहले 1996 में 13 दिन तक और फिर 1998 से 2004 तक भारत के प्रधानमंत्री बने रहे| वे भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता है, भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस रहित भारत की पांच साल तक सेवा करने वाले वे पहले प्रधानमंत्री थे| लोकसभा चुनावो में वाजपेयी जी ने नौ बार जीत हासिल की है| जब उन्होंने स्वास्थ समस्या के चलते राजनीती से सन्यास ले लिया था| तब उन्होंने 2009 तक लखनऊ, उत्तर प्रदेश के संसद भवन की सदस्य बनकर भी सेवा की है| वाजपेयी भारतीय जन संघ के संस्थापक सदस्य भी है| वाजपेयी जी में भारतीय जन संघ का संचालन भी किया है| मोरारजी देसाई के कैबिनेट में वे एक्सटर्नल अफेयर (बाहरी घटना / विवाद) मंत्री भी रह चुके है| जिस समय जनता सरकार पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी थी| उस समय वाजपेयी जी ने जन संघ को भारतीय जनता पार्टी के नाम से 1980 में पुनर्स्थापित किया| और पूरा जीवन उसी के लिये समर्पीत किया|

25 दिसम्बर 2014 को राष्ट्रपति कार्यालय में अटल बिहारी वाजपेयी जी को भारत का सर्वोच्च पुरस्कार “भारत रत्न” दिया गया (घोषणा की गयी थी)| उन्हें सम्मान देते हुए भारत के राष्ट्रपति खुद 27 मार्च 2015 को उनके घर में उन्हें वह पुरस्कार देने गये थे| उनका जन्मदिन 25 दिसम्बर “गुड गवर्नेंस डे” के रूप में मनाया जाता है|

अटल बिहारी वाजपेयी का निजी जीवन

वाजपेयी ने एक लड़की नमिता को दत्तक ले रखा है| नमिता को भारतीय डांस और म्यूजिक में काफी रूचि है| नमिता को प्रकृति से भी काफी लगाव है, और वे हमेशा हिमाचल प्रदेश के मनाली में छुट्टिया मनाने जाती ही है|

वाजपेयी कविताओ के बारे में कहते है

“मेरी कविताये मतलब युद्ध की घोषणा करने जैसी है, जिसमे हारने का कोई डर न हो| मेरी कविताओ में सैनिक को हार का डर नही बल्कि जीत की चाह होगी| मेरी कविताओ में डर की आवाज नही बल्कि जीत की गूंज होगी|”

अटल बिहारी वाजपेयी के अवार्ड

1992 : पद्म विभूषण
1993 : डी.लिट (डॉक्टरेट इन लिटरेचर), कानपूर यूनिवर्सिटी
1994 : लोकमान्य तिलक पुरस्कार
1994 : बेस्ट संसद व्यक्ति का पुरस्कार
1994 : भारत रत्न पंडित गोविन्द वल्लभ पन्त अवार्ड
2015 : भारत रत्न
2015 : लिबरेशन वॉर अवार्ड (बांग्लादेश मुक्तिजुद्धो संमनोना)

अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के अन्य प्रमुख कार्य

11 और 13 मई 1998 को पोखरण में पाँच भूमिगत परमाणु परीक्षण विस्फोट करके अटल बिहारी वाजपेयी जी ने भारत को परमाणु शक्ति संपन्न देश घोषित कर दिया|
19 फ़रवरी 1999 को पाकिस्तान से अच्छे संबंधों में सुधार की पहल करतें हुए सदा-ए-सरहद नाम से दिल्ली से लाहौर तक बस की सेवा शुरू की गई|

स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना

कावेरी जल विवाद को सुलझाया, जो 100 साल से भी ज्यादा पुराना विवाद था|
संरचनात्मक ढाँचे के लिये बड़ा कार्यदल, विद्युतीकरण में प्रगति लाने के लिये केन्द्रीय विद्युत नियामक आयोग, सॉफ्टवेयर विकास के लिये सूचना एवं प्रौद्योगिकी कार्यदल, आदि का गठन किया|
देश के सभी हवाई अड्डों एवं राष्ट्रीय राजमार्गों का विकास किया; कोकण रेलवे तथा नई टेलीकॉम नीति की शुरुआत करके बुनियादी संरचनात्मक ढाँचे को मजबूत करने जैसे कदम उठाये|
आर्थिक सलाह समिति, व्यापार एवं उद्योग समिति, राष्ट्रीय सुरक्षा समिति, भी गठित कीं| जिस वजह से काफी जल्दी काम होने लगे|
अर्बन सीलिंग एक्ट समाप्त करके आवास निर्माण को प्रोत्साहन दिया|
उन्होंने बीमा योजना की भी शुरवात की जिस वजह से ग्रामीण रोजगार सृजन एवं विदेशों में बसे भारतीय मूल के लोगोंको (NRI) काफी फायदा हुआ|

अटल बिहारी वाजपेयी के पद

1951 : संस्थापक सदस्य, भारतीय जन संघ (BJS)
1957 : दुसरे लोक सभा में नियुक्ती
1957-77 : नेता, भारतीय जन संघ संसदीय पार्टी
1962 : सदस्य, राज्य सभा
1966-67 : अध्यक्ष, गवर्नमेंट आश्वासन समिति
1967 : चौथे लोकसभा चुनाव में पुनर्नियुक्त (दूसरी बार)
1967-70 : अध्यक्ष, पब्लिक अकाउंट समिति
1968-73 : अध्यक्ष, BJS
1971 : 5 वे लोकसभा चुनाव में पुनर्नियुक्त (तीसरी बार)
1977 : 6 वे लोकसभा चुनाव में नियुक्त (चौथी बार)
1977-79 : यूनियन कैबिनेट मिनिस्टर, एक्सटर्नल अफेयर
1977-80 : संस्थापक सदस्य, जनता पार्टी
1980 : 7 वे लोकसभा चुनाव में नियुक्त (पांचवी बार)
1980-86 : अध्यक्ष, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी)
1980-84, 1986 और 1993-96 : नेता, बीजेपी संसदीय पार्टी
1986 : सदस्य, राज्य सभा, सदस्य, जनरल पर्पस समिति
1988-90 : सदस्य, हाउस समिति, सदस्य, व्यापार सलाहकार समिति
1990-91 : अध्यक्ष, याचिका समिति
1991 : 10 वे लोकसभा चुनाव में नियुक्त (छठी बार)
1991-93 : अध्यक्ष, पब्लिक अकाउंट समिति
1993-96 : चेयरमैन, एक्सटर्नल अफेयर समिति, लोकसभा विरोधी नेता
1996 : 11 वे लोक सभा चुनाव में नियुक्त (सातवी बार)
16 May 1966-31 May 1996 : भारत के प्रधानमंत्री
1966-97 : विरोधी नेता, लोकसभा
1997-98 : चेयरमैन, एक्सटर्नल अफेयर समिति
1998 : 12 वे लोकसभा चुनाव में पुनर्नियुक्त (आठवी बार)
1998-99 : भारत के प्रधानमंत्री, एक्सटर्नल अफेयर मंत्री
1999 : 13 वे लोकसभा चुनाव में पुनर्नियुक्त (नौवी बार)
13 Oct. 1999 to 13 May 2004 : भारत के प्रधानमंत्री
2004 : 14 वे लोकसभा चुनाव में पुनर्नियुक्त (10वी बार) https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

देश

नहीं रहेे भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, 93 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

Published

on

नयी दिल्ली। भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार शाम राजधानी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में 93 साल की उम्र में निधन हो गया। उनके निधन से देश में शोक की लहर दौड़ गयी है। वह लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर थे। वाजपेयी 11 जून से दिल्ली के एम्स में भर्ती थे। उन्हें किडनी और छाती में संक्रमण और पेशाब कम होने के चलते भर्ती कराया गया था। वे पिछले दो महीने से ज्यादा समय से एम्स के बिस्तर पर थे और मौत से उनकी ‘ठनी’ हुई थी, हालांकि आज दोपहर दो बजे उन्होंने अलग रास्ता चुना और ‘काल के कपाल पर लिखकर’ वे इस दुनिया से कूच कर गए। उनके खुद के शब्दों में ‘मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूं, लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं’।

वाजपेयी के निधन से देश की राजनीति के एक सुनहरे दौर का अंत हो गया है। ऐसा दौर जिसमें राजनीतिक मतभेद को मनभेद में बदलने की इजाजत नहीं होती। वाजपेयी लंबे समय तक नेता विपक्ष रहे, तीन बार प्रधानमंत्री रहे, लेकिन उनकी लोकप्रियता किसी पद पर उनके होने या न होने की मोहताज नहीं रही। उनकी स्वीकार्यता जितनी पार्टी के भीतर थी, उतना ही वे दूसरी पार्टियों में भी लोकप्रिय थे। यही वजह रही कि एम्स में उनकी भर्ती की खबर सुन सबसे पहले उनका हालचाल जानने पहुंचने वालों में पीएम नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साथ-साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी थे। आज जब उनके निधन की खबर आई तो पूरा देश शोक में डूब गया।

इस बीच अटल बिहारी वाजपेयी के घर पर एसपीजी की टीम पहुंच गई है, पूरे इलाके में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। कई जगह पर बैरिकेडिंग भी कर दी गई है।

साइड रिफ्रेश करते रहें, वाजपेेयी जी पर खबर अपडेट्स की जा रही है

  • भाजपा मुख्यालय में पार्टी का झंडा झुकाया गया।
  • वाजपेयी का पार्थिव शरीर एम्स से उनके घर ले जाया गया।
  • स्मृति स्थल के पास वाजपेयी का अंतिम संस्कार हो सकता है।
  • वाजपेयी के निधन पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई दिग्गज नेताओं ने शोक जताया।
  • रात भर घर पर रखा जाएगा अटल का पार्थिव शरीर।

BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक रद्द

वहीं, बीजेपी ने देश भर में अपने आज के सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं। 18-19 अगस्त को दिल्ली में होने वाली बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक टल गई है। बीजेपी मुख्यालय से बैठक के लिए फूलों से सजावट की गई थी, जिसे हटा लिया गया है।

वाजपेयी का राजनीतिक सफर

बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी डिमेंशिया नाम की गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे और 2009 से ही व्हीलचेयर पर थे । कुछ समय पहले भारत सरकार ने उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। अटल बिहारी वायपेयी 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में लखनऊ से लोकसभा सदस्य चुने गए थे। वो बतौर प्रधानमंत्री अपना कार्यकाल पूर्ण करने वाले पहले और अभी तक एकमात्र गैर-कांग्रेसी नेता हैं। 25 दिसंबर, 1924  में जन्मे वाजपेयी ने भारत छोड़ो आंदोलन के जरिए 1942 में भारतीय राजनीति में कदम रखा था। वह संयुक्त राष्ट्र सभा में हिंदी में भाषण देने वाले पहले भारतीय विदेश मंत्री भी थे।

लखनऊ के कायाकल्प में वाजपेयी का योगदान

गौरतलब है कि अटल बिहारी वाजपेयी 1991 से 2004 तक लगातार लखनऊ से सांसद चुने गए। उनका राजधानी लखनऊ से गहरा नाता रहा है। लखनऊ के कायाकल्प में भी अटल बिहारी वाजपेयी का खासा योगदान रहा। सांसद और प्रधानमंत्री रहते उन्होंने लखनऊ को कई विकास की सौगातें दी। आज अगर लखनऊ का कायाकल्प हुआ है तो उसका श्रेय अटल जी को ही जाता है। उन्होंने यहां कई विकास परियोजनाओं की सौगात दी। शहीद पथ, साइंटिफिक सेंटर, लखनऊ-कानपुर हाईवे, अशोक मार्ग पर रास्ते का चौडीकरण, स्ट्रीट लाइट, गोमतीनगर का नया रेलवे स्टेशन, कल्याण मंडप, भीड़भाड़ वाले निरालागर रेलवे क्रासिंग पर फ्लाईओवर का निर्माण, गोमतीनगर एक्शन प्लान फेज 19, हरदोई रोड स्थित बसंत कुंज प्रोजेक्ट, लखनऊ रिंग रोड बाईपास, लखनऊ एयरपोर्ट रनवे का विस्तारीकरण, अलीनगर में आंबे योजना के तहत कमजोर वर्ग के लिए 14, 350 मकानों का निर्माण, गोमतीनगर में क्षेत्रीय पासपोर्ट ऑफिस का निर्माण शामिल है। https://www.kanvkanv.com

 

Continue Reading
देश42 mins ago

अटल जी के निधन पर 7 दिन का राजकीय शोक घोषित, कल दोपहर 01:30 बजे निकाली जाएगी अंतिम यात्रा

देश2 hours ago

एेसे थे अपने अटल बिहारी वाजपेयी, जानिए उनका जीवन परिचय

राज्य2 hours ago

श्रावस्ती : स्वतंत्रता दिवस पर रही सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम

देश2 hours ago

नहीं रहेे भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, 93 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

राज्य3 hours ago

2004 में जब अटल बिहारी ने किया था मुजफ्फरपुर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण…

राज्य5 hours ago

जब बाढ़ पीड़ितों का हाल जानने पहुंचा एक….. जानिए फिर क्या हुआ 

राज्य6 hours ago

श्रावस्ती : प्रदेश स्तरीय प्रतियोगि कबड्डी में ‘द आयरन पब्लिक स्कूल’ के चार छात्रों ने बनाया स्थान

राज्य6 hours ago

रक्सौल : उजाला योजना के तहत वितरित किया गया एलपीजी गैस कनेक्शन

देश6 hours ago

अटल बिहारी वाजपेयी ने कुछ इस तरह से सियासत में शून्य से शिखर तक पहुंचाया बीजेपी को

टेक्नोलॉजी7 hours ago

लो जी शुरू हो गया Jio Phone 2 का फ्लैश सेल, ऐसे बना सकते हैं इस फोन को अपना

राज्य7 hours ago

वीडियो : महराजगंज में मौलाना ने किया राष्ट्रगान का विरोध, देता रहा इस्लाम का हवाला, तीन गिरफ्तार

राज्य7 hours ago

आजादी के 72वां स्वतंत्रता दिवस पर भी रो रहा था ये परिवार, मदद की आस

देश8 hours ago

भारत रत्न अटल बिहारी की सेहत में सुधार नहीं, AIIMS का नया मेडिकल बुलेटिन जारी, रोने लगे डिप्टी सीएम

राज्य1 day ago

शिवहर सांप्रदायिक सौहार्द की मिशाल है : मंत्री राणा रणधीर सिंह

राज्य1 day ago

मुज़फ्फरपुर : भाजपा प्रदेश कार्य समिति के सदस्य मनीष कुमार ने किया ध्वजारोहण

राज्य1 day ago

मुज़फ्फरपुर : जिला पार्षद सुजाता किंकर ने किया ध्वजारोहण, तीन सडकों का हुआ उद्घाटन

देश1 day ago

जानें क्यों मनाई जाती है नाग पंचमी, इस मुद्रा में दिखें नाग देवता तो आप हो सकते हैं धनवान

देश1 day ago

वीडियो : अमित शाह के झंडा फहराते हुए गिरा तिरंगा, कांग्रेस बोली-ये क्या देश संभालेंगे?

राज्य1 week ago

पूर्व मंत्री लालजी वर्मा के शिक्षण संस्थान के गर्ल्स हॉस्टल पर छापा, चप्पे-चप्पे को खंगाला

राज्य1 week ago

देवरिया कांड पर सख्त हुए योगी, हटाए गए डीएम, जांच के लिए विशेष विमान से भेजे गए अधिकारी

राज्य5 days ago

यूपी : हनी ट्रैप से अमीरों को फंसाती थीं खूबसूरत युवतियां, फिर वसूलती थी मोटी रकम, गिरफ्तार

देश4 weeks ago

‘जलेबी’ बाबा का 120 महिलाओं से बलात्कार का वीडियो वायरल, पहुंचा जेल

दुनिया5 days ago

न सोने दिया जाता और ना खाना, एक हजार लोगों ने बनाया शिकार

देश2 days ago

हो चुका है कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का विवाह, खुद किया खुलासा, जानें कौन है वो

देश1 week ago

मछली ने बदल दी दो भाइयों की किस्मत, 20 मिनट में बना दिया लखपति

राज्य4 days ago

यूपी : दाऊद ने बसपा विधायक को दी धमकी, कहा-एक गोली काफी है…..मांगा 1 करोड़, पढ़ें बातचीत

मनोरंजन1 week ago

फोटोज : करिश्मा ने फोटोशूट में ढाया कहर, बोल्डनेस की सारी हदें की पार, फैन बोले, आग लगा दी

राज्य1 week ago

अंबेडकरनगर : दुकान में सो रहे किराना व्यवसाई की हत्या, नकब लगाकर दिया घटना को अंजाम

राज्य7 days ago

लखीमपुर-खीरी : हर अभिभावक अपने बच्चों को खिलाएं एल्बेंडाजॉल : सीएमओ

देश1 week ago

नहीं रहें दक्षिण की राजनीति के पितामह एम करुणानिधि, 94 वर्ष की उम्र में हुआ निधन

देश3 days ago

अब पटना में भी ‘मुजफ्फरपुर कांड’, 2 लड़कियों की मौत, JDU नेता के साथ दिखी आरोपी मनीषा दयाल

देश1 week ago

मुजफ्फरपुर कांड के आरोपी ब्रजेश ठाकुर के मुंह पर पोती गई कालिख, चुनाव वाले बयान पर कांग्रेस ने दी सफाई

राज्य1 day ago

मुज़फ्फरपुर : जिला पार्षद सुजाता किंकर ने किया ध्वजारोहण, तीन सडकों का हुआ उद्घाटन

राज्य1 week ago

सुल्तानपुर : पूर्व विधायक के पंप पर तोड़फोड़ के मामले में उनकी महिला मित्र के खिलाफ तहरीर

राज्य6 days ago

फिर आतंकियों के निशाने पर योगी, इस तरह के आतंकी हमले के मिले इनपुट, अब ऐसी होगी सुरक्षा

राज्य4 days ago

सीएमएस में मासूम बच्ची के संग बाथरूम में छेड़छाड़, विरोध में जाम प्रदर्शन, लाठीचार्ज

Trending