पंजाब के पूर्व मंत्री बिक्रम मजीठिया पर ड्रग्स केस में एफआईआर,अकाली नेता पर कार्रवाई से सूबे की सियासत गर्म

विधानसभा चुनाव से पहले पंजाब की चन्नी सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है। अकाली नेता और पूर्व मंत्री बिक्रम मजीठिया के खिलाफ ड्रग्स केस में एफआईआर दर्ज की गई है। 
 
Bikram Majithia
पंजाब के पूर्व मंत्री बिक्रम मजीठिया पर ड्रग्स केस में एफआईआर

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव से पहले पंजाब की चन्नी सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है। अकाली नेता और पूर्व मंत्री बिक्रम मजीठिया के खिलाफ ड्रग्स केस में एफआईआर दर्ज की गई है। 

केस मोहाली में ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (BOI) ने स्टेट क्राइम पुलिस थाने में केस दर्ज कराया है। मजीठिया के खिलाफ ड्रग्स केस को लेकर लगातार आरोप लगाए जा रहे थे। यह केस एनडीपीएस एक्ट की धारा 25/27A/29 के तहत केस दर्ज हुआ है।

पंजाब कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिद्धू दावा कर रहे थे कि स्पेशल टास्क फोर्स (STF) की रिपोर्ट में मजीठिया का नाम है। यह रिपोर्ट ADGP हरप्रीत सिद्धू की अगुवाई में तैयार हुई थी। सिद्धू लगातार उन पर कार्रवाई की बात कह रहे थे। इसी वजह से 4 दिन पहले इकबालप्रीत सहोता को हटाकर पंजाब सरकार ने सिद्धार्थ चट्‌टोपाध्याय को कार्यकारी DGP बनाया था।

उधर बिक्रम मजीठिया पर केस दर्ज होने से नाराज  अकाली दल के नेताओं ने आरोप लगाया है कि  सीएम चरणजीत सिंह चन्नी और पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू  के दबाव में मजीठिया के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। 

शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने पंजाब सरकार पर आरोप लगाया  कि कांग्रेस ने पुलिस विभाग को अपने कब्जे में ले लिया है और पुलिस अधिकारियों को अकाली दल के वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए मजबूर किया जा रहा है. उन्होंने कहा था, ‘ईमानदार पुलिस अधिकारियों ने इन गैर-संवैधानिक आदेशों का पालन करने से इनकार कर दिया.’ अध्यक्ष ने दावा करते हुए कहा था, ‘इसलिए ही जल्दी जल्दी जांच ब्यूरो के दो अधिकारियों को बदल दिया गया है.’