दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा- दिल्ली में दंगे सोची समझी साजिश के तहत हुए

दिल्ली दंगे से जुड़े एक मामले की सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा 2020 में राष्ट्रीय राजधानी में हुए दंगे की पहले से योजना बनाई गई थी।
 
delhi riots
दिल्ली दंगा

नई दिल्ली। दिल्ली दंगे से जुड़े एक मामले की सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा 2020 में राष्ट्रीय राजधानी में हुए दंगे की पहले से योजना बनाई गई थी। यहां हिंसा किसी घटना के बाद अचानक से नहीं भड़की। यह एक सोची समझाी साजिश थी। कोर्ट ने इस मामले के एक आरोपी को जमानत देने से भी इनकार कर दिया। 


कोर्ट ने कहा कि जो वीडियो फुटेज अदालत में पेश किए गए, उनमें प्रदर्शनकारियों का आचरण साफ दिखाई देता है। सरकार के साथ-साथ शहर में लोगों के सामान्य जीवन को बाधित करने के लिए दंगे सुनियोजित ढंग से कराए गए। अदालत ने कहा कि सीसीटीवी कैमरों को नष्ट करना भी शहर में कानून-व्यवस्था को बिगाड़ने के लिए एक पूर्व नियोजित साजिश की पुष्टि करता है।

जस्टिस सुब्रमण्यम प्रसाद ने आरोपी मोहम्मद इब्राहिम के जमानत की अपील खारिज कर दी, जिसे दिसंबर में गिरफ्तार किया गया था। कोर्ट ने कहा कि व्यक्तिगत स्वतंत्रता का इस्तेमाल सभ्य समाज के ताने-बाने को खतरे में डालने के लिए नहीं किया जा सकता है। इब्राहिम को सीसीटीवी क्लिप में भीड़ को तलवार से धमकाते हुए देखा गया।

यह मामला पूर्वी दिल्ली के चांद बाग में दंगे के दौरान पुलिसकर्मियों पर भीड़ के हमले से जुड़ा हुआ है। हिंसा के दौरान हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल के सिर में चोट लगने से मौत हो गई थी और एक अन्य अधिकारी गंभीर रूप से घायल हो गया था।