'बुली बाई' एप मामला : दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ा मुख्य साजिशकर्ता, बीटेक की पढाई कर रहा आरोपी

बुली बाई एप मामले में दिल्ली पुलिस को बड़ी सफलता हासिल मिली है। पुलिस की आईएफएसओ स्पेशल सेल का दावा है कि उसने विवादित बुल्ली बाई एप मामले में उसने मुख्य आरोपी को असम से गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली पुलिस ने कहा है कि उसकी आईएफएसओ स्पेशल सेल ने इस 20 वर्षीय आरोपी को गिरफ्तार किया
 
'बुली बाई' एप मामला : दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ा मुख्य साजिशकर्ता, बीटेक की पढाई कर रहा आरोपी 

नई दिल्ली। बुली बाई एप मामले में दिल्ली पुलिस को बड़ी सफलता हासिल मिली है। पुलिस की आईएफएसओ स्पेशल सेल का दावा है कि उसने विवादित बुल्ली बाई एप मामले में उसने मुख्य आरोपी को असम से गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली पुलिस ने कहा है कि उसकी आईएफएसओ स्पेशल सेल ने इस 20 वर्षीय आरोपी को गिरफ्तार किया और अब इसे राजधानी लाया जा रहा है। दिल्ली पुलिस की टीम आरोपी को लेकर दोपहर साढ़े तीन बजे इंदिरा गांधी हवाई अड्डे पर पहुंचेगी। पुलिस के मुताबिक, चौथे आरोपी का नाम नीरज बिश्नोई है, जो भोपाल के वेल्लोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में इंजीनियरिंग का स्टूडेंट है.

आईएफएसओ की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, इस बीस वर्षीय आरोपी का नाम नीरज बिश्नोई है। नीरज असम के जोरहाट में दिगंबर इलाके का रहने वाला है। इतना ही नहीं वह वेल्लोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से बीटेक की पढ़ाई कर रहा है।

आईएफएसओ के डीसीपी केपीएस मल्होत्रा ने बताया, 'दिल्ली पुलिस की विशेष सेल आईएफएसओ ने असम से बुल्ली बाई ऐप के मुख्य साजिशकर्ता नीरज बिश्नोई को गिरफ्तार किया है। इसने ही गिटहब पर यह ऐप बनाई थी और यही ऐप के ट्विटर अकाउंट का मेन होल्डर था। उसे दिल्ली लाया जा रहा है।'

बता दें कि नीरज बिश्नोई को मिलाकर अब तक इस मामले में कुल 4 गिरफ्तारियां हो चुकी हैं। बता दें कि बुली बाई ऐप के जरिए मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें शेयर कर के उनकी कथित तौर पर बोली लगाई जा रही थी। इस मामले में अब तक विशाल कुमार, श्वेता सिंह और मयंक रावत को गिरफ्तार किया गया था। हालांकि, मामले में दिल्ली पुलिस ने पहली गिरफ्तारी की है।