Connect with us

देश

चक्रवात अम्फन से बंगाल में भारी तबाही, 12 लोगों की मौत : मुख्यमंत्री

Published

on

amphan

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार रात एक बयान में कहा कि चक्रवात अम्फन ने पश्चिम बंगाल के विस्तृत इलाके में भारी तबाही मचाई है। इसमें 12 लोगों के मरने की आशंका है।

बुधवार अपराह्न ढाई बजे चक्रवात दीघा के समुद्र तट से टकराया था। तब इसकी गति 165 से 185 किलोमीटर प्रति घंटे के बीच थी। उसके बाद यह दक्षिण 24 परगना के सागर तट से होते हुए राजधानी कोलकाता, हावड़ा, हुगली और उत्तर तथा दक्षिण 24 परगना क्षेत्रों से होकर गुजरा है।

यहां बड़े पैमाने पर मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। कोलकाता में इसकी अधिकतम गति 133 किलोमीटर प्रति घंटे रिकॉर्ड की गई है। 4 से 5 घंटे तक चक्रवात पश्चिम बंगाल के विस्तृत इलाके में तबाही मचाता रहा है।

इस दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य सचिवालय में खोले गए निगरानी कक्ष में बैठकर पूरे हालात पर निगरानी रखी है। रात के समय उन्होंने मीडिया से बात की। सीएम ने कहा कि इस चक्रवात की वजह से उत्तर और दक्षिण 24 परगना के विस्तृत इलाके में भारी क्षति हुई है।

10 से 12 लोगों की मौत की खबर मिल रही है। शाम 6:30 बजे के करीब कोलकाता में चक्रवात की अधिकतम गति 133 किलोमीटर प्रतिघंटा रिकॉर्ड की गई है। हालांकि रात को 8:00 बजे के बाद इसकी गति थोड़ी नरम पड़ी है। सीएम ने कहा है कि खतरा अभी टला नहीं है।

उन्होंने कहा कि रामनगर से लेकर नंदीग्राम तक भारी नुकसान हुआ है। उत्तर 24 परगना के बैरकपुर, बसीरहाट, बारासात के अलावा दक्षिण 24 परगना व हावड़ा की हालत सबसे खराब रही है। मुख्यमंत्री ने बताया कि चक्रवात ने उत्तर और दक्षिण 24 परगना को पूरी तरह से ध्वस्त कर दिया है। उन्होंने आश्वस्त किया कि लोगों की मदद से वह क्षतिग्रस्त क्षेत्रों को फिर से आबाद करेंगी।

सीएम ने कहा कि दीघा समुद्र तट पर बहुत अधिक नुकसान नहीं हुआ है। सबसे ज्यादा प्रभाव उत्तर और दक्षिण 24 परगना में पड़ा है। उन्होंने कहा कि हमारा दफ्तर भी आधे से अधिक टूट चुका है। अनगिनत मकान टूट गए हैं। नदियों के बांध टूट गए हैं। खेत और फसलों का सर्वनाश हो चुका है।

उन्होंने कहा कि 10 से 12 लोगों की मौत की सूचना मिल चुकी है। अभी भी यह संख्या बढ़ सकती है। उन्होंने कहा कि चक्रवात की वजह से अधिकतर क्षेत्रों में बाढ़ जैसी स्थिति बन गई है। सीएम ने कहा कि नुकसान का सटीक आकलन करने में कम से कम 10 से 12 दिनों का समय लग सकता है। संचार व्यवस्था पूरी तरह से ठप हो।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया है कि राज्य के जिन 6 जिलों से चक्रवात होकर गुजरा है, वहां संचार व्यवस्था पूरी तरह से ठप हो गई है। बिजली की आपूर्ति बंद की गई है ताकि संभावित खतरे को टाला जा सके। टेलीफोन के तार टूट चुके हैं और इंटरनेट आदि का कनेक्शन बंद है। कुल मिलाकर कहा जाए तो यह जिले राज्य के बाकी हिस्से से लगभग पूरी तरह से कर चुके हैं।

उल्लेखनीय है कि चक्रवात आने से पहले ही राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और राज्य प्रशासन की टीम ने मिलकर 5 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचा दिया था। फिर भी बड़े पैमाने पर जानमाल का नुकसान हुआ है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

तबलीगी जमात से जुड़े 2200 विदेशियों की भारत यात्रा पर 10 साल का बैन

Published

on

By

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज के तबलीगी जमात में शामिल होने वाले 2200 विदेशी नागरिकों को काली सूची में डाल दिया है। साथ ही इनके अगले दस वर्षों तक भारत आने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी। मंत्रालय ने दिल्ली पुलिस और अन्य राज्यों के पुलिस प्रमुखों को विदेशी कानून और आपदा प्रबंधन कानून के तहत इनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने को कहा था।

राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में मार्च में तबलीगी जमात ने एक बड़े धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जो बाद में देश में कोरोना वायरस का एक केंद्र बनकर सामने आया। इसमें भाग लेने वाले कुछ लोग बाद में कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए और उन्होंने देश के विभिन्न हिस्सों में अपने गृह नगरों की यात्रा की थी।

Continue Reading

देश

ऑस्ट्रेलिया-भारत साइबर और महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी की नई साझेदारी पर सहमत

Published

on

By

नई दिल्ली। भारत और ऑस्ट्रेलिया ने साइबर मामलों और महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी क्षेत्र में आपसी सहयोग की एक नई व्यवस्था की शुरुआत पर सहमति जताई है जिसके इनसे जुड़े मुद्दों पर द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाया जाएगा।

नई व्यवस्था के तहत ऑस्ट्रेलिया और भारत एक खुले, मुक्त और सुरक्षित इंटरनेट को बढ़ावा देने और उसे संरक्षित करने, डिजिटल व्यापार को बढ़ाने, महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी के अवसरों का दोहन करने और साइबर सुरक्षा चुनौतियों का समाधान करने के लिए मिलकर काम करेंगे।

ऑस्ट्रेलिया-भारत के नेताओं के बीच वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से हुए शिखर सम्मेलन में गुरुवार को विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर और उनकी समकक्ष मारिज पायने ने ऑस्ट्रेलिया-भारत फ्रेमवर्क व्यवस्था पर साइबर और क्रिटिकल टेक्नोलॉजीज सहयोग पर हुए समझौते पर हस्ताक्षर किए। दोनों देश इस बात पर सहमत हुए कि कृत्रिम बुद्धिमत्ता, क्वांटम कंप्यूटिंग और रोबोटिक्स जैसी महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियां लोगों, व्यवसायों और व्यापक अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण अवसर प्रस्तुत करती हैं। इन्हें अंतरराष्ट्रीय मानकों द्वारा संचालित किया जाना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे सुरक्षा या समृद्धि के लिए जोखिम पेश नहीं करें।

व्यवस्था के तहत ऑस्ट्रेलिया-भारत साइबर और क्रिटिकल टेक्नोलॉजी पार्टनरशिप में चार साल के दौरान 1.27 करोड़ डॉलर खर्च करेंगे। यह साझेदारी भारतीय और ऑस्ट्रेलियाई व्यवसायों और शोधकर्ताओं के लिए एक अनुसंधान और विकास निधि बनाएगी और अन्य देशों को अपने साइबर व्यवस्था में सुधार करने के लिए सहयोग करेगी। साथ में, ये उपाय एक वैश्विक प्रौद्योगिकी वातावरण को आकार देने में मदद करेंगे जो खुले, मुक्त, नियम-आधारित इंडो-पैसिफिक क्षेत्र के साझा दृष्टिकोण को पूरा करते हैं।

Continue Reading

देश

लॉकडाउन में अपनी नाबालिग बेटी को हवस का शिकार बनाता रहा पिता, ऐसे हुआ खुलासा

Published

on

नयी दिल्ली। तमिलनाडु में रिश्तों को शर्मसार कर देने वाली वारदात सामने आई है। जहां एक पिता लॉकडाउन के दौरान अपनी नाबालिग बेटी को हवस का शिकार बनाता रहा। इसका खुलासा तब हुआ जब लड़की की अचानक तबियत खराब हुई और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डाक्टर को जांच के दौरान उसके प्रेग्नेंट होना का पता चला। फिलहाल पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है और जांच शुरू कर दी है।

शर्मसार कर देने वाला मामला माइलादुत्रयी के नागपट्टिनम का है। जहां पर एक कलयुगी पिता अपनी 14 साल की नाबालिग बेटी को लॉकडाउन के दौरान अपनी हवस का शिकार बनाता रहा। लड़की के प्रेग्‍नेंट होने के बाद इस बात का खुलासा हुआ। पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है। मामले की शिकायत उसकी पत्नी ने ही पुलिस से की थी।

ऐसा खुला रेप का मामला

मामले का खुलासा तब हुआ जब अचानक लड़की की तबीयत खराब हो गई। फिर वो अपनी मां के साथ अस्पताल गई। डॉक्टर ने जांच के दौरान बताया कि लड़की प्रेग्‍नेंट है।

पुलिस ने पाॅक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया

इसके बाद लड़की की मां ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही पाॅक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर आरोपी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

Continue Reading

Trending