Connect with us

देश

कोटा के अस्पताल में अब तक 104 बच्चों की मौत, आज पहुंचेगी विशेषज्ञों की टीम

Published

on

नई दिल्ली। राजस्थान में कोटा के जे.के. लोन अस्पताल में अब तक 104 बच्चों की मौत हो गई है।अब इस मामले पर केंद्र सरकार ने सक्रियता दिखाई है और विशेषज्ञों की टीम कोटा भेजने का फैसला लिया है। ये टीम शुक्रवार को कोटा पहुंचेगी।

राजस्थान सरकार को मदद का आश्वासन

इतना ही नहीं, केन्द्र सरकार ने ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए राजस्थान सरकार को अतिरिक्त मदद का आश्वासन भी दिया है। बता दें कि कोटा अस्पताल में बच्चों की मौत का सिलसिला नहीं थम रहा है और दिसंबर महीने में यह आंकड़ा 100 पार हो गया।

ये शामिल है टीम में

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की विशेष टीम में जोधपुर एम्स के विशेषज्ञ डॉक्टर, स्वास्थ्य, वित्त और क्षेत्रीय निदेशक शामिल होंगे। इसके अलावा जयपुर से भी विशेषज्ञों को इसमें शामिल किया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने बताया कि उन्होंने इस बारे में राजस्थान के मुख्यमंत्री से बात की है। उनके मुताबिक, केंद्र सरकार ने राजस्थान सरकार को बच्चों के इलाज में हर संभव मदद देने का भरोसा दिया है।

बाल रोग विशेषज्ञ भी भेजे गए

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बताया कि बाल रोग विशेषज्ञ की एक टीम को भी राजस्थान के लिए रवाना किया गया है, ताकि वहां बच्चों की मौत रोकी जा सके। केंद्रीय मंत्री ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को बताया कि जे.के. लोन अस्पताल को वित्तवर्ष 2019-20 में अग्रिम राशि के तौर पर पर 91 लाख रुपये पहले ही दिए जा चुके हैं। यह राशि नेशनल हेल्थ मिशन के तहत दी गई है। वहीं कोटा जिले की बात करें तो वित्तवर्ष 2019 -20 के लिए इस जिले को 27 करोड़ 45 लाख रुपये आवंटित किए गए हैं।

वित्तीय सहायता की पेशकश

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने राजस्थान के मुख्यमंत्री से और अधिक वित्तीय सहायता दिए जाने की पेशकश की है। डॉ. हर्ष वर्धन ने राजस्थान सरकार से कहा कि जरूरत होने पर राजस्थान सरकार वित्तीय सहायता के लिए केंद्र को प्रस्ताव भेज सकती है। इससे पहले, भाजपा की 4 महिला सांसदों के एक प्रतिनिधिमंडल ने कोटा स्थित जे.के. लोन अस्पताल का निरीक्षण किया।

अब तक 104 बच्चों की मौत

बता दें कि अस्पताल में बुधवार को तीन तथा गुरुवार को एक और नवजात शिशु की मौत के साथ दिसंबर और जनवरी माह में मरने वाले नवजात शिशुओं की संख्या 104 हो गई है।

Trending