लड़कियों में पीरियड के दौरान बढ़ जाती है इन बीमरियों का खतरा

महिलाओं को प्रत्येक माह मासिक धर्म यानी पीरियड की समस्या से गुजरना पड़ता है। जब महिलाऐं मेनोपॉज से गुजर रही होती हैं तो उस समय कई ऐसे फैक्टर्स बढ़ जाते हैं, जो हृदय रोग का कारण बन सकते हैं। मेनोपॉज के दौरान महिलाओं को हाई फैट डायट,
 
लड़कियों में पीरियड के दौरान बढ़ जाती है इन बीमरियों का खतरा 

हेल्थ। महिलाओं को प्रत्येक माह मासिक धर्म यानी पीरियड की समस्या से गुजरना पड़ता है। जब महिलाऐं मेनोपॉज से गुजर रही होती हैं तो उस समय कई ऐसे फैक्टर्स बढ़ जाते हैं, जो हृदय रोग का कारण बन सकते हैं। मेनोपॉज के दौरान महिलाओं को हाई फैट डायट, स्मोकिंग या कम उम्र में शुरू हुई ऐसी ही स्वास्थ्य के लिए हानिकारक आदतें, बहुत अधिक प्रभावित कर सकती हैं। मेनोपॉज कोई बीमारी नहीं है।

पीरियड के दौरान बढ़ जाता है इन बीमारियों का खतरा 

  • महिलाओं में मेनोपॉज की स्थिति 54 साल की आयु में आती है। ऐसे में उनकी सेहत पर कई तरह के रिस्क होते है, जो हॉर्मोनल चेंजेज के कारण होते हैं।
  • हर 3 में 1 महिला में इस दौरान कार्डियोवैस्कुलर डिजीज के लक्षण नजर आते हैं। हालांकि महिलाओं में हार्ट अटैक्स की समस्या मेनोपॉज के लगभग 10 साल बाद देखने को मिलती है।
  • हेल्थी रहने के लिए हम आपको  इसके उपाय जो महिलाएं हेल्दी लाइफस्टाइल फॉलो करती हैं, नियमित रूप से एक्सर्साइज करती हैं, उनमें मेनोपॉज के दौरान इन बीमारी का खतरा काफी कम होता है।
  • महिलाओं को अपनी सेहत का पूरा ध्यान रखना चाहिए और हेल्दी रुटीन फॉलो करना चाहिए। स्मोकिंग और ड्रिकिंग जैसी आदतों से दूर रहना उसकी सेहत को बेहतर रखने में मददगार है