Connect with us

हेल्थ

328 फिक्सड डोज कॉम्बिनेशन दवाओं की बिक्री और वितरण पर केंद्र सरकार ने लगाई रोक

Published

on

केंद्र सरकार ने स्वास्थ्य के लिए 328 फिक्सड डोज कॉम्बिनेशन (एफडीसी) दवाओं की बिक्री और वितरण पर बुधवार तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी। इन दवाओं में सर्दी-खांसी और मधुमेह में इस्तेमाल की जाने वाली कई दवाएं शामिल हैं, जिन्हें सेहत के लिए नुकसानदेह माना गया है।  केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से बुधवार को जारी विज्ञप्ति के अनुसार, दवा तकनीकी सलाहकार बोर्ड की सिफारिशों के आधार पर इन दवाओं की बिक्री पर रोक लगाई गई है। बोर्ड ने एफडीसी दवाओं पर सौंपी गई रिपोर्ट में कहा था कि इन 328 एफडीसी में निहित सामग्री का कोई चिकित्सकीय औचित्य नहीं है। इनसे मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच सकता है।

बाजार में मौजूद दवाओं को लेना होगा वापस

बोर्ड ने सिफारिश की थी कि औषधि और प्रसाधन सामग्री अधिनियम, 1940 की धारा 26ए के तहत व्यापक जनहित में इन एफडीसी के उत्पादन, बिक्री तथा वितरण पर प्रतिबंध लगाना जरूरी है। इसके अलावा छह अन्य एफडीसी दवाओं के बारे में बोर्ड ने अनुशंसा की थी कि इनके चिकित्सकीय औचित्य के आधार पर कुछ शर्तों के साथ इनके उत्पादन, बिक्री और वितरण पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए। इस बीच, दवा विक्रेताओं ने बताया कि प्रतिबंधित दवाओं की सूची में कई खांसी की मशहूर दवाएं हैं, जिनकी सूची उन्हें मिल गई है। फैसला तत्काल प्रभाव से लागू होने की वजह कंपनियों को बाजार में मौजूद दवाओं को वापस लेना होगा।

केंद्र को सौंपी रिपोर्ट

गौरतलब है कि फिक्सड डोज कॉम्बिनेशन दो या इससे अधिक दवाओं का निश्चित मेल होता है। 2016 में भी हुई थी कोशिश केंद्र सरकार ने मार्च 2016 में भी 349 एफडीसी दवाओं की बिक्री और वितरण पर रोक लगा दी थी, जिसके खिलाफ दवा कंपनियां हाईकोर्ट सुप्रीम कोर्ट गई थी। दिसंबर 2017 में सुप्रीम कोर्ट के आए आदेश के बाद दवा तकनीकी सलाहकार बोर्ड ने मामले की समीक्षा की और केंद्र को अपनी रिपोर्ट सौंपी। https://www.kanvkanv.com

हेल्थ

निकालना था पेट, डाक्टर से बोला मरीज, साहब प्लीज एक बार बिरयानी खा लेने दो

Published

on

नयी दिल्ली। दुबई के रहने वाले पेशे से इंजीनियर गुलाम अब्बास के पैरों तले जमान खिसक गई जब पता चला कि उन्हें पेट का कैंसर है। डॉक्टर ने कहा कि कैंसर तीसरे स्टेज में पहुंच चुका है, इसलिए सर्जरी कर उनका पेट निकालना होगा।डॉक्टर ने सलाह दी कि वो अपना पेट निकलवाएं, नहीं तो उन्हें जिंदगी से हाथ धोना पड़ेगा।

दरअसल दुबई में रहने वाले अब्बास की एक दिन तबियत बिगड़ने लगी। उल्टी हुई, कुछ दिनों बाद तेजी से वजन भी घटने लगा। अब्बास जब डॉक्टर के पास गए तो पता चला कि उनके पेट में कैंसर की गांठ है। थर्ड स्टेज का स्टमक कैंसर होने के कारण उनका पेट निकलवाना जरूरी हो गया था। अब्बास दो छोटे-छोटे बच्चों के पिता हैं। उनकी देखभाल करने के लिए उनका जीना बहुत जरूरी था, इसलिए सर्जरी की तैयरियां करवाई गई।

पेट निकालने के बाद डाक्टरों ने बताया

लेकिन इसके पहले अब्बास ने अपना पसंदीदा डिश खाने की इच्छा जाहिर की। पसंदीदा डिश खिलाने के लिए अब्बास की पत्नी ने तत्काल बिरयानी तैयार की और उनके भाई उसे लेकर अस्पताल पहुंचे, जहां अब्बास ने जीभर कर बिरयानी खाई। आप सोच रहे होंगे कि पेट निकलवाने के बाद जिंदा कैसे रहेंगे तो आपको बता दें असल में पेट निकलने का मतलब यह नहीं है कि अब्बास खाना नहीं खाएंगे, वह थोड़ा और बिना मसाले वाला खाना खा सकते हैं।

एक कंसल्टेंट लैप्रोस्कोपिक सर्जन डॉ. अल मर्जोकी ने कहा, ‘पेट का मुख्य काम खाने का संग्रहण और उसे टुकड़ों में बांटकर धीरे-धीरे आंतों में भेजना है। अगर किसी के शरीर में पेट न हो तो वह थोड़ा-थोड़ा खाना खा सकता है जो सीधे गले से होते हुए छोटी आंत में पहुंच जाएगा। इस तरह अब्बास भी जल्दी ही भोजन करने लगेंगे, हालांकि अभी उन्हें लिक्व‍िड डाइट दिया जा रहा है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

हेल्थ

पीते हैं खाली पेट चाय तो हो जाएं सावधान, ये नुकसान डरा सकते हैं आपको

Published

on

नयी दिल्ली। चाय पीने वाले अब सर्तक हो जाएं। चाय आपके दिनभर की थकान को दूर करती होगी लेकिन एक अध्ययन की माने तो यह अापके लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है। यह गौर करने की बात है कि भारत की 80 से 90 फीसदी जनता बेड टी की शौकीन है। यह शौक आपको खतरे में डाल सकती है। हां, आप चाहें तो सुबह उठकर कुछ हल्का-फुल्का खाने के बाद चाय ले सकते हैं। इसके अलावा अगर आप बहुत अधिक चाय पीते हैं तो भी आपको सावधान हो जाने की जरूरत है। इससे पेट की अंदरुनी सतह को नुकसान हो सकता है।

सुबह उठकर खाली पेट चाय पीने के नुकसान

  1. सुबह उठकर खाली पेट चाय पीने से बाइल जूस की प्रक्रिया अनियमित हो जाती है. जिसके चलते आपको मिचली आ सकती है और घबराहट महसूस हो सकती है.
  2. आमतौर पर ब्लैक टी को सेहतमंद माना जाता है लेकिन बहुत अधिक ब्लैक टी पीना सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है. सामान्य तौर पर माना जाता है कि ब्लैक टी पीने से वजन कम होता है लेकिन ब्लैक टी पीने से पेट फूल जाता है और भूख नहीं लगती है.
  3. आमतौर पर लोग दूध वाली चाय पीना पसंद करते हैं. पर कम ही लोगों को पता होगा कि खाली पेट दूध वाली चाय पीने से जल्दी थकान महसूस होती है. साथ ही व्यवहार में भी चिड़चिड़ापन आ जाता है.
  4. अगर आप भी उन लोगों में से हैं जिन्हें स्ट्रांग टी पीना अच्छा लगता है तो संभल जाइए. ज्यादा स्ट्रांग चाय पीने वालों को अल्सर होने का खतरा रहता है. इससे पेट की अंदरुनी सतह में जख्म हो जाने की आशंका बढ़ जाती है.
  5. कई लोग एक ही बार ज्यादा चाय बना लेते हैं और उसे बार-बार गर्म करके पीते रहते हैं. बार-बार गर्म करके चाय पीना खतरनाक हो सकता है. https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

हेल्थ

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना ‘आयुष्मान’ का पीएम मोदी ने किया शुभारम्भ, मिलेंगी ये सुविधाएं

Published

on

संतोष राज पाण्डेय

राँची। पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ योजना प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना- आयुष्मान भारत को देश को समर्पित किया। झारखंड की राजधानी रांची से इस आयोजन की शुरुआत करते हुए मोदी ने कहा कि इस योजना के तहत अब गरीबों को भी धनी लोगों की तरह स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी। इस अवसर पर पीएम ने देश की पुरानी सरकारों को भी कोसा और कहा कि उन्होंने केवल गरीबों के नाम पर राजनीति की। रांची में पीएम मोदी द्वारा आयुष्मान भारत योजना के उद्घाटन के मौके पर सीएम रघुवर दास, स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, केंद्रीय उड्डयन राज्य मंत्री जयंस सिन्हा समेत अन्य लोग भी मौजूद रहे।

गोल्डेन ई-कार्ड प्रदान किया

इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने पांच लोगों मंजू हेम्ब्रम, रुबी परवीन, चंदन कुमार राम, मुकेश कुमार और पूनम देवी को गोल्डेन ई-कार्ड प्रदान किया. इस मौके पर प्रधानमंत्री  ने कहा कि -नागरिक अस्वस्थ हो, तो राष्ट्र सशक्त नहीं हो सकता । नरेंद्र मोदी  ने  कहा कि देश मे 82 नए मेडिकल कॉलेज बनाये  जा रहे हैं. सरकार का जोर है कि तीन-चार संसदीय सीटों के बीच में कम से कम एक मेडिकल कॉलेज जरूर हो. कोडरमा और चाईबासा में बनने वाले मेडिकल कॉलेजों में 400 बेड की सुविधा बढ़ने वाली है. -लाखों, डॉक्टर, नर्स, फार्मासिस्ट और दवा दुकानदारों के लिए बड़ा अवसर देगा आयुष्मान भारत -नवजात बच्चों का जीवन बचाने से जुड़े आंकड़े हों या प्रसूता का जीवन बचाने के, भारत स्वस्थ भारत बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है. राष्ट्रीय पोषण मिशन जैसी योजना शुरू की है, ताकि बच्चों को कुपोषित होने से बचाया जा सके. मेडिकल फील्ड में रिसर्च को बढ़ावा दिया जा रहा है. -आयुष्मान भारत की वजह से आने वाले तीन वर्षों में 2500 नये आधुनिक अस्पताल बनने की उम्मीद है. इनमें से अधिकतर अस्पताल छोटे शहरों में बनेंगे, जिसका लाभ मध्यम वर्गीय परिवारों को मिलेगा. उनके लिए रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे. -हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स में छोटी बीमारियों का इलाज होगा. गंभीर बीमारियों की पहचान यहीं हो जायेगी. आपको यहां मुफ्त इलाज तो मिलेगा ही, दवाइयां भी मुफ्त मिलेंगी. –

इलाज कराने में पूरा सहयोग

यदि आप राज्य से बाहर कहीं जा रहे हैं और बीमार पड़ गये, तो इस योजना का लाभ दूसरे राज्य में भी ले सकेंगे. देश के 13 हजार से अधिक अस्पताल से इस योजना से जुड़ चुके हैं. और भी अस्पताल आने वाले दिनों में जुड़ेंगे, जो अस्पताल अच्छी सेवाएं देंगे, विशेषतौर पर गांव के अस्पताल, उन्हें सरकार की ओर से मदद भी दी जायेगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना का लक्ष्य आर्थिक सुविधा देने का तो है ही, साथ में ऐसी व्यवस्था भी खड़ी की जा रही है, ताकि आपको घर के बाहर भी इलाज की उत्तम सुविधा उपलब्ध हो. -दो और बड़े सहायक आपके साथ होंगे. आशा और एएनएम बहनें हर अस्पताल में आपकी मदद के लिए तैनात रहेंगे प्रधानमंत्री आरोग्य मित्र. ये आपका इलाज कराने में पूरा सहयोग करेंगे. प्रधानमंत्री ने इस मौके पर कहा कि देश को आयुष्मान बनाने में जुटे ये समर्पित साथी एक-एक जानकारी लोगों को देंगे. -देश के सभी लाभार्थियों को इसका लाभ मिले, इसके लिए प्रभावी इंतजाम किये गये हैं. आपको इलाज के लिए भटकना न पड़े, इसको ध्यान में रखते हुए व्यवस्था बनायी गयी है. सब कुछ तकनीक के माध्यम से नि:शुल्क करने का प्रयास किया गया है. कोई जरूरतमंद छूट न जाये, इसकी समीक्षा निरंतर चल रही है. प्रधानमंत्री ने स्पष्ट किया कि योजना के लिए किसी तरह के रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं है. आपका ई-कार्ड ही काफी है. आपसे जुड़ी सारी जानकारी इस कार्ड में है. अब आपको किसी कागजी कार्रवाई के फेरे में पड़ने की जरूरत नहीं है. इसके अलावा एक टेलीफोन नंबर (14555) पर आप योजना से जुड़ी सारी जानकारी ले सकते हैं. इस नंबर को याद कर लीजिये. आप जान सकते हैं कि आप इसके हकदार हैं या नहीं. आपको इसका लाभ कैसे मिलेगा. अपने नजदीकी कॉमन सर्वस सेंटर से भी आप यह पूरी जानकारी ले सकते हैं. –

सबका साथ, सबका विकास हमारा मूलमंत्र

प्रधानमंत्री ने बताया कि कैंसर, दिल की बीमारी, किडनी और लीवर की बीमारी, डायबिटीज समेत 1300 बीमारियों का इलाज देश के बड़े से बड़े अस्पताल में करा सकेंगे. इसमें अस्पताल में भर्ती होने से लेकर इलाज पूरा होने तक का खर्च शामिल होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश मे जाति, संप्रदाय, ऊंच-नीच के भेदभाव के आधार पर आयुष्मान भारत योजना का क्रियान्वयन नहीं होगा. सबका साथ, सबका विकास हमारा मूलमंत्र है. सबको इस योजना का लाभ मिलेगा. किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं किया जायेगा. यही है सबका साथ, सबका विकास. प्रधानमंत्री ने पिछली सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अब तक की सरकारों ने समाज की ताकत बढ़ाने की बजाय राजनीतिक ताकत बढ़ाने के लिए सरकारी खजानों का इस्तेमाल किया. सरकारी खजानों को बेतहासा लूटा गया. -गरीब का अपना घर होता है, बैंक में खाता खुलता है, टीकाकरण होता है, पोषण मिशन का लाभ मिलता है, गैस और चूल्हा मिलता है, तो उसका स्वाभिमान बढ़ जाता है. एशियन गेम्स में गोल्ड लाने वाले कौन थे. छोटे घरों में, गरीबी में पले-बढ़े परिवार के बच्चों ने हिंदुस्तान का नाम रोशन किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत में किसी के इलाज पर 100 रुपये खर्च हों, तो परिवार पर 60 रुपये का बोझ पड़ता है. कमाई का ज्यादातर हिस्सा ऐसे ही खर्च होने की वजह से हर साल लाखों लोग गरीबी से बाहर निकलने की कगार पर होते हैं, लेकिन एक बीमारी उन्हें फिर गरीबी के गर्त में धकेल देती है. इस स्थिति को बदलने के लिए हमारी सरकार यह योजना लायी है. गरीबी हटाओ के नारे देश की आजादी के बाद से सुन रहे हैं. गरीबों की आंख में धूल झोंकने वाले, गरीबों के नाम की माला जपने वाले लोगों ने यदि 30-40 या 50 साल पहले गरीबों के नाम पर राजनीति करने की बजाय गरीबों के सशक्तिकरण पर बल देते, तो आज जो हिंदुस्तान है, वैसा नहीं होता. उन्होंने गरीबों के बारे में यही सोचा कि गरीब कुछ न कुछ मांगता है. गरीब को कुछ मुफ्त में दे दो, उसे चाहिए. यही उनकी सबसे बड़ी गलत सोच थी.

पांच करोड़ परिवार गरीबी से बाहर

प्रधानमंत्री ने कहा कि गरीब जितना स्वाभिमानी होता है, शायद उनके स्वाभिमान को मापने के लिए आपके पास कोई तराजू नहीं है. मैंने गरीबी को जिया है. मैंने गरीबों के भीतर के स्वाभिमान को जी-भरकर जिया है. वही स्वाभिमान है, जो गरीबी से जूझने की ताकत देता है, गरीबी की हालत में जीने की ताकत देता है, लेकिन उनके स्वाभिमान को समझने की कभी कोशिश नहीं हुई. इसलिए हर चुनाव में टुकड़े फेंको, अपना राजनीतिक उल्लू सीधा कर लो. यही खेल चल रहा है. हमने बीमारी की जड़ को पकड़ा है. देश गरीबी से निकलने की ओर तेजी से आगे बढ़ रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि  पिछले दिनों एक अंतरराष्ट्रीय संस्था ने कहा कि कुछ ही दिनों में पांच करोड़ परिवार गरीबी से बाहर आ गये. यह संभव हुआ, क्योंकि हमने गरीबों के सशक्तीकरण पर बल दिया.प्रधानमंत्री ने कहा कि बेहतर इलाज कुछ लोगों तक सीमित न रहे. सबको समान चिकित्सा सुविधा मिले. इस उद्देश्य के साथ यह योजना देश को समर्पित कर रहे हैं. -बीमार पड़ने पर अमीर जिस सुविधा का उपभोग करते हैं, जो चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध हैं, अब देश के गरीब को भी वही सुविधाएं उपलब्ध होंगी. अगर कभी मुसीबत आयी, तो आयुष्मान भारत आपकी सेवा में समर्पित है. 50 करोड़ गरीबों का आशीर्वाद इस टीम को मिलने वाला है. जब इतना आशीर्वाद मिलेगा, तो यह टीम इस योजना को सफल बनाने में जी-जान से जुट जायेगी. देश को यशस्वी बनायेंगे. इस योजना को यशस्वी बनायेंगे. इस योजना से

 किसी भी देश में नहीं चल रही इतनी बड़ी योजना

50 करोड़ लोग जुड़े, 13000 अस्पताल इस योजना से जुड़े. आयुष्मान भारत योजना से जुड़ी पूरी टीम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंच से बधाई दी. उन्होंने कहा कि
प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना को हर कोई अपनी-अपनी कल्पना के अनुसार नाम दे रहा है. कोई इसे मोदीकेयर कह रहा है, तो कोई गरीबों की योजना बता रहा है. इसे लोग अलग-अलग नाम दे रहे हैं, लेकिन मेरे लिए यह दरिद्रनारायण की सेवा करने का एक अवसर है. गरीब की सेवा करने का इससे बड़ा कोई कार्यक्रम नहीं हो सकता. अभियान नहीं हो सकता. देश के 50 करोड़ से अधिक भाई-बहनों को पांच लाख रुपये तक का हेल्थ इंश्योरेंस देने वाली यह दुनिया की अपनी तरह की सबसे बड़ी योजना है. -पूरी दुनिया में सरकारी पैसे से इतनी बड़ी योजना किसी भी देश में नहीं चल रही. इस योजना के लाभार्थियोंदुनिया भर में इस योजना की चर्चा है. उसकी तारीफ हो रही है. आने वाले दिनों में मेडिकल क्षेत्र में काम करने वाले लोग आरोग्य से जुड़ी विभिन्न योजनाओं, आधुनिक चिकित्सा की चर्चा करने वाले लोग इसकी चर्चा करेंगे. -छह महीने के भीतर दुनिया की सबसे बड़ी योजना की कल्पना से लेकर उसे पूरा करने तक की यात्रा हमारी टीम ने पूरी की है.

सर्वे भवन्तु सुखमय, सर्वे संतु निरामया

प्रधानमंत्री ने कहा कि  पूरा यूरोपियन यूनियन (27-28 देश) की जितनी आबादी है, उतने लोग भारत में इस योजना का लाभ लेंगे. पूरे अमेरिका की जनसंख्या, पूरे कनाडा, मैक्सिको की जनसंख्या को मिला लें, तो उससे भी ज्यादा लोगों को इस योजना का लाभ होने वाला है. -आज मैं यहां झारखंड में विकास की गति को बढ़ावा देने के लिए नहीं. हमारे ऋषियों-मुनियों के सपनों, हर परिवार के सपनों को पूरा करने के लिए आज यहां एकजुट हुए हैं. सर्वे भवन्तु सुखमय, सर्वे संतु निरामया. इस सपने को हमें इसी सदी में पूरा करना है और उसका आज आरंभ हो रहा है. समाज की आखिरी पंक्ति में जो इंसान खड़ा है, गरीब से गरीब को स्वास्थ्य की बेहतरीन सुविधा मिले, उस सपने को साकार का अहम कदम बिरसा मुंडा की धरती से उठाया जा रहा है. आज पूरे हिंदुस्तान का ध्यान रांची की धरती पर है. प्रधानमंत्री ने बताया कि
देश के 400 से अधिक जिलों में ऐसा ही बड़ा समारोह चल रहा है. वहां से सभी लोग इस रांची के भव्य समारोह को देख रहे हैं और वे भी इसके बाद वहां इसी कार्यक्रम को आगे बढ़ाने वाले हैं. आज यहां मुझे दो मेडिकल कॉलेज प्रारंभ करने का भी अवसर मिला. हमारे मुख्यमंत्री बता रहे थे कि आजादी के 70 साल में तीन मेडिकल कॉलेज मिले. और चार साल में 8 मेडिकल कॉलेज 1200 विद्यार्थी. काम कैसे होता है, कितने व्यापक पैमाने पर होता है, कितनी तेज गति से होता है, इसका मैं नहीं मानता कि इससे बड़ा उदाहरण ढूंढ़ने की किसी को जरूरत है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
हेल्थ4 hours ago

निकालना था पेट, डाक्टर से बोला मरीज, साहब प्लीज एक बार बिरयानी खा लेने दो

खेल4 hours ago

सायना नेहवाल इस खिलाड़ी से करने जा रहीं शादी, डेट फाइनल, 10 साल से है अफेयर

टेक्नोलॉजी4 hours ago

वोडाफोन और आइडिया के ग्राहकों को मिलेगा कैशबैक, कंपनी तैयार कर रही शानदार प्लान

देश4 hours ago

वीडियो : बिहार में बढ़ रहे अपराधों को लेकर पप्पू यादव ने सरकार को घेरा, उठाए कई सवाल

दुनिया4 hours ago

राफेल करार दो सरकारों के बीच का था सौदा, तब मैं राष्ट्रपति नहीं था : एमैनुएल मैक्रों

राज्य5 hours ago

बरेली : सपा के पूर्व सांसद ने दिया भड़काऊ बयान, दारोगा ने दर्ज कराया मुकदमा

देश6 hours ago

एक और बाबा की दरिंदगी बेनकाब, छात्राओं का आरोप, हर रोज कमरे में भेजी जाती थी एक लड़की

मनोरंजन6 hours ago

नाना पाटकेर पर अभिनेत्री ने लगाया यौन उत्‍पीड़न का अारोप, कहा-हीरोइनों को सेट पर पीटते भी थे

देश7 hours ago

एससी/एसटी को प्रमोशन में आरक्षण दे सकती हैं राज्य सरकारें : सुप्रीम कोर्ट

राज्य7 hours ago

1986 से अब तक AK-47 की गोलियों से दहलता रहा है मुजफ्फरपुर

देश8 hours ago

बैंक अकाउंट, मोबाइल नंबर के लिए जरूरी नहीं आधार, पढ़ें सुप्रीम कोर्ट के फैसले की 10 बड़ी बातें

राज्य22 hours ago

कन्नौज : कांग्रेसियों ने रामधुन गाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर किया माल्यापर्ण

राज्य22 hours ago

कन्नौज : जब बेटियां नहीं होंगी तो दुनिया होगी वीरान : डा. सविता

राज्य22 hours ago

लखीमपुर-खीरी में फरियादी की हालत देख द्रवित हुए डीएम, शिकायत सुनने से पहले किया ये काम

राज्य23 hours ago

कन्नौज : महिला मोर्चा की कार्यकारिणी घोषित

राज्य23 hours ago

कन्नौज : स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम को लेकर भाजयुमो की बैठक

राज्य23 hours ago

कन्नौज : जिला जेल के संयुक्त निरीक्षण में बंदियों के भोजन और स्वास्थ्य पर जोर

राज्य23 hours ago

कन्नौज : विकलांग बोर्ड की हर बैठक में अब उपलब्ध होंगे मतदाता पंजीकरण फार्म

देश3 weeks ago

विधायक की होने वाली दुल्हनिया प्रेमी संग फरार, शादी में सीएम व डिप्टी सीएम थे आमंत्रित

राज्य1 week ago

मेरा किसी से बुआ-भतीजे का रिश्ता नहीं, सम्मानजक सीटें मिलीं तभी गठबंधन : मायावती

राज्य2 weeks ago

शिवपाल यादव ने जारी 9 प्रवक्ताओं की लिस्ट, अखिलेश सरकार के मंत्रिमंडल में रहे दो बड़े चेहरे भी शामिल

राज्य4 weeks ago

समाजवादी पार्टी प्रवक्ता पंखुड़ी पाठक ने छोड़ी पार्टी, बोलीं-अब सपा में दम घुटता है, थामेंगी ‘हाथ’!

राज्य4 weeks ago

शिवपाल का एेलान, UP की सभी 80 सीटों पर सेक्युलर मोर्चा लड़ेगा चुनाव, इस सीट से खुद लड़ेंगे चुनाव!

देश4 weeks ago

आखिरकार शिवपाल यादव ने बनाई नई पार्टी, दिया ये नाम, कहा-मुलायम भी आएंगे साथ

लाइफ स्टाइल3 weeks ago

देश के इस राज्य में किराए पर एक साल के लिए मिलती हैं मनपसंद बीवियां

हेल्थ3 weeks ago

रोजाना सुबह खाली पेट खाएं 4 बादाम, जड़ से खत्‍म हो जाएंगे ये 7 रोग

राज्य2 days ago

मुलायम सिंह यादव बने दादा, छोटी बहू ने बेटी को दिया जन्‍म

देश3 weeks ago

महिला आईआरएस अफसर सुसाइड केस में खुलासा, आईएएस पति नौकरानी से भी बनाता था संबंध

राज्य3 weeks ago

दीनानगर : कैबिनेट मंत्री के सुरक्षाकर्मी राकेश कुमार को मिली तरक्की, बनाये गए एएसआई

देश4 weeks ago

देश के इस राज्य में शादी के बाद महिला को 5 दिन तक रहना पड़ता है बिना कपड़ों के

राज्य2 weeks ago

सीवान में तीन दिन से लापता युवक की हत्या, आक्रोशित लोगों ने बड़हरिया थाने को घेरा

देश2 weeks ago

कभी ‘CM मोदी’ ने मुस्लिम टोपी पहनने से किया था मना, अब ‘PM मोदी’ ने मस्जिद में ओढ़ी शॉल, चूमी तसबीह

देश1 week ago

बाबा रामदेव बोले-नहीं करूंगा मोदी का प्रचार, 40 रुपये लीटर पेट्रोल-डीजल बेचने को मांगी इजाजत

देश2 weeks ago

नया खुलासा : पति की प्रेमिका की ‘आत्मा’ करती थी परेशान, पढ़ें सुसाइड नोट की हैरान करने वाली बातेें

देश4 weeks ago

मिशन-2019 : दिल्ली में PM के नेतृत्व में मंथन जारी, ये 5 CM तय करेंगे मोदी की सत्ता में वापसी

राज्य3 days ago

योगी आदित्यनाथ के गढ़ में शोहदों का आतंक, गोरखपुर का इंटर कॉलेज बंद

Trending