अमेरिका में किशोरों को लगेगी फायजर की वैक्सीन

कोरोना महामारी की जंग में फाइजर बायोटेक की कोरोना वैक्सीन अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) से पूर्ण स्वीकृति पाने वाली पहली वैक्सीन बन गई है। 
 
pfizer's vaccine
फाइजर बायोटेक

वाशिंगटन। कोरोना महामारी की जंग में फाइजर बायोटेक की कोरोना वैक्सीन अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) से पूर्ण स्वीकृति पाने वाली पहली वैक्सीन बन गई है। 

अब यह वैक्सीन 16 साल से ऊपर के लोगों को लगाई जाएगी। इसके अलावा यह 12 से 15 वर्ष के लोगों के लिए भी इमरजेंसी में इस्तेमाल हो सकेगी। वहीं कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्तियों के लिए इसका इमरजेंसी में भी इस्तेमाल किया जा सकेगा।

एफडीए से इस वैक्सीन को अप्रूवल मिलने पर एफडीए कमिश्नर जैनेट वुडकॉक ने कहा कि यह बड़ी बात है। कोविड-19 महामारी से लड़ाई में यह एक अहम हथियार साबित होगा। उन्होंने कहा कि एफडीए से अप्रूवल मिलने के चलते लोगों को पूरा भरोसा रहेगा कि यह एक स्टैंडर्ड दवा है।