Connect with us

हेल्थ

मानसून में ऐसे रखें पैरों का ख्याल, अपनाएं ये घरेलू उपाय

Published

on

नई दिल्ली। मानसून सीजन में कीचड़ से सने रास्तों, पानी से लबालब गलियों, आद्र्रता भरे ठंडे वातावरण तथा सीलन में पैरों को काफी झेलना पड़ता है। जूतों के चिपचिपे होने के कारण पैरों में दाद, खाज, खुजली तथा लाल चकत्ते पड़ जाते हैं। सौंदर्य विशेषज्ञ शहनाज हुसैन ने कहा कि मानसून के सीजन में पैरों के देखभाल की अत्याधिक आवश्यकता होती है। आप कुछ साधारण सावधानियों तथा आयुर्वेदिक उपचारों से पांव तथा उंगलियों के संक्रमण से होने वाले रोगों से बच सकते हैं।

पसीने की समस्या आम

मानसून के मौसम में अत्याधिक आद्र्रता तथा पसीने की समस्या आम देखने में मिलती है। इस मौसम में पैरों के इर्द-गिर्द के क्षेत्र में संक्रमण पैदा होता है, जिससे दरुगध पैदा होती है। हर्बल क्वीन के नाम से मशहूर शहनाज ने कहा कि पसीने के साथ निकलने वाले गंदे द्रव्यों को प्रतिदिन धोकर साफ करना जरूरी होता है, ताकि दरुगध को रोका जा सके और पैर ताजगी तथा स्वच्छता का एहसास कर सकें। उन्होंने कहा कि सुबह नहाते समय पैरों की स्वच्छता पर विशेष ध्यान देना चाहिए। पैरों को धोने के बाद उन्हें अच्छी तरह सूखने दें तथा उसके बाद पैरों की उंगलियों के बीच टैलकम पाउडर का छिड़काव करें।

जूतों के अंदर टेलकम पाउडर का छिड़काव कीजिए

शहनाज ने कहा कि अगर आप बंद जूते पहनते हैं तो जूतों के अंदर टेलकम पाउडर का छिड़काव कीजिए। बरसात के मौसम के दौरान स्लिपर तथा खुले सैंडिल पहनना ज्यादा उपयोगी होता है, क्योंकि इससे पांवों में हवा लगती रहती है तथा पसीने को सूखने में भी मदद मिलती है, लेकिन खुले फुटवियर की वजह से पैरों पर गंदगी तथा धूल जम जाती है, जिससे पांवों की स्वच्छता पर असर पड़ता है।

त्वचा विशेषज्ञ से सलाह लीजिए

शहनाज ने कहा कि दिनभर की थकान के बाद घर पहुंचने पर ठंडे पानी में थोड़ा सा नमक डालकर पांवों को अच्छी तरह भिगोइए तथा उसके बाद पांवों को खुले स्थान में सूखने दीजिए। बरसात के गर्म तथा आद्र्रता भरे मौसम में पांवों की गीली त्वचा की वजह से ‘एथलीट फूट’ नामक बीमारी पांवों को घेर लेती है। उन्होंने कहा कि यदि प्रारंभिक तौर पर इसकी उपेक्षा हो तो यह पांवों में दाद, खाज, खुजली जैसी गंभीर परेशानियों का कारण बन जाती है। यह बीमारी फंगस संक्रमण की वजह से पैदा होती है। इसलिए अगर उंगलियों में तेज खारिश पैदा हो रही हो, तो तत्काल त्वचा विशेषज्ञ से सलाह लीजिए।

मानसून में पांवों की देखभाल के लिए घरेलू उपचार :

फूट सोक : बाल्टी में एक चौथाई गर्म पानी, आधा कप खुरखुरा नमक, दस बूंदे नीबू रस या संतरे का सुंगधित तेल डालिए। यदि आपके पांव में ज्यादा पसीना निकलता है तो कुछ बूंदें टी-ऑयल को मिला लीजिए, क्योंकि इसमें रोगाणु रोधक तत्व मौजूद होते हैं तथा यह पांव की बदबू को दूर करने में मदद करती है। इस मिश्रण में 10-15 मिनट तक पांवों को भिगोकर बाद में सुखा लीजिए।

फूट लोशन : 3 चम्मच गुलाब जल, 2 चम्मच नींबू जूस तथा एक चम्मच शुद्ध ग्लिसरीन का मिश्रण तैयार करके इसे पांव पर आधा घंटा तक लगाने के बाद पांव को ताजे साफ पानी से धोने के बाद सुखा लीजिए।

ड्राइनेस फूट केयर : एक बाल्टी के चौथाई हिस्से तक ठंडा पानी भरिए तथा इस पानी में दो चम्मच शहद एक चम्मच हर्बल शैम्पू, एक चम्मच बादाम तेल मिलाकर इस मिश्रण में 20 मिनट तक पांव भिगोइए तथा बाद में पांव को ताजे स्वच्छ पानी से धोकर सुखा लीजिए।

कुलिंग मसाज आयल : 100 मिली लीटर जैतून तेल, 2 बूंद नीलगरी तेल, 2 चम्मच रोजमेरी तेल, 3 चम्मच खस या गुलाब का तेल मिलाकर इस मिश्रण को एयरटाइट गिलास जार में डाल लीजिए। इस मिश्रण को प्रतिदिन पांव की मसाज में प्रयोग कीजिए। इससे पांवों को ठंडक मिलेगी और यह त्वचा को सुरक्षा प्रदान करके इसे स्वस्थ्य रखेगा। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हेल्थ

भुने लहसुन की एक कली खाने से होते हैं ये 10 फायदे, आप भी जानें

Published

on

लहसुन गुणों का भंडार है, इसके खाने से कई फायदे होते हैं। एक रिसर्च के मुताबिक भुना हुआ लहसुन खाने से मोटापा और डायबिटीज़ सहित कई बीमारियों को कंट्रोल में रखता है।

 हम सभी जानते हैं कि लहसुन खाना सेहत और दिल के लिए कितना लाभकारी होता है. अगर रोज सुबह खाली पेट गुनगुने पानी से एक कली लहसुन की खाई जाए तो इससे कई स्वास्थ्य संबंधी फायदे मिलते हैं. सबसे ज्यादा तो इससे पाचन क्रिया बेहतर होती है. आज हम आपको बताने जा रहे हैं भुने लहसुन के फायदे, जिसे आपको खाना खाने से पहले खाना है. जानिए.

लहसुन अगर रोज सुबह खाली पेट गुनगुने पानी से एक कली लहसुन की खाई जाए तो इससे कई स्वास्थ्य संबंधी फायदे मिलते हैं. सबसे ज्यादा तो इससे पाचन क्रिया बेहतर होती है. आज हम आपको बताने जा रहे हैं भुने लहसुन के फायदे, जिसे आपको खाना खाने से पहले खाना है. जानिए.

 जिन लोगों को डायबिटीज़ और मोटापे की समस्या है उनके लिए भुना लहसुन काफी अच्छा होता है.

जिन लोगों को डायबिटीज़ और मोटापे की समस्या है उनके लिए भुना लहसुन काफी अच्छा होता है.

 भुना लहसुन की एक कली अगर आप खाना खाने से 20 मिनट पहले खा लें तो इससे दिल फिट रहता है. लहसुन में ऐसे तत्व होते हैं जो शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ावा देते हैं.

भुना लहसुन की एक कली अगर आप खाना खाने से 20 मिनट पहले खा लें तो इससे दिल फिट रहता है. लहसुन में ऐसे तत्व होते हैं जो शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ावा देते हैं.

 लहसुन खाने से बुरा कोलेस्ट्रॉल शरीर से खत्म होता है और आप फिट रह पाते हैं.

लहसुन खाने से बुरा कोलेस्ट्रॉल शरीर से खत्म होता है और आप फिट रह पाते हैं.

 लहसुन शरीर में प्रतिरोधी श्रमता को बढ़ावा देता है. ये कैंसर जैसी गंभीर समस्या से लड़ने में कारगर है.

लहसुन शरीर में प्रतिरोधी श्रमता को बढ़ावा देता है. ये कैंसर जैसी गंभीर समस्या से लड़ने में कारगर है.

 भुना लहसुन खाने से हड्डियां मजबूत होती हैं.

भुना लहसुन खाने से हड्डियां मजबूत होती हैं.

 लहसुन एंटी-एजिंग का काम करता है. यानी एजिंग प्रोसेस को स्लो करने में मदद करता है.

लहसुन एंटी-एजिंग का काम करता है. यानी एजिंग प्रोसेस को स्लो करने में मदद करता है.

 रात में सोने से पहले अगर आप एक कली भुना लहसुन अपनी डाइट में शामिल करते हैं तो इससे यूरीन के माध्यम से शरीर में मौजूद जहरीले पदार्थ निकलते हैं.

रात में सोने से पहले अगर आप एक कली भुना लहसुन अपनी डाइट में शामिल करते हैं तो इससे यूरीन के माध्यम से शरीर में मौजूद जहरीले पदार्थ निकलते हैं.

 जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या रहती है उन्हें अपनी डाइट में लहसुन की दो कली शामिल करनी चाहिए.

जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या रहती है उन्हें अपनी डाइट में लहसुन की दो कली शामिल करनी चाहिए.

 जो लोग वजन कम करना चाहते हैं उनके लिए भुना लहसुन रामबाण की तरह है. ये मेटाबॉलिज्म तेज करने में कारगर है.

जो लोग वजन कम करना चाहते हैं उनके लिए भुना लहसुन रामबाण की तरह है. ये मेटाबॉलिज्म तेज करने में कारगर है.

सेक्‍स हार्मोन बनाता है 

लहसुन में ऐलीसिन नाम का पदार्थ होता है जो पुरुषों के मेल हार्मोन यानी सेक्‍स हार्मोन के स्‍तर को ठीक रखता है। इससे पुरुषों में इरेक्‍टाइल डिस्‍फंक्‍शन दूर होता है। वहीं लहसुन में सेलेनियम और भारी मात्रा में विटामिन पाए जाते हैं जिससे स्‍पर्म क्‍वालिटी बढ़ती है।

दांत दर्द में कारगर 

भुने लहसुन के सेवन से दांतों के दर्द में आराम मिलता है। दांतों में दर्द होने पर लहसुन को पीसकर दांतों पर रख लें, इससे तुंरत आराम मिलेगा। लहसुन के एंटी – बैक्‍टीरियल तत्‍व दांतों के दर्द को दूर करते हैं। दांत में दर्द के लिए लहसुन को कच्‍चा भी पीसा जा सकता है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

हेल्थ

अब कैंसर से बचाएंगी ये सब्जियां, चूहों पर किया गया अध्ययन

Published

on

नयी दिल्ली।  गोभी या ब्रोकली जैसी हरी पत्तेदार सब्जियां खाने से आंत स्वस्थ रहते हैं और आंतों के कैंसर से बचाव होता है। एक नए अध्ययन में यह जानकारी दी गई है। चूहों पर किए गए अध्ययन से पता चला कि जिन्हें इन्डोल 3 कार्बिनोल (आई3सी) युक्त आहार दिया गया, उनमें आंत में सूजन या आंतों के कैंसर से बचाव हुआ। गोभी और ब्रोकली में भी आई3सी पाया जाता है, जो एक एक्रियल हाइडोकार्बन रिसेप्टर (एएचआर) नाम के प्रोटीन को सक्रिय करता है, जिससे आंतों के कैंसर से बचाव होता है।

एएचआर एक पर्यावरणीय सेंसर के रूप में काम करता है तथा प्रतिरक्षा थंत्र और आंतों की एपिथिलिएल कोशिकाओं को संकेत देता है कि सूजन से बचाव करने की कोशिश करें और आंत में पाए जाने वाले खरबों बैक्टीरिया से प्रतिरक्षा प्रदान करता है। शोध प्रमुख ब्रिटेन के फ्रांसिस क्रिक इंस्टीट्यूट की अमीना मेतीजी का कहना है, जब कैंसर ग्रस्त चूहों को आई3सी से भरपूर डायट खिलाया गया, तो उनमें ट्यूमर की संख्या में कमी देखी गई। यह शोध इम्युनिटी नाम के जर्नल में प्रकाशित किया गया है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

हेल्थ

देश की 75 फीसदी आबादी इस बीमारी की चपेट में, जानें कैसे आते हैं लोग चपेट में

Published

on

नई दिल्ली । देश में बहुत बड़ी आबादी न्यू वल्र्ड सिंड्रोम से प्रभावित है। न्यू वर्ल्ड सिंड्रोम कीटाणु या संक्रमण द्वारा होने वाली बीमारी नहीं बल्कि जीवनशैली व आहार संबंधी आदतों के कारण होने वाली बीमारियों का एक संयोजन है। न्यू वल्र्ड सिंड्रोम से प्रभावित लोग मोटापा, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, दिल संबंधी रोग आदि गैर-संक्रमणीय बीमारियों से पीड़ित होते हैं। हैदराबाद के सनशाइन अस्पताल के बरिएट्रिक और लैप्रोस्कोपिक सर्जन डॉ. वेणुगोपाल पारीक ने कहा कि न्यू वल्र्ड सिंड्रोम पारंपरिक आहार और जीवनशैली में आए बदलाव के कारण होने वाली बीमारी है। न्यू वल्र्ड सिंड्रोम के लिए पश्चिमी भोजन खासतौर पर जिम्मेदार है। ये सभी खाद्य पदार्थ वसा, नमक, चीनी, कार्बोहाइड्रेट और परिष्कृत स्टार्च मानव शरीर में जमा हो जाते हैं और मोटापे का कारण बनते हैं।

20 फीसदी स्कूल जाने वाले बच्चे मोटापे से ग्रस्त

मोटापे के कारण ही मधुमेह मेलिटस, उच्च रक्तचाप, कार्डियोवैस्कुलर रोग, स्तन कैंसर और डिस्प्लिडेमिया आदि बीमारियां होती हैं। भारत में करीब 70 फीसदी शहरी आबादी मोटापे या अधिक वजन की श्रेणी में आती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के अनुसार भारत में करीब 20 फीसदी स्कूल जाने वाले बच्चे मोटापे से ग्रस्त हैं।

प्रतिस्पर्धा व काम का दबाव वाली नौकरियों और आराम ने परंपरागत व्यवसायों व चलने (शारीरिक गतिविधि) की आदत को बदल दिया है। इसकी वजह से शारीरिक गतिविधि कम और मस्तिष्क संबंधी परिश्रम अधिक होता है, यह भी न्यू वल्र्ड सिंड्रोम का एक प्रमुख कारण बन गया है। नई दिल्ली स्थित प्राइमस अस्पताल के मिनीमल एक्सेस लैप्रोस्कोपिक एवं बरिएट्रिक सर्जन डॉ. रजत गोयल बताते हैं कि मोटापा ऐसी स्थिति है जहां पेट में अधिक वसा जमा हो जाती है। शरीर के बॉडी मास इंडेक्स के अनुसार, पुरुषों में 25 फीसदी वसा और महिलाओं में 30 फीसदी वसा का होना मोटापे की श्रेणी में आता है।

मधुमेह का खतरा

शरीर का वजन सामान्य से अधिक होने पर मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है। अनियंत्रित मधुमेह के कारण हाई ब्लड प्रेशर, दिल का दौरा, मस्तिष्क स्ट्रोक, अंधापन, किडनी फेल्योर व नर्वस सिस्टम को क्षति पहुंचने आदि जैसी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। अधिक वजन वाले लोगों में स्लीप एपनिया की गंभीर बीमारी हो सकती है, यह एक सांस संबंधी बीमारी है जिसमें नींद के दौरान सांस लेने की प्रक्रिया रुक जाती है। नींद की समस्या के अलावा उच्च रक्त चाप व हार्ट फेल्योर की समस्या हो सकती है। मोटापाग्रस्त व्यक्ति मंे गठिया की शिकायत भी हो सकती है।

गठिया जोड़ों को प्रभावित करता है। इसकी वजह से मरीज में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है जिसके कारण जोड़ों में दर्द व सूजन की शिकायत रहती है। बढ़े हुए बॉडी मास इंडेक्स के कारण शरीर में ट्राइग्लिसराइड्स और खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) का स्तर बढ़ जाता है। एलडीएल का उच्च स्तर और एचडीएल का निम्न स्तर एथेरोस्क्लेरोसिस नामक बीमारी का प्रमुख कारण होता हैं इसकी वजह से रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती और दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है। मोटापाग्रस्त व्यक्ति में जीवन भर कैंसर होने का खतरा बना रहता है। इनमें आंत, स्तन व ओसोफेंजियल कैंसर होने की संभावना ज्यादा रहती है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
राज्य8 mins ago

लखीमपुर-खीरी : नदी किनारे मिले लापता किशोरी के कपड़े और चप्पल

राज्य12 mins ago

लखीमपुर-खीरी : युवक ने तमंचे के बल पर की दलित किशोरी से रेप की कोशिश

राज्य17 mins ago

लखीमपुर-खीरी : दो घरों का ताला तोड़ चोरों ने पार किया बाइक सहित लाखों का माल

राज्य24 mins ago

नहीं गाने दिया था बच्चों को राष्ट्रगान, योगी सरकार ने रद्द की मदरसे की मान्यता

राज्य27 mins ago

बहराइच : शान्ति व्यवस्था के लिए सीडीओ, सीआरओ व एडीएम होंगे सुपर ज़ोनल मजिस्ट्रेट

राज्य34 mins ago

श्रावस्ती : पंचायत उपचुनाव से पहले खूनी संघर्ष, 10 लोग घायल

राज्य40 mins ago

देवी पाटन मंडल : श्रावण मास के अंतिम सोमवार को शिव मंदिरों में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

राज्य41 mins ago

गोपालगंज : पूर्व पार्षद ने की गोलीबारी, चाचा-भतीजा घायल, हालत गंभीर

राज्य48 mins ago

गोपालगंज : मुर्दाघाटी में मुर्दे नहीं अब दफ़न किये जाते हैं शराब

राज्य55 mins ago

कन्नौज : 25 हजार का इनामी बदमाश गिरफ्तार, लूट की घटनाओं से फैला रखा था दहशत

राज्य3 hours ago

बरेली : शहज़ादा-ए-हुज़ूर ताजुश्शरिया पढ़ाएंगे ईद-उल-अज़हा की नमाज़

राज्य3 hours ago

लखीमपुर-खीरी : सावन के आखिरी सोमवार को बाबा भूतनाथ मेले में उमड़ा भक्तों का जनसैलाब

राज्य3 hours ago

ब्राह्मण महासंघ गठन में सीतापुर और लखीमपुर के प्रभारी की नियुक्ति

राज्य3 hours ago

लखीमपुर-खीरी : बैलगाड़ी से टकराकर बाइक सवार युवक की मौत, एक घायल

राज्य3 hours ago

…तो क्या हिचकोले खाकर अम्बेडकरनगर में संचालित हो रही 108 सेवा

राज्य4 hours ago

बिहार : शौचालय न होने पर दुल्हन का ससुराल जाने से इनकार

बिज़नेस5 hours ago

लॉन्च हुआ Airtel का शानदार प्लान, सिर्फ 47 रुपये में मिल रहा बहुत कुछ

हेल्थ5 hours ago

भुने लहसुन की एक कली खाने से होते हैं ये 10 फायदे, आप भी जानें

राज्य3 days ago

सीवान : इलाज कराने गई युवती से डॉक्टर ने की अभद्रता, पुलिस कर रही मामले की जांच

राज्य2 weeks ago

पूर्व मंत्री लालजी वर्मा के शिक्षण संस्थान के गर्ल्स हॉस्टल पर छापा, चप्पे-चप्पे को खंगाला

राज्य2 weeks ago

देवरिया कांड पर सख्त हुए योगी, हटाए गए डीएम, जांच के लिए विशेष विमान से भेजे गए अधिकारी

राज्य1 week ago

यूपी : हनी ट्रैप से अमीरों को फंसाती थीं खूबसूरत युवतियां, फिर वसूलती थी मोटी रकम, गिरफ्तार

देश6 days ago

हो चुका है कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का विवाह, खुद किया खुलासा, जानें कौन है वो

दुनिया1 week ago

न सोने दिया जाता और ना खाना, एक हजार लोगों ने बनाया शिकार

देश2 weeks ago

मछली ने बदल दी दो भाइयों की किस्मत, 20 मिनट में बना दिया लखपति

राज्य1 week ago

यूपी : दाऊद ने बसपा विधायक को दी धमकी, कहा-एक गोली काफी है…..मांगा 1 करोड़, पढ़ें बातचीत

मनोरंजन2 weeks ago

फोटोज : करिश्मा ने फोटोशूट में ढाया कहर, बोल्डनेस की सारी हदें की पार, फैन बोले, आग लगा दी

देश1 week ago

अब पटना में भी ‘मुजफ्फरपुर कांड’, 2 लड़कियों की मौत, JDU नेता के साथ दिखी आरोपी मनीषा दयाल

देश4 days ago

नहीं रहेे भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, 93 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

राज्य2 weeks ago

लखीमपुर-खीरी : हर अभिभावक अपने बच्चों को खिलाएं एल्बेंडाजॉल : सीएमओ

राज्य2 weeks ago

अंबेडकरनगर : दुकान में सो रहे किराना व्यवसाई की हत्या, नकब लगाकर दिया घटना को अंजाम

राज्य8 hours ago

योगी आदित्यनाथ की बढ़ीं मुश्किलें, भड़काऊ भाषण मामले में सुप्रीम कोर्ट हुआ सख्त, दिया ये बड़ा आदेश

राज्य5 days ago

मुज़फ्फरपुर : जिला पार्षद सुजाता किंकर ने किया ध्वजारोहण, तीन सडकों का हुआ उद्घाटन

देश2 weeks ago

नहीं रहें दक्षिण की राजनीति के पितामह एम करुणानिधि, 94 वर्ष की उम्र में हुआ निधन

राज्य3 days ago

अनंत में विलीन हुए ‘अटल’, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम सस्कार, बेटी ने दी मुखाग्नि

देश2 weeks ago

मुजफ्फरपुर कांड के आरोपी ब्रजेश ठाकुर के मुंह पर पोती गई कालिख, चुनाव वाले बयान पर कांग्रेस ने दी सफाई

Trending