Connect with us

हेल्थ

स्वाइन फ्लू : जानें इसके लक्षण, ऐसे करें बचाव

Published

on

नई दिल्ली। स्वाइन फ्लू तेजी से पांव पसार रहा है। बदलते मौसम के चलते लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। स्वाइन फ्लू के नए-नए मरीज लगातार सामने आ रहे हैं। एक आकड़े पर नजर डाली जाए तो दिल्ली-एनसीआर में स्वाइन फ्लू पीडि़तों की संख्या 1 जनवरी से अब तक 900 हो चुकी है। वहीं पिछले साल मरीजों की संख्या सिर्फ 205 ही थे। वहीं डॉक्टरों का यह भी मानना है कि बीमारी के फैलने के पीछे प्रदूषण और कम तापमान हो।

फ्लू के कई मामले सामने आ रहे

मौसम में आए बदलाव के साथ स्वाइन फ्लू फिर से दस्तक दे चुका है। दिन पे दिन स्वाइन फ्लू के कई मामले सामने आ रहे हैं। पूरे भारत में ये तेजी से फैल रहा है। दिल्ली-एनसीआर में स्वाइन फ्लू पीडि़तों की संख्या 1 जनवरी से अब तक 900 हो चुकी है, जबकि पिछले साल सिर्फ 205 मामले सामने आए थे। एम्स, सफदरजंग और गंगाराम अस्पताल के डॉक्टरों ने संभावना जताई है कि हो सकता है इस बीमारी के फैलने के पीछे प्रदूषण और कम तापमान हो।

राजस्थान में स्वाइन फ्लू से इस वर्ष अब तक 80 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, दो हजार से अधिक इसके मरीज सामने आ चुके हैं। इस बीमारी से सबसे ज्यादा मौत जोधपुर में हुई है।

कैसे फैलता है

स्वाइन फ्लू एक सांस से जुड़ी बीमारी वाला वायरस है जो छीकने या इसके वायरस के संपर्क में आने से फैलती है। किसी व्यक्ति में स्वाइन फ्लू की पहचान करना बेहद जरूरी होता है। क्योंकी इसकी सही समय पर पहचान ना होने पर उसे गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही उसके संपर्क में आकर अन्य व्यक्तियों में भी यह संक्रमण फैल सकता है। स्वाइन फ्लू का उपचार सामान्य फ्लू के जैसे ही किया जाता है, बुखार, कफ, और ठंड के बचाव के लिये दवाए दी जाती हैं, कुछ लोगों को शायद विषाणुरोधक दवाए (एंटीवायरल) या उपचार की ज़रुरत पड सकती है। चलिये जाने कैसे होता है स्वाइन फ्लू का उपचार।

जितनी जल्दी ये दवाईयां शुरू होंगी उतना ही लाभ

स्वाइन फ्लू होने पर डॉक्टर आपको बुखार व कफ के लिए टेमीफ्लु या च्रेलेंजा जैसी एंटीवायरस दवाईयां दे सकता है। इन दवाईयों को रोग शुरू होने के 2 दिन के अंदर ही ले लेना चाहिए क्योंकि जितनी जल्दी ये दवाईयां शुरू होंगी उतना ही लाभ होगा। आमतौर पर ये दवाईयां 5 दिनों के लिए दी जाती हैं। वैसे ये दवाईयां फ्लू को पूरी तरह खत्म नहीं करतीं लेकिन ये बीमारी की अवधि व लक्षणों को कम करने के अलावा न्यूमोनिया जैसी बीमारी के खतरे को भी कम करती हैं।

पेरासिटामोल

स्वाइन फ्लु के अधिकतर मरीज़ सही इलाज से ठीक हो जाते हैं। उपचार के अंतर्गत पर्याप्त आराम, बुखार और ठंड को ठीक करने के लिए पेरासिटामोल दिया जाता है। कभी कभी बच्चों को अतिरिक्त उपचार भी दिया जाता है। लेकिन यहां पर यह सलाह दी जाती है कि कोई भी उपचार शुरू करने से पहले चिकित्सक की सलाह ले लें ।16 साल से कम उम्र के बच्चों को ऐस्पिरिन से जुडे हुए दवा उपचार का प्रयोग न करें।

विषाणुरोधक दवाएं (एंटीवायरल)

वायरल संक्रमण से बचाव के लिए दो दवाईयां ओसेल्टामविर (टेमीफ्लु) और जऩामिविर (रेलेंज़ा) का उपयोग स्वाइन फ्लु को ठीक करने के लिए दवा उपचार के तौर पर किया जाता है ! विषाणु रोधक दवाएं फ्लु को पूर्ण रूप से ठीक नहीं करती हैं, लेकिन कुछ लक्षणों को कम करने में सहायक होते हैं। जैसे –

  • लक्षणों और बीमारी की अवधि को एक दिन तक कम करने में सहायता करते हैं।
  • कुछ लक्षणों को कम करते हैं।
  • न्युमोनिया के जैसी गम्भीर बीमारी की जटिलता के खतरे को कम करते हैं।

अति गम्भीर बीमारी से ग्रस्त मरीज़ों में जैसे ही स्वाइन फ्लु के लक्षण दिखाई देते हैं, वैसे ही जितनी जल्दी सम्भव हो, विषाणु रोधक दवाएं तुरंत शुरू कर देना चाहिए। इस समूह के अंतर्गत निम्नलिखित लोग आते हैं।

  • दीर्घकालिक फेफडों या श्वाश प्रश्वाश सम्बन्धी बीमारी
  • दीर्घकालिक दिल की बीमारी (जन्मजात या जन्म के बाद)
  • दीर्घकालिक गुर्दे की की बीमारी (जैसे कि गुर्दा खराब होना)
  • दीर्घकालिक लीवर की बीमारी (सिरोसिस, हेपाटेटिस)
  • दीर्घकालिक दिमाग की बीमारी (जैसे कि पार्किंसन)
  • ईम्यूनोलस्प्रेशन (या तो किसी एक बीमारी के कारण, दवा के कारण, या फिर कोई उपचार के कारण)
  • मधुमेह की बीमारी (टाईप 1 या 2)
  • प्रतिजैविक (ऐन्टिबाइआटिक)

किसी भी प्रकार के फ्लू से पैदा होने वाली सबसे साधारण गंभीर स्थिति श्वास प्रश्वास क्षेत्र का दूसरे दर्जे का जीवाणु संक्रमण है, जैसे कि ब्रांगकाइटस (वायुमार्ग का संक्रमण) या न्यूमोनिया । ये संक्रमण अधिकतर लोगों में प्रतिजैविक (ऐन्टिबाइआटिक) द्वारा पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं, लेकिन कभी कभी ये संक्रमण जानलेवा भी बन सकते हैं। https://www.kanvkanv.com

हेल्थ

दिल को रखना चाहते हैं तंदुरुस्त, तो बचें मोटापे से, करें ये उपाय

Published

on

नई दिल्ली। वसायुक्त यकृत (फैटी लिवर) एक ऐसा विकार है जो वसा के बहुत ज्यादा बनने के कारण होता है, जिससे आपके जिगर का क्षय हो सकता है। वर्ष 2019-2018 की तुलना में इस साल गैर-अल्कोहल फैटी लिवर रोग (एनएएफएलडी) के मामलों में वृद्धि हुई है। हालांकि, अभी तक कोई निश्चित आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन डॉक्टरों का कहना है कि वे हर महीने कम से कम 10 से 12 नए मामले देख रहे हैं जो हर आयु वर्ग के हैं।

इसे एक ‘मौन हत्यारे’ के रूप में जाना जाता है

सभी प्रकार के एनएएफएलडी घातक नहीं हैं, लेकिन इनकी अनदेखी आगे चलकर परेशानी का सबब बन सकती है। एक बार पता लगने के बाद, रोगी को यह जानने के लिए आगे के परीक्षणों से गुजरना होता है कि जिगर में जख्म या सूजन तो नहीं है। जिगर की सूजन के लगभग 20 प्रतिशत मामलों में सिरोसिस विकसित होने की संभावना होती है। इसे एक ‘मौन हत्यारे’ के रूप में जाना जाता है। जब तक स्थति में प्रगति न हो, तब तक लक्षणों की स्पष्ट कमी होती है।

स्वस्थ जिगर में कम या बिल्कुल भी वसा नहीं होना चाहिए

डाक्टरों का कहना है कि एनएएफएलडी में यकृत की अनेक दशाओं को शामिल माना जाता है, जो ऐसे लोगों को प्रभावित करती हैं जो शराब नहीं पीते हैं। जैसा कि नाम से पता चलता है, इस स्थिति की मुख्य विशेषता यकृत कोशिकाओं में बहुत अधिक वसा का जमा होना है। एक स्वस्थ जिगर में कम या बिल्कुल भी वसा नहीं होना चाहिए।

सिरोसिस यकृत की चोट की प्रतिक्रिया में होता

डाक्टरों ने कहा, “एनएएफएलडी की मुख्य जटिलता सिरोसिस है, जो यकृत में देर से पड़ने वाले निशान (फाइब्रोसिस) हैं। सिरोसिस यकृत की चोट की प्रतिक्रिया में होता है, जैसे कि नॉनक्लॉजिक स्टीटोहेपेटाइटिस में जिगर सूजन को रोकने की कोशिश करता है, और इसके लिए यह स्कारिंग क्षेत्रों (फाइब्रोसिस) को उत्पन्न करता है। निरंतर सूजन के साथ, फाइब्रोसिस अधिक से अधिक यकृत ऊतक ग्रहण करने के लिए फैलता है।

ये हैं संकेत

डाक्टरों ने कहा कि इस स्थिति के कुछ संकेतों और लक्षणों में बढ़ा हुआ जिगर, थकान और ऊपरी दाएं पेट में दर्द शामिल हैं। जब यह सिरोसिस की ओर बढ़ता है, तो यह जलोदर, बढ़ी हुई वाहिकाओं, तिल्ली, लाल हथेलियों और पीलिया का कारण बन सकता है। एनएएफएलडी वाले लोगों में हृदय रोग विकसित होने की अधिक संभावना रहती है और यह उनमें मृत्यु के सबसे आम कारणों में से एक है। वजन में लगभग 10 प्रतिशत की कमी लाने से वसायुक्त यकृत और सूजन में सुधार हो सकता है। कुछ अध्ययनों के अनुसार, दालचीनी अपने एंटीऑक्सिडेंट और इंसुलिन-सेंसिटाइजर गुणों के कारण लिपिड प्रोफाइल और एनएएफएलडी को बेहतर बनाने में मदद कर सकती है।

कुछ सुझाव

  1. फलों, सब्जियों, साबुत अनाज और स्वस्थ वसा से भरपूर वनस्पति आधारित आहार का सेवन करें।
  2. यदि आप अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त हैं, तो प्रत्येक दिन खाने वाली कैलोरी की संख्या कम करें और अधिक व्यायाम करें। यदि आपका स्वस्थ वजन है, तो स्वस्थ आहार का चयन करके और व्यायाम करके इसे बनाए रखने के लिए काम करें।
  3. सप्ताह के अधिकांश दिनों में व्यायाम करें। हर दिन कम से कम 30 मिनट की शारीरिक गतिविधि करने की कोशिश करें। https://www.kanvkanv.com
Continue Reading

हेल्थ

सुबह नाश्ता न करना और देर रात में भोजन हानिकारक, होती हैं ये गंभीर बीमारियां, ऐसे करें बचाव

Published

on

नई दिल्ली। जो लोग सुबह के समय नाश्ता नहीं करते और रात का खाना बहुत देर से खाते हैं, उन्हें दिल का दौरा पड़ने के बाद बदतर परिणाम झेलने पड़ सकते हैं। एक शोध रिपोर्ट के आधार पर ऐसी चेतावनी दी गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, भोजन संबंधी इन दो आदतों वाले लोगों में दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिलने के 30 दिनों के भीतर चार से पांच बार मौत के करीब चले जाने, एक और दिल का दौरा, या एनजाइना (सीने में दर्द) पाया गया। रिपोर्ट में रात के खाने और सोने के बीच न्यूनतम दो घंटे का अंतराल रखने की भी सलाह दी गई है।

डाक्टरों का कहना है कि भारतीयों में पेट के चारों ओर अधिक वसा एकत्र होने की प्रवृत्ति होती है, जिससे इंसुलिन प्रतिरोध हो सकता है। इसका एक प्रमुख कारण आज की जीवनशैली है। उन्होंने कहा, “ऑन-द-गो और तेज रफ्तार जीवन का मतलब है कि लोग सुबह का नाश्ता छोड़ देते हैं और दिन के शेष समय अस्वास्थ्यकर, क्विक-फिक्स भोजन खाते हैं।

यह समझना महत्वपूर्ण है कि नियमित रूप से मध्यम तीव्रता के व्यायाम के साथ संयुक्त शरीर के वजन में 5 प्रतिशत की कमी भी टाइप-2 मधुमेह के जोखिम को 50 प्रतिशत से अधिक कम कर सकती है। मधुमेह के बिना या इस स्थिति के विकास के जोखिम के लिए एक स्वस्थ जीवन शैली की ओर स्विच करने और एक आदर्श बीएमआई बनाए रखने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

वजन से मधुमेह

डाक्टरों का कहना है कि आहार एक व्यक्ति के वजन से स्वतंत्र मधुमेह के जोखिम को प्रभावित करता है। टाइप-2 मधुमेह को एक ‘साइलेंट किलर’ के रूप में जाना जाता है। जब तक इसका निदान किया जाता है, तब तक अन्य संबंधित स्वास्थ्य जटिलताएं पहले से मौजूद हो सकती हैं।

मोटे लोग रखें विशेष ध्यान

जो लोग मोटे होते हैं, उन्हें जटिल कार्बोहाइड्रेट के सेवन को सीमित करने का लक्ष्य रखना चाहिए, क्योंकि वे रक्त-शर्करा के स्तर और इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाते हैं। इंसुलिन प्रतिरोध वाले लोगों में, इस वृद्धि से आगे वजन बढ़ सकता है। इसके अलावा, हर दिन लगभग 30 से 45 मिनट शारीरिक गतिविधि करने का लक्ष्य रखें, सप्ताह में पांच बार।”

कुछ सुझाव

  1. हर दिन व्यायाम करें और स्वस्थ आहार का सेवन करें।
  2. नियमित अंतराल पर अपने रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करें।
  3. किसी भी रूप में परिष्कृत चीनी का सेवन न करें, क्योंकि यह रक्त प्रवाह में अधिक आसानी से
  4. अवशोषित हो सकता है और आगे की जटिलताओं का कारण बन सकता है।
  5. ध्यान और योग जैसी गतिविधियों के माध्यम से तनाव को कम करें। https://www.kanvkanv.com
Continue Reading

हेल्थ

चुकंदर को अपनी डाइट में करें शामिल, होंगे ये बेहतरीन फायदे

Published

on

नई दिल्ली। चुकंदर के फायदे तो आप जानते ही होंगे। यह खून बढ़ाने का काम तो करता ही है। साथ ही इसके कई फायदे हैं जिनके बारे में आप नहीं जानते होंगे। चुकंदर को सलाद के अलावा इसे जूस के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। तो क्यों ना आज से आप अपनी डाइट में चुकंदर को शामिल कर लें।

मैटाबॉलिज्म को पहुंचाता है फायदा

शोधकर्ताओं का मानना है कि चुकंदर के जूस में नाइट्रेट होता हैए जो मांस पेशियों को मजबूत बनाता है। पहले हुई रिसर्च में पता चला था कि डाइट में नाइट्रेट की मात्रा शामिल करने से एथलीट्स की मांस पेशियों में सुधार होता है। चुकंदर का जूसए पालक और अन्य हरी सब्जियों में मौजूद नाइट्रेटए शरीर में जाकर नाइट्रिक एसिड में बदलता है। यह रक्त कोशिकाओं को रिलेक्स करते हुए मैटाबॉलिज्म को फायदा पहुंचाता है। चुकंदर खाने से शरीर में खून की कमी नहीं होती और आपका शुगर लेवल भी सही रहता है। चुकंदर में मौजूद आयरन, सोडियम, पोटेशियम, फास्फोरस शरीर को ताकत देने के साथ ही आपको बीमारियों से भी दूर रखते हैं।

वजन कर सकते हैं कम

एनीमिया में चुकंदर का इस्तेमाल सबसे ज्यादा लाभदायक है। चुकंदर में पर्याप्त मात्रा में आयरनए विटामिन और मिनरल्स होते हैंए जो खून बढ़ाने और उसे साफ करने का काम करते हैं। महिलाओं को खून की कमी ज्यादा होती है। इसलिए महिलाओं को डाइट में चुकंदर जरुर लेना चाहिए। चुकंदर में फाइबर होता है इसलिए यह कब्ज को दूर करने के लिए दवाई का काम करता है। यह कब्ज को दूर करने का सबसे अच्छा उपाय है। इससे खाना भी जल्दी पच जाता है। इसमें कैलोरी काफी कम होती है और एंटीऑक्सीडेंट व फाइबर अधिक होता है जिससे आप आसानी से अपना वजन कम कर सकते हैं।

 बढ़ता है एनर्जी लेवल

चुकंदर में नाइट्रेट्स की मात्रा खूब होती है, जिससे इसे खाने से नाइट्राइट्स और गैस नाइट्रिक ऑक्साइड में बदल जाता है। ये दोनों ही चीजें हमारी धमनियों को चौड़ा करने और ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करती हैं। चुकंदर को खाने से दिल के दौरे आने की समस्या में भी फायदा होता है। चुकंदर में फाइबर, फ्लेवोनॉयड्स और बेटासायनिन काफी मात्रा में मौजूद होता है। इसलिए इसका रंग लाल और बैंगनी होता है। यह एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। चुकंदर खाने से एनर्जी लेवल बढ़ता है। इसके साथ ही इसमें मौजूद नाइट्रेट तत्व धमनियों का विस्तार करने में मदद करता है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
राज्य2 hours ago

फतेहपुर : मोबाइल चोरी के आरोप में मासूम छात्र की पीट-पीट कर हत्या

राज्य2 hours ago

पीलीभीत में तृतीय चरण के मतदान को लेकर सभी तैयारियां पूरी, 10 हजार सुरक्षाबल तैनात

राज्य2 hours ago

लखीमपुर खीरी : भाजपा को महान मिलावटी पार्टी कहा जाना चाहिए : अखिलेश यादव

राज्य2 hours ago

अयोध्या आ रही आंध्र प्रदेश की बस बीकापुर क्षेत्र में पेड़ से टकराई, डेढ़ दर्जन घायल

मनोरंजन3 hours ago

अक्षय कुमार ने किया ऐसा ट्वीट कि सोशल मीडिया पर मच गया हड़कंप, देनी पड़ी सफाई, जानें क्या है मामला

टेक्नोलॉजी3 hours ago

फोन या अन्य अकाउंट्स में डालते हैं ये पासवर्ड तो हो जाएं सावधान, पढ़ें स्टडी की ये रिपोर्ट

बिज़नेस5 hours ago

फिर बढ़े पेट्रोल और डीजल के दाम, जानिए क्या है आज की कीमत

देश5 hours ago

निर्वाचन अधिकारी और चुनाव आब्जर्वर ने अमेठी सीट पर राहुल गांधी का पर्चा माना वैध

देश5 hours ago

समाजवादी पार्टी ने जारी की एक और लिस्ट, अब इस सीट से BJP सांसद को घोषित किया उम्मीदवार

वीडियो6 hours ago

इस भाजपा सांसद ने मांगे सपा के लिए वोट, कहा-साईकिल का बटन दबाकर…देखें वीडियो

देश6 hours ago

“चौकीदार चोर” पर सुप्रीम कोर्ट में राहुल गांधी ने मांगी माफी, कहा-जोश में दे दिया था बयान, पढ़ें बड़ी बातें

हेल्थ6 hours ago

दिल को रखना चाहते हैं तंदुरुस्त, तो बचें मोटापे से, करें ये उपाय

खेल7 hours ago

धोनी ने बनाया नया कीर्तिमान, एसा कारनामा करने वाले बने पहले भारतीय, कोहली ने बोल दी ये बड़ी बात

देश7 hours ago

सिक्के लूटने में मंदिर में मची भगदड़, 4 महिलाओं समेत 7 श्रद्धालुओं की मौत, पीएम मोदी ने जताया दुख

दुनिया8 hours ago

श्रीलंका धमाके : 290 की मौत, 6 भारतीयों में दो जेडीएस नेता भी शामिल, हमलें में इस संगठन का हाथ

देश8 hours ago

कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की एक और सूची, छह सीटों पर घोषित किए प्रत्याशी, शीला देंगी मनोज को चुनौती

देश23 hours ago

भाजपा ने जारी की उम्मीदवारों की 23वीं सूची, सात सीटों पर उम्मीदवार किए घोषित, देखें कौन कहां से लड़ेगा चुनाव

राज्य24 hours ago

बरेली : नवीरे आला हज़रत मौलाना तौसीफ रजा खां बोले, समन को जिताएं

मनोरंजन2 weeks ago

डायरेक्टर ने इस अभिनेत्री से कहा, एक रात…कॉम्प्रोमाइज, एक्ट्रेस बोली-‘आपके साथ सो तो जाऊं लेकिन…’

मनोरंजन3 weeks ago

जानें पहले दिन कैसा रहा फिल्म ‘नोटबुक’ और ‘जंगली’ का प्रदर्शन, दर्शकों ने दिये कितने अंक

देश4 weeks ago

सपा ने जारी की 40 स्टार प्रचारकों की लिस्ट, मुलायम सिंह का नाम नहीं, देखें कौन-कौन हैं शामिल

मनोरंजन2 weeks ago

टाइगर की गर्लफ्रेंड दिशा पटानी ने किया ऐसा डांस कि वायरल हो गया वीडियो, आप भी देखें

राज्य7 days ago

BJP सांसद हरिओम पाण्डेय का कटा टिकट तो पार्टी के नेताओं पर लगाया लड़की और पैसे पर टिकट बेचने का आरोप

देश1 week ago

गृहमंत्री राजनाथ सिंह के खिलाफ कांग्रेस से ये नेता लड़ेगा चुनाव!, खरीदा नामांकन पत्र

देश3 weeks ago

दुल्हन को फेरे लेते समय अचानक होने लगीं उल्टियां, दूल्हे ने जबरन कराया वर्जिनिटी और प्रेग्नेंसी टेस्ट

देश2 weeks ago

यूपी में तीन बजे तक 51 प्रतिशत मतदान, सतीश चन्द्र मिश्रा ने किया DGP को फोन, दर्ज कराई शिकायत

राज्य3 weeks ago

सपा ने जारी एक और उम्मीदवारों की सूची, गोरखपुर व कानपुर से इस दिग्गज नेता को दिया टिकट

देश3 weeks ago

65 साल के बुजुर्ग को जवान लड़की से डेट करना पड़ा महंगा, हो गया ये बड़ा कांड

मनोरंजन4 weeks ago

कांग्रेस में शामिल हुईं डांसर सपना चौधरी, यूपी की इस सीट से लड़ सकती हैं लोकसभा चुनाव

दुनिया4 weeks ago

महिला ने एक बेटे को जन्म देने के बाद फिर 26 दिन बाद दो जुड़वा बच्चों को दिया जन्म, डाक्टर हुए हैरान

राज्य2 days ago

समाजवादी पार्टी ने जारी की एक और सूची, अब इस सीट से उम्मीदवार किया घोषित

दुनिया2 weeks ago

पति ने घर पर छोड़ा खुला कैमरा, आकर देखा तो दोस्त के साथ पत्नी का दिखा अतरंग वीडियो

वीडियो1 week ago

बॉयफ्रेंड संग नजर आईं एमी जैक्सन, दिख रहा बेबी बंप, बिकिनी पहन कर खेला गोल्फ, देखें वीडियो

देश3 weeks ago

आडवाणी ने तोड़ी चुप्पी, भाजपा को दी नसीहतें, टिकट न मिलने का भी छलका दर्द, राहुल-ममता ने किया स्वागत

देश2 weeks ago

महिला आयोग ने देह व्यापार के रैकेट का किया भंडाफोड़, चार नाबालिग लड़कियां मुक्त कराईं

देश2 weeks ago

सपा का घोषणा पत्र जारी, अखिलेश बोले-सवर्णों पर लगाएंगे टैक्स, जानें और क्या-क्या किए गए वादे

Trending