Connect with us

हेल्थ

कही घातक न हो जाए सैनिटाइजर, सीबीआई ने जारी किया अलर्ट

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से बचाव के लिए ज्यादातर सभी लोग हैंड सैनिटिजर इस्तेमाल करने की सलाह दे रहे हैं। अगर यही सैनिटाइजर आपके बचाव की जगह आपकी सेहत के लिए खतरनाक साबित हो तो क्या होगा? हाल ही में सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इंवेस्टिगेशन ने एक अलर्ट जारी किया है जिसमे सैनिटाइजर को ज़हरीला बताया गया है। उन्होंने बताया की मार्किट में कुछ ऐसे सैनिटाइजर भी बिक रहे हैं जो खतरनाक विषैले पदार्थ से निर्मित है।

सैनिटाइजर में हो रहा है विषैले मेथानॉल का प्रयोग
सीबीआई ने इंटरपोल से मिली जानकारी के आधार पर बताया है की सेनिटाइजर बनाने में जो मेथानॉल इस्तेमाल हो रहा है वो ज़हरीला है। इतना ही नहीं एक गिरोह ऐसा भी है जो खुद को पीपीई और कोविड-19 से जुड़े मेडिकल आपूर्तिकर्ता बताता है। सीबीआई अधिकारियों ने सोमवार को दी जानकारी।

मानव शरीर के लिए खतरनाक है मेथानॉल
अधिकारियों ने बताया कि वैश्विक पुलिस सहयोग एजेंसी इंटरपोल ने जानकारी दी है कि मेथानॉल का इस्तेमाल कर फर्जी हैंड सेनिटाइजर बनाया जा रहा है। मेथानॉल काफी विषैला पदार्थ होता है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के दौरान जहरीले हैंड सेनिटाइजर के इस्तेमाल के बारे में दूसरे देशों से भी सूचनाएं प्राप्त हुई हैं। एक अधिकारी ने बताया, ‘मेथानॉल काफी विषैला हो सकते हैं और मानव शरीर के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं।

सैनिटाइजर और पीपीई किट की आड़ में हो रही धोखाधड़ी
सीबीआई ने कहा कि एक तरफ जहाँ पूरा विश्व कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहा है वहीं इसके बीच कई संगठित आपराधिक समूह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उभर आए हैं जो अवैध गतिविधियों से धन कमा रहे हैं और कोविड-19 उपकरणों की कंपनियों के प्रतिनिधि बनकर ठगी कर रहे हैं।

एजेंसी के सूत्रों ने बताया कि कुछ अपराधी अपने आप को पीपीई किट और कोविड-19 से जुड़े उपकरणों के निर्माता बताते है और अस्पतालों एवं स्वास्थ्य अधिकारियों से संपर्क कर रहे हैं। इस तरह के सामान की कमी का लाभ उठाते हुए वे अधिकारियों और अस्पतालों से ऑनलाइन अग्रिम भुगतान हासिल कर लेते हैं लेकिन पैसे लेने के बाद वे सामान की आपर्ति नहीं करते हैं।

Trending