Connect with us

हेल्थ

पांच करोड़ से ज्यादा लोग मिर्गी के शिकार, प्राकृतिक तरीके से पाएं उपचार

Published

on

नई दिल्ली। आज हम एक ऐसी बीमारी के बारे में बात करने जा रहे हैं, जिसे लोग दैवीय आपदा मानते हैं। ऐसे बीमारी से ग्रसित लोगों को समाज में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसा नहीं है कि ऐसे लोग ठीक नहीं हो सकते हैं बिल्कुल ठीक हो सकते हैं और अन्य लोगों की तरह ही जीवन व्यतीत कर कसते हैं।

प्राकृतिक उपाय

मिर्गी रोग दिमाग में इलेक्ट्रिकल एक्टिविटी यानी विद्युत प्रवाह की गड़बड़ी के कारण होता है। यदि किसी व्यक्ति का मस्तिष्क ठीक ढंग से कार्य न कर पा रहा हो, तो व्यक्ति को मिर्गी का रोग हो सकता है। कई प्राकृतिक उपायों द्वारा इस पर काबू पाया जा सकता है। दुनिया भर में पांच करोड़ से ज्यादा लोग मिर्गी के शिकार हैं और यह समस्या लगातार बढ़ रही है। भारत समेत दुनिया के तमाम देशों में मिर्गी की बीमारी आम है।

न्यूरोलॉजिकल डिसॉर्डर है कारण

मिर्गी न्यूरोलॉजिकल डिसॉर्डर के कारण होता है। मिर्गी का रोग व्यक्ति के द्वारा अत्यधिक नशीले पदार्थों का सेवन करने, मस्तिष्क में गहरी चोट लगने या मानसिक सदमा लगने के कारण भी हो सकता है। ये बीमारी मस्तिष्क के विकार के कारण होती है। मिर्गी का दौरा पडऩे पर शरीर अकड़ जाता है, जिसे अंग्रेजी में सीजर डिसॉर्डर भी कहते हैं।

व्याप्त हैं भ्रांतियां

अपोलो हॉस्पिटल के न्यूरोलॉजी के सीनियर कंसल्टेंट डॉ. मुकुल वर्मा कहते हैं कि इस बीमारी को लेकर लोगों के मन में कई गलत धारणाएं हैं जिस कारण इसका सही तरह से इलाज नहीं हो पाता। लोग मिर्गी के मरीज को पागल ही समझ लेते हैं। ग्रामीण इलाकों में तो लोग इस बीमारी को भूत-प्रेत का साया समझते हैं। सबसे जरूरी है इन भ्रांतियों को दूर करना।

खानपान पर हो नियंत्रण

रोगी की जीवनशैली में बदलाव करने से इस रोग पर काफी हद तक काबू पाया जा सकता है। एक शोध के अनुसार, मिर्गी के रोगी को ज्यादा फैट वाला और कम कार्बोहाइड्रेड वाला खाना लेना चाहिए। इससे सीजर पडऩे के अंतराल में कमी आती है। शांत और आरामदेह वातावरण में रहते हुए नियंत्रित भोजन व्यवस्था अपनाना बहुत जरूरी है। भोजन भर पेट लेने से बचना चाहिए। थोड़ा-थोड़ा भोजन कई बार ले सकते हैं। रोगी को सप्ताह में एक दिन सिर्फ फलों का आहार करना चाहिए। थोड़ा व्यायाम करना भी जीवनशैली का भाग होना चाहिए।

बहुपयोगी है तुलसी

तुलसी के पत्तों को पीसकर शरीर पर मलने से मिर्गी के रोगी को लाभ होता है। तुलसी की पत्तियों के साथ कपूर सुंघाने से मिर्गी के रोगी को होश आ जाता है। रोजाना तुलसी के 20 पत्ते चबाकर खाने से रोग की गंभीरता में गिरावट देखी जाती है।

असरकारी नीबू

मिर्गी की बीमारी से राहत पाने के लिए एक नीबू पर थोड़ा-सा हींग का पाउडर छिड़ककर इसे चूसें। नीबू में हींग पाउडर या गोरखमुंडी मिलाकर रोजाना चूसने से कुछ ही दिनों में मिर्गी के दौरे आने बंद हो जाएंगे।

इन उपायों को भी आजमाएं

अंगूर का रस प्रात: काल खाली पेट लेना चाहिए। यह उपचार करीब छह माह करने से सुखद परिणाम मिलते हैं।
एप्सम साल्ट (मैग्नीशियम सल्फेट) मिश्रित पानी से रोगी को स्नान करना चाहिए।
गीली मिट्टी को रोगी के पूरे शरीर पर लगाना अत्यंत लाभकारी उपचार है।
मिर्गी रोगी को 250 ग्राम बकरी के दूध में 50 ग्राम मेहंदी के पत्तों का रस मिलाकर दो सप्ताह तक सुबह के समय पीने से दौरे बंद हो जाते हैं।
पेठे का जूस नियमित पीने से ज्यादा लाभ होता है। रस में शक्कर और मुलहटी का पाउडर भी मिलाया जा सकता है।
गाय के दूध से बनाया हुआ मक्खन मिर्गी में फायदा पहुंचाता है।
राई पीसकर चूर्ण बना लें। जब रोगी को दौरा पड़े, तो सुंघा दें, बेहोशी दूर हो जाएगी।
सेब का जूस पीने से भी लाभ होता है।

हेल्थ

अच्छी नींद लेने में भारतीय निकले आगे, जानें और देशों के हाल, इन पांच कारणों से नींद होती है प्रभावित

Published

on

नई दिल्ली। दुनिया में रात को अच्छी नींद लेने के मामले में भारतीय सबसे आगे हैं। इसके बाद सऊदी अरब और चीन का स्थान है।  भारत में बहुत से लोग सबसे अच्छी नींद लेते हैं। एक सर्वे में इस बात का खुलासा हुआ है।

फिलिप्स की ओर से ग्लोबल मार्केट रिसर्च फर्म केजेटी ग्रुप ने 12 देशों के 18 वर्ष और उससे ऊपर के 11,006 लोगों पर सर्वे किया। मोटे तौर पर सर्वे में पाया गया कि दुनिया भर के 62 प्रतिशत वयस्कों ने माना है कि रात को जब वे सोने जाते हैं तो उन्हें अच्छी नींद नहीं आती है।

दक्षिण कोरिया की हालत बहुत बुरी

अनिद्रा की आदत को लेकर सबसे सबसे बुरी हालत दक्षिण कोरिया की और उसके बाद जापान की है। विश्व के वयस्क हफ्ते में रात के दौरान औसतन 6.8 घंटे की नींद लेते हैं। वहीं वे छुट्टी के दिन रात को 7.8 घंटे की नींद लेते हैं। सर्वे में पता चला है कि प्रत्येक दिन आठ घंटे की नींद पूरी करने के लिए 10 में से छह वयस्क (63 प्रतिशत) सप्ताहांत में अधिक सोते हैं। 10 में से चार लोगों का कहना है कि पिछले पांच सालों में उनकी नींद में गड़बड़ी आई है।

हलांकि, 26 प्रतिशत लोगों ने कहा है कि उनकी नींद अच्छी हुई है, जबकि 31 प्रतिशत ने कहा है कि उनकी नींद लेने की आदतों में कोई बदलाव नहीं आया है। फिलिप्स ग्लोबल स्लीप सर्वे 2019 के अनुसार, कनाडा (63 प्रतिशत) और सिंगापुर (61 प्रतिशत) में लोगों को सबसे ज्यादा नींद से जुड़ी समस्याएं हैं।

नींद को प्रभावित करने के पांच मुख्य कारण

नींद को प्रभावित करने में जीवनशैली का भी बहुत बड़ा हाथ है। दुनिया में नींद को प्रभावित करने के पांच मुख्य कारण है : चिंता/तनाव (54 प्रतिशत), पर्यावरण (40 प्रतिशत), कार्य व स्कूल का शेड्यूल (37 प्रतिशत), मनोरंजन (36 प्रतिशत) और स्वास्थ्य कारण (32 प्रतिशत)। स्वस्थ रहने और हालचाल ठीक रखने में नींद एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

हेल्थ

पेट से लेकर चर्म तक हर रोग की दवा है ये पौधा, खेती से भी होगा दोगुना लाभ

Published

on

लखनऊ। गठिया रोग हो या स्तन की गांठ, चेहरे का तिल हो या साटिका अथवा पेचिस अधिकांश रोगों में काम आने वाला अरंडी सिर्फ गड्ढों के किनारे उगने वाला पौधा नहीं, इसकी खेती से आप मालामाल हो सकते हैं। अनुपयुक्त खेत में भी इसकी खेती से डेढ़ लाख रुपये प्रति हेक्टेयर से ज्यादा लाभ कमा सकते हैं। इसकी खेती द्विफसली के रूप में भी किया जाता है और जिस खेत में यह होता है, वहां कीड़ों का प्रकोप खुद ही कम हो जाता है, क्योंकि इसमें पाया जाने वाला रिसिन नामक विषैला पदार्थ हर भाग में उपस्थित रहता है। यूपी में इसकी खेती पहले बहुतायत में बुंदेलखंड, लखनऊ और पूर्वी यूपी में होती थी लेकिन अब कुछ रकबा इसका कम हो गया है।

इस संबंध में आयुर्वेदाचार्य डाक्टर एसके राय ने बताया कि अरंडी में चालिस से 60 प्रतिशत तक तेल उपस्थित होता है। यह शुद्ध ऍल्कालोइड़स के लिये एक उत्कृष्ट सॉल्वैंट के रूप में नेत्र शल्य चिकित्सा में प्रयुक्त होता है। इससे साबून भी बनाये जाते हैं। यह अस्थायी कब्ज, पेट के दर्द और तीव्र दस्त मे धीमी पाचन के कारण प्रयोग किया जाता है। इसका तेल दाद, खुजली, आदि विभिन्न रोगों में रामबाण है।

कानपुर कृषि विश्वविद्यालय के डाक्टर मुनीष कुमार ने बताया कि अरंडी का हर भाग दवा व व्यवसाय के रूप में उपयोगी है।अरंडी के तेल का उपयोग साबुन, रंग, वार्निश, कपड़ा रंगाई उद्योग, हाइड्रोलिक ब्रेक तेल, प्लास्टिक, चमड़ा उद्योग में होता है| अरण्डी की पत्तियां रेशम के कीटों को पालने व हरी खाद बनाने में काम आती हैं। खली खाद के रूप में काम आती है। अरंडी की खेती सिंचित और असिंचित दोनो ही स्थितियों में की जाती है| इसकी जड़ें गहरी जाती हैं, जिससे फसल में सूखा सहन करने की क्षमता बढ़ जाती है|

खेती

डाक्टर मुनीष ने बताया कि अरंडी की खेती विभिन्न प्रकार के जलवायु में की जा सकती है। इसकी बुवाई खरीफ व कटाई रबी मौसम में होती है। इसके लिए अगस्त माह उपयुक्त समय है। यह किसी भी खेती के साथ मेड़ों पर उगाया जा सकता है। यह सूखा सहन कर सकती है, परन्तु जल भराव के प्रति संवेदनशील है। अरंडी अच्छे जल निकास वाली लगभग सभी भूमियों में उगायी जा सकती है। अच्छे फसल उत्पादन के लिये भूमि का पी एच मान 5 से 6 के बीच होना चाहिये।

मिश्रित फसल पद्धति

अरंडी की खेती खरीफ की फसल सोयाबीन, मूँग, लोबिया, उड़द, गुआरफली और अरहर  के साथ किया जा सकता है। मिश्रित फसल के लिए अरंडी का छह किलोग्राम प्रति हेक्टेयर बीज उपयुक्त रहता है। इसकी कई किस्में हैं, जिसमें अरूणा, ज्योति, क्रान्ति आदि प्रमुख रूप से बोयी जाती हैं।

खाद और उर्वरक

डाक्टर मुनीष कुमार ने बताया कि असिंचित फसल में 50 किलोग्राम नत्रजन और 25 किलोग्राम फास्फोरस प्रति हैक्टेयर प्रयोग किया जाना चाहिए। आधा नत्रजन और पूरा फास्फोरस बुवाई के समय गहरा ऊर कर दें एवं शेष बची आधी नत्रजन को खड़ी फसल में 30 दिन की अवस्था पर वर्षा होने पर दें। वहीं अरंडी की सिंचित फसल के लिये 100 किलोग्राम नत्रजन और 45 किलोग्राम फास्फोरस प्रति हैक्टेयर प्रयोग करना उपयुक्त होता है। अरंडी का प्रति हेक्टेयर 12 से 15 किलोग्राम बीज की बोआई की आवश्यकता होती है। यदि बीज को हाथ से एक-एक कर बाेया जाता है तो छह से आठ किलोग्राम बीज प्रति हेक्टेयर चाहिए।

बुवाई का समय व विधि

अरंडी की बुवाई अगस्त माह में हल, सीड्रिल या हाथ से की जाती है। सिंचित फसल के लिए लाइन से लाइन की दूरी 95 से 118 सेंटीमीटर और पौधे से पौधे के बीच की दूरी 65 सेंटीमीटर, वहीं असिंचित के लिए 60 गुणे 46 सेमी रखना उपयुक्त होता है। डाक्टर मुनीष कुमार ने हिन्दुस्थान समाचार से बताया कि इसमें झुलसा रोग के उपचार के लिए दो किग्रा मैन्कोजेब पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए, जबकि उखटा रोग के लिए ट्राइकोडर्मा व गोबर की खाद उपयुक्त होती है। इसकी पैदावार असिंचित खेती में 20 से 25 क्वींटल तथा सिंचित खेती में 35 से 40 क्वींटल प्रति हेक्टेयर हो जाती है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

हेल्थ

डाक्टरों ने 11 लोगों को कर दिया अंधा, मुआवजे पर सरकार ने भी किया भद्दा मजाक

Published

on

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर में डाक्टरों की बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां पर मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद 11 मरीजों की आंख की रोशनी चली गई है। इस घटना को लेकर कमलनाथ सरकार ने जांच के आदेश दिए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मोतियाबिंद के ऑपरेशन के लिए इंदौर आई अस्पताल में 8 अगस्त को राष्ट्रीय अंधत्व निवारण कार्यक्रम के तहत एक शिविर लगाया गया था, जिसमें मरीजों के ऑपरेशन हुए, इसके बाद आंख में दवा डाली गई, जिससे उन्हें संक्रमण हुआ और धीरे-धीरे उनकी आंखों की रोशनी ठीक होने की बजाय चली गई।

अस्पताल की ओटी सील

मरीजों ने आंखों में इंफेक्शन होने की बात कही, डॉक्टरों द्वारा आंखें चेक करने पर कई मरीजों ने बताया कि उन्हें सिर्फ काली छाया दिखाई दे रही है। जांच के बाद डॉक्टरों ने भी माना कि मरीजों की आंखों में इंफेक्शन हो गया है, लेकिन इसका कारण नहीं बता सके। इस अस्पताल का संचालन एक ट्रस्ट करता है। मामला सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने अस्पताल की ओटी को सील कर दिया है।

चेन्नई से चिकित्सकों को बुलाया गया

स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने शनिवार को घटना पर दुख जताया है। स्वास्थ्य मंत्री ने स्वीकार किया है कि आई हॉस्पिटल में ऑपरेशन के बाद 11 मरीजों की आंख की रोशनी चली गई है। इन मरीजों की आंख की रोशनी वापस लाने के लिए चेन्नई से चिकित्सकों को बुलाया जा रहा है।

मुआवजे पर भद्दा मजाक, ‘अंधा’ करने की कीमत 20 हजार रुपए

स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर पूरे मामले की जांच इंदौर कमिश्नर की अगुवाई में सात सदस्यीय कमेटी करेगी, जिसमें इंदौर कलेक्टर समेत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी शामिल हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है कि अस्पताल का लाइसेंस निरस्त करने के साथ ही पीड़ित परिवार को 20 हजार रुपये की तत्काल मदद दी जाएगी। वहीं, पूरे मामले पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी संज्ञान लिया है।

2010 में भी 20 लोगों की आंख की रोशनी चली गई थी

इसी अस्पताल में 2010 में मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद करीब 20 लोगों की आंख की रोशनी चली गई थी। इस बार फिर अस्पताल में कैंप लगाया गया और उसके बाद उनकी आंखों में इंफेक्शन हो गया और मरीजों की आंखों की रोशनी चली गई। अस्पताल में मरीजों का कहना है कि ऑपरेशन के बाद उनकी आंख की रोशनी धीरे-धीरे चली गई और अब तक डॉक्टर भी कुछ नहीं कह पा रहे हैं। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

देश3 hours ago

पीएम मोदी ने ट्रंप से आधे घंटे की फोन पर बात, पाकिस्तान को दिया सख्त संदेश, पढ़ें क्या-क्या बोलें

उत्तर प्रदेश3 hours ago

अयोध्या : पुलिस के इकबाल पर सवाल, हिस्ट्रीशीटर ने किया दारोगा और पुलिस टीम पर हमला

उत्तर प्रदेश4 hours ago

अयोध्या : आखिरकार बढाया गया रामलला के भोग और पुजारियों का मानदेय

उत्तर प्रदेश4 hours ago

अयोध्या : पिता की हत्या का बदला लेने के लिये युवक ने परिजनों के साथ मिलकर की थी राम नन्दन की हत्या

राज्य9 hours ago

प्रयागराज में एक दिन में 6 मर्डर, सीएम योगी नाराज, एसएसपी पर गिरी गाज

वीडियो9 hours ago

बाढ़ में देवदूत बने जवान, सांसे थामने वाले ऑपरेशन में बचाई दो लोगों की जान, देखें वीडियो

हेल्थ10 hours ago

अच्छी नींद लेने में भारतीय निकले आगे, जानें और देशों के हाल, इन पांच कारणों से नींद होती है प्रभावित

खेल10 hours ago

‘मैदान किक्स ऑफ टुडे’ का पोस्टर रिलीज, अब खिलाड़ी बनेंगे अजय, निभाएंगे इस शख्स का किरदार

देश11 hours ago

जम्मू-कश्मीर में कड़ी सुरक्षा के बीच खुले 190 स्कूल और सरकारी कार्यालय, अफसरों ने कही ये बातें

टेक्नोलॉजी11 hours ago

व्हाट्सएप में आया नया फीचर, जुड़ा ‘whatsApp से फेसबुक’ टैग, जानिए किस तरह की मिलेगी सुविधा

दुनिया11 hours ago

काबुल विस्फोट : गम में डूबा अफगानिस्तान, 100वां स्वतंत्रता दिवस समारोह किया स्थगित, भारत ने कहा…

देश11 hours ago

शेहला रशीद ने कश्मीर पर किया ये दावा, भारतीय सेना ने बताया गलत, FIR दर्ज

उत्तर प्रदेश12 hours ago

संगमनगरी में मां गंगा ने लेटे हनुमानजी का किया जलाभिषेक, ये है मान्यता

उत्तर प्रदेश12 hours ago

यूपी विधानसभा उप चुनाव की तैयारियों में जुटीं मायावती, जल्द हो सकती है उम्मीदवारों की घोषणा

मनोरंजन12 hours ago

फिल्म ‘भूल भुलैया 2’ का पोस्टर जारी, ’13 साल बाद…द हॉन्टिंग कॉमेडी रिटर्न्स, अक्षय की छुट्टी

देश12 hours ago

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र का निधन, तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा

उत्तराखंड12 hours ago

उत्तराखंड में बादल फटने से मची तबाही, 17 लोगों के शव मिले, 6 लापता

देश12 hours ago

उन्नाव कांड : सुप्रीम कोर्ट ने CBI को 2 हफ्ते का समय और दिया, वकील को 5 लाख देने का आदेश

वीडियो3 weeks ago

फिर चर्चा में पीली साड़ी वाली अफसर, सपना के गाने पर नीली साड़ी पहन किया धमाकेदार डांस, देखें वीडियो

दुनिया3 weeks ago

‘प्रेमी को बांध देती थी हथकड़ी से फिर करती थी मारपीट, वियाग्रा खिला कर बनाती थी जबरन संबंध’

वीडियो3 weeks ago

साक्षी की तरह कृति ने भी भागकर रचाई दूसरी जाति में शादी, सियासी खानदान की है बेटी, देखें वीडियो

वीडियो4 weeks ago

थाने में महिला पुलिसकर्मी को चढ़ा टिक-टॉक का खुमार, वीडियो बनाकर लगाए ठुमके, देखें वीडियो

देश4 weeks ago

स्पीकर की कुर्सी पर बैठीं थीं BJP सांसद, आजम बोले-…आपकी आंखों में देखता रहूं, अखिलेश बचाव में उतरे

टेक्नोलॉजी3 weeks ago

भारत में लांच हुआ धमाकेदार स्मार्टफोन, फीचर्स देख हो जाएंगे हैरान, कीमत सिर्फ इतनी

मनोरंजन3 weeks ago

टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने शेयर की हनीमून की फोटो, फिर कैैप्शन में लिख दी ये बात

देश4 weeks ago

इस वरिष्ठ आईएएस पर आरोप, नशे में कर संबंध बनाए फिर धमकी देकर की दूसरी शादी, जानें पूरा मामला

राज्य4 weeks ago

यूपी : होटल मालिक से था छात्रा को प्यार, मिलने पहुंची, हुआ कुछ ऐसा कि युवक ने मार दी गोली, मौत

देश4 weeks ago

आठ माह की गर्भवती के साथ 4 दरिंदों ने किया सामूहिक बलात्कार, फिर वीडियो बनाकर पति को भेज दिया

मनोरंजन2 weeks ago

जेल जा सकते हैं पवन सिंह, अक्षरा ने दर्ज कराई FIR, लगाए सनसनीखेज आरोप, सुनाई ब्रेकअप स्टोरी

वीडियो1 week ago

नहीं बन सका पायलट तो अपनी नैनो कार को ही बना दिया हेलिकॉप्टर, देखें हैरान करने वाला वीडियो

राज्य1 week ago

अम्बेडकर नगर में चार युवकों ने शिवलिंग पर पैर रखकर खिंचवाई फोटो, पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा

मनोरंजन3 weeks ago

बिकनी पहनकर निक जोनास के पैरों पर लेटी प्रियंका चोपड़ा, पी सिगरेट, लोगों ने किये ऐसे कमेंट

देश2 weeks ago

एक और न‍िर्भया कांड, युवती के साथ गैंगरेप के बाद काट डाले स्तन, चीर दी छाती

देश1 week ago

पत्नी की बेवफाई, पति नहीं रहता था घर पर बुला लेती थी प्रेमी को, फिर ऐसी खुल गई सारी पोल

देश1 week ago

बड़ी कंपनी में नौकरी करती थी महिला, GB रोड में बेच दिया, रोज 20 आदमी करते थे बलात्कार

Uncategorized2 weeks ago

उन्नाव कांड की पूरी कहानी : 18 साल पहले पीड़ित व विधायक के परिवार में थी दोस्ती, फिर कुछ ऐसे हुई दुश्मनी

Trending