Connect with us

हेल्थ

इस मौसम में मालिश या मसाज करें, होगा फायदा, बरतें ये सावधानियां

Published

on

नई दिल्ली। सर्दियों ने अपना असर कम कर दिया है। वहीं गर्मी की दस्तक हो चुकी है। लोगों ने तो धूप में आनंद लेना भी शुरू कर दिया है। अगर इसी आनंद में आप तेल से मालिश या मसाज करना शुरू कर दें तो क्या कहने। यह तो सोने पर सुहागा वाली बात होगी। इसमें हम आपको मालिश या मसाज से होने वाले फायदों के बारे में बताएंगे। हम बड़ों से ही नहीं, विशेषज्ञों से भी सुनते आए हैं कि तेल मालिश के ढेर सारे फायदे हैं। खासकर त्वचा की सेहत को ध्यान में रखते हुए काफी लोग इसका पर्याप्त इस्तेमाल भी करते हैं। तो आप भी क्यों न खासकर इस मौसम में तेल मालिश के फायदों के बारे में जानें और इसका लाभ उठाएं।

तेल मालिश के फायदे

  • त्वचा में आई खुश्की दूर होती है।
  • त्वचा की झुर्रियां दूर होती हैं।
  • त्वचा में चमक आती है।
  • ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है।
  • शरीर की नस-नाडिय़ों को ताकत मिलती है।
  • मांसपेशियों की कमजोरी दूर होती है।
  • थकान दूर होती है।
  • शरीर में ताकत महसूस होती है।
  • औषधीय तेलों का इस्तेमाल किया जाए, तो हड्डियां मजबूत होती हैं।
  • गठिया, हड्डियों का टेड़ा-मेढ़ा होना, सिरदर्द, दिमाग की कमजोर आदि दूर होती

मालिश करते वक्त बरतें सावधानियां

हो सके तो धूप में बैठकर गुनगुने तेल से मालिश करें। इसके कई लाभ होते हैं।
ज्यादा ठंडी हवा में खुले बदन मालिश न करें, इससे ठंड लग सकती है।
मालिश के तुरंत बाद ठंडे पानी से न नहाएं।
एकदम नहाकर धूप में आकर न बैठें, सर्द-गर्म हो सकता है।

सावधानी

मालिश के लिए महानारायण तेल, नारायणी तेल आदि कई औषधीय तेल भी बाजार में मिलते हैं। इनका इस्तेमाल विशेषज्ञ की सलाह के बगैर न करें।

अलग-अलग तेलों के लाभ

मालिश के लिए अलग-अलग तेलों का इस्तेमाल किया जाता है। अलग-अलग तेल से मालिश के अलग-अलग लाभ होते हैं।

सरसों के तेल के लाभ

  • ब्लड सर्कुलेशन में सुधार होता है।
  • त्वचा में निखार आता है।
  • मांसपेशियों का तनाव दूर होता है।
  • धूप में सरसों के तेल की मालिश से शरीर में सूर्य की किरणों से मिलने वाला विटामिन-डी अच्छी तरह समा जाता है।
  • शरीर के पसीना लाने वाले ग्लैंड्स सक्रिय हो जाते हैं, जिससे शरीर के विषैले तत्व आसानी से बाहर निकल जाते हैं।
  • सरसों के तेल में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीवायरल गुण होते हैं। इसे शरीर पर लगाने या खाने से भी त्वचा के संक्रमण की आशंका कम हो जाती है।
  • इसमें विटामिन ई भी होता है, जिससे त्वचा की झुर्रियां आदि दूर होती हैं।
  • सरसों के तेल की तासीर गर्म होती है। सर्दियों में इसके इस्तेमाल से सर्दी से भी बचाव होता है।

तिल का तेल

तिल के तेल में अल्ट्रावायलेट किरणों से रक्षा करने का प्राकृतिक गुण होता है। इसके नियमित इस्तेमाल से सूर्य की किरणों के सीधे संपर्क में आने पर भी किरणों के हानिकारक प्रभाव से रक्षा होती है, जिससे त्वचा पर बढ़ती उम्र के असर कम दिखते हैं।

तिल के तेल का इस्तेमाल हवा में मौजूद प्रदूषण और धुएं के दुष्प्रभावों से भी रक्षा करता है।
तिल का तेल अपने एंटीबैक्टीरियल और एंटीइन्फ्लेमेटरी गुणों के कारण सभी तरह की त्वचा के लिए सुरक्षित होता है। इसलिए इसे एक्ने वाली त्वचा पर भी लगाया जा सकता है।

शरीर के लिए बहुत जरूरी

तिल का तेल कॉपर, मैगनीज, कैल्शियम और मैग्नीशियम से भरपूर होता है। इसमें एंटी- ऑक्सिडेंट तत्व भी पाए जाते हैं, जिससे यह आसानी से त्वचा में समाकर त्वचा को मुलायम बना देता है। तिल के तेल में विटामिन ई, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स और विटामिन डी की उच्च मात्रा होती है, जो शरीर के लिए बहुत जरूरी है।

तिल के तेल में विषैले तत्वों को दूर करने के गुण होने के कारण इसे मालिश के लिए बहुत अच्छा माना गया है। इसकी मालिश से पर्यावरण से शरीर में दाखिल हुए विषैले तत्व पूरी तरह बाहर निकल जाते हैं और शरीर काफी शुद्ध हो जाता है।

अतिबला (खरैटी) का तेल

अतिबला से बने तेल को नर्वस सिस्टम के सभी तरह के विकारों, जोड़ों के दर्द, मांसपेशियों की जकडऩ, लंबी बीमारी के बाद की कमजोरी दूर करने और चेहरे के लकवे की दशा में कारगर माना गया है, जिसका इस्तेमाल विशेषज्ञों द्वारा किया जाता है।

अन्य तेल

शरीर में दर्द को दूर करने के लिए सरसों के तेल में अजवाइन या लहसुन पकाकर मालिश करना भी अच्छा माना जाता है। बच्चों की मालिश के लिए बेबी ऑयल भी आते हैं। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हेल्थ

जानें कैसे होता है स्किन कैंसर, बचाव के लिए इन टिप्स को करें फॉलो

Published

on

नई दिल्ली। कैंसर का नाम सुनते ही हम सहम जाते हैं। आज हम बात करेंगे त्वचा के कैंसर की। गौरतलब है कि भारत में महिलाओं से ज्यादा पुरुषों में त्वचा कैंसर का मामला 70 फीसदी अधिक पाया जाता है। यह आम कैंसरों में से एक है। यह नियमित रूप से सूरज की रोशनी के बिना भी हो सकता है। आज इस लेख में हम आपको कुछ खास टिप्स बताएंगे।

मेलेनोमा त्वचा कैंसर का सबसे सामान्य रूप

त्वचा कैंसर तब होता है जब अप्राकृतिक त्वचा कोशिकाओं या ऊतकों की अनियंत्रित वृद्धि होती है। इसके कारण आनुवांशिक कारकों से लेकर पराबैंगनी विकिरण के संपर्क में आना है। हालांकि मेलेनोमा त्वचा कैंसर का सबसे सामान्य रूप है, और यह इस स्थिति के कारण होने वाली अधिकांश मौतों का कारण भी है। ज्यादातर त्वचा कैंसर सूरज से सुरक्षा उपायों के जरिये आसानी से रोका जा सकता है।

मृत्यु का बन सकता है कारण

इस बारे में बात करते हुए, पद्म श्री अवार्डी, एचसीएफआई के अध्यक्ष डॉ. के के अग्रवाल ने कहा, मेलानोमा त्वचा के कैंसर के सबसे घातक रूपों में से एक है और यह मेलानोसाइट्स या त्वचा में मौजूद वर्णक कोशिकाओं में विकसित होता है। यह शरीर के अन्य भागों (मेटास्टेसाइज) में फैल सकता है और गंभीर बीमारी और मृत्यु का कारण बन सकता है।

मेलानोमा के संकेतों को पहचानने के लिए एबीसीडीई नियम का उपयोग कर सकते हैं- ए सिमेट्री – एक तिल या जन्मचिह्न का एक हिस्सा दूसरे से मेल नहीं खाता, बी क्रम – किनारों पर अनियमित, दांतेदार, नोकदार या धुंधले हैं, सी रंग – यह सभी पर समान नहीं है और इसमें भूरे या काले रंग के शेड शामिल हो सकते हैं, कभी-कभी गुलाबी, लाल, सफेद या नीले रंग के पैच के साथ, डी व्यास – स्पॉट एक चैथाई इंच से बड़ा है – एक पेंसिल इरेजर के आकार के बारे में, ई विकास – तिल आकार या रंग में बदल रहा हो।

एचसीएफआई के कुछ सुझाव

1. दिन में सूरज से बचें। दिन के अन्य समय के लिए, यहां तक कि सर्दियों में या आकाश में बादल छाए रहने पर बाहरी गतिविधियों को शेड्यूल करें। बादल हानिकारक किरणों से थोड़ी सुरक्षा प्रदान करते हैं। सूरज से बचना सबसे अच्छा उपाय है, इससे आपको उन सनबर्न और सनटैन से बचने में मदद मिलती है जो त्वचा को नुकसान पहुंचाते हैं और त्वचा के कैंसर के विकास के जोखिम को बढ़ाते हैं।

2. सनस्क्रीन साल भर लगायें। सनस्क्रीन सभी हानिकारक यूवी विकिरण को फिल्टर नहीं करते हैं, विशेष रूप से विकिरण जो मेलेनोमा का कारण बन सकता है, लेकिन वे समग्र सूर्य संरक्षण देते हैं। कम से कम 15 एसपीएफ वाले ब्रॉड-स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन का उपयोग करें।

3. सुरक्षात्मक कपड़े पहनें। अपनी त्वचा को अंधेरे, कसकर बुने हुए कपड़ों से ढंकें जो आपकी बाहों और पैरों को ढंके और चैड़ी-चैड़ी टोपी हो, जो बेसबॉल टोपी की तुलना में अधिक सुरक्षा प्रदान करती है।

4. ऐसे धूप के चश्मे का विकल्प जो दोनों प्रकार के यूवी विकिरण – यूवीए और यूवीबी किरणों को रोकता है।

5. टैनिंग बेड से बचें। टैनिंग बेड यूवी किरणों का उत्सर्जन करते हैं और आपकी त्वचा कैंसर का खतरा बढ़ा सकते हैं।

6. अपनी त्वचा से परिचित हो जाएं ताकि आप बदलावों को नोटिस करें। अपनी त्वचा की नियमित रूप से नई त्वचा की वृद्धि या मौजूदा मोल्स, फ्रीकल्स, बम्प्स और बर्थमार्क में बदलाव की जांच करें। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

हेल्थ

मोटापा है सबसे बड़ी समस्या, हो सकती हैं गंभीर बीमारियां, जानें कारण, आजमाएं ये तरीका

Published

on

नई दिल्ली। दुनिया में मोटापा एक गंभीर समस्या के रूप में फैलता जा रहा है। समय-समय पर इसके लिए जागरुकता लाने के लिए कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है। कार्यक्रम में मोटापे से होने वाली बीमारी, रोकथाम, मोटापे के कारण, पोषण व व्यायाम की जरूरतों के बारे में जानकारी दी जाती है। इस बार कार्यक्रम कर आयोजन नोएडा स्थित जेपी मल्टी सुपर-स्पेशियालिटी हॉस्पिटल ने किया था।

10 मुख्य जोखिमों में से एक मोटापा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने मोटापे को स्वास्थ्य के 10 मुख्य जोखिमों में से एक बताया है। 23 फीसदी से अधिक महिलाएं या तो मोटापे की शिकार हैं या उनका वजन सामान्य से कम है। यह दर पुरुषों (20 फीसदी) की तुलना में अधिक है। मोटापे के बारे में बात करते हुए जेपी हॉस्पिटल के जीआई एंड हेपेटोपेन्क्रिएटोबाइलरी सर्जरी विभाग के निदेशक ने कहा, भारत में ओबेसिटी 21वीं सदी में लगभग महामारी का रूप लेती जा रही है। देश की पांच फीसदी आबादी गंभीर मोटापे की शिकार है। भारत में मोटापे की समस्या आज चीन और अमेरिका के आंकड़ों को भी पार कर चुकी है।

यह हैं कारण

मोटापे के सबसे मुख्य कारण हैं खाने-पीने की गलत आदतें, गतिहीन जीवनशैली, नींद की कमी और तनाव आदि। शारीरिक व्यायाम की कमी और सुस्ती के चलते भारत में मोटापे के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा, मोटापे के कारण शरीर में कुछ हॉर्मोन और अतिरिक्त वसा का निर्माण होने लगता है जो डायबिटीज, उच्च रक्तचाप, डिसलिपिडेमिया, ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया, प्राइमरी स्टर्लिटी जैसी कई बीमारियों का कारण हो सकता है।

इन रोगों की संभावना

इनसे दिल की बीमारियों (हार्ट अटैक, स्ट्रोक) और कई प्रकार के कैंसर (स्तन, अंडाशय, गर्भाशय, अग्नाशय) तथा गुर्दा संबंधित रोगों की संभावना बढ़ जाती है। इससे पहले कि मोटापे के कारण कई बीमारियां आपको जकड़ लें, सर्जरी के विकल्प पर विचार करना चाहिए। सेहतमंद आहार के महत्व पर बात करते हुए जेपी हॉस्पिटल की बेरिएट्रिक काउंसलर एवं न्यूट्रीशनिस्ट श्रुति शर्मा ने कहा, मोटापा भारत में एक बड़ी समस्या बन चुका है।

ऐसा करें

कम कैलोरी एवं पोषक पदार्थों से युक्त आहार का सेवन करने से वजन घटाने में मदद मिलती है। सेहतमंद भारतीय आहार में दालें, अनाज, सब्जियां, फल, डेयरी उत्पाद और मसाले शामिल हैं। पानी का सेवन भरपूर मात्रा में करें तथा चीनी से युक्त पेय पदार्थों जैसे फलों के रस और पेय पदार्थो का सेवन सीमित मात्रा में करें। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

हेल्थ

खुशखबरी : डायलिसिस के मरीजों का अब घर में होगा इलाज, दी जाएगी ट्रेनिंग

Published

on

हेल्थ डेस्क। किडनी के मरीजों के लिए यह राहत भरी खबर है। अब आपको डायलिसिस के लिए सेंटरों का चक्कर लगाने की जरूरत नहीं होगी। यानी कि ऐसे मरीजों को घर पर ही सुविधा दी जाएगी। एक ऐसी ही योजना केंद्र सरकार लाने जा रही है। ऐसे मरीज जिनकी किडनी खराब हो चुकी है उन्हें हर दूसरे दिन हीमो-डायलिसिस के लिए सेंटर पर जाना पड़ता था।

2 लाख से ज्यादा किडनी के नए मरीज

केंद्र सरकार ऐसे मरीजों के लिए घर पर डायलिसिस की व्यवस्था करने जा रही है। चुनाव खत्म होते ही राज्य इस योजना को लागू कर सकेंगे। भारत में हर साल 2 लाख से ज्यादा किडनी के नए मरीज सामने आ रहे हैं और हर साल 3.4 करोड़ डायलिसिस की मांग होती है। योजना लागू होने से डायलिसिस के दिन परिजन और मरीज दोनों अपना नियमित काम भी कर सकेंगे। गरीबी रेखा से नीचे के मरीजों को दवा और किट मुफ्त में दी जाएगी।

दी जाएगी ट्रेनिंग

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक डायलिसिस के लिए पहले ही मरीज के पेट से एक रास्ता बना दिया जाएगा और ट्यूब निकाल कर छोड़ दिया जाएगा। इसके बाद मरीज को पेरिटोनियल किट और दवाइयां भी दे दी जाएगी, ताकि मरीज खुद या उनकी देखभाल करने वाले घर पर ही डायलिसिस कर लें। इसके लिए मरीज और उनकी देखभाल करने वालों को नेफ्रोलॉजिस्ट या ट्रेंड हेल्थ स्टाफ की ओर से ट्रेनिंग दी जाएगी।
सभी मरीज को पेरिटोनियल डायलिसिस की इजाजत नहीं होगी। डॉक्टर ही यह तय कर सकेंगे कि कौन से मरीज को डायलिसिस के लिए सेंटर पर आना होगा और कौन से मरीज घर पर ही डायलिसिस कर सकेंगे। घर पर ही डायलिसिस कराने की केंद्र सरकार की योजना चुनाव खत्म होने के बाद लागू होगी।

24 घंटे में 3 बार करनी होगी

इस प्रक्रिया में मरीज के पेट में कैथेटर ट्यूब फिक्स कर बाहर निकाली जाती है। ट्यूब से पेरिटोनियम डायलिसिस फ्लूड डाला जाता है। इसकी मात्रा दो लीटर होती है। यह शरीर के अंदर 30 से 40 मिनट रहता है। पेट में लगे ट्यूब से एक और कैथेटर जोड़ा जाता है, इसी ट्यूब के सहारे खून के अपशिष्ट पदार्थ बाहर आ जाते हैं। यह 24 घंटे में 3 बार करना होता है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
राज्य11 hours ago

अयोध्या के गौशाला में गायों के साथ दरिंदगी, युवक ने सात गायों से किया दुष्कर्म

दुनिया12 hours ago

बिल्कुल घोड़े की तरह दौड़ती है ये महिला, वीडियो देख हो जाएंगे हैरान

राज्य12 hours ago

श्रावस्ती : पुलिस ने बिना रिपोर्ट दर्ज किए ही दुर्घटना करने वाली बस को छोड़ा

देश12 hours ago

योगी मंत्रिमंडल में बड़े फेरबदल की तैयारी, BJP प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय की कुर्सी भी खतरे में

राज्य12 hours ago

कन्नौज : पूरी तरह सतर्क रहकर करें मतगणना, पार्टियों के एजेंट को करें सन्तुष्ट

राज्य13 hours ago

श्रावस्ती : कमिश्नर और डीआईजी ने लिया मतगणना स्थल का जायजा

राज्य13 hours ago

बहराइच : संस्तुत कृृषि रक्षा रसायनों तथा भूमिशोधन से लगेगा कीट रोगों पर अंकुश

देश13 hours ago

ज्योतिषों ने बताया किसकी बनेगी सरकार, ये राज्य बनेंगे किंगमेकर

राज्य13 hours ago

देवीपाटन मंडल : मंडलायुक्त और डीआईजी ने मतगणना स्थलों का किया निरीक्षण, दिया दिशा-निर्देश

राज्य13 hours ago

देवीपाटन मंडल : 60 फीसदी सटोरियों की नजर में दद्दन मिश्रा फिर बनेंगे सांसद

मनोरंजन15 hours ago

फिल्मों में आने से पहले कपड़ा मील में काम करता था साउथ का ये सुपरस्टार, फिर ऐसे बनाई पहचान

वीडियो16 hours ago

अभिनेत्री रकुल प्रीत बोलीं, होने वाले पति में हों ये 3 खूबियां, वीडियो में देखें बोल्ड अवतार

खेल16 hours ago

महिला हॉकी : भारत ने दक्षिण कोरिया को 2-1 से हराया, श्रृंखला में ली 2-0 की बढ़त

देश16 hours ago

EVM विवाद पर बोले अमित शाह, विपक्ष दे इन 6 सवालों का जवाब, पढ़ें क्या हैं शाह के प्रश्न

देश17 hours ago

राहुल गांधी ने कार्यकर्ताओं से कहा- फर्जी एग्जिट पोल के भ्रम से बचें, अगले 24 घंटे सतर्क और चौकन्ना रहें

देश17 hours ago

कैलाश विजवर्गीय का ममता पर निशाना, कहा- हेलीकॉप्टर रोकने वाली ईवीएम पर रोती हैं… ‘वाह दीदी वाह’

मनोरंजन17 hours ago

चर्चा में है ये अभिनेत्री, लड़ रही है लोकसभा चुनाव, ‘बॉयफ्रेंड’ पर लगा था बलात्कार का आरोप

मनोरंजन17 hours ago

फैंस को प्रभास ने दिया नायाब तोहफा, ‘साहो’ का फर्स्ट लुक पोस्टर जारी, जानें कब रिलीज होगी फिल्म

देश1 week ago

जानिए कौन है नीली ड्रेस वाली खूबसूरत पोलिंग अफसर, खुद किया ये बड़ा खुलासा, देखें 13 तस्वीरें

राज्य3 weeks ago

फेसबुक पर इंस्पेक्टर से प्यार, फिर बने संबंध, होने वाली थी शादी, लड़की ने ये सुसाइड नोट लिख चुन ली मौत

राज्य4 weeks ago

अम्बेडकर नगर : कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व सांसद फूलन देवी के पति उम्मेद निषाद का पर्चा खारिज

राज्य3 weeks ago

यूपी की इस सीट पर यदुवंशी शिफ्ट हो रहे भाजपा में, लगा रहे ये नारे, गठबंधन के चेहरे पर चिंता की लकीरें

देश2 weeks ago

BSF के बर्खास्त जवान तेज बहादुर बोले, 50 करोड़ रुपए दो तो कर दूंगा पीएम मोदी की हत्या, देखें वीडियो

राज्य4 weeks ago

योगी सरकार के मंत्री पर महिला ने लगाये रेप के आरोप, मंत्री बोले-दोषी साबित हुआ तो कुत्ते से नुचवा लेना मांस

देश4 weeks ago

अखिलेश यादव का गंभीर आरोप, ईवीएम या तो खराब या फिर भाजपा के लिए कर रही वोट

देश2 weeks ago

जानिए कौन है पीली साड़ी पहनी खूबसूरत पोलिंग ऑफिसर? जिसे ढूंढ रही पूरी दुनिया, देखें फोटो

राज्य3 weeks ago

रमजान शरीफ के चांद की शहादत को लेकर दरगाह आला हजरत से जारी हुआ हेल्पलाइन नंबर

देश4 weeks ago

देखें वीडियो : जब डिंपल यादव ने मंच पर छुए मायावती के पैर, बसपा सुप्रीमो यह कहकर दिया आशीर्वाद

वीडियो3 weeks ago

तेज रफ्तार बाइक की टंकी पर बैठ कर लड़की ने लड़के को किया किस, IPS अफसर ने शेयर किया वीडियो

देश3 weeks ago

पिता और पुत्र ने मां-बेटी से किया बलात्कार, अश्लील वीडियो बनाकर करने लगे ये काम, जानें पूरा मामला

देश2 weeks ago

सट्टा बाजार में भाजपा को बढ़त, बना रहे मोदी सरकार, जानिए महागठबंधन का क्या है हाल

राज्य4 weeks ago

बरेली : मुक़द्दस रमज़ान 6 या 7 जून से, बरेलवी हाफिजों की दुनिया भर में मांग

देश3 weeks ago

दोबारा सत्ता में लौटी मोदी सरकार तो इन पांच राज्यों की सरकारों पर मंडराने लगेंगे खतरे का बादल

देश2 weeks ago

पहली बार जंगल में उतरीं महिला कमांडो, 2 वर्दीधारी नक्सलियों को किया ढेर

देश4 weeks ago

रोहित शेखर तिवारी की हत्या के आरोप में पत्नी अपूर्वा शुक्ला गिरफ्तार, कबूला गुनाह

देश18 hours ago

कांग्रेस ने जारी किया अपना एग्जिट पोल, खुद को दिखाईं इतनी सीटें, भाजपा को बताया सत्ता से दूर

Trending