Connect with us

हेल्थ

इन फलों का करें सेवन, रहेंगे फिट

Published

on

नई दिल्ली। भागदौड़ भरी जिंदगी में स्वस्थ रहना बहुत जरूरी है। हमें सबसे पहले अपने खाने-पीने का ध्यान रखना चाहिए। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि कौन-कौन से फल का सेवन आपके लिए लाभदायक है। फ्रूट्स में कई न्यूट्रिएंट जैसे विटामिन सी, ए, फाइबर पाए जाते हैं।

सही फ्रूट्स को सही समय पर खाना आपकी सेहत के लिए सबसे अच्छा होता है। हेल्थ एक्सपर्ट के मुताबिक फलों को सबसे पहले सुबह खाना चाहिए। इन्हें कभी भी दूध या दही के साथ मिलाकर नहीं खाना चाहिए। इसे मिलाकर खाने से कई तरह के टॉक्सिन बन जाते हैं जिससे साइनस, कोल्ड, कफ और एलर्जी हो सकती है।

पपीता

पपीता में कैल्शियम, विटामिन, आयरन, मिनरल्स और शरीर के लिए फास्फोरस भी पाया जाता है। इसमें कई तरह डाइजेस्टिव एंजाइम पाए जाते है जो खाना पचाने में मददगार है। वहीं इसमें कैलोरी और वसा भी कम होती है।

तरबूज

तरबूज में कैलोरी बहुत कम होती है और पानी की मात्रा बहुत अधिक होती है इसलिए तरबूज खाने से आपका शरीर हाइड्रेट रहता है और इसे खाने से वजन भी नहीं बढ़ता है। तरबूज को खाना और इसका जूस पीना दोनों ही वजन कम करने के लिए उपयोगी होता है।

केला

एक केले में 105 कैलोरी पाये जाने के कारण यह इंस्टेंट एनर्जी के लिए सबसे उपयुक्त फल है। वर्कआउट के बाद खाने के लिए मिलने वाले कई पैकेज्ड फूड की तुलना में यह फल बहुत अधिक हेल्दी होता है और यह आपके मसल्स क्रैम्प को सही करने में, ब्लड प्रेशर को कंट्रोल रखने में और एसिडिटी से बचाने में भी सहायक होता है।

संतरा

इसका सिर्फ स्वाद ही अच्छा नही होता बल्कि संतरे के 100 ग्राम टुकड़े में करीब 47 कैलोरी होती हैं इसलिए यह डाइटिंग और वजन कम करने के वालों के लिए बहुत उपयोगी है।

नाशपाती

नाशपाती में पर्याप्त मात्रा में फाईबर होता है। इसके सेवन से लंबे समय तक पेट भरा रहता है और भूख नहीं लगती है इसलिए यह वजन कम करने में लाभकारी होती है।

आम

आम में फाइबर, मैग्निशियम, एंटीऑक्सीडेंट और आयरन होता है जो भूख को नियंत्रित रखता है। ऐसे में आपका वजन भी कंट्रोल रहता है।

स्ट्रॉबेरी

स्ट्रॉबेरी में फैट फ्री और लो कैलोरी वाली होती है जिसमें ना तो शक्कर होती है और ना ही सोडियम। रोजाना डेढ़ कप स्ट्रॉबेरी खाने से आपको बाहर का कोई स्नैक्स खाने की जरुरत नहीं पड़ेगी जिससे वजन नियंत्रण में रहेगा।

अनार

हर रोज एक लाल अनार खाकर आप न केवल वजन कम कर सकते हैं बल्कि‍ये शारीरिक कमजोरी को भी दूर करने में सहायक होता है।

हेल्थ

भूलने की बीमारी है अल्जाइमर, बन सकता है फ्रैक्चर का कारण, जानें डॉक्टर की राय

Published

on

नई दिल्ली। क्या आप अपना सामान रखकर भूल जाते हैं। अगर ऐसा है तो आप अल्जाइमर के शिकार हो सकते हैं। अल्जाइमर को भूलने की बीमारी भी कहा जाता है। विशेषज्ञों की मानें तो इस बीमारी के चलते आपके कूल्हे की हड्डी भी टूटने की समस्या हो सकती है। इसके अलावा यदि नियमित लोगों से संपर्क रखने वालों के नाम भी भूल जा रहे हैं तो आपको सावधान हो जाने की जरूरत है।

यह आपके लिए खतरे की घंटी है। यह दिमाग से जुड़ी बीमारी अल्जाइमर की शुरुआत है। यह खतरनाक बीमारी है, क्योंकि इसकी वजह से आप केवल चीजों को भूलते ही नहीं हैं, बल्कि इसके कारण आप कूल्हे की हड्डी टूटने की समस्या से भी ग्रसित हो सकते हैं। थोड़ी सी सावधानी बरतकर इससे काफी हद तक अपना बचाव कर सकते हैं।

खतरनाक है अल्जाइमर

दिमाग से जुड़ी बीमारी अल्जाइमर वास्तव में डिमेंशिया का एक साधारण रूप है, जिसमें धीरे-धीरे आपकी याददाश्त कमजोर होती जाती है। आमतौर पर यह बीमारी 65 साल से ऊपर के व्यक्तियों को होती है, लेकिन कई बार 50 साल की उम्र के व्यक्ति को भी यह समस्या हो सकती है।

एक वरिष्ठ न्यूरोलॉजिस्ट कहते हैं कि अल्जाइमर या डिमेंशिया एक न्यूरोलॉजिकल समस्या है, जिसमें दिमाग की कोशिकाएं नष्ट होने की वजह से याददाश्त जाने लगती है। इस बीमारी की शुरुआत हल्के-फुल्के भूलने की आदत से होती है, लेकिन धीरे-धीरे यह खतरनाक होती जाती है। इसकी आखिरी अवस्था डिमेंशिया बेहद खतरनाक होती है, जिसमें मरीज की मौत भी हो सकती है।

रहता है कूल्हे के फ्रैक्चर का जोखिम

अल्जाइमर में अधिक पावर वाली दर्द निवारक दवाएं लेने की वजह से कूल्हे के फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है। हाल ही में यूनिवर्सिटी ऑफ फिनलैंड के शोधकर्ताओं ने अपने शोध की एक रिपोर्ट में बताया कि स्ट्रॉन्ग दर्द दूर करने वाली दवा के प्रयोग से अल्जाइमर रोग से जूझ रहे व्यक्तियों में हिप फ्रैक्चर का जोखिम दोगुना हो जाता है।

शोधकर्ताओं ने बताया कि ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि ओपीडी गिरने के जोखिम को बढ़ा देता है, जिससे बड़ी उम्र के लोगों में कूल्हे टूटने का खतरा बढ़ जाता है। यह अध्ययन अल्जाइमर से पीडि़त 23,100 लोगों पर किया गया था। इसमें यह भी पाया गया कि ओपीडी के प्रयोग के शुरुआती दो महीनों में यह जोखिम सबसे ज्यादा था, बाद में यह थोड़ा कम हो गया।

कूल्हे का टूटना

आमतौर पर बुजुर्गों में हिप फ्रैक्चर सामान्य बात है। अगर मरीज को डिमेंशिया या अल्जाइमर की शिकायत है तो उसके अंदर ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा बढ़ जाता है, जो कि बाद में कूल्हे के टूटने का कारण बनता है। बड़ी उम्र होने पर हड्डियां कमजोर व अकड़ी हुई सी हो जाती हैं, जो जरा सा भी जोर पडऩे पर टूट जाती हैं। 95 प्रतिशत तक हिप फ्रैक्चर गिरने की वजह से होता है। कूल्हे के फ्रैक्चर से प्रभावित होने वाले 70 प्रतिशत मरीज महिलाएं होती हैं। हिप फ्रैक्चर में कूल्हे की हड्डी टूट जाती है, जिसका इलाज करने के लिए इसकी सर्जरी करने की जरूरत पड़ती है।

कैसे बचें इस खतरे से

अधिकांश मामलों में कूल्हे की हड्डी टूटने का मुख्य कारण गिरना होता है। इससे बचने के लिए यह ध्यान रखना बेहद जरूरी है कि आप किसी भी वजह से गिरें नहीं। अगर आप किसी भी वजह से गिर गये हैं तो भविष्य में ऐसा ना हो, इसके लिए उन कारणों पर ध्यान दें और आगे के लिए सावधानी बरतें। अगर आप अकसर गिर जाते हैं तो बेहतर यही होगा कि आप किसी भी जगह पर बीचों-बीच चलने की बजाय ऐसे चलें कि आपको पकडऩे के लिए कोई सहारा मिल जाये।

इसके अलावा सहारे के लिए छड़ी लेकर चलें या फिर कहीं जाते समय किसी व्यक्ति को अपने साथ लेकर जाएं, जो जरूरत पडऩे पर आपको सहारा दे सके। अपनी हड्डियों को मजबूती प्रदान करने के लिए अपने आहार में दूध, दही, अंडे के साथ- साथ कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर चीजों को शामिल करें और नियमित व्यायाम करें। उन दवाओं का इस्तेमाल करें, जिनसे आपके शरीर की हड्डियां मजबूत हों। अगर आपको नींद की दवाएं लेने की आदत है तो अपनी इस आदत पर विराम लगाएं। जरूरत महसूस हो तो इसके लिए डॉक्टर की सहायता लें।

क्यों होता है हिप फ्रैक्चर

आथ्र्राइटिस जैसे हड्डी के रोग की वजह से
– उम्र बढऩे के साथ-साथ शरीर में विटामिन-डी और कैल्शियम की कमी की वजह से बुजुर्गों में कूल्हे के फ्रैक्चर का खतरा अधिक रहता है। यह जोखिम पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में ज्यादा होता है।
-वजन जरूरत से ज्यादा होने की स्थिति में शरीर का सारा भार कूल्हों और पैरों पर पडऩे के कारण भी हिप फ्रैक्चर होने की आशंका रहती है।
-इन सारी बातों के अलावा अल्जाइमर व डिमेंशिया जैसी बीमारी भी कूल्हे के फ्रैक्चर का मुख्य कारण बनने लगी है। अल्जाइमर की वजह से हिप फ्रैक्चर का कारण उसमें ली जाने वाली दवाओं के साथ-साथ मरीज की भूलने की आदत भी है, जिसकी वजह से वह यह भी भूल जाता है कि उसे कितना वजन उठाना चाहिए। ज्यादा वजन उठाने के कारण उसके कूल्हों पर भार पड़ता है और उनके टूटने का खतरा बढ़ जाता है।

बचाव है जरूरी

अगर आप खुद को अल्जाइमर की वजह से होने वाले कूल्हे के फ्रैक्चर की समस्या से बचाना चाहते हैं तो इसके लिए यह बेहद जरूरी है कि अपनी दिनचर्या में उन आदतों को शामिल करें, जो याददाश्त को दुरुस्त करने वाली हों।

अपने वजन को नियंत्रित रखने के साथ-साथ पौष्टिक भोजन करें। अपने आहार में भरपूर मात्रा में ताजे फल और सब्जियों को नियमित रूप से शामिल करें। खुद को स्वस्थ रखने के लिए अल्जाइमर की वजह से कूल्हे के फ्रैक्चर की समस्या से बचाए
रखने के लिए नियमित तौर पर व्यायाम करें।
– मानसिक सक्रियता बनाये रखें। इसके लिए अपने अंदर कुछ नया सीखने की ललक बरकरार रखें। नये शौक विकसित करें। याददाश्त को दुरुस्त रखने के लिए अपने परिवार के साथ बीते दिनों की बातों को शेयर करें। सुडोकू खेलें और दिलचस्प किताबें पढ़ें।
– अपना सामाजिक दायरा बढ़ाएं। इसके लिए नियमित तौर पर किसी पार्क आदि में सैर के लिए जाएं। वहां अपने हम उम्र लोगों से बातचीत करें। अपने दोस्तों के सम्पर्क में रहें और अपने परिवार के साथ समय बिताएं।
मछली, जैतून का तेल, भरपूर मात्रा में सब्जियां आदि के सेवन से अल्जाइमर के लक्षणों को नियंत्रण में रखने में सहायता मिलती है। इससे कूल्हे के फ्रैक्चर की आशंका भी काफी हद तक कम हो जाती है।
40 साल की उम्र पार करने के साथ अपने आहार में बादाम, टमाटर, मछली आदि को शामिल करें।
नियमित योग से याददाश्त को दुरुस्त करके अल्जाइमर के खतरे से बचा जा सकता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि जैसे ही आपको यह लगने लगे कि आपकी याददाश्त कमजोर हो रही है, नियमित योग को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लें। प्रतिदिन 20 से 25 मिनट योग करने से याददाश्त तेज होती है।

Continue Reading

हेल्थ

शोधकर्ताओं ने अध्ययन कर पीठ-दर्द के किस्मों का लगाया पता

Published

on

टोरंटो। क्या आपको पता है दर्द कितने तरह के होते हैं। इसके लेकर शोधकर्ताओं ने अध्ययन किया। यह अध्ययन दर्द पीठ के दर्द को लेकर किया गया। 16 वर्षों के लम्बे अध्ययन के दौरान 12,782 लोगों को शामिल किया। इसमें पीठ के दर्द और काम करने में असमर्थता के संबंध में अध्ययन कर पता लगाया कि दर्द कितने प्रकार के होते हैं। इस दौरान उन्होंने विभिन्न लक्षणों के संबंध में दवाइयों (नशीली दवाइयों सहित) और स्वास्थ्य देखभाल के प्रभाव की पहचान की।

हेल्थकेयर विजिट के कारक

दुनिया में लोगों को सबसे ज्यादा बार होने वाली बीमारी पीठ का दर्द है। कनाडा के टोरंटो स्थित अध्ययन के लिए यूनिवर्सिटी हेल्थ नेटवर्क के क्रेंबिल रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने 16 वर्षों तक 12,782 लोगों को शामिल किया। यह निष्कर्ष बीमारी के साथ होने वाली सह-बीमारी, दर्द, असमर्थता, अफीम से बनी दवाई या अन्य दवाई के उपयोग और हेल्थकेयर विजिट के कारकों से प्राप्त हुआ।

यह था आंकड़ा

प्राप्त परिणामों के अनुसार, लगभग आधे (45.6 फीसदी) लोगों ने कम से कम एक बार पीठ में दर्द की शिकायत की। अध्ययन में दर्द के चार समूह बनाए गए- परसिस्टेंट (18 फीसदी), डेवलपिंग (28.1 फीसदी), रिकवरी (20.5 फीसदी) और अकेजनल (33.4 फीसदी)। इस अध्ययन के अनुसार, परसिस्टेंट और डेवलपिंग प्रकार के दर्द से पीडि़त लोगों को रिकवरी और अकेजनल प्रकार के दर्द से पीडि़त लोगों से ज्यादा दर्द और असमर्थता होती है तथा वे ज्यादा हेल्थकेयर विजिट और दवाइयों का उपयोग करते हैं।

Continue Reading

हेल्थ

जानें महिलाओं और पुरुषों में कौन ज्यादा सहन करता है दर्द, इस तरह किया गया चौंकाने वाला शोध

Published

on

नयी दिल्ली। पुरुषों की तुलना में महिलाएं सहन किए गए ज्यादा दर्द को जल्दी भूल जाती हैं। चूहे व मानव पर किए गए एक शोध में इसकी पुष्टि हुई है। कनाडा की टोरंटो मिसिसॉगा विश्वविद्यालय (यूटीएम) के शोधकर्ताओं के शोध में पता चला है कि महिला व पुरुष पूर्व के कष्टदायी अनुभवों को अलग-अलग तरीके से याद रखते हैं।

पुरुष पूर्व के कष्टदायी अनुभवों स्पष्ट तौर पर याद रखते हैं, जबकि महिलाएं दर्द के प्रति बेपरवाह रवैया अपनाती हैं। इसी तरह के परिणाम नर व मादा चूहों में देखने को मिले। पुरुष जब दर्द का अनुभव दोबारा करने पर अतिसंवेदनशील रवैया दिखाते हैं, लेकिन महिलाएं अपने दर्द के पूर्व अनुभव से तनाव नहीं लेती हैं।

यूटीएम के सहायक प्रोफेसर लोरेन मार्टिन ने कहा, “अगर दर्द की याद, दर्द के लिए प्रेरक का कार्य करती है और हम समझते हैं कि दर्द को कैसे याद रखा जाए तो यादाश्त पर क्रियाविधि का इस्तेमाल करके हम कुछ पीड़ितों की मदद करने में समर्थ हो सकते हैं।

इस तरह किया गया अध्ययन

अध्ययन को करेंट बायलॉजी जर्नल में प्रकाशित किया गया है। अध्ययन के दौरान उन्हें विशेष कमरे में आग की लौ के जरिये हल्का सा जलने का दर्द दिया गया। एक दिन बाद दोबारा उतनी ही तेज लौ से पुरुषों ने ज्यादा जलन महसूस की। वहीं महिलाओं की प्रतिक्रिया में पिछले अनुभव की कोई विशेष भूमिका नहीं देखी गई। उन्हें दूसरी बार भी उस लौ से समान दर्द का ही अनुभव हुआ। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
देश5 hours ago

मोदी सरकार का ऐलान : 63 नहीं, अब एक दिन में मिलेगा आयकर रिटर्न, पढ़ें कैबिनेट के 5 फैसले

देश6 hours ago

गर्भवती बकरी के साथ युवक ने किया गंदा काम, हो गई मौत

राज्य6 hours ago

बहराइच में हुईं मतदाता जागरूकता फोरम की लांचिंग

राज्य6 hours ago

श्रावस्ती : आंख बचावे खातिर डर के मारे देईत है पैसा, चिकित्सा अधीक्षक बोले, दंडित होंगे जिम्मेदार

राज्य6 hours ago

श्रावस्ती : लालपुर गांव में फैला खसरा, 10 बीमार, समय बीतने के बाद चेता विभाग

राज्य6 hours ago

‘सहन’ में सजी कव्वाली की शाम, लोग मंत्रमुग्ध

राज्य6 hours ago

अयोध्या : डीएम ने सुनी किसानों से जुड़ी समस्याएं, अधिकारियों को दिए निर्देश

राज्य6 hours ago

अयोध्या : उर्वरक दुकानों पर अधिकारियों ने मारा छापा, लिए नमूने, की कार्रवाई

राज्य6 hours ago

अयोध्या : डॉक्टर पर अराजक तत्वों ने किया हमला, दो आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज

राज्य7 hours ago

फतेहपुर : PM बनने का ख्वाब देखना बुरी बात नहीं लेकिन मायावती कर रही अखिलेश को गुमराह : पचौरी

राज्य7 hours ago

सीतामढ़ी आधुनिक ब्लड बैंक की स्थापना को लेकर डीएम करेंगे बैठक

राज्य7 hours ago

नागरिक एकता पार्टी ने UP सरकार को दी चेतावनी, कहा-गोंडा की बेटी के बलात्कारियों को फांसी दो, अन्यथा…

राज्य9 hours ago

चार सूत्रीय मांगों को लेकर लखनऊ में पीआरडी जवान उतरे सड़कों पर, पुलिस से झड़प, देखें फोटो

देश10 hours ago

शीला की ताजपोशी पर विवाद : सिख दंगे के आरोपी के पहुंचने पर BJP ने राहुल पर की ये टिप्पणी

खेल11 hours ago

विराट कोहली के मुरीद हुए ऑस्ट्रेलियाई कोच, सचिन से की तुलना, कह दी ये बड़ी बात

राज्य11 hours ago

फतेहपुर : 80 वर्षीय बूढी मां को 60 वर्ष बाद कोर्ट से मिला इंसाफ

वीडियो11 hours ago

देखें वीडियो : पहले सिंगर नेहा कक्कड़ ने किया डांस फिर बच्चे को दनादन जड़ दिए थप्पड़

देश12 hours ago

पंजाब में AAP को एक और बड़ा झटका, अब इस विधायक ने दिया इस्तीफा, केजरीवाल पर लगाए ये आरोप

राज्य3 days ago

CM योगी बोलें, 10 सीटें भी मायावती देतीं तो नाक रगड़कर ले लेते अखिलेश, पढ़ें बड़ी बातें

देश3 weeks ago

आईपीएस अफसरों को नये साल का तोहफ़ा, 28 आईपीएस अफसरों को मिला प्रमोशन

राज्य3 weeks ago

युवक ने बड़ी बहन से बनाया अवैध संबंध फिर कर दी हत्या, छोटी बहन जागी तो उसे भी मार डाला

देश2 weeks ago

लखनऊ में IAS बी चंद्रकला के आवास पर सीबीआई का छापा, हमीरपुुर-जालौन सहित 12 जगहों पर भी रेड

देश2 weeks ago

सियासी अटकलों पर विराम : शिवपाल नहीं सपा के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे मुलायम, सीट की भी हुई घोषणा

देश4 weeks ago

कमलनाथ ने दिया ऐसा बयान कि यूपी और बिहार में मचा बवाल, अखिलेश यादव ने फैसले को बताया गलत

देश4 days ago

मायावती ने ली शिवपाल पर चुटकी तो हंस पड़े अखिलेश, फिर शिवपाल ने भी कह दी ये बात

राज्य4 weeks ago

लव, सेक्स और धोखा : पढ़ें, इंटरनेशनल मर्डर मिस्ट्री की हैरान कर देने वाली घटना, ऐसे हुआ खुलासा

राज्य3 weeks ago

युवती ने एक बच्चे की मां संग रचाई शादी, अब कर रही ऐसी मांग

राज्य6 days ago

एसडीएम ने किया बीटीसी छात्रा के साथ बलात्कार, बोला था ये झूठ, बीवी के फोन से खुला राज

देश4 weeks ago

यूपी में पुलिस का इकबाल खत्म, दलित छात्रा को जिंदा जलाया, घटना से आहत भाई ने भी की खुदकुशी

टेक्नोलॉजी2 weeks ago

नोकिया 106 भारत में लांच, कीमत मात्र इतने रुपए, जानिए क्या है फीचर

राज्य1 week ago

यूपी में 64 IPS अधिकारियों के हुए तबादले, जानें किसे कहां मिली तैनाती, देखें पूरी लिस्ट

देश4 days ago

कांग्रेस की महिला नेता से भाजपा नेता के थे अवैध संबंध, फिल्म देख बेटों संग कर दी हत्या

मनोरंजन3 weeks ago

श्रीदेवी की बेटी जाह्नवी ने स्मृति ईरानी को कहा आंटी, मिला ये जवाब

देश4 weeks ago

UP में सपा-बसपा गठबंधन से कांग्रेस OUT, जानें कौन कितनी सीट पर लड़ेगा चुनाव, माया के बर्थडे पर ऐलान!

राज्य4 weeks ago

अयोध्या : पूर्व MLA के शागिर्द युवा ठेकेदार की हत्या में दो शूटरों पर मुकदमा दर्ज, विधायक का नाम बाहर

वीडियो3 days ago

Video : ऑपरेशन थिएटर में डाक्टर की शर्मनाक हरकत, नर्स से किस करते वीडियो हुआ वायरल

Trending