Connect with us

हेल्थ

बारिश के मौसम कोरोना का ज्यादा खतरा, मॉनसून डाइट में शामिल करें इम्यूनिटी को बूस्ट करने वाली ये 5 चीजें

Published

on

हेल्थ डेस्क। इस कोरोना महामारी के दौर में हर कोई अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता और ताकत को बढ़ाने के लिए तरह-तरह की कैप्सूल और खाद्य पदार्थों का प्रयोग कर रहा है। इसके लिए घरों में लोग इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फल एवं भोज्य पदार्थों को लाकर रखे रह रहे हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि देश में मानसून ने दस्तक दे दी है। इस मौसम में संक्रमण के फैलने का खतरा और भी ज्यादा होता है। ऐसे में आपको अपनी मॉनसून डाइट में इम्यून को बूस्ट करने वाली चीजें जरूर शामिल करनी चाहिए।

ये चीजें शामिल करें

  • लेमन ग्रास के औषधीय पौधे के बारे में आपने शायद ही पहले कभी सुना होगा. इस पौधे का तेल इम्यून सिस्टम के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है. वायरल फीवर (मौसमी बुखार) और खांसी, सर्दी, जुकाम में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है. पेट, आतों और यूरीनरी ट्रैक्ट में इंफेक्शन से यह तुरंत राहत दिलाता है.
  • इम्यून को बूस्ट करने में अदरक भी किसी चमत्कारी औषधि से कम नहीं है. इसमें मौजूद एंटी माइक्रोबियल और एंटी फंगल तत्व बॉडी के इम्यून सिस्टम के लिए बेहतरीन है. आप सब्जियों के अलावा जूस, सूप और चटनी में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • हल्दी में एंटी आक्सिडेंट गुण इम्यून को दुरुस्त रखने में कारगर है. एक चम्मच काली मिर्च का चूर्ण, एक छोटी चम्मच हल्दी का चूर्ण और एक चम्मच सौंठ यानी अदरक के पाउडर को एक कप पानी में डालकर गर्म कर लें. जब यह पानी उबलने के बाद आधा रह जाए तो इसे ठंडा करके पिएं.
  • तुलसी में एंटीबॉयोटिक गुण होते हैं जो इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग कर शरीर को वायरस से लड़ने की ताकत देते हैं. एक चम्मच लौंग के चूर्ण और दस से पंद्रह तुलसी के ताजे पत्तों को एक लीटर पानी में डालकर इतना उबालें जब तक यह सूखकर आधा न रह जाए. इसके बाद इसे छानें और ठंडा करके हर एक घंटे में पिएं. आपको वायरल से जल्द ही आराम मिलेगा.
  • धनिया सेहत का धनी होता है इसलिए यह वायरल बुखार जैसे कई रोगों को खत्म करता है. वायरल के बुखार को खत्म करने के लिए धनिया की चाय बहुत ही असरदार औषधि का काम करती है. मॉनसून के मौसम में इसकी चाय आपको रोज सुबह शाम पीनी चाहिए.

हेल्थ

सेहत के लिए लाभकारी है कच्चा दूध, फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान

Published

on

हेल्थ डेस्क। अगर बात कि जाए दूध की तो गाय और भैंस दोनों का ही दूध शरीर के लिए लाभकारी है। आयुर्वेद के डाक्टरों के मुताबिक, कच्चा दूध गर्म दूध से कई गुना ज्यादा फायदेमंद होता है। हालांकि कुछ मामलों में कच्चा दूध नुकसानदेह भी हो जाता है, इसी को देखते हुए कई लोग उबला हुआ दुध उचित मानते हैं। लेकिन ये भी सच है कि उबाले हुए दूध में कई वो चीजें खत्म हो जाती है, जो हमारे शरीर के निर्माण में सहायक होती हैं।

कच्चा दूध पीने के फायदे

कच्चे दूध में पोषक तत्वों की मात्रा अधिक होती है। जिसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, पौटेशियम शामिल है। इससे आपको वो तत्व मिल जाते हैं जो कि आपके शरीर के लिए आवश्यक है। बता दें कि इन तत्वों से आपकी हड्डियों, ब्लड सर्कुलेशन, हाइड्रेशन, मसल, मेटाबोलिज्म आदि को फायदा पहुंचता है। कच्चा दूध पीने से एलर्जी संबंधी बीमारियां कम होती है। जो बच्चे कच्चा दूध नहीं पीते उनमें अस्थमा होने की संभावना बढ़ जाती है।

कच्चे दूध का अधिकतर लोग अपनी स्किन की वजह से इसका इस्तेमाल करते हैं। कच्चे दूध के सेवन से चेहरे पर होने वाले रैशे, दाग और दाने से आराम मिलता है और वो धीरे-धीरे खत्म होने लग जाते हैं। साथ ही इसमें कई ओमेगा-3 फैट और सैचुरेटेड फैट होते हैं, जिससे आपकी स्किन जवां रहती है और निखार बना रहता है।

पोषक तत्वों की पूर्ति करता है

कच्चे दूध में कई पोषक तत्व होते हैं, जिसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, पौटेशियम शामिल है। इससे आपको वो तत्व मिल जाते हैं जो कि आपके शरीर के लिए आवश्यक है। बता दें कि इन तत्वों से आपकी हड्डियों, ब्लड सर्कुलेशन, हाइड्रेशन, मसल, मेटाबोलिज्म आदि को फायदा पहुंचता है।

दूध के साथ करें इन चीजों का सेवन

गुड़ के दूध का सेवन – दूध में शक्कर के बजाए गु़ड़ मिलाकर पिएं। इससे स्वाद भी बदलेगा और आपके शरीर में आयरन की आपूर्ति भी दुगुनी होगी। सर्दी के दिनों में यह दूध शरीर में गर्मी पैदा करता है और बीमारियों से बचाता है।

बादाम के साथ दूध – बादाम और दूध मिलकर आपकी सेहत का बेहतरीन पैकेज तैयार करते हैं। भीगे हुए बादाम को दूध के साथ मिक्स कर पीने से इसका स्वाद भी बढ़ेगा और गुण भी। यह आपके दिमाग, दिल, आंखों और त्वचा के लिए फायदेमंद साबित होगा।

इलायची के साथ दूध का सेवन – सादे दूध में इलायची मिलाकर आप इसके स्वाद को बढ़ा सकते हैं। यह आयरन और कैल्शियम के साथ मैंगनीज व अन्य पोषक तत्वों से भरा होगा। यह एनिमिया से आपकी रक्षा करता है। साथ ही त्वचा को भी झुर्रियों से बचाता है।

ऐसे भी है फायदेमंद…

कैंसर से बचाव- कच्चे दूध में एक ऐसा तत्व होता है जिसमें लिनोलेइक एसिड होता है जो कि आपके शरीर के लिए फायदेमंद है। कई रिसर्च में सामने आया है ति इससे ब्रेस्ट, हड्डी कैंसर से लड़ने में मदद मिलती है।

पचाने में आसान- आपको ये जानकर भले ही अजीब लगे, लेकिन कई रिसर्च में सामने आया है कि कच्चा दूध पचाने में आसान होता है और यह शरीर को फायदे करते हुए जल्दी पच जाता है। दूध में मौजूद लिपेस, लेक्टेस और एमीलेस नाम के एंजाइम पाचन क्रिया में मदद करते हैं।

नोट : इसके अलावा इस बात का भी खास ध्यान रखें कि कई रिसर्च में सामने आया है कि कच्चा दूध आपके शरीर के लिए नुकसानदायक होता है, इसलिए अगर आपको कच्चा दूध पीने से कोई दिक्कत हो रही हो तो उसे तुरंत छोड़ दें। साथ ही कच्चा दूध की मात्रा को लेकर एक बार डॉक्टर से सलाह जरुर ले लें।

Continue Reading

हेल्थ

दुनिया भर में कैसे फैला Corona का कहर, पता करने चीन जाएगी WHO की टीम

Published

on

By

नई दिल्ली। कोरोना वायरस पूरी दुनिया पर कहर बरपा रहा है। आखिल यह वायरस दुनिया भर में फैला कैसे। यह सवाल सबके मन में है। अब इसी सवाल का जवाब तलाशने के लिए डब्ल्यूएचओ (WHO) की टीम अगले हफ्ते चीन जा रही है।

WHO का दावा- चीन ने नहीं  हमने दी पहले जानकारी

WHO  ने यह भी दावा किया है कि इस बीमारी के बारे में पहली जानकारी उसने ही दी थी, न कि चीन ने।

छह महीन चलेगी जांच

चीन में स्थानीय डब्ल्यूएचओ ऑफिस वायरल निमोनिया के मामलों पर वुहान म्युनिसिपल हेल्थ कमीशन का बयान लेगा, इसके बाद यह जांच 6 महीने से अधिक समय तक चलेगी।

Continue Reading

उत्तराखंड

कोरोना से जंग में एम्स ऋषिकेश ने बढ़ाई ताकत, मरीजों के लिए अब 200 बेड

Published

on

By

ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश में कोरोना के मरीजों के लिए निर्धारित 100 बेड को बढ़ाकर 200 कर दिया गया है। यह जानकारी डीन हॉस्पिटल अफेयर्स प्रो. यूबी मिश्रा ने दी।

प्रो. मिश्रा ने बताया कि साथ ही कोरोना वार्ड में आईसीयू से जुड़ी सुविधाओं में भी इजाफा किया गया है। कोविड वार्ड में भर्ती गंभीर मरीजों के उपचार के लिए अब एक की जगह दो आईसीयू की व्यवस्था की गई है। इनमें 30 वेंटिलेटर हैं। कोरोना वार्ड में फिलहाल 30 पॉजिटिव मरीज भर्ती हैं।
उन्होंने बताया कि संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर अब एक और गहन चिकित्सा यूनिट स्थापित की गई है। नए आईसीयू में 15 अतिरिक्त वेंटिलेटर्स की व्यवस्था की गई है।

Continue Reading

Trending