Connect with us

हेल्थ

पर्याप्त पोषण के लिए करें इन चीजों का सेवन, होता है सबसे ज्यादा प्रोटीन, ऐसे रखें अपने शरीर को फिट

Published

on

नई दिल्ली। हर उम्र में लोगों को पोषणा की जरूरत होती है और जब शरीर को पर्याप्त पोषण नहीं मिलता, तो उसमें तमाम तरह के विकार आने लगते हैं, जो शारीरिक व मानसिक परेशानियों का कारण बनते हैं।

पोषक तत्वों से न सिर्फ हमारा शरीर मजबूत होता है, बल्कि इससे बीमारियों से लड़ने की क्षमता विकसित होती है। इसके लिए जरूरी है कि इस बात का आकलन किया जाए कि सही और पर्याप्त भोजन ले रहे हैं या नहीं।

पोषण की कमी का खामियाजा सबसे अधिक बच्चे भुगतते हैं

नेशनल सेंटर फार बायोटेक्नॉलॉजी इंफोर्मेशन (एनसीबीआई) के आंकड़ों के मुताबिक, पोषण की कमी का खामियाजा सबसे अधिक बच्चे भुगतते हैं, क्योंकि अपर्याप्त पोषण के कारण विकासशील देशों में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में से 45 फीसदी की मौत हो जाती है।

एक आम आदमी के लिए इस बात का आकलन काफी कठिन होता है कि उसे क्या खाना है और कितना खाना है। ऐसे कई साधन हैं, जिनके माध्यम से कोई भी यह जान सकता है कि उसे कब, क्या और कितना खाना है। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, पोषण की कमी के कारण शरीर कमजोर होता है और इस कारण बीमारियों का हमला होता है और ऐसे में दुनियाभर में हर साल करीब 60 लाख बच्चों की मौत हो जाती है।

दूध और अंडे में ज्यादा प्रोटीन

आपको अपने शरीर की जरूरतों को पूरा करने के लिए दैनिक आधार पर कुछ तय चीजें खानी होंगी। प्रोटीन हमारे प्रतिरोधी तंत्र को मजबूत रखते हैं। दुग्ध उत्पादों और अंडों में प्रोटीन होता है। इन्हें अपने भोजन में हर हाल में शामिल करना चाहिए।

बीमारी फैलाने वाले कारकों से बचने के लिए विटामिन सी, ई और बेटा-कारोटीन की हमें जरूरत होती है और इसी कारण इन्हें अपने भोजन में शामिल करना जरूरी है। उन्होंने कहा, “एंटीआक्सीडेंट्स एक तरह के माइक्रोन्यूट्रीएंट्स होते हैं और ये हमारे शरीर की रक्षा करते हैं। वे खाद्य पदार्थो को विशेष रूप से ऑक्सीकरण और खराब होने से रोकते हैं। इनके अलावा कुछ अन्य खाद्य पदार्थ भी हैं, जिनका सेवन नियमित तौर पर करना चाहिए।

सप्ताह में 5 दिन कम से कम 30 मिनट व्यायाम करना चाहिए, पानी भी पीएं

हर व्यक्ति को रोजाना 4-5 लीटर पानी पीना चाहए। ऊर्जा के लिए किलोजूल (विशेष रूप से काबोर्हाइड्रेट), जैतून के तेल, मछली, नट्स, एवोकैडो और फैटी एसिड युक्त भोजन लेना चाहिए। वसा में घुलनशील और पानी में घुलनशील विटामिन, आवश्यक खनिज जैसे लोहा, कैल्शियम, और जस्ता, पौधों से प्राप्त फाइटोकेमिकल्स (वे हृदय रोगों, मधुमेह, कैंसर, गठिया, और ऑस्टियोपोरोसिस से सुरक्षा प्रदान करते हैं) और फल, सब्जियों का एक विविध आहार समावेशी अनाज, फलियां, और दुबला मांस अनिवार्य है।

जब हम जीवन के विभिन्न चरणों (शिशु से युवाओं को गर्भावस्था से लेकर रजोनिवृत्ति तक) में जाते हैं तो हमारे शरीर की पोषण संबंधी आवश्यकताएं बदल जाती हैं।  उन्होंने कहा, “हमारे आहार में उम्र और अवस्था की परवाह किए बिना बहुत सारे पोषण-सघन खाद्य पदार्थ शामिल होने चाहिए। एनसीबीआई के अनुसार, जिन लोगों का आहार अलग-अलग होता है, उनकी प्रतिरक्षा क्षमता संतुलित आहार लेने वाले लोगों से 5 से 10 प्रतिशत तक कमजोर होती है। इसके अलावा, व्यायाम करना कभी न भूलें। सक्रिय होना चाहिए और सप्ताह में 5 दिन कम से कम 30 मिनट व्यायाम करना चाहिए। https://kanvkanv.com

हेल्थ

लौके के यह 6 फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान, फलों के जूस को भी देते हैं मात

Published

on

हेल्थ डेस्क। लौकी खाना और उसका जूस पीना हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभकारी है। लौकी में कई तत्व मौजूद होते हैं जो न सिर्फ आपके शरीर में जरूरी तत्वों की कमी पूरी करते हैं बल्कि आपके शरीर को ठंडा रखने में भी आपकी मदद करते हैं। आइये जानते हैं कुछ फायदे…

ताजगी

लौकी का रस पीने से शरीर में ताजगी बनी रहती है. लौकी खाने से पेट में भारीपन नहीं रहता, और शरीर में ताजगी बनी रहती है. खुद को तरोताजा रखने के लिए आप हर रोज सुबह लौकी के रस में नमक और जीरामन डालकर पी सकते हैं.

पेट का रोग

सुबह खाली पेट लौकी का रस पीने से कब्ज की समस्या दूर होती है. साथ ही ये गर्मी और जलन की समस्या में भी राहत देता है. लंबे समय तक लौकी का रस पीते रहने से पेट संबंधी सामान्य समस्याएं हमेशा के लिए दूर हो सकती हैं.

दस्त

लौकी को छांछ या दही में मिलाकर खाने से दस्त में राहत मिलती है. इसके लिए लौकी को कद्दूकस कर पानी में उबालकर इसे दही में मिला लें और इसमें नमक, जीरा पाउडर मिलाकर खाएं. इससे दस्त की समस्या दूर होगी. दस्त के समय शरीर में पानी की कमी हो जाती है. ऐसे में लौकी का रायता खाने से शरीर में पानी की कमी भी दूर होगी.

वजन कम करने में सहायक

लौकी का रस वजन नियंत्रित करने में भी सहायक होता है. लौकी का रस पीने से ज्यादा भूख नहीं लगती जिससे आपकी डाइट कंट्रोल होती है और शरीर में पानी की कमी भी नहीं होती. इस तरह से आपका वजन अपने आप कंट्रोल होने लगता है.

टायफाइड

लौकी टायफाइड में भी राहत दिलाती है. इसे काटकर पैरों के तलव में घिसने से टायफाइड में आने वाले बुखार की जलन कम होती है और शरीर को आराम मिलता है.

गर्भावस्था में लाभ

लौकी का रस गर्भावस्था में काफी लाभ पहुंचाता है. ये गर्भावस्था के दौरान होने वाले विकारों को दूर करता है. जिन स्त्रियों को बार-बार गर्भपात या गर्भस्त्राव की समस्या हो उन्हें भी लौकी का रस जरूर पीना चाहिए. लौकी का रस गर्भाशय को मजबूत बनाता है और गर्भस्त्राव की समस्या को दूर करता है.

Continue Reading

हेल्थ

सेहत के लिए लाभकारी है कच्चा दूध, फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान

Published

on

हेल्थ डेस्क। अगर बात कि जाए दूध की तो गाय और भैंस दोनों का ही दूध शरीर के लिए लाभकारी है। आयुर्वेद के डाक्टरों के मुताबिक, कच्चा दूध गर्म दूध से कई गुना ज्यादा फायदेमंद होता है। हालांकि कुछ मामलों में कच्चा दूध नुकसानदेह भी हो जाता है, इसी को देखते हुए कई लोग उबला हुआ दुध उचित मानते हैं। लेकिन ये भी सच है कि उबाले हुए दूध में कई वो चीजें खत्म हो जाती है, जो हमारे शरीर के निर्माण में सहायक होती हैं।

कच्चा दूध पीने के फायदे

कच्चे दूध में पोषक तत्वों की मात्रा अधिक होती है। जिसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, पौटेशियम शामिल है। इससे आपको वो तत्व मिल जाते हैं जो कि आपके शरीर के लिए आवश्यक है। बता दें कि इन तत्वों से आपकी हड्डियों, ब्लड सर्कुलेशन, हाइड्रेशन, मसल, मेटाबोलिज्म आदि को फायदा पहुंचता है। कच्चा दूध पीने से एलर्जी संबंधी बीमारियां कम होती है। जो बच्चे कच्चा दूध नहीं पीते उनमें अस्थमा होने की संभावना बढ़ जाती है।

कच्चे दूध का अधिकतर लोग अपनी स्किन की वजह से इसका इस्तेमाल करते हैं। कच्चे दूध के सेवन से चेहरे पर होने वाले रैशे, दाग और दाने से आराम मिलता है और वो धीरे-धीरे खत्म होने लग जाते हैं। साथ ही इसमें कई ओमेगा-3 फैट और सैचुरेटेड फैट होते हैं, जिससे आपकी स्किन जवां रहती है और निखार बना रहता है।

पोषक तत्वों की पूर्ति करता है

कच्चे दूध में कई पोषक तत्व होते हैं, जिसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, पौटेशियम शामिल है। इससे आपको वो तत्व मिल जाते हैं जो कि आपके शरीर के लिए आवश्यक है। बता दें कि इन तत्वों से आपकी हड्डियों, ब्लड सर्कुलेशन, हाइड्रेशन, मसल, मेटाबोलिज्म आदि को फायदा पहुंचता है।

दूध के साथ करें इन चीजों का सेवन

गुड़ के दूध का सेवन – दूध में शक्कर के बजाए गु़ड़ मिलाकर पिएं। इससे स्वाद भी बदलेगा और आपके शरीर में आयरन की आपूर्ति भी दुगुनी होगी। सर्दी के दिनों में यह दूध शरीर में गर्मी पैदा करता है और बीमारियों से बचाता है।

बादाम के साथ दूध – बादाम और दूध मिलकर आपकी सेहत का बेहतरीन पैकेज तैयार करते हैं। भीगे हुए बादाम को दूध के साथ मिक्स कर पीने से इसका स्वाद भी बढ़ेगा और गुण भी। यह आपके दिमाग, दिल, आंखों और त्वचा के लिए फायदेमंद साबित होगा।

इलायची के साथ दूध का सेवन – सादे दूध में इलायची मिलाकर आप इसके स्वाद को बढ़ा सकते हैं। यह आयरन और कैल्शियम के साथ मैंगनीज व अन्य पोषक तत्वों से भरा होगा। यह एनिमिया से आपकी रक्षा करता है। साथ ही त्वचा को भी झुर्रियों से बचाता है।

ऐसे भी है फायदेमंद…

कैंसर से बचाव- कच्चे दूध में एक ऐसा तत्व होता है जिसमें लिनोलेइक एसिड होता है जो कि आपके शरीर के लिए फायदेमंद है। कई रिसर्च में सामने आया है ति इससे ब्रेस्ट, हड्डी कैंसर से लड़ने में मदद मिलती है।

पचाने में आसान- आपको ये जानकर भले ही अजीब लगे, लेकिन कई रिसर्च में सामने आया है कि कच्चा दूध पचाने में आसान होता है और यह शरीर को फायदे करते हुए जल्दी पच जाता है। दूध में मौजूद लिपेस, लेक्टेस और एमीलेस नाम के एंजाइम पाचन क्रिया में मदद करते हैं।

नोट : इसके अलावा इस बात का भी खास ध्यान रखें कि कई रिसर्च में सामने आया है कि कच्चा दूध आपके शरीर के लिए नुकसानदायक होता है, इसलिए अगर आपको कच्चा दूध पीने से कोई दिक्कत हो रही हो तो उसे तुरंत छोड़ दें। साथ ही कच्चा दूध की मात्रा को लेकर एक बार डॉक्टर से सलाह जरुर ले लें।

Continue Reading

हेल्थ

दुनिया भर में कैसे फैला Corona का कहर, पता करने चीन जाएगी WHO की टीम

Published

on

By

नई दिल्ली। कोरोना वायरस पूरी दुनिया पर कहर बरपा रहा है। आखिल यह वायरस दुनिया भर में फैला कैसे। यह सवाल सबके मन में है। अब इसी सवाल का जवाब तलाशने के लिए डब्ल्यूएचओ (WHO) की टीम अगले हफ्ते चीन जा रही है।

WHO का दावा- चीन ने नहीं  हमने दी पहले जानकारी

WHO  ने यह भी दावा किया है कि इस बीमारी के बारे में पहली जानकारी उसने ही दी थी, न कि चीन ने।

छह महीन चलेगी जांच

चीन में स्थानीय डब्ल्यूएचओ ऑफिस वायरल निमोनिया के मामलों पर वुहान म्युनिसिपल हेल्थ कमीशन का बयान लेगा, इसके बाद यह जांच 6 महीने से अधिक समय तक चलेगी।

Continue Reading

Trending