कमर दर्द और पीठ दर्द से छुटकारा पाने के लिए रोजाना करें ये योगा, होंगे कई और फायदे

आजकल भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग अपनी सेहत का कुछ खास ध्यान नहीं दे पाते हैं। इसलिए शरीर में कई तरह की समस्याएं उत्पन्न होने लगती है। ऐसे में अपने आप को फिट और तंदुरुस्त रखने के लिए हर व्यक्ति को रोजाना योगा करना चाहिए।
 
कमर दर्द और पीठ दर्द से छुटकारा पाने के लिए रोजाना करें ये योगा, होंगे कई और फायदे  

हेल्थ। आजकल भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग अपनी सेहत का कुछ खास ध्यान नहीं दे पाते हैं। इसलिए शरीर में कई तरह की समस्याएं उत्पन्न होने लगती है। ऐसे में अपने आप को फिट और तंदुरुस्त रखने के लिए हर व्यक्ति को रोजाना योगा करना चाहिए। बढ़ती उम्र में लोगों को कमर दर्द की प्रॉब्लम भी होने लगती है। हम आपको इस खबर के माध्यम से कुछ आसान योगा के बारे में बताएंगे जो कमर दर्द के साथ कई रोगो में आपको राहत पहुचाएंगी। आइये इन योगा के  बारे में विस्तार से जानते हैं -

भुजंगासन करने की सही विधि, लाभ और इसकी सावधानियां

भुजंगासन (कोबरा पोज) : पेट के बल लेट जाएं और हथेलियां कंधों के नीचे रखें. अपने पैरों को अलग रखें, पंजों को जमीन पर टिकाएं. सांस अंदर लें और फिर अपने सिर, कंधों और धड़ को 30 डिग्री के कोण पर ऊपर उठाएं. अपनी नाभि को नीचे रखें, आपके कंधे और सिर को थोड़ा ऊपर की ओर उठाएं. धीरे-धीरे 
सांस छोड़ते हुए अपने धड़ को नीचे लाएं.

सर्पासन योग आसन से मजबूत होंगी कंधे, हाथ और पीठ की मांसपेशियां, ये है करने  का तरीका Sarpasana Yoga postur Benefit

सर्पसन (स्नेक पोज़) : अपने पेट के बल लेट जाएं और अपनी हथेलियों को अपने पीछे गूंथ लें. श्वास लें और फिर अपने धड़ को अपनी नाभि तक उठाएं. अपने पैर जमीन पर रखें. मुद्रा से फ्री होने के लिए सांस छोड़ें.

yoga poses - Cobra Pose position (bhujangasana) | Isolated s… | Flickr

ट्विस्टेड कोबरा पोज़ : अपने पेट के बल लेट जाएं और हथेलियों को अपने कंधों के नीचे लाएं. अपने पैरों को जमीन पर बाहरी पंजों से 2 फीट अलग रखें. अपने धड़ को ऊपर उठाते हुए श्वास लें और अपनी सांस को रोकें और अपनी बाईं एड़ी पर अपने दाहिने कंधे को देखने के लिए मुड़ें. सांस छोड़ते हुए सामने की ओर मुड़ें और अपने धड़ को नीचे लाएं. अपने धड़ को ऊपर उठाते हुए श्वास लें और अपनी सांस को रोकें और अपनी दाहिनी एड़ी पर अपने बाएं कंधे को देखने के लिए मुड़ें. सांस छोड़ें. 

Know How To Do Salabhasana And What Is Benefits Of It

शलबासन : पेट के बल लेट जाएं और हथेलियां जांघों के नीचे रखें. धीरे-धीरे पूरी तरह से श्वास लें. अपनी सांस को रोककर रखें और फिर अपने दाहिने पैर को ऊपर उठाएं. अपनी ठुड्डी या माथा जमीन पर रखें. सांस छोड़ें और धीरे-धीरे बाएं पैर से इसे दोहराने के लिए छोड़ें.

सेतु बंध आसन करने के लिए सबसे पहले | FIZIKA MIND

सेतु बंध सर्वांगासन : फर्श पर लेट जाएं. अपने पैरों को फर्श पर रखते हुए अपने घुटनों को मोड़ें, एड़ी को जितना हो सके बैठी हुई हड्डियों के करीब रखें. जैसे ही आप सांस छोड़ते हैं, अपनी टेलबोन को ऊपर की ओर धकेलें और नितंबों को फर्श से ऊपर उठाएं. अपनी उंगलियों को इंटरलॉक करें और अपने हाथों को अपने कंधों पर संरेखित करने के लिए अपने हाथों को अपने श्रोणि के नीचे रखें. ऊपर उठाएं जब तक कि जांघें फर्श के समानांतर न हों. अपने घुटनों को एड़ियों के ऊपर संरेखित करें. सांस छोड़ें और रीढ़ को धीरे-धीरे नीचे फर्श पर लाएं.