Connect with us

हेल्थ

एचआईवी पाॅजिटिव होने पर दवाओं और उचित देखभाल से जी सकते हैं सामान्य जीवन : डा. वर्मा

Published

on

राधेश्याम मिश्र

बहराइच। आमजन को एचआईवी और एड्स रोग के प्रति जागरूक किये जाने के उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष 01 दिसम्बर को सम्पूर्ण विश्व में ‘‘विश्व एड्स दिवस’’ का आयोजन किया जाता है। जिसके माध्यम से रोकथाम के उपायों पर चर्चा, एड्स होने के कारणों, नियंत्रण और साक्ष्यों के आधार पर लोगों को शिक्षित करने का वृहद कार्यक्रम संचालित किया जाता है।

शरीर में बीमारियों से लड़ने की क्षमता कम होती चली जाती है

यह जानकारी देते हुए नोडल अधिकारी डा. पी.के. वर्मा ने बताया कि एच.आई.वी. एक वायरस है। जब यह शरीर में पाया जाता है तो उस अवस्था को एचआईवी पाॅजिटिव कहा जाता है और जाॅच के द्वारा इसका पता लगाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि जब एचआईवी हमारे शरीर में मौजूद शक्तिकणों को कमज़ोर और संख्या में कम कर देता है तो शरीर में बीमारियों से लड़ने की क्षमता कम होती चली जाती है और हमारा शरीर दुर्बल हो जाता है। इस अवस्था में कई बीमारियाॅ एक साथ शरीर में घर कर जाती हैं। इस अवस्था को एड्स कहते हैं। इस प्रक्रिया में कई साल लग जाते हैं। उन्होंने बताया कि जिले में गैर सरकारी संगठन ममता, शरणम् संस्थान और थारू जनजाति विकास समिति भी लोगों को जागरूक करने और परामर्श देने का काम कर रही है।

बच्चों को एचआईवी संक्रमण से सुरक्षित किया जा चुका है

उन्होंने बताया कि सीमावर्ती जनपद होने और पिछड़ेपन के कारण जनपद में एचआईवी/एड्स के प्रति अधिक जागरूकता की आवश्यकता है। आंकड़े बताते हैं कि पिछले वित्तीय वर्ष में 6093 मरीज़ों की एचआईवी की जाॅच में 177 मरीज़ पाॅजिटिव पाए गए वहीं इस वर्ष अभी तक 4667 मरीज़ों की जाॅच में 121 एचआईवी पाजिटिव पाए गए। इनमें से अधिकतर वे व्यक्ति थे जो बाहर अन्य प्रान्तों में मज़दूरी करने जाते हैं।

नोडल अधिकारीने बताया कि एचआईवी पाॅजिटिव व्यक्तियों को मुफ्त में दवाओं एवं उचित परामर्श के साथ-साथ गर्भवती माॅ से बच्चे में एचआईवी संक्रमण के रोकने के उपाय किये जाते हैं। जिला महिला अस्पताल के आॅकड़े बताते हैं कि पिछले वर्ष एचआईवी संक्रमण से पीड़ित 4 महिलाओं का सुरक्षित प्रसव कराया गया और चारों बच्चों को एचआईवी संक्रमण से बचाया भी गया वहीं इस वर्ष अब तक तीन नए जन्मे बच्चों को एचआईवी संक्रमण से सुरक्षित किया जा चुका है।

सावधानी बरतने की आवश्यकता

नोडल अधिकारी डा. पी.के. वर्मा ने बताया कि एचआईवी पाॅजिटिव व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन सम्बन्ध बनाने, एचआईवी संक्रमित रक्त चढ़ाने, एचआईवी संक्रमित सुई के प्रयोग करने तथा एचआईवी संक्रमित गर्भवती महिला से उसके होने वाले बच्चे में एड्स हो सकता है। बचाव के सम्बन्ध में जानकारी देते हुए नोडल अधिकारी ने बताया कि बहुत से लोग एचआईवी पाॅजिटिव होते हुए भी कई सालों तक सामान्य जीवन व्यतीत करते हैं बस आवश्यकता इस बात की है सिर्फ सावधानी बरती जाय और देखभाल की जाय।

एचआईवी से बचने के लिए उन्होंने लोगों को सुझाव दिया है कि असुरक्षित यौन सम्बन्ध यानि कन्डोम के बिना सम्भोग न करें चाहें वह समलैंगिक हो या फिर स्त्री पुरूष के बीच, कंडोम का सही और नियमित प्रयोग ज़रूरी है। उन्होंने बताया कि अपने व अपने परिवार के किसी भी सदस्य चाहे वह बच्चा ही हो आवश्यकता पड़ने पर उन्हें हमेशा नयी सुई/इंजेक्शन लगवाएं।

वायरस के असर को कम कर सकते हैं

इलाज के सम्बन्ध में नोडल अधिकारी ने बताया कि अभी तक एचआईवी का कोई वैज्ञानिक इलाज नहीं मिल पाया है, लेकिन उचित देखभाल और चिकित्सीय परामर्श से इस वायरस के असर को कम कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल बहराइच में आईसीटीसी (एकीकृत परामर्श परीक्षण केन्द्र) सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कैसरगंज, बाबागंज, पयागपुर में एचआईवी की जाॅच मुफ्त में की जाती है तथा मरीज के सम्बन्ध में सभी जानकारी गोपनीय रखी जाती है। डा. वर्मा ने बताया कि जाॅच में एचआईवी पाॅजिटिव होने पर दवाओं और उचित देखभाल द्वारा सामान्य जीवन व्यतीत किया जा सकता है। https://www.kanvkanv.com

हेल्थ

ऐसा करने से दूर होगी गैस की समस्या, ये हैं उपाय

Published

on

नई दिल्ली। आज के समय में खान-पान लोगों का गड़बड़ हो रहा है। आजकल लोगों को गैस की समस्या ज्यादा होने लगी है। इसका सबसे बड़ा कारण है भोजन का ठीक से ना पचना। ऐसे में कई लोगों के पाचन मार्ग में गैस जमा हो जाती है। कई लोगों को तो दिन में कई बार यह समस्या होती है। उम्र बढऩे के साथ शरीर में एंजाइम का स्तर कम हो जाता है, इस कारण भी गैस की समस्या बढ़ जाती है।
गैस प्रत्येक व्यक्ति के शरीर में बनती है। यह शरीर से बाहर या तो डकार द्वारा या गुदा मार्ग के द्वारा निकलती है। अधिकतर लोगों के शरीर में 1 से 4 पॉइन्ट गैस उत्पन्न होती है और एक दिन में एक सामान्य व्यक्ति कम से कम 14 से 23 बार गैस पास करता है। जिनकी पाचन शक्ति अकसर खराब रहती है और जो प्राय: कब्ज के शिकार रहते हैं, उनमें गैस की समस्या अधिक होती है।

कारण हैं अनेक

वसा और प्रोटीन युक्त भोजन की तुलना में कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन ज्यादा गैस बनाते हैं।
कब्ज से गैस बनती है, क्योंकि जितने लंबे समय तक भोजन बड़ी आंत में रहेगा, उतनी ज्यादा गैस बनेगी।
जल्दी-जल्दी खाने या पीने से ज्यादा हवा अंदर चली जाती है, जो गैस का कारण बनती है।
च्युइंग गम चबाने और धूम्रपान करने से भी हवा की काफी मात्रा पेट में चली जाती है।
उम्र बढऩे के साथ शरीर में एंजाइमों का स्तर कम हो जाना, गैस का कारण बनता है।
शारीरिक निष्क्रियता भी गैस का कारण बनती है।
कैफीन (चाय, कॉफी, कैफीन युक्त ड्रिंक्स आदि) का अधिक मात्रा में सेवन गैस बनाता है।
आवश्यकता से अधिक कैलरी का सेवन।
तले-भुने भोजन का अधिक मात्रा में सेवन।
दो भोजन के बीच लंबा अंतर रखना।
लक्षणों को जानें
पेट में गैस बनने के सबसे आम लक्षण हैं- पेट फूलना, पेट में दर्द होना, डकार आना और गैस पास करना। कारणों को समझकर इसका उपचार किया जा सकता है।
डकार लेना
जो लोग खाने के दौरान या बाद में डकार लेते हैं, वे खाने के दौरान ज्यादा मात्रा में हवा निगल रहे होते हैं। ज्यादा डकार का कारण पाचन तंत्र के ऊपरी भाग में पेप्टिक अल्सर जैसी समस्याएं होना भी हो सकता है।
फ्लैटुलेंस
इसे सामान्य भाषा में गैस पास करना कहते हैं। अधिकतर लोग यह नहीं जानते कि एक दिन में 14 से 23 बार गैस पास करना सामान्य बात है। अधिक गैस बनना कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण नहीं होने का संकेत है।
पेट फूलना
पेट गैस की वजह से या बड़ी आंत के कैंसर या हर्निया के कारण भी फूल सकता है। ज्यादा वसायुक्त भोजन करने से पेट देर से खाली होता है। इससे भी पेट फूल जाता है और बेचैनी होती है। किसी अंग का आकार बढऩे से भी पेट फूल सकता है।
पेट दर्द
जब आंत में गैस मौजूद होती है, तब कुछ लोगों को पेट दर्द होता है। जब बड़ी आंत की दायीं ओर दर्द होता है, तो इससे हृदय रोग का भ्रम होता है, लेकिन जब दर्द दायीं ओर होता है, तो यह अपेन्डिक्स हो सकता है।
इन्हें खाने से ज्यादा गैस बनती है
सब्जियां जैसे ब्रोकली, पत्तागोभी, फूलगोभी, प्याज।
फल जैसे नाशपाति, सेब, केला और आड़ू।
साबुत अनाज जैसे गेहूं।

सॉफ्ट ड्रिंक्स और फलों का जूस।
दूध और दूध से बने उत्पाद आदि।
मटर, ब्रेड, सलाद, फलियां।

गैस से बचने के उपाय

कार्बोनेटेड ड्रिंक और वाइन न पिएं, क्योंकि ये कार्बन डाई ऑक्साइड रिलीज करते हैं।
पाइप के द्वारा कोई चीज न पिएं, सीधे गिलास से पिएं।
अधिक तला-भुना और मसालेदार भोजन न करें।
तनाव भी गैस बनने का एक प्रमुख कारण है, इसलिए तनाव से दूर रहने की कोशिश करें।
कब्ज भी इसका एक कारण हो सकता है।
खाने को चबाकर खाएं। दिन में तीन बार मेगा मील खाने की बचाय कुछ-कुछ घंटों के अंतराल पर मिनी मील खाएं।
खाने के तुरंत बाद न सोएं। थोड़ी देर टहलें। इससे पाचन भी ठीक होगा और पेट भी नहीं फूलेगा।
अपनी बायोलॉजिकल घड़ी को दुरुस्त रखने के लिए एक निश्चित समय पर खाना खाएं।
जिन लोगों में लैक्टोस से यह समस्या होती है, वह दूध और दूध से बने उत्पाद न लें या कम लें।
मौसमी फल और सब्जियों का सेवन करें।
अधिक रेशेयुक्त भोजन के साथ अधिक मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें।
खाना पकाते समय सरसों, इलाइची, जीरा और हल्दी का उपयोग करें। इससे गैस कम मात्रा में बनती है।
शारीरिक रूप से सक्रिय रहें।

घर में हैं उपचार

अगर आपको गैस की समस्या है तो आप रोज आधा चम्मच अजवाइन को पानी के साथ ले लें। इसमें थायमोल नामक तत्व होता है, जो पाचक रस उत्पन्न करता है।
जीरे के पानी का सेवन गैस की समस्या का सामान्य उपचार माना जाता है। इसमें अति आवश्यक तेल होते हैं, जो लार ग्रंथियों को उत्तेजित कर पाचन में सहायता करते हैं।
अगर आप लगातार गैस की समस्या से परेशान हैं तो रोजाना खाने के बाद एक चम्मच अदरक के रस में एक चम्मच नीबू का रस मिलाकर ले लें।
गैस के कारण पेट फूल रहा हो तो आधा चम्मच हींग पाउडर को गुनगुने पानी के साथ लें, तुरंत आराम मिलेगा।
आधा चम्मच त्रिफला पाउडर को पानी में डालकर 5 से 10 मिनट उबाल लें। इसे रात में सोने के पहले पी लें, गैस और पेट फूलने से आराम मिलेगा। ध्यान रखें, इसे अधिक मात्रा में न लें, क्योंकि इससे पेट फूलने की समस्या बढ़ सकती है।
लहसुन पाचन की प्रक्रिया को बढ़ाता है और गैस की समस्या को कम करता है। भोजन में इसे जरूर शामिल करें।
दही को अपने डाइट चार्ट में जरूर शामिल करें।
लंबे समय से गैस से पीडि़त हैं तो रोज लहसुन की तीन कलियों और अदरक के कुछ टुकड़ों को खाली पेट खाएं।
पुदीना खाएं। इससे पाचनतंत्र ठीक रहेगा।

गैस की समस्या से बचने के लिए

अपना औसत भार बनाये रखें।
लगातार कई घंटों तक ना बैठें। हर एक घंटे में कुछ मिनट का ब्रेक लें।
लंच करने के बाद थोड़ी देर टहल लें।
लिफ्ट के बजाय सीढिय़ों का प्रयोग करें।
खाना खाने के बाद एक गिलास नीबू पानी पी लें या एक छोटे टिफिन बॉक्स में थोड़ा पपीता काटकर ले जाएं और इसे खाने के बाद खा लें, गैस नहीं बनेगी।
गैस अधिक मात्रा में बन रही हो तो पानी का सेवन अधिक करें।

गैस के कारण पेट फूल रहा है तो एक कप चाय या कॉफी पी लें।

गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत तो नहीं

हालांकि गैस एक अति गंभीर समस्या नहीं है, लेकिन यह पाचन तंत्र से संबंधित गंभीर समस्याओं का संकेत हो सकती है।

कब्ज की समस्या।
फूड एलर्जी की समस्या।
अपच की समस्या।
इरीटेबल बॉउल सिंड्रोम (आईबीएस) की समस्या।
किडनी या गॉल ब्लैडर की पथरी की समस्या।
गॉल ब्लैडर की सूजन।
अपेन्डिक्स की समस्या।
कोलन कैंसर की समस्या।

उपरोक्त अधिकतर मामलों में गैस और पेट फूलने के अतिरिक्त अन्य और भी कई लक्षण दिखाई देते हैं। अगर ऐसी कोई समस्या है तो तुरंत अपने डॉक्टर से मिलें या विशेषज्ञ से संपर्क करें।

Continue Reading

हेल्थ

मोटापा है सबसे बड़ी समस्या, अब आजमाएं ये तरीका

Published

on

नई दिल्ली। दुनिया में मोटापा एक गंभीर समस्या के रूप में फैलता जा रहा है। समय-समय पर इसके लिए जागरुकता लाने के लिए कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है। कार्यक्रम में मोटापे से होने वाली बीमारी, रोकथाम, मोटापे के कारण, पोषण व व्यायाम की जरूरतों के बारे में जानकारी दी जाती है। इस बार कार्यक्रम कर आयोजन नोएडा स्थित जेपी मल्टी सुपर-स्पेशियालिटी हॉस्पिटल ने किया था।

10 मुख्य जोखिमों में से एक मोटापा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने मोटापे को स्वास्थ्य के 10 मुख्य जोखिमों में से एक बताया है। 23 फीसदी से अधिक महिलाएं या तो मोटापे की शिकार हैं या उनका वजन सामान्य से कम है। यह दर पुरुषों (20 फीसदी) की तुलना में अधिक है। मोटापे के बारे में बात करते हुए जेपी हॉस्पिटल के जीआई एंड हेपेटोपेन्क्रिएटोबाइलरी सर्जरी विभाग के निदेशक ने कहा, भारत में ओबेसिटी 21वीं सदी में लगभग महामारी का रूप लेती जा रही है। देश की पांच फीसदी आबादी गंभीर मोटापे की शिकार है। भारत में मोटापे की समस्या आज चीन और अमेरिका के आंकड़ों को भी पार कर चुकी है।

यह हैं कारण

मोटापे के सबसे मुख्य कारण हैं खाने-पीने की गलत आदतें, गतिहीन जीवनशैली, नींद की कमी और तनाव आदि। शारीरिक व्यायाम की कमी और सुस्ती के चलते भारत में मोटापे के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा, मोटापे के कारण शरीर में कुछ हॉर्मोन और अतिरिक्त वसा का निर्माण होने लगता है जो डायबिटीज, उच्च रक्तचाप, डिसलिपिडेमिया, ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया, प्राइमरी स्टर्लिटी जैसी कई बीमारियों का कारण हो सकता है।

इन रोगों की संभावना

इनसे दिल की बीमारियों (हार्ट अटैक, स्ट्रोक) और कई प्रकार के कैंसर (स्तन, अंडाशय, गर्भाशय, अग्नाशय) तथा गुर्दा संबंधित रोगों की संभावना बढ़ जाती है। इससे पहले कि मोटापे के कारण कई बीमारियां आपको जकड़ लें, सर्जरी के विकल्प पर विचार करना चाहिए। सेहतमंद आहार के महत्व पर बात करते हुए जेपी हॉस्पिटल की बेरिएट्रिक काउंसलर एवं न्यूट्रीशनिस्ट श्रुति शर्मा ने कहा, मोटापा भारत में एक बड़ी समस्या बन चुका है।

ऐसा करें

कम कैलोरी एवं पोषक पदार्थों से युक्त आहार का सेवन करने से वजन घटाने में मदद मिलती है। सेहतमंद भारतीय आहार में दालें, अनाज, सब्जियां, फल, डेयरी उत्पाद और मसाले शामिल हैं। पानी का सेवन भरपूर मात्रा में करें तथा चीनी से युक्त पेय पदार्थों जैसे फलों के रस और पेय पदार्थो का सेवन सीमित मात्रा में करें।

Continue Reading

हेल्थ

प्रसव के दौरान महिला की डाक्टरों ने निकाल ली किडनी, लगाई न्याय की गुहार

Published

on

पटना। बिहार में एक महिला की प्रसव के दौरान डाक्टरों ने किडनी निकाल ली। इस खुलासा महिला के पेट में दर्द होने के बाद हुआ। जब उसने अल्ट्रासाउंड कराया तब पता चला कि उसकी एक किडनी गायब है। इस मामले को लेकर पीड़ित महिला ने डीएम-एसपी व सदर थाने में आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है।

यह मामला सुपौल जिले के बैरा गांव का है। पीड़ित महिला आशा देवी ने शिकायत में कहा है कि वो सदर बाजार के एक हॉस्पिटल में प्रसव के लिए भर्ती हुई थी। उसका नर्सिंग होम में डॉ शीला राणा की देखरेख में 27 जुलाई 2017 को पेट का ऑपरेशन हुआ। प्रसव के कुछ दिनों के बाद पीड़िता के पेट में अचानक दर्द होने लगा। इसके बाद महिला ने एक स्थानीय डॉक्टर को दिखाया। डॉक्टर ने मरीज को अल्ट्रासाउंड कराने की सलाह दी। जब आशा देवी का अल्ट्रासाउंड कराया गया, तो रिपोर्ट में एक किडनी नहीं होने की बात सामने आई। हालांकि, अब तक डॉक्टर ने इस मामले में कुछ भी बोलने से मना किया है।

पहले सलामत थी किडनी

महिला के परिजनों का कहना है कि उन्होंने जब महिला का पहले अल्ट्रा साउंड हुआ था तब दोनों किडनी सही सलामत थी। फिर प्रसव होने के बाद महिला बीमार रहने लगी। वो डॉक्टर के पास जाते रहे। फिर करीब 13 महीने बाद अल्ट्रा साउंड रिपोर्ट में एक ही किडनी होने की बात सामने आई। परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर शीला राणा किडनी निकालने का गोरखधंधा करती है। मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच शुरू की गयी है।

क्या बोले डाक्टर

वहीं, किडनी गायब होने के मामले में सिविल सर्जन डॉक्टर घनश्याम झा कहते हैं कि प्रथम दृष्टया में नर्सिंग होम के संचालक व डॉक्टर पर लगे आरोप सच प्रतीत होते हैं। जांच में दोषी होने पर उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
देश1 min ago

मॉर्निंग वॉक पर निकले बीजेपी नेता की हत्या, चार दिनों में दूसरी वारदात, गृहमंत्री ने दिया ये बयान

मनोरंजन30 mins ago

डायरेक्टर ने किया था मेरा यौन उत्पीड़न, समझने में लगे कई साल : एक्ट्रेस स्वरा भास्कर

देश42 mins ago

पूर्व केन्द्रीय मंत्री और पूर्व विधायक कांग्रेस से निष्कासित, जानिए क्यों हुई कार्रवाई

देश48 mins ago

शिवराज ने कमलनाथ को लिखा पत्र, की ये मांग

दुनिया53 mins ago

मेक्सिको में फटी गैस लाइन से अब तक 73 तक की मौत, राष्ट्रपति ने कही ये बात, देखें वीडियो

बिज़नेस1 hour ago

पेट्रोल और डीजल के दाम में बढ़ोतरी जारी, लखनऊ में 1 रुपए प्रति लीटर हुआ सस्ता, जानें अन्य शहरों के दाम

देश1 hour ago

एम्स से डिस्चार्ज हुए BJP अध्यक्ष अमित शाह, स्वाइन फ्लू के बाद हुए थे भर्ती, ट्वीट कर लिखी ये बात

वीडियो2 hours ago

वीडियो : भाजपा विधायक ने मायावती पर की अमर्यादित टिप्पणी, कहा-वह तो किन्नर से भी ज्यादा बदतर

राज्य16 hours ago

कन्नौज : ज्यादा डिफाल्टर शिकायतों वाले विभागों को मिली तीन दिन में सुधार की अंतिम चेतावनी

राज्य16 hours ago

श्रावस्ती : पांच साल की मासूम के साथ दुष्कर्म, आरोपी मौके से गिरफ्तार

राज्य16 hours ago

अयोध्या : विधायक की पैरोकारी और पीड़ित की गुहार के बावजूद सीमा गुप्ता की हत्या की रिपोर्ट दर्ज नहीं

राज्य16 hours ago

सुल्तानपुर में बदमाशों ने पत्रकार को मारी गोली, हालत गम्भीर

राज्य16 hours ago

अयोध्या : इनायत नगर से भटककर महिला थाने पहुंची युवती को किया मां के हवाले

राज्य20 hours ago

नागरिकों को जल, पर्यावरण पर दी गई जानकारी

हेल्थ21 hours ago

ऐसा करने से दूर होगी गैस की समस्या, ये हैं उपाय

मनोरंजन22 hours ago

41 साल बाद बनने जा रही ‘पति पत्नी और वो’ की रीमेक फिल्म, ये बॉलीवुड एक्टर्स आएंगे नजर

दुनिया22 hours ago

दुनिया का दूसरा सबसे अमीर शख्स बर्गर लेने के लिए खड़ा हुआ लाइन में, तस्वीर हुई वायरल

देश22 hours ago

महारैली : मोदी के खिलाफ एक मंच पर आए 26 दल, पढ़ें किस नेता ने कैसे पीएम व भाजपा पर बोला हमला

राज्य7 days ago

CM योगी बोलें, 10 सीटें भी मायावती देतीं तो नाक रगड़कर ले लेते अखिलेश, पढ़ें बड़ी बातें

देश4 weeks ago

आईपीएस अफसरों को नये साल का तोहफ़ा, 28 आईपीएस अफसरों को मिला प्रमोशन

राज्य4 weeks ago

युवक ने बड़ी बहन से बनाया अवैध संबंध फिर कर दी हत्या, छोटी बहन जागी तो उसे भी मार डाला

देश2 weeks ago

लखनऊ में IAS बी चंद्रकला के आवास पर सीबीआई का छापा, हमीरपुुर-जालौन सहित 12 जगहों पर भी रेड

देश2 weeks ago

सियासी अटकलों पर विराम : शिवपाल नहीं सपा के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे मुलायम, सीट की भी हुई घोषणा

देश2 days ago

शादी में चली गोली दुल्हन को लगी गोली, फिर भी लड़खड़ाते हुए लिए फेरे

देश4 days ago

IAS बी चंद्रकला ने ‘रंगरेज’ के बाद फिर दिखाया शायराना अंदाज, लिखा-‘जानेमन, तुम छिप-छिप कर आना’

देश1 week ago

मायावती ने ली शिवपाल पर चुटकी तो हंस पड़े अखिलेश, फिर शिवपाल ने भी कह दी ये बात

राज्य4 weeks ago

लव, सेक्स और धोखा : पढ़ें, इंटरनेशनल मर्डर मिस्ट्री की हैरान कर देने वाली घटना, ऐसे हुआ खुलासा

देश2 days ago

यूपी में लागू हुआ 10% सवर्ण आरक्षण, योगी सरकार ने दी मंजूरी, इन 14 बड़े फैसलों पर भी लगी मुहर

राज्य1 week ago

एसडीएम ने किया बीटीसी छात्रा के साथ बलात्कार, बोला था ये झूठ, बीवी के फोन से खुला राज

राज्य3 weeks ago

युवती ने एक बच्चे की मां संग रचाई शादी, अब कर रही ऐसी मांग

देश1 week ago

कांग्रेस की महिला नेता से भाजपा नेता के थे अवैध संबंध, फिल्म देख बेटों संग कर दी हत्या

राज्य2 weeks ago

यूपी में 64 IPS अधिकारियों के हुए तबादले, जानें किसे कहां मिली तैनाती, देखें पूरी लिस्ट

वीडियो6 days ago

Video : ऑपरेशन थिएटर में डाक्टर की शर्मनाक हरकत, नर्स से किस करते वीडियो हुआ वायरल

टेक्नोलॉजी2 weeks ago

नोकिया 106 भारत में लांच, कीमत मात्र इतने रुपए, जानिए क्या है फीचर

मनोरंजन2 weeks ago

देखें वीडियो : फोटोशूट के दौरान नेहा कक्कड़ ने उतार दिया गाउन, साथ खड़े सोनू निगम रह गए हैरान

देश3 days ago

गठबंधन में RLD भी शामिल : पश्चिमी यूपी की 22 में से 11 सीटों पर लड़ेगी बसपा, सपा को 8, देखें लिस्ट

Trending