Connect with us

मनोरंजन

शरद केलकर पॉजिटिव इंसान है, बुरी स्थिति से बाहर आने के बारे में जानते है

Published

on

नई दिल्ली। एक्टर शरद केलकर का मानना है कि लॉकडाउन ने उन्हें धैर्य रखना सिखाया है। शरद ने बताया, “लॉकडाउन ने मुझे धैर्य रखना सिखाया है, क्योंकि मैं इतने दिनों तक घर पर कभी नहीं बैठा था।

शरद ने आगे बोला, “मैं एक पॉजिटिव आदमी हूं। अगर मैं ‘नरक’ की स्थिति में आ जाऊं तो मुझे पता है कि मुझे कैसे बाहर निकलना है। अगर मेरे सामने मुश्किल आती है तो मुझे लगता है कि आगे मेरे लिए कुछ बड़ा व बेहतर है। लेकिन अभी यह एक कठिन मुश्किल टाइम है और हमें धैर्य रखना सीखना है।

एक्टर एक अच्छे डबिंग कलाकार है, उन्होंने पिछले दिनों प्रभास की ‘बाहुबली’ सीरीज के डब संस्करण में भूमिका के लिए अपनी आवाज दी है। वह बोलते है कि वह सकारात्मकता में विश्वास करते हैं।

शरद केलकर साल 2004 में दूरदर्शन के शो ‘आक्रोश’ से एक्टिंग जगत में कदम रखने वाले एक्टर ने लॉकडाउन को लेकर बोला, “मुझे अपने परिवार के साथ बिताने के लिए अच्छा टाइम समय मिल गया, खासकर अपनी बेटी के साथ।

शरद केलकर के वर्क फ्रंट की बात करें तो शरद अक्षय कुमार-स्टारर ‘लक्ष्मी बम’ व अजय देवगन-स्टारर ‘भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया’ में दिखाई देंगे।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Trending