सपना चौधरी ने तोड़ा फैन्‍स का दिल तो अदालत ने जारी कर दिया गिरफ्तारी वारंट

हरियाणवी सिंगर और डांसर सपना चौधरी पर अपने फैन्‍स का दिल तोड़ने का आरोप लगा है। बड़ी बात यह है कि यह मामला अदालत तक पहुंच गया है। लखनऊ की एक अदालत ने सपना चौधरी के खिलाफ एक कार्यक्रम को मनमाने तरीके से रद्द करने और टिकट खरीदने वालों को उनका धन वापस नहीं करने के मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी किया। 
 
Sapna Choudhary.jpg
सपना चौधरी ( Sapna Choudhary)

लखनऊ। हरियाणवी सिंगर और डांसर सपना चौधरी (Haryanvi Singer and Dancer Sapna Choudhary) पर अपने फैन्‍स का दिल तोड़ने का आरोप लगा है। बड़ी बात यह है कि यह मामला अदालत तक पहुंच गया है। लखनऊ की एक अदालत ने सपना चौधरी के खिलाफ एक कार्यक्रम को मनमाने तरीके से रद्द करने और टिकट खरीदने वालों को उनका धन वापस नहीं करने के मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी किया। 

अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट शांतनु त्यागी की अदालत ने  ( Sapna Choudhary)  के खिलाफ वारंट जारी करते हुए मामले की अगली सुनवाई की तारीख 22 नवंबर नियत की है। दारोगा फिरोज खान ने 14 अक्टूबर 2018 को इस सिलसिले में आशियाना थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। इस मुकदमे में सपना के अलावा कार्यक्रम के आयोजक जुनैद अहमद, नवीन शर्मा, इवाद अली, अमित पांडे और रत्नाकर उपाध्याय को भी आरोपी बनाया गया था। 

सपना चौधरी पर आरोप 

मुकदमे में आरोप है कि सपना चौधरी ( Sapna Choudhary) को 13 अक्टूबर 2018 को स्मृति उपवन में कार्यक्रम पेश करना था। इसके लिए 300 रुपये प्रति टिकट की दर से टिकट बेचे गए थे। कार्यक्रम के लिए स्मृति उपवन में हजारों की संख्या में लोग आए थे लेकिन जब सपना रात 10 बजे तक कार्यक्रम स्थल पर नहीं पहुंचीं तो भीड़ ने टिकट का धन वापस देने की मांग को लेकर हंगामा किया था। हालांकि, उन्हें पैसे वापस नहीं किए गए। 

कोर्ट खारिज कर चुकी है सपना की याचिका 

अदालत इस प्रकरण में मामला खत्म करने के अनुरोध वाली सपना चौधरी की याचिका को पहले ही खारिज कर चुकी है। उधर, एक अन्‍य मामले में लखनऊ के गोमतीनगर थाने में शाइन सिटी के खिलाफ साढ़े चार लाख और स्वास्तिक इंफ्राटेक पर सवा पांच लाख रुपये ऐंठने का केस दर्ज हुआ। बिजनौर निवासी डॉ. कृष्णपाल सिंह के अनुसार स्वास्तिक इंफ्राटेक ने गोसाईंगंज में प्लॉट देने की बात कही थी। कृष्णपाल सिंह ने सवा पांच लाख रुपये चुकाए थे। इसके बाद भी उन्हें पीड़ित ने डीसीपी पूर्वी से मुलाकात कर शिकायत की थी।जिनके निर्देश पर मुकदमा दर्ज किया गया है।