Connect with us

Coronavirus

कोरोना से लड़ने जल्द आरहा है ये जानवर जो देंगे कोरोना को मात

Published

on

हेलसिंकी – कोरोना वायरस से जंग के लिए फिनलैंड में अब कुत्‍तों को ट्रेनिंग दी गई है। ये कुत्‍ते सूंघकर कोरोना वायरस का पता लगा रहे हैं। हेलसिंकी विश्‍वविद्यालय के शोधकर्ताओं के मुताबिक कुत्‍तों को कोविड-19 के वायरस को सूंघकर पहचानने की ट्रेनिंग दी गई है। अभी आमतौर पर खून की जांच या पीसीआर टेस्‍ट के जरिए कोरोना वायरस का पता लगाया जाता है।

खबरों के मुताबिक फिनलैंड के शोधकर्ताओं ने कोरोना वायरस पीड़‍ित मरीजों के यूरिन के नमूने लेकर कुत्‍तों को कोविड-19 वायरस को पकड़ने की ट्रेनिंग दी गई है। इस शोध से जुड़ी अन्‍ना हेइल्‍म-बजोर्कमैन ने कहा, ‘यह शोध हमारी अपेक्षा से बेहतर रहा। कुत्‍तों ने पहले कैंसर और अन्‍य बीमारियों की पहचान की है लेकिन हम बेहद आश्‍चर्य में रह गए कि कितनी आसानी से कुत्‍तों ने कोरोना वायरस की पहचान कर ली।’

बजोर्कमैन ने दावा किया कि जब कोरोना वायरस से संक्रमित खून के नमूनों को 4 गैर कोरोना वायरस संक्रम‍ित नमूनों के साथ रखा गया तो कुत्‍तों ने संक्रमित नमूनों की बेहद आसानी से पहचान कर ली। एक शोधकर्ता ने तो यहां तक दावा कर दिया कि स्‍पेनिश ग्रेहाउंड कुत्‍ता कोस्‍सी पीसीआर टेस्‍ट और एंटीबॉडी टेस्‍ट से बेहतर तरीके से कोरोना वायरस की पहचान कर ले रहा है।

 

 

अगर यह प्रयोग सफल हो जाता है तो यह कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई को बदल सकता है। कुत्‍तों का इस्‍तेमाल कोरोना वायरस से पीड़‍ित कम गंभीर मरीजों की पहचान के लिए किया जा सकता है। इस शोध के सामने आने के बाद दुनियाभर से इसके बारे में पूछताछ की जा रही है। बता दें कि दुनियाभर में कोरोनोवायरस के मामलों की कुल संख्या 1.51 करोड़ का आंकड़ा पार कर गई है, जबकि इससे होने वाली मृत्यु की संख्या 621,800 से अधिक हो गई है। गुरुवार की सुबह तक कुल मामलों की संख्या 15,166,401 थी, जबकि इससे होने वाली मौतों की संख्या 621,890 तक पहुंच गई है।

Trending