Connect with us

Coronavirus

उत्तर प्रदेश में मास्क अनिवार्य, बिना लगाए घर से नहीं निकल पाएंगे

Published

on

फैसला

-66 करोड़ खादी के ट्रिपल लेयर स्पेशल मास्क तैयार कराएगी सरकार

-गरीबों को फ्री तो अन्य लोगों को काफी सस्ते दाम में मिलेंगे यह मास्क

लखनऊ। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए उत्तर प्रदेश में मास्क अनिवार्य कर दिया गया है। अब बिना मास्क के घर से बाहर निकलने की बिल्कुल अनुमति नहीं होगी। इसके लिए सरकार गरीबों को फ्री में खादी के मास्क उपलब्ध कराएगी। ये उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को अधिकारियों संग बैठक में कही

मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि लॉकडाउन समाप्त होता है तो एपेडमिक एक्ट के तहत सबको पहनना मास्क होगा। यूपी सरकार 23 करोड़ जनता के लिए 66 करोड़ खादी के ट्रिपल लेयर स्पेशल मास्क तैयार कराएगी। ये स्पेशल मास्क, ग़रीबों को फ्री में मिलेगा। वहीं अन्य लोगों यह बेहद सस्ते दाम में उपलब्ध होगा। खादी मास्क कपड़े का रीयूज वाला वाशेबुल मास्क होगा।

15 अप्रैल से कुछ शर्तों के साथ खुल सकता है लॉकडाउन

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए 14 अप्रैल तक पूरे देश में लॉकडाउन है। बाजार बंद हैं। ट्रेनें, बसें, हवाई जहाज, टैक्सियां कुछ भी नहीं चल रहा। ऐसे में सरकार ने लॉकडाउन खोलने की तैयारियों पर चर्चा शुरू कर दी है। शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस संबंध में अधिकारियों के साथ बैठक की। जिसमें कहा गया लॉकडाउन खुलने का मतलब पूरी छूट नहीं होगा। यूपी सरकार 14 अप्रैल के बाद लोकडाउन हटने की सूरत में कई बन्दिशें बरकरार रखेगी। इसका मकसद अफ़रातफ़री को रोकना व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का है।

Coronavirus

दावा : कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए ये चाय है कारगर, जानिए कैसे करती है काम

Published

on

नई दिल्ली। कोविड-19 से लड़ने के लिए इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) का मानना है कि एचआईवी-रोधी दवाओं की तुलना में चाय रसायन भी प्रतिरक्षा बढ़ाने और कोरोना वायरस गतिविधि को अवरुद्ध करने में अधिक प्रभावी हो सकते हैं। हिमाचल प्रदेश के पालमपुर में स्थित हिमालय जैवसंपदा प्रौद्योगिकी संस्थान (आईएचबीटी) के निदेशक डॉ संजय कुमार ने इस तथ्य का खुलासा किया है। कांगड़ा चाय के बारे में बोलते हुए यह बात उन्होंने अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस के मौके पर आईएचबीटी में आयोजित एक वेबिनार के दौरान कही है।

चाय में पाए गए रसायन जो कोरोनावायरस से लड़ते हैं

डॉ संजय कुमार ने बताया कि चाय में ऐसे रसायन होते हैं जो कोरोनावायरस की रोकथाम में एचआईवी-रोधी दवाओं की तुलना में अधिक प्रभावी हो सकते हैं। वैज्ञानिकों ने कंप्यूटर-आधारित मॉडल का उपयोग करते हुए जैविक रूप से सक्रिय 65 रसायनों या पॉलीफेनोल्स का परीक्षण किया है, जो विशिष्ट वायरल प्रोटीन को एचआईवी-रोधी दवाओं की तुलना में अधिक कुशलता से बांध सकते हैं। ये रसायन उन वायरल प्रोटीन्स की गतिविधि को अवरुद्ध कर सकते हैं, जो मानव कोशिकाओं में वायरस को पनपने में मदद करता है। वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद से संबद्ध आईएचबीटी अपने प्रौद्योगिकी साझेदारों के साथ मिलकर चाय आधारित प्राकृतिक सुगंधित तेलों से युक्त अल्कोहल हैंड सैनिटाइजर का भी उत्पादन व आपूर्ति कर रहा है।

चाय के सिरके में मोटापा-रोधी गुण

आईएचबीटी में चाय के अर्क के उपयोग से हर्बल साबुन भी बनाया गया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि यह साबुन प्रभावी रूप से फफूंद-रोधी, जीवाणु-रोधी व वायरस-रोधी गुणों से लैस है। हिमाचल की दो कंपनियों द्वारा इस साबुन का उत्पादन व विपणन किया जा रहा है। इस अवसर पर टी-विनेगर (चाय के सिरके) की तकनीक धर्मशाला की कंपनी मैसर्स काश आई विशको हस्तांतरित की गई है। चाय के सिरके में मोटापा-रोधी गुण होते हैं।

इसके अतिरिक्त आयुष द्वारा सिफारिश की गई जड़ी-बूटियों से युक्त हर्बल ग्रीन और ब्लैक टी उत्पादों को भी लॉन्च किया गया है। इन उत्पादों को सीएम स्टार्ट-अप योजना के तहत मंडी के उद्यमी परितोष भारद्वाज द्वारा विकसित किया गया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि कोविड-19 के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने हेतु ये उत्पाद बहुत उपयोगी हो सकते हैं।

Continue Reading

Coronavirus

कोरोना: उत्तराखंड में टूटा रिकार्ड, 19 केस मिले, 130 पहुंची मरीजों की संख्या

Published

on

By

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना के मरीजों के मिलने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। बुधवार को यहां रिकार्ड 19 मरीज मिले हैं। इसमें से सबसे अधिक 6 केस टिहरी के हैं। वहीं उधमसिंह नगर में चार लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं। इसके साथ ही राज्य में कोरोना की मरीजों की संख्या 130 पहुंच गई है।

इन जिलों में मिले केस

स्वास्थ्य सचिव नितेश झा ने बताया कि बुधवार को उत्तराखंड 19 मरीजों के सैंपल पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें टिहरी, अल्मोड़ा, हरिद्वार, उधमसिंह नगर, उत्तरकाशी, देहरादून और नैनीताल के मरीज शामिल हैं।

53 मरीज ठीक हुए

इसके अलावा एम्स में भर्ती बिजनौर के एक व्यक्ति में भी कोरोना की पुष्टि हुई है। बुधवार को मिले कोरोना मरीजों में से 10 प्रवासी, जबकि बाकी उनके संपर्क में आए लोग हैं। राज्यभर के अस्पतालों में अब कुल 71 मरीजों का इलाज चल रहा है। जबकि 53 मरीज इलाज के बाद ठीक होकर घर जा चुके हैं।

Continue Reading

Coronavirus

उत्तराखंड में नहीं थम रहा कोरोना कहर, 9 नए केस मिले , 120 पहुंची मरीजों की संख्या

Published

on

By

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीती रात से बुधवार दोपहर तक राज्य में कोरोना संक्रमित 9 नए मरीज मिले हैं। इनमें जनपद ऊधमसिंह नगर में 4, नैनीताल में दो और अल्मोड़ा, उत्तरकाशी तथा हरिद्वार के रुड़की में एक-एक मरीज की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

इस बीच राजधानी देहरादून के एक कोरोना मरीज को स्वस्थ होने पर आज अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इसकी पुष्टि अपर सचिव (स्वास्थ्य) युगल किशोर पंत ने यहां की।

इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 120 हो गई है, जिनके सापेक्ष 53 मरीज स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज किए जा चुके हैं जबकि 66 मरीज उपचाराधीन हैं। कोरोना संक्रमित एक महिला मरीज की पहले ही एम्स (ऋषिकेश) में मौत हो चुकी है।

बता दें कि मंगलवार को राज्य में एक ही दिन में रिकार्डतोड़ 15 कोरोना संक्रमित मरीज मिले थे। प्रदेश में पहला कोरोना संक्रमित मामला 15 मार्च को आया था। इसके बाद से 16 मई को प्रदेश में सबसे अधिक 9 संक्रमित मामले मिले थे।

Continue Reading

Trending