Connect with us

Coronavirus

ICMR ने कहा : कोरोना के हवा से फैलने का कोई प्रमाण नहीं

Published

on

नई दिल्ली। भारत में कोरोना महामारी का कहर बढ़ता जा रहा है। 29 राज्य इससे प्रभावित है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि देश में कोविड 19 के अब तक कुल 3374 मामले सामने आए हैं। कल से 472 नए मामले समाने आ चुके हैं। इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 79 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 267 लोग ठीक हो हुए हैं। वहीं भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने कहा कि कोरोना के हवा से फैलने का कोई प्रमाण अभी तक नहीं मिला है।

स्वास्थ्य मंत्रालय की रविवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना का प्रकोप देश के 29 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में फैल चुका है और अब तक इसके 3374 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इनमें 65 विदेशी मरीज भी शामिल हैं।

देश के 399 जिलों में मास्क का प्रोडक्शन शुरू

लव अग्रवाल ने बताया कि देश के 399 जिलों में मास्क का प्रोडक्शन शुरू हो गया है। 24 राज्यों के 399 जिलों के 14,522 स्वयं सहायता समूह ने मास्क बनाने का काम शुरू कर दिया है। इन समूह के करीब 65 हजार लोग मास्क बनाने के काम में जुटे हैं ।

पीपीई का समझदारी से करें प्रयोग

राज्यों में पीपीई की कमी के सवाल पर स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने कहा कि मौजूदा समय में पीपीई की कोई कमी नहीं है लेकिन राज्यों को मौजूदा पीपीई का इस्तेमाल बड़े समझदारी से करना चाहिए। चूंकि पीपीई के लिए उपकरण विदेशों से आयात किए जाते थे, इसलिए इसके घरेलू उत्पादन के विकल्प को खंगाला गया है। विदेशों से भी इसे आयात करने में मंत्रालय काम कर रहा है। उम्मीद है कि जल्दी ही पीपीई प्राप्त हो जाएगा। लेकिन तबतक राज्य मौजूदा पीपीई का इस्तेमाल जरुरत पड़ने पर ही करें।

बुधवार से शुरू होगा रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट

आईसीएमआर के वैज्ञानिक डॉ. रमण आर गंगाखेडकर ने बताया कि रेपिड एंटीबाडी टेस्ट को अनुमति दे दी गई है। बुधवार से टेस्ट किट मिल जाएंगे तो यह शुरू किया जाएगा। इस संबंध में आईसीएमआर ने विस्तृत दिशा-निर्देश भी तैयार किया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने बताया कि यह टेस्ट घनी आबादी वाले कोरोना प्रभावित क्षेत्रों, जमावड़े वाले स्थान पर, कोरोना पॉजिटिव मिलने वाले स्थानों और सर्दी-जुखाम के लक्षण वाले लोगों पर किया जाएगा।

राज्य प्रभावी ढंग से लागू कर रहे लॉकडाउन

वहीं गृह मंत्रालय संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने बताया कि राज्य लॉकडाउन को प्रभावी ढंग से लागू कर रहे हैं। आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की स्थिति संतोषजनक है। उन्होंने कहा कि 27,661 राहत शिविर और आश्रय पूरे भारत में सभी राज्यों में स्थापित किए गए हैं – 23,924 सरकार द्वारा और 3,737 गैर-सरकारी संगठनों द्वारा स्थापित किए गए हैं। 12.5 लाख लोगों को इससे आश्रय मिला है। 19,460 खाद्य शिविर भी लगाए गए हैं।

Trending