Connect with us

Coronavirus

Covid 19 : पीक खत्म, अब कमजोर हो रहा कोरोना

Published

on

  • बीते एक महीने में प्रतिदिन संक्रमितों से ज्यादा मरीजों के स्वस्थ होने की रफ्तार तो यही बयां कर रही
  • प्रदेश के अलग-अलग जिलों में अगस्त व सितंबर में आया कोरोना का पीक

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना का पीक आ चुका है। अब यह जानलेवा वायरस लगातार कमजोर हो रहा है। प्रदेश में बीते एक महीने में प्रतिदिन संक्रमितों से ज्यादा मरीजों के स्वस्थ होने की रफ्तार बयां कर रही है कि कोरोना अब सूबे से वापस लौट रहा है। हालांकि खतरा टला नहीं है। इसलिए वैक्सीन आने तक सतर्कता और कोविड—19 प्रोटोकॉल का पालन और भी ज्यादा जरूरी हो गया है।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद के मुताबिक प्रदेश के अलग-अलग जनपदों में कोरोना के उच्चतम स्तर की स्थिति समाप्त हो गई है। उन्होंने बताया कि राज्य में 4 से 9 अगस्त के बीच 9 जनपदों में कोरोना उच्चतम स्तर पर था। 13 से 18 अगस्त के बीच 9 अन्य जनपदों में यह स्थिति रही। 21 से 27 अगस्त के बीच 3 जनपदों, 2 से 7 सितम्बर के बीच 10 जनपदों, 8 से 15 सितम्बर के बीच 14 जनपदों, 16 से 24 सितम्बर के बीच 16 जनपदों और 20 सितम्बर से 7 अक्टूबर के बीच 4 जनपदों में कोरोना संक्रमण उच्चतम स्तर पर पाया गया।

अमित मोहन ने कहा कि राहत की बात यह है कि 75 जनपदों और सबसे बड़ा आबादी वाला राज्य होने के बावजूद यूपी में सभी जनपदों में एक साथ ‘पीक’ की स्थिति उत्पन्न नहीं हुई। सभी जिलों में अलग-अलग समय में कोरोना के मामले अपने उच्चतम स्तर पर पहुंचे। अगर पूरे राज्य में एक साथ यह स्थिति आती तो बड़ी संख्या में एक दिन में सक्रिय मामलों की संख्या काफी बढ़ जाती।

उन्होंने बताया कि सूबे में दो मार्च को संक्रमण का पहला मामला सामने आया था। इसके बाद ग्राफ बढ़ते—बढ़ते 17 सितम्बर को सक्रिय मामलों की संख्या चरम पर 68,235 पहुंच गई। फिर गिरावट का जो सिलसिला जारी हुआ, वह अब तक जारी है। वर्तमान में 29,131 सक्रिय मामले हैं, जो चरम स्थिति से 39,104 कम हैं। ये स्थिति राज्य में अगस्त के शुरुआती दिनों के बराबर है।

Trending