पेट्रोल-डीजल में जबरदस्त बढ़ोतरी, नए साल में अबतक पेट्रोल 7.51 व डीजल 7.38 रुपये महंगा

नई दिल्ली। देश में सरकारी तेल कंपनियों की ओर से लगातार पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि का सिलसिला चल ही रहा है। डीजल और पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि के बाद दिल्ली और मुंबई में अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। इन दोनों शहरों में पेट्रोल की कीमत अपने सर्वोच्च स्तर पर है। इसके साथ ही दिल्ली में पेट्रोल का दाम 90.58 रुपये जबकि डीजल का दाम 80.97 रुपये पहुंच गया है। वहीं मुंबई में पेट्रोल की कीमत 97 रुपये व डीजल की कीमत 88.06 रुपये प्रति लीटर पर  पहुंच गई है।

वहीं, कच्चे तेल के भावों में आई नरमी के कारण पेट्रोल और डीजल के दामों में पिछले 12 दिनों से चली आ रही तेजी पर रविवार को ब्रेक लग गया। तेल कंपनियों ने रविवार को पेट्रोल और डीजल के दामों में कोई बदलाव नहीं किया। जयपुर में अब पेट्रोल 97.10 रुपये और डीजल 89.44 रुपये प्रति लीटर हो गया है। नए साल में पेट्रोल और डीजल के दामों में 24 बार बढ़ोतरी की गई है। नए साल में अब तक पेट्रोल के दाम 7 रुपये 51 पैसे और डीजल के दाम में 7 रुपये 38 पैसे प्रति लीटर महंगा हो चुका है।

पेट्रोल और डीजल के लगातार बढ़ते दामों के कारण राज्य के श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ में पेट्रोल की दरें सौ रुपये पार जा पहुंची है। सरकारी तेल कंपनियां 9 फरवरी से लगातार पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ा रही है। आमजन की समस्या को देखते हुए गहलोत सरकार ने पिछले दिनों वैट में दो प्रतिशत की कटौती कर वाहनचालकों को राहत देने का प्रयास किया था, लेकिन लगातार बारह दिन तक दामों में बढ़ोतरी होने से कटौती की राहत बेअसर हो गई। वैट में दो प्रतिशत की कटौती के बाद जयपुर में पेट्रोल के भाव 1 रुपए 35 पैसे कम हुए थे और डीजल के दाम 1 रुपए 32 पैसे कम हुए थे।

केन्द्रीय बजट के बाद पेट्रोल और डीजल के भावों में अब इससे अधिक बढ़ोतरी हो चुकी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को ही में ट्वीट कर पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ रहे दामों पर सरकार की तरफ से सफाई दी थी। पेट्रोलियम कंपनियां रोजाना सुबह छह बजे पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव करती है। सुबह छह बजे से ही नई दरें लागू हो जाती हैं। पेट्रोल व डीजल के दाम में कीमत में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और अन्य शुल्क जोडऩे के बाद इसका दाम दोगुुुनेे से ज्यादा हो जाता है।