Connect with us

बिज़नेस

कारोबारी सप्ताह के आखिरी दिन शेयर बाजार में मायूसी, 219 अंक फिसला सेंसेक्स

Published

on

मुंबई। कारोबारी सप्ताह के आखिरी दिन शेयर बाजार में भारी कमजोरी दिखाई दे रही है। बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 219.45 अंक या 0.55 फीसदी टूटकर 39383.20 अंक तक लुढ़क चुका है, वहीं एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी -53.60 या -0.45 फीसदी की कमजोरी के साथ 11,778.15 अंक तक फिसला है। एक दिन ही शेयर बाजार में भारी उछाल देखी गई थी लेकिन भारतीय शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के अंतिम दिन शुक्रवार को गिरावट के साथ लाल निशान में खुले हैं। बंबई स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 159 अंकों की गिरावट के साथ 39,442 अंकों पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का 50 शेयरों का संवेदी सूचकांक निफ्टी 44 अंकों की गिरावट के साथ 11,787 अंकों पर खुला था।

एशियाई बाजारों में कमजोरी का रुख

अगले महीने फेडरल बैंक की ओर से ब्याज घटाने की उम्मीद से गुरुवार को अमेरिकी बाजारों में करीब एक फीसदी की तेजी दर्ज की गई। एस एंड पी 500 इंडेक्स ने नई उंचाई हासिल की थी। अमेरिकी बाजार का डाओ जोंस सूचकांक 249.17 अंक की उछाल के साथ 26753.17 अंक पर और नैस्डेक इंडेक्स 64.02 अंक की बढ़त लेकर 8051.34 अंक पर क्लोज हुआ था। हालांकि शुक्रवार को एशियाई बाजारों में कमजोरी का रुख देखा जा रहा है। एसजीएक्स निफ्टी भी लाल निशान में कारोबार कर रहा है। एशियाई बाजारों में जापान का निक्केई 225 इंडेक्स -213.09 अंक तक लुढ़क कर 21249.77 अंक पर पहुंच गया है। वहीं हैंग सेंग इंडेक्स में -124.94 अंक और कोस्पी इंडेक्स में -7.93 अंक की गिरावट देखी गई है। हालांकि ताइवान सूचकांक में 2.10 और शंघाई कम्पोजिट इंडेक्स 18.24 अंक की उछाल में कारोबार कर रहे हैं।

मामूली बढ़त लेकर हरे निशान में कारोबार

वैश्विक शेयर बाजारों के मिले-जुले रुझानों से भारतीय बाजारों ने सुस्ती के साथ कारोबार की शुरुआत की। सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही सूचकांक लाल निशान में कारोबार कर रहे हैं। मिडकैप और स्मॉल कैप कंपनियों के शेयरों से भी बाजार को सपोर्ट नहीं मिल रहा है। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 0.58 फीसदी टूटकर 14621.89 अंक पर नजर आ रहा है। बीएसई 100 इंडेक्स में 59.94 अंक या 0.50 फीसदी की गिरावट देखी जा रही है। हालांकि एक मात्र स्मॉलकैप इंडेक्स की कंपनियों के शेयर्स 8.13 अंक या 0.06 फीसदी की मामूली बढ़त लेकर हरे निशान में कारोबार कर रहा है।

30646 अंक तक फिसल गया बैंकिंग शेयर

बाजार में सुबह से ही चौतरफा बिकवाली हावी है। बैंकिंग शेयर में बिकवाली के दबाव में 0.44 फीसदी की कमजोरी के साथ 30646 अंक तक फिसल गया है। इसके अलावा ऑटो इंडेक्स 1.1 फीसदी, रियल्टी इंडेक्स 1.2 फीसदी, फॉर्मा इंडेक्स 1.3 फीसदी, एफएमसीजी इंडेक्स 0.39 फीसदी, प्राइवेट बैंक इंडेक्स 0.55 फीसदी की कमजोरी में ट्रेंड कर रहे है। मेटल और पीएसयू बैंक इंडेक्स ही हरे निशान में कारोबार करते दिख रहे हैं। मेटल इंडेक्स में 0.27 फीसदी और पीएसयू बैंक इंडेक्स 0.15 फीसदी की तेजी के साथ हरे निशान में कारोबार कर रहा है।

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स सूचकांक

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स सूचकांक पर लक्ष्मी विलास के शेयर +9.96 फीसदी, सुजलॉन +8.78 फीसदी, जे एंड के बैंक +8.56 फीसदी और जयप्रकाश के शेयर्स +7.85 फीसदी की उछाल दर्ज कर चुके हैं। जेट एयरवेज के शेयर्स कल की तेज उछाल के बाद आज -15.00 फीसदी से ज्यादा टूट चुके हैं। शोभा के शेयर भी -6.78 फीसदी, अरबिंदो फॉर्मा के शेयर -5.08 फीसदी और स्पाइस जेट के शेयर -4.71 फीसदी तक लुढ़क चुके हैं। https://kanvkanv.com

बिज़नेस

ब्रांड से तौबा, लोग लौट रहे पुराने सुनार के पास

Published

on

By

पिछले कुछ वर्षों में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में विकास बहुत तेजी देखने को मिला है, चाहे वह शिक्षा हो, स्वास्थ्य हो या बड़े- बड़े ब्रांड का खुलना हो। परन्तु पिछले कुछ समय के अंतराल में बड़े ब्रांड की बिक्री में भारी गिरावट आई है, खासतौर पर अगर बात करें ज्वेलरी की तो, हाल ही में अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी का फ्राड सामने आने के बाद लोगों ने बड़े ब्रांड से थोड़ा दूरी बनाई है और अपने पुराने ज्वैलर और कारोबारियों पर भरोसा जताया है, शादी का सीजन चल रहा है और लखनऊ शहर के पुराने ज्वेलरी शॉप में भीड़ लगी हुई है।

इसका कारण जानने के लिए हमारे रिपोर्टर ऐसी ही एक सौ वर्ष पुरानी दुकान, बद्री प्रसाद गोपाल जी ज्वेलर्स, महानगर लखनऊ पहुंचे, वहां मिली जानकारी के अनुसार उन्हें हर प्रकार की आधुनिक ज्वेलरी, सभी प्रकार के डिजाइन और उच्चतम क्वालिटी, अपने पुराने ज्वेलर्स के पास ही मिल रही है तो किसी बाहरी ब्रांड के पास जाने का कोई फायदा नहीं दिखता। जैसी राय मिली, वहीं एक दूसरे ग्राहक के अनुसार उन्होंने अपने पुराने ज्वेलर्स पर भरोसा जताते हुए बताया की यहाँ हमें ना पेमेंट की कोई टेंशन होती है ना ही मोल -भाव की, हमारी सहूलियत के हिसाब से सब मौजूद है, कोई पुरानी ज्वेलरी में बदलाव कराना हो तो वो भी अपने हिसाब से कराया जा सकता है।

बद्री प्रसाद गोपाल जी ज्वेलर्स के मालिक गोपाल केसरवानी जी के अनुसार वह अपने आभूषणों की शुद्धता व सुंदरता पर खास ध्यान देते हैं ,साथ ही साथ वह इस बात का खास ध्यान रखते हैं कि उनके किसी भी ग्राहक को किसी प्रकार की भी परेशानी उठाना ना पड़े, चाहे वह रेट की बात हो, पेमेंट प्रॉब्लम हो या लेटेस्ट ज्वेलरी डिज़ाइन की डिमांड हो, वह अपने ग्राहकों की हर जरूरत को पूरा करने की कोशिश में रहते हैं।

 

Continue Reading

बिज़नेस

कोरोना वायरस ले डूबा एक दिन में 6 लाख करोड़,अब तक 11 लाख करोड़ रुपये डूबे

Published

on

By

नई दिल्ली। दुनिया में दहशत का पर्याय बना कोरोना वायरस लोगों की जान लेने के साथ अब उनकी पूंजी भी लीलने लगा है। सप्ताह के अंतिम कारोबारी दिन यानी शनिवार को भारतीय शेयर बाजार धड़ाम हो गया। इसके चलते निवेशकों का करीब छह लाख करोड़ रुपया डूब गया है। आसान भाषा में समझें तो ​गिरावट के चलते 6 कारोबारी दिनों में निवेशकों के करीब 11 लाख करोड़ से अधिक रुपये डूब गए हैं।

शुक्रवार को सेंसेक्स करीब 1448 अंक कमजोर होकर 38,297.29 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी 432 अंक टूटकर 11,201.80 के स्तर पर रहा ।नवंबर, 2016 के बाद सेंसेक्‍स की ये सबसे बड़ी गिरावट है। वहीं शेयर बाजार में 11 साल की सबसे बड़ी साप्ताहिक गिरावट रही।

बीएसई इंडेक्‍स का मार्केट कैप 1,46,87,010.42 करोड़ पर रहा। इससे पहले गुरुवार को बीएसई इंडेक्‍स का मार्केट कैप 1,52,40,024.08 करोड़ रुपये था। इस लिहाज से सिर्फ एक दिन में मार्केट कैप में 6 लाख करोड़ से ज्‍यादा की कमी आई है।

गिरावट केवल भारतीय शेयर बाजार में नहीं बल्कि दुनिया के शेयर बाजारों में देखी गई। अमेरिका का डाउ जोन्स गुरुवार को 1,190.95 अंक गिरकर बंद हुआ था। यह डाउ जोन्स के इतिहास में सबसे बड़ी एकदिवसीय गिरावट है। वहीं एशियाई बाजारों में चीन के शंघाई कंपोजिट, हांगकांग के हैंगसेंग, दक्षिण कोरिया के कोस्पी और जापान के निक्की में चार प्रतिशत तक की गिरावट चल रही थी।

Continue Reading

बिज़नेस

कोरोना वायरस से दुनिया भर के शेयर बाजार में हाहाकार,डाउजोंस, सेंसेक्स और निफ्टी सब धड़ाम

Published

on

By

नई दिल्ली। दुनिया भर के शेयर बाजारों में हाहाकार मचा हुआ है। कोरोना वायरस का असर अब बाजार में भी दिखने लगा है। अमेरिका का शेयर मार्केट 2008 के बाद सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है। इससे पहले अमेरिका शेयर मार्केट 2008 में मंदी के दौर में सबसे बुरे दौर से गुजरा था। डाउजोंस में एक दिन में सबसे बड़ी 1,191 अंक की गिरावट दर्ज की गई।

डाउजोंस 4 फीसद टूट गया। आज खुलते ही सेंसेक्स 1000 अंक टूट चुका है। निफ्टी 251.30 अंक लुढ़क चुका है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स के सभी 30 शेयर आज लाल निशान पर कारोबार कर रहे हैं। वहीं निफ्टी 50 में भी कोई स्टॉक हरे निशान पर कारोबार नहीं कर रहा है।

वहीं वैश्विक बाजार में कच्चे तेल का भाव गुरुवारको चार प्रतिशत से अधिक लुढ़क गया। कारोबारियों को आशंका है कि कोरोना वायरस का असर खासतौर से प्रमुख उपभोक्ता देश चीन से कच्चे तेल की मांग पर पड़ सकता है। अप्रैल डिलिवरी के लिये ब्रेंट कच्चे तेल का भाव 4.2 प्रतिशत लुढ़ककर 51.20 डॉलर प्रति बैरल जबकि न्यूयार्क का डब्ल्यूटीआई (वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट) कच्चे तेल का भाव इसी महीने के लिये करीब 5 प्रतिशत टूटकर 46.31 डॉलर पर आ गया।

Continue Reading

Trending