Connect with us

बिज़नेस

लगातार 20वें दिन बढ़ा पेट्रोल और डीजल का दाम, जानिए क्या है आज की कीमत

Published

on

नई दिल्‍ली। अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल की कीमतों में मामूली तेजी के बावजूद घरेलू बाजार में पेट्रोल-डीजल के भाव में लगातार बढ़ोतरी जारी है। तेल विपणन कंपनियों ने शुक्रवार को पेट्रोल की कीमत में 21 पैसे और डीजल की कीमत में 17 पैसे प्रति लीटर का इजाफा किया है।

इसी के साथ राजधानी दिल्‍ली में पेट्रोल और डीजल दोनों की कीमत 80 रुपये प्रति लीटर के पार चली गई है। बता दें कि पिछले 20 दिनों में डीजल की कीमत में 10.79 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है, जबकि पेट्रोल भी 8.87 रुपये महंगा हुआ है। इसी बढ़ोतरी के साथ ही दिल्‍ली ऐसा राज्‍य है जहां पेट्रोल से महंगा डीजल मिल रहा है।

यहां इतने रुपए लीटर तेल

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार दिल्‍ली में पेट्रोल की कीमत 80.13 रुपये, जबकि डीजल 80.19 रुपये प्रति लीटर हो गई है। वहीं, मुंबई में पेट्रोल की कीमत 86.91 रुपये, जबकि डीजल की कीमत 78.51 रुपये प्रति लीटर हो गई है। इसके साथ ही चेन्‍नई में पेट्रोल 83.37 रुपये, जबकि डीजल अब 77.44 रुपये प्रति लीटर के भाव पर मिल रहा है। इसके अलावा कोलकाता में पेट्रोल 81.82 रुपये, जबकि डीजल 75.34 रुपये प्रति लीटर के भाव पर बिक रहा है।

कच्चे तेल की कीमत 42 डॉलर प्रति बैरल

उल्‍लेखनीय है कि तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार 20वें दिन बढ़ोतरी की है। इससे पहले 28 अक्टूबर 2018 को दिल्ली में पेट्रोल का दाम 80.05 रुपये प्रति लीटर था, जबकि उस समय कच्चे तेल का दाम 81 डॉलर प्रति बैरल के आसपास था। अभी ये इससे आधे दाम पर पर है। हालांकि, अभी इंडियन बास्केट में कच्चे तेल की कीमत 42 डॉलर प्रति बैरल के आसपास चल रही है।

बिज़नेस

शेयर बाज़ारो में दिखी रौनक सेंसेक्‍स 164 अंक तक उछला

Published

on

नई दिल्‍ली। हफ्ते के चौथे कारोबारी दिन गुरुवार को शेयर बाजार बढ़त के साथ खुला। कारोबार के दौरान बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंजे (बीएसई) का सेंसेक्‍स 163.81 अंक और 0.45 फीसदी की उछाल के साथ 36,215.62 के स्‍तर पर और नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 88.00 अंक और 0.83 फीसदी बढ़त के साथ 10,706.20 के स्‍तर पर ट्रेंड करता दिखा।

कारोबार के दौरान भारती एयरटेल, एम एंड एम, जी लिमिटेड, एक्सिस बैंक, एचसीएल टेक, बजाज फाइनेंस, बजाज फिन्सर्व, एशियन पेंट्स और एचडीएफसी की शुरुआत बढ़त पर हुई। वहीं, टाटा स्टील, आईओसी, वेदांता लिमिटेड, हिंडाल्को, श्री सीमेंट, बीपीसीएल, डॉक्टर रेड्डी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, कोटक बैंक और अडाणी पोर्ट्स के शेयर गिरावट पर खुले।

उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पहले शेयर बाजार मामूली बढ़त पर बंद हुआ था। सेंसेक्स 18.75 अंक उछलकर 36051.81 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं, निफ्टी 0.85 अंकों की बढ़त के साथ 10618.20 के स्तर पर बंद हुआ था। हालांकि, रिलायंस का शेयर आज 1847 के स्तर पर खुला और पिछले कारोबारी दिन यह 1844 के स्तर पर बंद हुआ था।

 

Continue Reading

बिज़नेस

सेंसेक्‍स में 328 अंकों की गिरावट के साथ खुला शेयर बाज़ार

Published

on

नई दिल्‍ली। हफ्ते के दूसरे कारोबारी दिन मंगलवार को घरेलू शेयर बाजार बड़ी गिरावट के साथ खुला। कारोबार के दौरान बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 328.32 अंक और 0.89 फीसदी लुढ़कर 36,365.37 के स्‍तर पर खुला। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी भी 88.70 अंक और 0.82 फीसदी की गिरावट के साथ 10,714.00 के स्‍तर पर ट्रेंड कर रहा है।

दिग्गज शेयरों में बढ़त के बावजूद सेंसेक्स में गिरावट 

कारोबार के दौरान दिग्गज शेयरों में विप्रो, श्री सीमेंट, एचसीएल टेक, सिप्ला, सन फार्मा, एशियन पेंट्स और अडाणी पोर्ट्स के शेयर की शुरुआत बढ़त पर हुई। वहीं, हिंडाल्को, इंडसइंड बैंक, एचडीएफसी, एक्सिस बैंक, टाटा स्टील, इंफ्राटे, वेदांता लिमिटेड, एसबीआई, जी लिमिटेड और एचडीएफसी बैंक के शेयर की शुरुआत गिरावट के साथ हुई।

दुनियाभर के बाजारों में देखा गया उतार-चढ़ाव

उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पहले सेंसेक्‍स 99.36 अंक की तेजी के साथ 36,693.69 के स्‍तर पर और निफ्टी 34.65 अंक की बढ़त के साथ 10,802.70 के स्‍तर पर बंद हुआ था। वहीं, दुनियाभर के बाजारों में भी उतार-चढ़ाव रहा। हालांकि, अमेरिकी बाजार डाउ जोंस 10.50 अंक बढ़कर 26,085.80 पर बंद हुआ था, जबकि नैस्डैक 226.60 अंक गिरकर 10,390.80 पर बंद हुआ था। इसके अलावा एसएंडपी 29.82 अंक लुढ़कर 3,155.22 पर बंद हुआ था।

Continue Reading

बिज़नेस

डब्ल्यूबीपीडीसीएल ने 4400 करोड़ की लागत से शुरू किया सागरदीघी संयंत्र का निर्माण

Published

on

कोलकाता। राज्य में लगातार बढ़ती जा रही बिजली की जरूरतों को देखते हुए पश्चिम बंगाल विद्युत विकास निगम लिमिटेड (डब्ल्यूबीपीडीसीएल) ने इस महीने से अपने 4,400 करोड़ रुपये के सागरदीघी सुपर-क्रिटिकल संयंत्र की स्थापना के लिये प्रारंभिक कार्य शुरू कर दिया है। राज्य ऊर्जा विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार इस बारे में जानकारी दी।

तापीय विद्युत संयंत्र परियोजना के कार्यान्वयन के लिये प्रारंभ की तिथि

उन्होंने बताया कि निगम को साढ़े तीन साल में निर्माण कार्य पूरा होने की उम्मीद है। कंपनी ने एक जुलाई को मुर्शिदाबाद जिले में 660 मेगावाट की तापीय विद्युत संयंत्र परियोजना के कार्यान्वयन के लिये प्रारंभ की तिथि (जीरो डेट) तय करने का निर्णय लिया है। निगम के निदेशक इंद्रनिल दत्त ने कहा, ‘‘जमीन को समतल बनाने जैसे प्रारंभिक कार्य शुरू हो गये हैं। एक जुलाई सागरदीघी सुपर क्रिटिकल पावर प्लांट परियोजना के लिये जीरो डेट है।

कुल परियोजना लागत 4,400 करोड़

दत्त ने  कहा, “संयंत्र के निर्माण को पूरा करने में 42 महीने लगेंगे और इसके चालू होने में तीन महीने का अतिरिक्त समय देना होगा।” आमतौर पर, परियोजना के पूरा होने की अवधि जीरो डेट से गिनी जाती है। उन्होंने कहा कि कुल परियोजना लागत 4,400 करोड़ रुपये आंकी गयी। वित्त पोषण हासिल कर लिया गया है और विद्युत वित्त पोषण निगम कर्ज दे रहा है।’’ भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) को परियोजना के लिये बॉयलर, टरबाइन, जनरेटर (बीटीजी) की आपूर्ति के लिये 3,500 करोड़ रुपये का ठेका मिला है।

सागरदीघी में निगम की 16 सौ मेगावाट की चार इकाइयां हैं। पांचवीं इकाई के बाद संयंत्र की कुल क्षमता बढ़कर 2,260 मेगावाट हो जायेगी। निगम के पास बैंडल, बकरेश्वर, कोलाघाट और संथालडीह में चार अन्य संयंत्र हैं। निगम की कुल उत्पादन क्षमता 3,150 मेगावाट है।

परियोजना से बिजली आपूर्ति में मिलेगी मदद 

माना जा रहा है कि इस नए संयंत्र की स्थापना के बाद राज्य की बिजली जरूरतों को पूरी करने में और अधिक मदद मिलेगी। खासकर उत्तर और दक्षिण 24 परगना के जरूरतें पूरी की जा सकेगी दरअसल हाल ही में पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान आया था, जिसका प्रभाव सबसे ज्यादा उत्तर और दक्षिण 24 परगना तथा राजधानी कोलकाता में था। यहां 10 दिनों तक बिजली आपूर्ति बाधित रही थी।

इसकी वजह है कि एक प्राइवेट कंपनी सीईएससी बिजली आपूर्ति करती है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस कंपनी पर बिजली आपूर्ति पुनः बहाल करने में विफल होने का आरोप लगाया था। उसके बाद ही अंदाजा लगाया जा रहा था कि राज्य सरकार बिजली जरूरतों के लिए सरकारी संयत्र को मजबूत बनाएगी। सागरदीघी परियोजना भी इसी का एक हिस्सा माना जा रहा है।

Continue Reading

Trending