इंडिया रेटिंग्स ने घटाई भारत की जीडीपी ग्रोथ, 9.4 फीसदी की रेटिंग दी

-पहले 2021-22 में जीडीपी ग्रोथ 9.6 फीसदी रहने का जताया था अनुमान
 
इंडिया रेटिंग्स ने घटाई भारत की जीडीपी ग्रोथ, 9.4 फीसदी की रेटिंग दी
-कोरोना की दूसरी लहर के बाद अर्थव्यवस्था में हुई मजबूत रिकवरी

नई दिल्ली। आर्थिक शोध एजेंसी इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च ने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) ग्रोथ के पूर्वानुमान को घटाकर 9.4 फीसदी कर दिया है। एजेंसी ने पहले 9.6 फीसदी ग्रोथ का अनुमान जताया था। रेटिंग्स एजेंसी ने गुरुवार को जारी अपने अनुमान में कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के बाद अर्थव्यवस्था में मजबूत रिकवरी देखने को मिली है।

रेटिंग्स एजेंसी ने कहा कि वित्त वर्ष 2021-22 में देश का जीडीपी वृद्धि दर 9.4 फीसदी रहेगा। एजेंसी के मुताबिक जीडीपी ग्रोथ पहली तिमाही में 15.3 फीसदी, दूसरी तिमाही में 8.3 फीसदी, तीसरी तिमाही में 7.8 फीसदी और चौथी तिमाही में 7.8 फीसदी के हिसाब से रहेगा। एजेंसी ने कहा कि देश में जिस हिसाब से वैक्सीनेशन की रफ्तान बढ़ेगी उसी हिसाब से जीडीपी की भी रफ्तार में इजाफा होगा।

इंडिया रेटिंग्स ने फाइनेंशियल ईयर की छमाही समीक्षा में कहा कि कोविड-19 के खिलाफ चल रहे वैक्सीनेशन की रफ्तार को देखकर नहीं लगता है कि 31 दिसंबर तक देश के सभी वयस्क लोगों का टीकाकरण हो पाएगा। गौरतलब है कि जून महीने में एजेंसी ने अनुमान लगाया था कि जीडीपी की ग्रोथ 9.6 फीसदी की दर से होगी, लेकिन यह सिर्फ तब ही संभव हो पाएगा जब देश के सभी वयस्कों का वैक्सीनेशन हो जाएगा।

घरेलू रेटिंग एजेंसी इंडिया रेटिंग्स के प्रिंसिपल अर्थशास्त्री सुनील कुमार सिन्हा ने कहा कि वैक्सीनेशन की रफ्तार को देखते हुए यह लगभग तय है कि दिसंबर के अंत तक देश की पूरी व्यस्क जनसंख्या का वैक्सीनेशन नहीं हो पाएगा। उन्होंने बताया कि जून, 2021 में पिछले अनुमान में कहा था कि अर्थव्यवस्था की रिकवरी की रफ्तार वैक्सीनेशन पर निर्भर करेगी।

उल्लेखनीय है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया आरबीआई के द्वारा समीक्षाधीन तिमाही के लिए इस महीने जारी जीडीपी अनुमान में 21.4 फीसदी बढ़ोतरी की उम्मीद जताई थी। वहीं, रेटिंग्स एजेंसी इकरा ने एक दिन पहले वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 20 फीसदी वृद्धि का अनुमान जताया है। इस बीच केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) से पहली तिमाही के आर्थिक गतिविधियों पर आधिकारिक आंकड़े इस महीने के अंत तक आने की उम्मीद है।