वोडाफोन-आइडिया का एक तिहाई शेयर लेगी सरकार, कंपनी की लगभग 36 प्रतिशत हिस्सेदारी अपने पास रखेगी

देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड (vodafone-idea Ltd.) के करीब एक तिहाई शेयर सरकार अपने पास रखेगी. वोडाफोन आइडिया  (vodafone-idea Ltd.) द्वारा आज स्टॉक एक्सचेंज को दी गई जानकारी में बताया गया है कि केंद्र सरकार (Central Government) कंपनी की लगभग 36 प्रतिशत हिस्सेदारी अपने पास रखेगी.

 
vi new plan
vodafone-idea

नई दिल्ली. देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड (vodafone-idea Ltd.) के करीब एक तिहाई शेयर सरकार अपने पास रखेगी. वोडाफोन आइडिया  (vodafone-idea Ltd.) द्वारा आज स्टॉक एक्सचेंज को दी गई जानकारी में बताया गया है कि केंद्र सरकार (Central Government) कंपनी की लगभग 36 प्रतिशत हिस्सेदारी अपने पास रखेगी. कंपनी ने स्टॉक एक्सचेंज को इस बात की भी जानकारी दी है कि उसके बोर्ड ने कंपनी के कर्जों को इक्विटी में बदलने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है.

वोडाफोन आइडिया (vodafone-idea Ltd.) ने आज स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग में साफ किया है कि कल यानी सोमवार (Monday) को हुई कंपनी की बोर्ड मीटिंग में कंपनी के बकाए स्पेक्ट्रम ऑक्शन की किस्तों और बकाया एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (एजीआर) की पूरी ब्याज राशि को इक्विटी में बदलने का फैसला लिया गया है. बताया जा रहा है कि वोडाफोन आइडिया लिमिटेड सरकार को बकाया ब्याज के बदले में 10 रुपये फेस वैल्यू के हिसाब से अपने शेयर जारी करेगी.

आपको बता दें कि कुछ समय पहले ही सरकार के बकाये का भुगतान करने में परेशानी का सामना कर रही टेलीकॉम कंपनियों को सरकार ने इक्विटी के बदले मोरटोरियम का विकल्प दिया था. इसके तहत सरकार के पास कंपनी की हिस्सेदारी होगी. इसके साथ ही कंपनी के निदेशक मंडल में सरकार के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे.

 
बताया जा रहा है कि कंपनी के कर्जों को इक्विटी में बदलने के प्रस्ताव को मंजूरी देने के इस फैसले के परिणाम स्वरूप प्रमोटर समेत कंपनी के सभी मौजूदा शेयरधारकों की हिस्सेदारी भी प्रभावित होगी. इस हिसाब से केंद्र सरकार (Central Government)के पास वोडाफोन आइडिया कि करीब एक तिहाई हिस्सेदारी आ जाएगी.