Connect with us

बिज़नेस

फेयर एंड लवली अब नहीं रहेगी ‘फेयर’

Published

on

नई दिल्‍ली। हिन्‍दुस्‍तान यूनिलिवर लिमिटेड (एचयूएल) ने अपने लोकप्रिय स्किन केयर ब्रांड फेयर एंड लवली से ‘फेयर’ शब्‍द हटाने का फैसला किया है। इसकी जानकारी कंपनी ने ट्वीट करके दी है।

नए अवतार में आएगा ब्रांड

एचयूएल की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि अब नियामक की मंजूरी मिलने के बाद इसे लॉन्‍च किया जाएगा। कंपनी के मुताबिक नए अवतार में आने वाला फेयर एंड लवली ब्रांड अलग-अलग स्किन टोन वाली महिलाओं के प्रतिनिधित्व पर ज्यादा केंद्रित होगा।

काफी समय से हो रही थी आलोचना

दरअसल लोग लंबे वक्‍त से डार्कर स्किन वाले लोगों के खिलाफ इस क्रीम को नकारात्मक रूढ़ियों को बढ़ावा देने की आलोचना कर रहे थे। वहीं, मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि सोशल मीडिया पर ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन को देखते हुए कंपनी को ये कदम उठाने पड़े हैं।

‘फेयर एंड लवली’ 1975 का ब्रांड

गौरतलब है कि हिंदुस्तान यूनीलीवर लिमिटेड ने 45 साल पहले सन 1975 में ‘फेयर एंड लवली’ नाम की एक गोरा बनाने वाली क्रीम लॉन्च की थी। देश में गोरेपन की क्रीम के बाजार का 50-70 फीसदी हिस्सा इसी ब्रांड के पास है।

क्या कहना है कंपनी के अध्यक्ष का

एचयूएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक संजीव मेहता के मुताबिक फेयर एंड लवली में बदलाव के अलावा एचयूएल के बाकी स्किनकेयर पोर्टफोलियो भी सकारात्मक सौंदर्य के नए विजन को बताया जाएगा, जो सभी के लिए हर जगह समावेशी और विविधतापूर्ण हो। वहीं, एक्सपर्ट्स का मानना है कि ये फैसला कंपनी के लिए टेंशन भरा होगा, क्योंकि इससे एचयूएल के सेल्स पर असर पड़ेगा।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिज़नेस

शेयर बाज़ारो में दिखी रौनक सेंसेक्‍स 164 अंक तक उछला

Published

on

नई दिल्‍ली। हफ्ते के चौथे कारोबारी दिन गुरुवार को शेयर बाजार बढ़त के साथ खुला। कारोबार के दौरान बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंजे (बीएसई) का सेंसेक्‍स 163.81 अंक और 0.45 फीसदी की उछाल के साथ 36,215.62 के स्‍तर पर और नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 88.00 अंक और 0.83 फीसदी बढ़त के साथ 10,706.20 के स्‍तर पर ट्रेंड करता दिखा।

कारोबार के दौरान भारती एयरटेल, एम एंड एम, जी लिमिटेड, एक्सिस बैंक, एचसीएल टेक, बजाज फाइनेंस, बजाज फिन्सर्व, एशियन पेंट्स और एचडीएफसी की शुरुआत बढ़त पर हुई। वहीं, टाटा स्टील, आईओसी, वेदांता लिमिटेड, हिंडाल्को, श्री सीमेंट, बीपीसीएल, डॉक्टर रेड्डी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, कोटक बैंक और अडाणी पोर्ट्स के शेयर गिरावट पर खुले।

उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पहले शेयर बाजार मामूली बढ़त पर बंद हुआ था। सेंसेक्स 18.75 अंक उछलकर 36051.81 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं, निफ्टी 0.85 अंकों की बढ़त के साथ 10618.20 के स्तर पर बंद हुआ था। हालांकि, रिलायंस का शेयर आज 1847 के स्तर पर खुला और पिछले कारोबारी दिन यह 1844 के स्तर पर बंद हुआ था।

 

Continue Reading

बिज़नेस

सेंसेक्‍स में 328 अंकों की गिरावट के साथ खुला शेयर बाज़ार

Published

on

नई दिल्‍ली। हफ्ते के दूसरे कारोबारी दिन मंगलवार को घरेलू शेयर बाजार बड़ी गिरावट के साथ खुला। कारोबार के दौरान बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 328.32 अंक और 0.89 फीसदी लुढ़कर 36,365.37 के स्‍तर पर खुला। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी भी 88.70 अंक और 0.82 फीसदी की गिरावट के साथ 10,714.00 के स्‍तर पर ट्रेंड कर रहा है।

दिग्गज शेयरों में बढ़त के बावजूद सेंसेक्स में गिरावट 

कारोबार के दौरान दिग्गज शेयरों में विप्रो, श्री सीमेंट, एचसीएल टेक, सिप्ला, सन फार्मा, एशियन पेंट्स और अडाणी पोर्ट्स के शेयर की शुरुआत बढ़त पर हुई। वहीं, हिंडाल्को, इंडसइंड बैंक, एचडीएफसी, एक्सिस बैंक, टाटा स्टील, इंफ्राटे, वेदांता लिमिटेड, एसबीआई, जी लिमिटेड और एचडीएफसी बैंक के शेयर की शुरुआत गिरावट के साथ हुई।

दुनियाभर के बाजारों में देखा गया उतार-चढ़ाव

उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पहले सेंसेक्‍स 99.36 अंक की तेजी के साथ 36,693.69 के स्‍तर पर और निफ्टी 34.65 अंक की बढ़त के साथ 10,802.70 के स्‍तर पर बंद हुआ था। वहीं, दुनियाभर के बाजारों में भी उतार-चढ़ाव रहा। हालांकि, अमेरिकी बाजार डाउ जोंस 10.50 अंक बढ़कर 26,085.80 पर बंद हुआ था, जबकि नैस्डैक 226.60 अंक गिरकर 10,390.80 पर बंद हुआ था। इसके अलावा एसएंडपी 29.82 अंक लुढ़कर 3,155.22 पर बंद हुआ था।

Continue Reading

बिज़नेस

डब्ल्यूबीपीडीसीएल ने 4400 करोड़ की लागत से शुरू किया सागरदीघी संयंत्र का निर्माण

Published

on

कोलकाता। राज्य में लगातार बढ़ती जा रही बिजली की जरूरतों को देखते हुए पश्चिम बंगाल विद्युत विकास निगम लिमिटेड (डब्ल्यूबीपीडीसीएल) ने इस महीने से अपने 4,400 करोड़ रुपये के सागरदीघी सुपर-क्रिटिकल संयंत्र की स्थापना के लिये प्रारंभिक कार्य शुरू कर दिया है। राज्य ऊर्जा विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार इस बारे में जानकारी दी।

तापीय विद्युत संयंत्र परियोजना के कार्यान्वयन के लिये प्रारंभ की तिथि

उन्होंने बताया कि निगम को साढ़े तीन साल में निर्माण कार्य पूरा होने की उम्मीद है। कंपनी ने एक जुलाई को मुर्शिदाबाद जिले में 660 मेगावाट की तापीय विद्युत संयंत्र परियोजना के कार्यान्वयन के लिये प्रारंभ की तिथि (जीरो डेट) तय करने का निर्णय लिया है। निगम के निदेशक इंद्रनिल दत्त ने कहा, ‘‘जमीन को समतल बनाने जैसे प्रारंभिक कार्य शुरू हो गये हैं। एक जुलाई सागरदीघी सुपर क्रिटिकल पावर प्लांट परियोजना के लिये जीरो डेट है।

कुल परियोजना लागत 4,400 करोड़

दत्त ने  कहा, “संयंत्र के निर्माण को पूरा करने में 42 महीने लगेंगे और इसके चालू होने में तीन महीने का अतिरिक्त समय देना होगा।” आमतौर पर, परियोजना के पूरा होने की अवधि जीरो डेट से गिनी जाती है। उन्होंने कहा कि कुल परियोजना लागत 4,400 करोड़ रुपये आंकी गयी। वित्त पोषण हासिल कर लिया गया है और विद्युत वित्त पोषण निगम कर्ज दे रहा है।’’ भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) को परियोजना के लिये बॉयलर, टरबाइन, जनरेटर (बीटीजी) की आपूर्ति के लिये 3,500 करोड़ रुपये का ठेका मिला है।

सागरदीघी में निगम की 16 सौ मेगावाट की चार इकाइयां हैं। पांचवीं इकाई के बाद संयंत्र की कुल क्षमता बढ़कर 2,260 मेगावाट हो जायेगी। निगम के पास बैंडल, बकरेश्वर, कोलाघाट और संथालडीह में चार अन्य संयंत्र हैं। निगम की कुल उत्पादन क्षमता 3,150 मेगावाट है।

परियोजना से बिजली आपूर्ति में मिलेगी मदद 

माना जा रहा है कि इस नए संयंत्र की स्थापना के बाद राज्य की बिजली जरूरतों को पूरी करने में और अधिक मदद मिलेगी। खासकर उत्तर और दक्षिण 24 परगना के जरूरतें पूरी की जा सकेगी दरअसल हाल ही में पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान आया था, जिसका प्रभाव सबसे ज्यादा उत्तर और दक्षिण 24 परगना तथा राजधानी कोलकाता में था। यहां 10 दिनों तक बिजली आपूर्ति बाधित रही थी।

इसकी वजह है कि एक प्राइवेट कंपनी सीईएससी बिजली आपूर्ति करती है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस कंपनी पर बिजली आपूर्ति पुनः बहाल करने में विफल होने का आरोप लगाया था। उसके बाद ही अंदाजा लगाया जा रहा था कि राज्य सरकार बिजली जरूरतों के लिए सरकारी संयत्र को मजबूत बनाएगी। सागरदीघी परियोजना भी इसी का एक हिस्सा माना जा रहा है।

Continue Reading

Trending