Connect with us

बिज़नेस

कोरोना के कहर से शेयर बाजार तबाह, निवेशकों के नौ लाख करोड़ डूबे

Published

on

नई दिल्ली। घरेलू और विदेशी शेयर बाजार एक बार फिर कोरोना वायरस के कहर का शिकार हो गए। डब्‍यूएचओे ने वैश्विक स्‍तर कोरोना वायरस को महामारी घोषि‍त कर दिया है, जबकि कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच वैश्‍विक अर्थव्‍यवस्‍था को लेकर अनिश्चितता का माहौल है। इसके चलते घरेलू शेयर बाजार में हाहाकार देखने को मिल रहा है। गुरूवार के कारोबार में सेंसेक्स में 3,000 अंकों तक की भारी गिरावट दिख रही है और ये 32626 के स्तर पर आ गया है। शेयर बाजार के पतन के चलते निवेशकों की करीब 9 लाख करोड़ रुपये डूब गए।

खबर लिखे जाने तक बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज (बीएसई) का सेंसेक्‍स 32,626.51 अंक टूटकर 3,070.89 पर कारोबार कर रहा है। नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज का निफ्टी भी 940.20 अंक टूटकर 9,518.20 पर कारोबार करता देखा गया। गौरतलब है कि सेंसेक्स का ये 17 महीनों का सबसे लो स्‍तर है। इसमें जनवरी के रिकॉर्ड हाई से 21 फीसदी तक की गिरावट आ चुकी है।

गौरतलब है कि सेंसेक्स में 2186 कंपनियों के शेयरों में गिरावट है और 175 कंपनियों के शेयरों में बढ़त है। वहीं, 1,106 कंपनियों के शेयर भी करीब एक साल के निचले स्तर पर हैं, जबकि 500 कंपनियों के शेयरों में लोअर सर्किट लगा। इसके अलावा एनएसई में 783 कंपनियों के शेयर एक साल के निचले स्तर पर पहुंच गए हैं।

उल्‍लेखनीय है कि एक साल के निचले स्तर पर जाने वाली प्रमुख कंपनियों में रिलायंस, टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, बजाज ऑटो, एचपीसीएल, स्पाइसजेट का नाम शामिल है। इसके अलावा आईटीसी, एलएंडटी,गेल, हीरो मोटरकॉर्प, एसीसी, बीईएमएल, जिलेट और ग्लेनमार्क फार्मा का भी नाम इस सूची में है।

डाउ जोन्स में भी भूचाल

अमेरिकी शेयर बाजार में जबर्दस्त गिरावट दर्ज की गई। बेंचमार्क डाउ जोन्स 1400 अंकों से ज्यादा फिसला, जिसके बाद एशियाई बाजारों में भी गिरावट देखने को मिली। सिंगापुर एक्सचेंज पर निफ्टी फ्यूचर्स करीब 4% से ज्यादा की गिरावट के साथ कारोबार करते दिखाई दे रहे थे। वहीं क्यो बेंचमार्क निक्केई 2% से ज्यादा नीचे, साउथ कोरिया कका कॉस्पी करीब 1.25% और ऑस्ट्रेलिया का एएसएस शुरुआती ट्रेड में 2.6% नीचे देखे गए।

Trending