भारत में निवेश को तैयारा दुनिया की 5 शीर्ष कंपनियों के सीईओ

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी यात्रा के दौरान विश्व की शीर्ष पांच कंपनियों के कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) से मिलकर भारत में निवेश के लिए आमंत्रित किया है।
 
CEOs of 5 top companies of the world ready to invest in India.jpg
प्रधानमंत्री मोदी की अमेरिका यात्रा

वाशिंगटन। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी यात्रा के दौरान विश्व की शीर्ष पांच कंपनियों के कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) से मिलकर भारत में निवेश के लिए आमंत्रित किया है। मोदी ने जिन पांच कपंनियों के सीईओ से मुलाकात की उनमें क्वालकाम, एडोब, फर्स्ट सोलर, जनरल एटोमिक्स और ब्लैकस्टोन शामिल हैं। उक्त कंपनियों के सीईओ भारत में निवेश के लिए उत्सुक दिखे।

पीएम मोदी से मिलने वाली दो कंपनियों के सीईओ भारतीय मूल के हैं। इनमें एडोब के सीईओ शांतनु नारायण और जनरल एटोमिक्स के सीईओ विवेक लाल भारतीय-अमेरिकी हैं। तीन अन्य सीईओ में क्वालकाम के क्रिस्टिआनो ई. एमोन, फर्स्ट सोलर के मार्क विडमार और ब्लैकस्टोन के स्टीफन ए. स्वार्जमैन शामिल हैं।

एडोब के सीईओ नारायण से मुलाकात भारत सरकार की सूचना प्रौद्योगिकी और डिजिटल क्षेत्र में प्राथमिकता को दर्शाती है। वहीं, जनरल एटोमिक्स के सीईओ लाल से मुलाकात कंपनी सैन्य ड्रोन तकनीक के मामले में अग्रणी व सैन्य ड्रोन के उत्पादन में दुनिया की शीर्ष कंपनी होने के कारण अहम है। भारत अपनी तीनों सेनाओं के लिए बड़ी संख्या में ड्रोन खरीदने की प्रक्रिया में है।
क्वालकाम के क्रिस्टिआनो से मुलाकात भी काफी अहम है क्योंकि भारत 5जी तकनीक को सुरक्षित बनाने पर जोर दे रहा है। यह कंपनी वायरलेस तकनीक से जुड़े सेमीकंडक्टर और साफ्टवेयर बनाती है।
भारत की कोशिश क्वालकाम को देश में बड़े निवेश के लिए आकर्षित करने की है। ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत सौर ऊर्जा के इस्तेमाल की दिशा में बड़े कदम उठा रहा है। फर्स्ट सोलर के सीईओ मार्क विडमार से प्रधानमंत्री की मुलाकात के खास मायने हैं। उनकी कंपनी फोटोवोल्टिक (पीवी) सोलर साल्यूशंस की अग्रणी वैश्विक प्रदाता है। वहीं ब्लैकस्टोन दुनिया की अग्रणी निवेश कंपनी है।


एडोब के सीईओ शांतनु नारायण ने कहा कि हमारे लिए हमारी सबसे बड़ी संपत्ति लोग हैं। शिक्षा को प्रोत्साहित करने के संबंध में जो कुछ भी होता है, डिजिटल साक्षरता होने से एडोब को मदद मिलती है। हम शिक्षा में अधिक जोर और रुचि के बहुत समर्थक हैं।
फर्स्ट सोलर के सीईओ मार्क आर विडमार ने कहा कि स्पष्ट रूप से उनके नेतृत्व के साथ और उन्होंने औद्योगिक नीति के साथ-साथ व्यापार नीति में एक मजबूत संतुलन बनाने के लिए क्या किया है, यह भारत में विनिर्माण स्थापित करने के लिए फर्स्ट सोलर जैसी कंपनियों के लिए एक आदर्श अवसर बनाता है। मुझे लगता है कि अगर भारत ने जो किया है, अगर हर देश उसे अपना सकता है और उसका अनुकरण कर सकता है, तो दीर्घकालिक जलवायु लक्ष्य उद्देश्यों को पूरा करने की हमारी क्षमता कोई समस्या नहीं होगी।
जनरल एटॉमिक्स के सीईओ विवेक लाल ने कहा कि यह एक उत्कृष्ट बैठक थी।

हमने प्रौद्योगिकी और भारत में आने वाले नीतिगत सुधारों में विश्वास और निवेश के नजरिए से भारत में अपार संभावनाओं के बारे में बात की।
ब्लैक स्टोन के चेयरमैन सीईओ स्टीफन ए श्वार्जमैन कहा कि यह(मोदी सरकार) विदेशी निवेशकों के लिए एक बहुत ही अनुकूल सरकार है। जो लोग रोज़गार पैदा करने के लिए भारत में पूंजी लगाना चाहते हैं, उनके सहयोग के लिए भारत सरकार को उच्च ग्रेड मिलना चाहिए। भारत दुनिया में निवेश के लिए ब्लैकस्टोन का सबसे अच्छा बाजार रहा है। यह अब दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ने वाला देश है। इसलिए हम बहुत आशावादी हैं, और हमने भारत में जो किया है उस पर हमें गर्व है।
यह बैठकों की श्रृंखला का हिस्सा है, जो पीएम मोदी उन चुनिंदा कारपोरेट प्रमुखों के साथ करेंगे, जिनमें भारत में महत्वपूर्ण निवेश करने की क्षमता है।