पूरे सप्ताह की तेजी पर भारी पड़ी 2 दिन की बिकवाली, सेंसेक्स और निफ्टी बुरी तरह से धराशाई

-शेयर बाजार के निवेशकों को सतर्क रहने की सलाह
 
stock marcket
शेयर बाजार

नई दिल्ली। भारतीय शेयर बाजार में कल दिनभर हुई मुनाफावसूली ने लगातार ऊंचाई का नया रिकॉर्ड बना रहे सेंसेक्स और निफ्टी को बुरी तरह से धराशाई कर दिया। इस मुनाफावसूली के कारण शेयर बाजार ने इस हफ्ते की अपनी पूरी बढ़त गंवा दी। सप्ताह के पहले तीन दिन तक लगातार ऑल टाइम हाई का रिकॉर्ड बनाने के बाद सेंसेक्स और निफ्टी पिछले सप्ताह के क्लोजिंग लेवल से भी नीचे जाकर बंद हुए। आज सुबह से ही चौतरफा हुई मुनाफावसूली के कारण सेंसेक्स में 615.51 अंक तक की गिरावट आई, जबकि निफ्टी भी 192.80 अंक तक लुढ़क गया।

इस कारोबारी सप्ताह में शुरुआती 3 दिन तक लगातार ऑल टाइम हाई का नया रिकॉर्ड बना। गुरुवार को शेयर बाजार में मोहर्रम के कारण कारोबार बंद था, लेकिन शुक्रवार को जब दिनभर चले कारोबार के बाद बाजार बंद हुआ, तो पता चला कि इस सप्ताह की क्लोजिंग में सेंसेक्स और निफ्टी पिछले हफ्ते के क्लोजिंग लेवेल से भी नीचे आकर बंद हुए हैं। मुनाफावसूली ने पूरे सप्ताह की तेजी को पूरी तरह से ध्वस्त कर दिया।

पिछले हफ्ते शुक्रवार को सेंसेक्स 55,437.29 अंक के स्तर पर और निफ्टी 16,529.10 अंक के स्तर पर बंद हुए थे। लेकिन इस हफ्ते सेंसेक्स 56,118.57 अंक और निफ्टी 16,701.85 अंक के उच्चतम स्तर पर पहुंचने के बावजूद आज की मुनाफावसूली के कारण गिरकर पिछले हफ्ते के स्तर से भी नीचे आ गए। आज सेंसेक्स 55,013.98 अंक के स्तर पर और निफ्टी 16,376.05 अंक के स्तर तक लुढ़क गए। हालांकि अंत में हुई रिकवरी के कारण सेंसेक्स और निफ्टी की स्थिति में कुछ सुधार हुआ, जिसके कारण सेंसेक्स 55,329.32 अंक के स्तर पर और निफ्टी 16450.50 अंक के स्तर पर आकर बंद हुए।

इस हफ्ते सेंसेक्स ने पिछले हफ्ते के क्लोजिंग लेवल से 681. 29 अंक की छलांग लगाई, वहीं निफ्टी की छलांग 172.75 अंक की रही। लेकिन इसी हफ्ते सिर्फ आखरी दो कारोबारी दिनों में सेंसेक्स अपने टॉप लेवल से 789.25 अंक और निफ्टी अपने टॉप लेवल से 251.35 अंक तक लुढ़क गया। इस तरह इस हफ्ते शेयर बाजार को जो तेजी मिली थी, आखिरी 2 दिनों की बिकवाली ने उस सारी तेजी को हवा कर दिया। इसके साथ ही शेयर बाजार को पिछले हफ्ते के क्लोजिंग लेवल से भी नीचे पहुंचा दिया।

शेयर बाजार के जानकारों का मानना है कि लगातार तेजी और सकारात्मक नतीजों के कारण घरेलू शेयर बाजार अपने वास्तविक स्तर से ऊपर जा चुका है। खासकर जुलाई महीने के आर्थिक नतीजों की बेहतरी और कोरोना संक्रमण में लगातार हो रही कमी के कारण बाजार का जोश हाई है। प्राइमरी मार्केट में आईपीओ को मिल रही सफलता और सेकेंडरी मार्केट में उनका अच्छा प्रदर्शन भी लोगों को उत्साहित कर रहा है। इस कारण छोटे निवेशक भी बढ़-चढ़कर शेयर बाजार में पैसा लगा रहे हैं। इसके कारण शेयर बाजार में तात्कालिक तेजी तो आ गई है, लेकिन करेक्शन का खतरा लगातार बना हुआ है।

धामी सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट प्रशांत धामी के मुताबिक बुधवार के दूसरे कारोबारी सत्र में बाजार में हुई मुनाफावसूली और सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन यानी आज दिन भर हुई चौतरफा बिकवाली वास्तव में शेयर बाजार में हो रहे इसी करेक्शन का संकेत देती है। धामी का कहना है कि जब शेयर बाजार तेजी से आगे बढ़ेगा, तो निवेशक भी मौका मिलते ही मुनाफावसूली भी करेंगे। ऐसे में जब भी मुनाफावसूली का सिलसिला शुरू होगा, तो शेयर बाजार में गिरावट भी आएगी। इस हफ्ते शेयर बाजार में आई जोरदार तेजी और उसके बाद बुधवार और शुक्रवार को हुई तेज बिकवाली भी बाजार के इसी ट्रेंड का संकेत देती है।

स्टॉक मार्केट के एक्सपर्ट्स का कहना है कि बाजार में अभी जैसी स्थिति बनी हुई है, इसमें छोटे निवेशकों को सतर्क होकर निवेश की योजना बनानी चाहिए। निवेशकों को किसी भी शेयर में तात्कालिक तेजी से प्रभावित होने की जगह कंपनी के फंडामेंटल्स पर ध्यान देना चाहिए और सतर्क होकर निवेश करना चाहिए। वरना शेयर बाजार की मौजूदा स्थिति किसी भी निवेशक को नुकसान में भी डाल सकती है।